Submit your post

Follow Us

17 फिल्में साथ में करने के बाद डेविड धवन ने गोविंदा को मांगने पर भी काम क्यों नहीं दिया?

392
शेयर्स

आज कल गोविंदा खबरों में हैं. हॉलीवुड ब्लॉकबस्टर फिल्म ‘अवतार’ और अपने पुराने साथी डेविड धवन के बारे में दिए गए बयानों की वजह से. ‘अवतार’ के बारे में गोविंदा ने कहा कि ये फिल्म उन्हें ऑफर हुई थी लेकिन उन्होंने नहीं की. साथ ही डायरेक्टर को फिल्म का टाइटल ‘अवतार’ भी उन्होंने ही सुझाया था. लेकिन जिस बात ने मार्केट में खलबली मचाई है, वो है डायरेक्टर डेविड धवन और गोविंदा के आपसी संबंधों में आई खटाई. मशहूर टीवी शो आप की अदालत में बात करते हुए गोविंदा ने बताया कि उन्होंने डेविड धवन से इतने सालों में बात क्यों नहीं की? जिस डायरेक्टर के साथ उन्होंने 17 फिल्में की हैं, उनके साथ काम करते भी नज़र नहीं आ रहे? बात क्या है?

गोविंदा ने इंटरव्यू ले रहे रजत शर्मा को बताया-

”वो मुझे इस तरह के सवाल तब पूछने लायक होंगे, जिस वक्त उनके बेटे (वरुण धवन) उनके साथ 17 पिक्चर करेंगे. मुझे नहीं लगता कि उसका बेटा भी उसके साथ 17 पिक्चरें करेगा. क्योंकि वो डेविड धवन का बेटा है. पढ़ा-लिखा है. किसी के साथ 17 पिक्चर करने का क्या मतलब होता है ये भी हमें नहीं पता था. मुझे तो संजय दत्त ने कह दिया था कि एक पंजाबी आ रहा है. उस टाइम पर मैं बहुत सारे पंजाबियों को काम दिया करता था. फिर डेविड धवन आए और मुझे अच्छे लगे. मुझे लगा कि मैं उनके साथ बहुत सारी हिट फिल्में दे सकता हूं. उनके साथ मैंने जैसा रिश्ता निभाया है, मैंने अपने किसी रिश्तेदार के साथ भी नहीं निभाया. मेरे भाई डायरेक्टर हैं, मैंने उनके साथ भी 17 पिक्चर नहीं की है.”

एक फिल्म की शूटिंग के दौरान कादर खान, गोविंदा और डेविड धवन.
एक फिल्म की शूटिंग के दौरान कादर खान, गोविंदा और डेविड धवन.

डेविड धवन के साथ खटपट होने के पीछे की वजह पर गोविंदा ने कहा-

”जब मैंने उनके साथ 17 पिक्चरें पूरी कर ली थी, तब मैंने उन्हें ‘चश्मेबद्दूर’ का सब्जेक्ट सुनाया. उन्होंने वो फिल्म ऋषि कपूर के साथ शुरू कर दी. फिर मैंने उन्हें फोन किया और बातचीत हुई. इसके बाद मैं पॉलिटिक्स से बाहर आया था. मैं थोड़ा बदल गया था. मैंने अपने सेक्रेट्री को उसके पास भेजा और कहा कि अपना फोन ऑन रखना. मैं सुनना चाहता हूं कि वो कहता क्या है. मैंने फोन पर सुना कि डेविड कह रहा है कि चीची बहुत सवाल पूछने लग गया है. इसलिए मेरा दिल नहीं है कि मैं उसके साथ काम करूं. उसे कहो कि छोटा-मोटा रोल उसे कहीं मिल जाए, तो कर ले. डेविड की बात मुझे दिल पर लग गई. मैंने चार-पांच महीने उससे बात नहीं की. लेकिन मैंने उसे फिर से फोन किया. फिर मैंने कहा कि जो तुम कह रहे हो, वही कर लेते हैं. गेस्ट अपीयरेंस करते हैं. तुम जहां भी शूट कर रहे हो, मैं आकर कुछ सेकंड का सीन शूट कर के चला जाता हूं. इसके बाद उसका फोन नहीं आया. मुझे लगता है वो किसी के कहे में है.”

