Submit your post

Follow Us

...जब अटल बिहारी वाजपेयी ने ABVP से कहा- अपनी गलती मानो और कांग्रेस से माफी मांगो

3.79 K
शेयर्स

ये साल 1976 के आखिरी दिन की बात है. 31 दिसंबर. अटल बिहारी वाजपेयी विपक्ष में थे. RSS का छात्र संगठन है अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद (ABVP). इसके जनरल सेक्रटरी थे राम बहादुर राय. उन्हें मालूम चला था कि इंदिरा गांधी के गृह राज्यमंत्री ओम मेहता की वाजपेयी संग मुलाकात हुई है. राम बहादुर को बस इतना पता था कि मुलाकात हुई. क्यों हुई, क्या बात हुई, ये सब नहीं पता था उनको. अब ये अजीब बात थी. इंदिरा के मंत्री से वाजपेयी का क्या लेना-देना. ऊपर से इमरजेंसी की कड़वाहट. राम बहादुर को उत्सुकता के कीड़े ने बड़ी जोर काटा. वाजपेयी का घर था 1 फिरोज शाह रोड पर. वो भागे-भागे वाजपेयी से मिलने पहुंचे. बाहर ठंड थी, अंदर कमरा मस्त गरम था. राम बहादुर को गर्मागर्म चाय पिलाई गई.

चाय पीते-पीते राय ने पूछा- वाजपेयी जी, क्या ये सच है कि ओम मेहता आपसे मिलने आए थे? वाजपेयी ने तपाक से जवाब दिया. बोले- नहीं, वो बड़े आदमी हैं. वो नहीं आए थे मुझसे मिलने. मैं उनसे मिलने गया था.

राय भौंचक. उनका नेता ये क्या कह रहा है? कि वो खुद कांग्रेस नेता से मिलने गया था! ओम मेहता मामूली आदमी नहीं थे. गृह मंत्रालय में भले राज्यमंत्री हों, लेकिन गृहमंत्री ब्रह्मानंद रेड्डी से कहीं ज्यादा ताकतवर थे. वो इसलिए कि ओम मेहता इंदिरा के करीबी थे. सत्ता की कुर्सी से जितनी नजदीकी होगी, आदमी भी उतना ही ताकतवर हो जाएगा.

इमरजेंसी के वक्त वाजपेयी को भी जेल में बंद किया गया था. फिर तबीयत खराब होने पर वो एम्स भेज दिए गए. इसके बाद उन्हें दिल्ली स्थित उनके घर में नजरबंद कर दिया गया था.
इमरजेंसी के वक्त वाजपेयी को भी जेल में बंद किया गया था. फिर तबीयत खराब होने पर वो एम्स भेज दिए गए. इसके बाद उन्हें दिल्ली स्थित उनके घर में नजरबंद कर दिया गया था.

वाजपेयी की बात सुनकर राय साहब कुछ देर चुपचाप बैठे रहे. फिर पूछा कि ओम मेहता से हुई मुलाकात से क्या बात निकली. वाजपेयी थोड़ी देर चुप रहे. फिर उन्होंने बोलना शुरू किया. असल में ABVP नेताओं और कार्यकर्ताओं ने देश के कई हिस्सों में खूब बवाल काटा था. सरकारी संपत्ति की तोड़-फोड़. आगजनी. हिंसा. खूब गुंडागर्दी की गई थी ABVP की तरफ से. वाजपेयी ने राम बहादुर राय को ये सब याद दिलाया. फिर बोले-

ABVP को अपनी गलती मान लेनी चाहिए. आपको सरकार से माफी मांग लेनी चाहिए.

वाजपेयी की ये बात सुनकर राम बहादुर राय को गुस्सा तो बहुत आया. मगर वो गुस्सा पी गए. कहा, ABVP कार्यकर्ताओं ने हिंसा नहीं की है. बोले-

हम पर लगाए गए इल्जाम गलत हैं. सरकार भले हमको जेल में डाल दे, लेकिन हम किसी भी कीमत पर माफी नहीं मांगेंगे.

इस पर वाजपेयी ने दिया राम बहादुर को ज्ञान. कहा-

तुम जवान-जहान लोगों के लिए ऐसी बातें करना आसान है. मेरे जैसे बड़े-बूढ़े नेता तो लोकतांत्रिक तरीका पसंद करते हैं. अरे भाई, हम चुनाव चाहते हैं कि नहीं? हमको लोकतंत्र तो चाहिए ही न.

राम बहादुर चुप तो हो गए, मगर माफी नहीं मांगी. आगे चलकर वो ‘जनसत्ता’ अखबार के संपादक बने. उस दिन उन्होंने जो देखा, वो असल में वाजपेयी की राजनीति का स्टाइल था. जब जैसा, तब तैसा टाइप.

ये किस्सा हमें मिला उल्लेख एन पी की किताब ‘द अनटोल्ड वाजपेयी: पॉलिटिशयन ऐंड पैराडॉक्स’ में. पेंगुइन पब्लिकेशन्स की किताब है. कीमत है 599 रुपये.


ये भी पढ़ें: 

जब केमिकल बम लिए हाईजैकर से 48 लोगों को बचाने प्लेन में घुस गए थे वाजपेयी

क्या इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कहकर पलट गए थे अटल बिहारी?

उमा भारती-गोविंदाचार्य प्रसंग और वाजपेयी की नाराजगी की पूरी कहानी

कुंभकरण के जागते ही वाजपेयी के गले लग गए आडवाणी

अटल बिहारी ने सुनाया मौलवी साब का अजीब किस्सा

नरसिम्हा राव और अटल के बीच ये बात न हुई होती, तो भारत परमाणु राष्ट्र न बन पाता

जब पोखरण में परमाणु बम फट रहे थे, तब अटल बिहारी वाजपेयी क्या कर रहे थे

क्यों एम्स में भर्ती किए गए अटल बिहारी वाजपेयी?

वीडियो में देखिए वो कहानी, जब अटल ने आडवाणी को प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Vajpayee Emergency days: Atal Bihari Vajpayee asked ABVP leader to apologize to Indira Gandhi government

क्रिकेट के किस्से

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.

टीम इंडिया 245 नहीं बना पाई चौथी पारी में, 1979 में गावस्कर ने अकेले 221 बना दिए थे

आज के दिन ही ये कारनामा हुआ था इंग्लैंड में. 438 का टार्गेट था और गजब का मैच हुआ.

जब 1 गेंद पर 286 रन बन गए, 6 किलोमीटर दौड़ते रहे बल्लेबाज

खुद सोचिए, ऐसा कैसे हुआ होगा.

जब अकेले माइकल होल्डिंग ने इंग्लैंड से बेइज्जती का बदला ले लिया था

आज ही के दिन लिए थे 14 विकेट.