Submit your post

Follow Us

जिसने सोमनाथ का मंदिर तोड़ा, उसके गांव जाने की इतनी तमन्ना क्यों थी अटल बिहारी वाजपेयी को?

879
शेयर्स

ये उन दिनों की बात है, जब अटल बिहारी वाजपेयी विदेश मंत्री हुआ करते थे. ये मोरारजी देसाई सरकार के दौर की बात है. सितंबर 1978 में वाजपेयी विदेश यात्रा पर अफगानिस्तान पहुंचे. उस समय वहां के प्रधानमंत्री थे हफिजुल्लाह अमीन. आप अब के अफगानिस्तान की सोचकर उस दौर के अफगानिस्तान की कल्पना मत कीजिएगा. दोनों में कोई मेल नहीं है. तब वहां खुशहाली थी. खुलापन था. चीजें बेहतर थीं.

एक दिन की बात है. वाजपेयी की वहां के विदेश मंत्री से बात हो रही थी. बातचीत के दौरान एकाएक वाजपेयी ने उनसे गजनी के बारे में पूछा. गजनी एक जगह है अफगानिस्तान में. वाजपेयी ने कहा कि वो गजनी देखना चाहते हैं. अफगान विदेश मंत्री बड़े हैरान हुए. बोले- गजनी तो कोई टूरिस्ट स्पॉट भी नहीं. आप भला क्यों जाना चाहते हैं वहां?

गजनी जाने की ख्वाहिश नई नहीं थी वाजपेयी की. वो बचपन से ही वहां जाना चाहते थे. अपने अपने एक भाषण में उन्होंने ये बताया था. भाषण का मौका था सावरकर जयंती. 1996 में इस मौके पर वाजपेयी पुणे में आयोजित एक कार्यक्रम में पहुंचे थे. यहीं पर उन्होंने बताया:

अफगानिस्तान के अपने मेजबानों से मैंने कहा. मैं गजनी जाना चाहता हूं, गजनी. पहले मेरी बात उनकी समझ में नहीं आई. कहने लगे, गजनी तो कई टूरिस्ट स्पॉट नहीं है. गजनी में कोई फाइव-स्टार होटल भी नहीं है. गजनी में जाकर आप क्या करेंगे? गजनी में जाकर आप क्या देखेंगे? मैं उन्हें पूरी बात नहीं बता सकता था. मेरे हृदय में गजनी कहीं कांटे की तरह चुभ रहा है. जब से मैंने गजनी से आए एक लुटेरे की कथा पढ़ी है, और किशोरावस्था में पढ़ी है, मैं देखना चाहता था कि वो गजनी कैसा है.

वाजपेयी और आडवाणी की जोड़ी स्याह और सफेद के कॉन्ट्रास्ट जैसी थी. वाजपेयी जहां पार्टी का लिबरल चेहरा थे, वहीं आडवाणी सख्त और कट्टर हिंदुत्ववादी खांचे में फिट होते थे.
वाजपेयी और आडवाणी की जोड़ी स्याह और सफेद के कॉन्ट्रास्ट जैसी थी. वाजपेयी जहां पार्टी का लिबरल चेहरा थे, वहीं आडवाणी सख्त और कट्टर हिंदुत्ववादी खांचे में फिट होते थे.

जिस महमूद गजनवी ने बरसों पहले सोमनाथ मंदिर तोड़ा था, वो गजनी का ही रहने वाला था. वाजपेयी ने छुटपन में ही गजनवी के हमले का इतिहास पढ़ा था. वो तब से ही उस जगह को देखना चाहते थे. ताकि जान सकें कि गजनवी कितना ताकतवर था जो इतनी दूर गुजरात तक पहुंचकर सोमनाथ मंदिर को लूट पाया. सबसे बड़ी बात कि उसने इतना किया, लेकिन हिंदुस्तान में कोई भी उसे चुनौती तक नहीं दे पाया. वहां जाकर कैसा महसूस किया, इसको बताते हुए वाजपेयी के शब्द थे-

आपको ये जानकर ताज्जुब होगा कि अफगानिस्तान के इतिहास में गजनी की कोई जगह नहीं. गजनी छोटी सी जगह है. छोटा सा गांव है. कल्पना कीजिए. सैकड़ों साल पहले वहां धूल उड़ती थी. झोपड़ियां थीं. मगर एक लुटेरा लुटेरों को इकट्ठा करता हुआ सोने की चिड़िया को लूटने के लिए चला आया. वो लुटेरा सोमनाथ के मंदिर तक चला गया. पुजारी देखते रहे.


ये भी पढ़ें: 

जब केमिकल बम लिए हाईजैकर से 48 लोगों को बचाने प्लेन में घुस गए थे वाजपेयी

क्या इंदिरा गांधी को ‘दुर्गा’ कहकर पलट गए थे अटल बिहारी?

उमा भारती-गोविंदाचार्य प्रसंग और वाजपेयी की नाराजगी की पूरी कहानी

कुंभकरण के जागते ही वाजपेयी के गले लग गए आडवाणी

अटल बिहारी ने सुनाया मौलवी साब का अजीब किस्सा

नरसिम्हा राव और अटल के बीच ये बात न हुई होती, तो भारत परमाणु राष्ट्र न बन पाता

जब पोखरण में परमाणु बम फट रहे थे, तब अटल बिहारी वाजपेयी क्या कर रहे थे

क्यों एम्स में भर्ती किए गए अटल बिहारी वाजपेयी?

वीडियो में देखिए वो कहानी, जब अटल ने आडवाणी को प्रधानमंत्री नहीं बनने दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्रिकेट के किस्से

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.

शिवनारायण चंद्रपॉल की आंखों के नीचे ये काली पट्टी क्यों होती थी?

आज जन्मदिन है इस खब्बू बल्लेबाज का.

ऐशेज़: क्रिकेट के इतिहास की सबसे पुरानी और सबसे बड़ी दुश्मनी की कहानी

और 5 किस्से जो इस सीरीज़ को और मज़ेदार बनाते हैं

जब शराब के नशे में हर्शेल गिब्स ने ऑस्ट्रेलिया को धूल चटा दी

उस मैच में 8 घंटे के भीतर दुनिया के दो सबसे बड़े स्कोर बने. किस्सा 13 साल पुराना.

वो इंडियन क्रिकेटर जो इंग्लैंड में जीतने के बाद कप्तान की सारी शराब पी गया

देश के लिए खेलने वाला आख़िरी पारसी क्रिकेटर.

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.