Submit your post

Follow Us

रामायण, महाभारत से पहले क्यों लिखी गई?

कुछ दिनों पहले लल्लनटॉप के खास शो ‘बरगद’ में एडिटर सौरभ द्विवेदी के साथ ‘अक्स’, ‘शूल’ और ‘लापतागंज’ जैसी फिल्मों और टीवी शोज़ से फेम हासिल कर चुके एक्टर विनीत कुमार ने बैठक जमाई. जहां विनीत कुमार ने अपने बचपन से लेकर जवानी, राजनीति से लेकर अभिनय और हिंदी सिनेमा से लेकर तमिल सिनेमा तक सब पर खूब तफसील से बात की. बातों के दौरान उन्होंने कई रोचक किस्से साझा किए. उन्हीं किस्सों में एक आपके साथ साझा कर रहे हैं.


इंटरव्यू के दौरान विनीत ने रामायण और महाभारत से जुड़ा एक रोचक ऑब्जरवेशन हमें बताया.

अर्जुन को उपदेश देते श्रीकृष्ण .
अर्जुन को उपदेश देते श्रीकृष्ण .

“रामायण पहले क्यों लिखा गया. महाभारत पहले क्यों नहीं लिखा गया. क्योंकि मूल्यांकन करने के लिए पहले मोरैलिटी प्रूव करनी पड़ेगी. और मोरैलिटी जो है, पर्सनल सी चीज़ है. आपका अपना है. आप अपनी मोरैलिटी जब डिक्लेयर करते हो सामाजिक रूप से,तब समाज आपका मूल्यांकन करता है. इसलिए रामायण में मोरैलिटी की बात की गई और महाभारत में उसका मूल्यांकन किया गया.”

विनीत कहते हैं वो वामपंथ में यकीन रखते हैं, लेकिन साथ ही साथ शिव शंकर के उपासक भी हैं.

”मैं महादेव का उपासक हूं. एक ऐसा महादेव का उपासक जो कॉमरेड है. तो हम महादेव के बारे में पढ़ते हैं, तो पता चलता है कि भाई ये एकदम आर-पार हैं. इनके मन में कोई छुपाव-दुराव नहीं है. ये अपने आस-पास की सब चीज़ों को अपने समान मानते हैं. ये कम से कम सामान में अपना जीवन बिताते हैं. ये कहते हैं सब खुश रहें, उसके लिए खुद खुश रहना है. खुद खुश रहने का मतलब ये नहीं है कि आप अत्याचारी हो जाओ. ये क्या है. ये ही कहता है ना वामपंथ! इसके अतरिक्त क्या कहता है.”

भगवान शंकर.
भगवान शंकर.

बातों के दौरान विनीत ने हमें शिवजी से जुड़ी ज्ञानवर्धक कहानी सुनाई.

“जब सती की शादी होने लगी तब देवता लोग बोले किते जा रहीं हैं. माते जा रही हैं तो विष्णु बोले महादेव के पास जाओ. विश्वकर्मा जी जाते हैं और बताते हैं कि प्रभु यहां एक विशाल महल बनेगा. यहां पदाल लगेगा. महादेव सुनते रहे फ़िर आसमान की तरफ़ इशारा करते हुए बोले उसका क्या होगा. ज़मीन का क्या होगा, प्रजा का क्या होगा. कहानी के रूप में इतना ही भर है कि उन्होंने कहा माफ़ी प्रभु और सब वापस चले गये. सब कुछ लिखा है हमारे शास्त्रों में, लेकिन हम घंटियों में फसे हुए हैं.”


ये स्टोरी दी लल्लनटॉप में इंटर्नशिप कर रहे शुभम ने लिखी है.


विडियो: महाभारत और रामायण पर बड़ा रोचक ऑब्जरवेशन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

टाइगर पटौदी के कहने पर, इस लड़के ने डेब्यू में शतक ठोक दिया था!

पाकिस्तानियों ने भी इसके कद का खूब मज़ाक बनाया.

पाकिस्तान के खिलाफ कुंबले के 'परफेक्ट 10' रिकॉर्ड की असल वजह क्या जवागल श्रीनाथ थे?

22 साल पहले आज ही के दिन दिल्ली में ये करिश्मा शुरू हुआ था.

50 साल पहले बारिश न होती तो शायद वनडे क्रिकेट का नामोनिशान न होता!

वनडे क्रिकेट की कैसे शुरुआत हुई थी, जान लीजिए

गावस्कर ने क्या वाकई कोलकाता में कभी न खेलने की कसम खा ली थी?

क्या गावस्कर की वजह से कपिल देव रिकॉर्ड बनाने से चूक गए थे, सच जान लीजिए

तुम्हारा स्कोर अब भी ज़ीरो है, रिचर्ड्स के इस कमेंट पर गावस्कर ने बल्ले से सबकी बोलती बंद कर दी थी

ठीक 37 साल पहले गावस्कर ने तोड़ा था ब्रेडमैन का सबसे बड़ा रिकॉर्ड.

वो भारतीय क्रिकेटर, जिसने टूटे पांव पर बिजली के झटके सहकर ऑस्ट्रेलिया को मेलबर्न में हराया

दिलीप दोषी, जो गावस्कर को 'कपटी' मानते थे.

जब हाथ में चोट लेकर अमरनाथ ने ऑस्ट्रेलिया को पहला ज़ख्म दिया!

अगर वो 47 रन बनते, तो भारत 40 साल लेट ना होता.

'क्रिकेट के भगवान' सचिन तेंदुलकर के साथ पहले वनडे में जो हुआ, उस पर आपको विश्वास नहीं होगा

31 साल पहले आज ही के दिन सचिन पहला वनडे इंटरनैशनल खेलने उतरे थे

जब कंगारुओं को एडिलेड में दिखा ईडन का भूत और पूरी हो गई द्रविड़ की यात्रा

साल 2003 के एडिलेड टेस्ट का क़िस्सा.

कौन सा गाना लगातार पांच दिन सुनकर सचिन ने सिडनी में 241 कूट दिए थे?

सचिन की महानतम पारी का कमाल क़िस्सा.