Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

4.63 K
शेयर्स

1999 में करगिल युद्ध हुआ और भारत-पाकिस्तान के बीच क्रिकेट एकदम बंद था. हिंदुस्तान ने लंबे वक्त तक अपने इस पड़ोसी के साथ क्रिकेट नहीं खेला था. फिर मौका आया साल 2004 का, जब प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने दोनों मुल्कों के रिश्तों की बहाली के लिए रास्ता चुना क्रिकेट का. इसी साल वाजपेयी पाकिस्तान में सार्क समिट के लिए गए और इसके बाद भारत सरकार ने सौरव गांगुली की कप्तानी वाली टीम को पाकिस्तान जाकर तीन टेस्ट और पांच वनडे मैचों की सीरीज खेलने की इजाजत दी. ये भारतीय टीम का 19 साल के लंबे अंतराल के बाद हो रही थी.

अटल बिहारी वाजपेयी का ये कदम सरहद के दोनों तरफ काफी सराहा गया. वो दौरा इतना पॉपुलर हुआ कि उस सीरीज में एक एक प्लेयर की एक एक पारी को आज भी याद किया जाता है. चाहे वो वीरेंद्र सहवाग के 309 रनों की पारी हो या फिर सचिन, द्रविड़ और गांगुली का बेहतरीन प्रदर्शन. सबसे खास ये कि टीम इंडिया ने वनडे और टेस्ट सीरीज जीती थी. उस टीम के साथ बतौर टीम मैनेजर गए रत्नाकर शेट्टी ने वाजपेयी को याद करते हुए इंडियन एक्सप्रेस से कहा है कि प्रधानमंत्री का टीम को यही संदेश था कि खेल ही नहीं, दिल भी जीतिए.

रत्नाकर बताते हैं कि जब टीम पाकिस्तान पहुंची थी तो वाजपेयी के इस कदम की वहां के लोगों ने काफी तारीफ की थी. हर कोई क्रिकेट संबध सुधारना चाहता था. रत्नाकर शेट्टी कहते हैं,”टीम से पहले मैं सुरक्षा का जायजा लेने पाकिस्तान गया था. उस वक्त लोग एयरपोर्ट, सड़कों और पब्लिक प्लेसेज पर वाजपेयी जी की तस्वीर लेकर खड़े थे. ये बात जब मैंने वाजपेयी जी को बताई कि लोग पाकिस्तान में आपसे कितने खुश हैं, उन्होंने हंसते हुए कहा – फिर तो पाकिस्तान में भी चुनाव लड़ना आसान होगा.”

वीडियो देखिए:

पाकिस्तान दौरे पर जाने से पहले टीम प्रधानमंत्री से उनके आवास पर मिलने गई थी. उस वक्त वाजपेयी ने टीम के साथ करीब एक घंटा बिताया था और टीम को एक बैट गिफ्ट किया था जिसपर यही संदेश लिखा था- खेल ही नहीं, दिल भी जीतिए-शुभकामनाएं. शेट्टी ने ये भी बताया है कि जब टीम प्रधानमंत्री आवास के लॉन से निकलने लगी तो हम होंगे कामयाब गाना भी गूंज रहा था. जब टीम ने पाकिस्तान में जीत हासिल की तो वाजपेयी ने शेट्टी को फोन कर टीम को बधाई दी थी. कप्तान सौरव गांगुली से भी बात की थी.


Also Read

कौन है ये लड़का जिसे टीम इंडिया में शामिल करने से हमारी बैटिंग मजबूत हो सकती है?

अजीत वाडेकर, वो कप्तान जिसने दुनिया जीती अौर फिर खो दी

जब अटल बिहारी वाजपेयी ने श्रीनगर में कहा कश्मीर का हल बात है, बंदूक नहीं

टीम में बुमराह की वापसी हो रही है, मगर उमेश यादव का क्या होगा?

उस दिन इतने गुस्से में क्यों थे अटल बिहारी वाजपेयी कि ‘अतिथि देवो भव’ की रवायत तक भूल गए!

वीडियो भी देखें:

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
When Atal Bihari Vajpayee left no stone unturned in resuming cricket ties between India and Pakistan in 2004

पॉलिटिकल किस्से

अशोक गहलोत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जो हारने के बाद केंद्र में आया और अब राहुल के बाद नंबर दो है

जिसने जादू दिखाया, जीत-हार का स्वाद चखा और दो बार मुख्यमंत्री बना.

अशोक गहलोत : एक जादूगर जिसने बाइक बेचकर चुनाव लड़ा और बना राजस्थान का मुख्यमंत्री

जिसकी गांधी परिवार से नज़दीकी ने कई बड़े नेताओं का पत्ता काट दिया.

वसुंधरा राजे : राजस्थान की वो मुख्यमंत्री, जिसने अमित शाह को भी आंख दिखा दी

जिसने बड़े-बड़े नेताओं को किनारे लगा दिया.

भैरो सिंह शेखावत : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जिसे वहां के लोग बाबोसा कहते हैं

जो पुलिस में था, नौकरी गई तो राजनीति में आया और फिर तीन बार बना मुख्यमंत्री.

हरिदेव जोशी : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री, जो तीन बार CM बना लेकिन पांच साल पूरे नहीं कर सका

जिसका एक ही हाथ था, लेकिन हाथ वाली पार्टी की पॉलिटिक्स हैंडल करने में माहिर था.

बरकतुल्लाह खान : राजस्थान का इकलौता मुस्लिम सीएम जो इंदिरा गांधी को भाभी कहता था

जिन्हें फोन कर लंदन से सीएम बनने के लिए बुलाया गया था.

मोहन लाल सुखाड़िया : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जिसकी ताजपोशी से पहले जयपुर में कर्फ्यू लगा

और जिसकी गांधी-नेहरू परिवार की तीन पीढ़ियों से अनबन रही.

मोहन लाल सुखाड़िया : राजस्थान का वो मुख्यमंत्री जिसकी शादी के विरोध में बाजार बंद हो गए थे

जिसने नेहरू के खास रहे मुख्यमंत्री जयनारायण व्यास का तख्तापलट कर दिया.

टीकाराम पालीवाल : राजस्थान का पहला चुना हुआ कांग्रेसी सीएम, जो जनता पार्टी का अध्यक्ष बना

मास्टरी से शुरु हुआ करियर वकालत, नेतागिरी और फिर मास्टरी पर खत्म हुआ.