ज़ी सीने अवॉर्ड्स में रवीना टंडन और डेविड धवन के हाथों अवॉर्ड लेते गोविंदा.
ज़ी सीने अवॉर्ड्स में रवीना टंडन और डेविड धवन के हाथों अवॉर्ड लेते गोविंदा.

ये पहली बार नहीं है, जब गोविंदा ने डेविड धवन से अपने रिश्ते खराब होने के बारे में मीडिया में बात की है. पिछले मौकों पर गोविंदा ने डेविड के बारे में क्या कहा, वो आप नीचे पढ़ेंगे.

# 2014 की शुरुआत में गोविंदा और डेविड धवन के बीच दिक्कत होने की बात आम हो गई थी. तब गोविंदा ने एक स्टेटमेंट जारी किया. इसमें उन्होंने कहा कि ‘चश्मेबद्दूर’ का आइडिया डेविड धवन को उन्होंने दिया था. लेकिन अचानक उन्हें पता लगा कि उन्होंने ऋषि कपूर को लेकर फिल्म की शूटिंग शुरू कर दी है. फिल्म ‘चश्मेबद्दूर’ का ट्रेलर यहां देखें:

# 2015 में गोविंदा ने खुले तौर पर कहा कि वो डेविड धवन के साथ काम नहीं करना चाहते. क्योंकि डेविड बुरे समय में उनके साथ खड़े नहीं रहे. गोविंदा ने कहा कि डेविड को ये लगने लगा कि वो उनकी फिल्म में काम करने लायक नहीं रहे. ऐसे लोगों के साथ काम नहीं करना चाहिए.

# ‘जुड़वा 2’ की शूटिंग के दौरान ये खबर आई कि एक्टर-डायरेक्टर जोड़ी के बीच चीज़ें और ज़्यादा खराब हो गई हैं. ऐसा इसलिए कहा गया क्योंकि ‘जुड़वा 2’ में ओरिजिनल फिल्म के दो गाने रीमेक किए गए थे. इनमें से एक था ‘चलती है क्या 9 से 12’. ओरिजिनल गाने में एक लाइन है- ‘गोविंदा है हीरो उसका और माधुरी हीरोइन है’. इस गाने के रीमिक्स वर्जन से गोविंदा वाली लाइन हटा दी गई. इस बात को लेकर जब सवाल किए गए, तो डेविड धवन ने कहा कि उनके और गोविंदा के बीच कोई दिक्कत नहीं है. डेविड ने कहा था कि अगर गोविंदा इस बात से नाराज हैं कि उन्होंने साथ काम नहीं किया, तो उनका नाराज होना बनता है. ऐसी कोई बात नहीं है, मीडिया खामखा इन खबरों को हवा दे रही है. ओरिजिनल गाना आप यहां सुन सकते हैं:

# इसके बाद गोविंदा ने 2017 में एक इंटरव्यू में कहा डेविड धवन उनके पॉलिटिक्स में जाने की वजह से प्रेशर में आ गए होंगे. उन्हें लग रहा होगा कि वो उन पर बोझ बन जाएंगे. गोविंदा ने आगे कहा कि शायद डेविड का नेचर खुद से ज़्यादा सफल लोगों से जलने वाला है. इंडस्ट्री का भी यही नेचर है. गोविंदा ने इसमें ये भी जोड़ा कि जिसमें खुद अच्छा करने की काबिलियत नहीं होती, वो दूसरों ईर्ष्या करते है.

गोविंदा कई बार पब्लिक प्लैटफॉर्म पर ये कह चुके हैं कि वरुण से उनकी तुलना उन्हें नहीं पसंद. हालांकि इस बारे में न तो कभी डेविड धवन ने बात की है, ना ही उनके बेटे वरुण धवन ने. अब देखना ये होगा कि इस इंटरव्यू के बाद डेविड या वरुण कुछ बोलते हैं अपनी चुप्पी बनाए रखते हैं.


वीडियो देखें: गोविंदा ने कादर खान को पिता समान बताया मगर मरने के बाद फोन तक नहीं किया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.