Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

वो इकलौता हीरो, जो दो-दो फिल्मों में शाहरुख की हीरोइन ले उड़ा

3.43 K
शेयर्स

भारतीय सिनेमा में शाहरुख खान को किंग ऑफ रोमैंस कहा जाता है. लेकिन एक एक्टर ऐसा भी है, जो इनके हाथ से हीरोइन ले उड़ा. वो भी सिर्फ एक बार नहीं दो-दो बार. ये एक्टर हैं दीपक तिजोरी. हिन्दी फिल्म में हीरो के दोस्त का किरदार हमेशा से बहुत खास रहा है. इस सबजेक्ट में दीपक ने पीएचडी की हुई है. फिल्म में हीरो का जीवनसाथी चुनने से पहले इनका सेलेक्शन होता था. फिर उम्र बढ़ती गई और हीरो सेल्फ डेपेंडेंट हो गए. इसके बाद सबका साथ देने वाले दीपक का साथ किसी ने नहीं दिया. सपना दीपका का भी हीरो बनने का ही था लेकिन किस्मत साथ नहीं दे रही थी. एक बार मौका मिला था. जब शाहरुख और आमिर जैसे सितारों के साथ इन्हें फिल्म में हीरो बनाया गया. लेकिन उस फिल्म का साथ दर्शकों ने नहीं दिया और फिल्म डूब गई.

'पहला नशा' वो एकमात्र फिल्म है. जिसमें शाहरुख और आमिर खान ने एक साथ काम किया है.
‘पहला नशा’ वो एकमात्र फिल्म है. जिसमें शाहरुख और आमिर खान ने एक साथ काम किया है. हालांकि इसमें इन दोनों कलाकारों ने गेस्ट रोल किया था.

फिर इन्होंने डायरेक्शन में कदम रखा. उन्होंने ‘खामोश- खौफ की रात’ (2003), ‘फरेब’ (2005), ‘टॉम डिक एंड हैरी’ (2006) और ‘फॉक्स’ (2009) जैसी फिल्में डायरेक्ट की. यहां कहानियों ने साथ नहीं दिया. इसके बाद दीपक तिजोरी का पुकार नाम ‘खाली तिजोरी’ और ‘दीपक तले अंधेरा’ पड़ गया. बीच में उन्होंने कुछ टीवी सीरिसल में भी उन्होंने काम किया. जो पसंद भी की गईं. लेकिन तब तक पर्सनल लाइफ में दिक्कतें शुरू हो गईं. लेकिन इस आदमी ने कभी हार नहीं मानी.

1988 में आई फिल्म ‘तेरा नाम मेरा नाम’ से अपना फिल्मी करियर शुरू करने वाले दीपक 28 अगस्त, 1961 को मुंबई में पैदा हुए थे. स्कूल-कॉलेज की पढ़ाई वहीं से पूरी हुई. थोड़ा बहुत ड्रामा का शौक था. इसलिए पढ़ाई-लिखाई के साथ एक थिएटर ग्रुप जॉइन कर लिया. आमिर खान, परेश रावल, आशुतोष गोवारिकर और विपुल शाह पहले से ही उस ग्रुप के मेंबर थे. दोस्तों ने दीपक की एक्टिंग को अप्रीशिएट किया. इसके बाद दीपक एक्टिंग में ही करियर बनाने को लेकर सीरियस हो गए.

अपने एक इंटरव्यू में दीपक ने बताया कि एक्टिंग का डिसीज़न तो ले लिया लेकिन काम मिल ही नहीं रहा था. प्रोड्यूसरों से मिलने के लिए उन्हें तीन साल ऑफिसों के चक्कर काटने पड़े. लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. इस दौरान एक होटल में काम किया. एक मशहूर सिनेमा मैग्ज़िन में भी काम किया. आखिरकार 1988 में पहला मौका मिला. फिल्म थी ‘तेरा नाम मेरा नाम’. रमेश तलवार डायरेक्टेड इस फिल्म में उन्हें करण शाह, तन्वी आज़मी और सुपर्णा आनंद के साथ काम करने का मौका मिला. इस फिल्म में पहली बार उन्होंने सपोर्टिंग रोल किया. ये सोचकर कि शुरुआत कर लेते हैं, लीड रोल्स आगे कर लेंगे. लेकिन दुर्भाग्य से ऐसा कभी हो नहीं पाया.

उनके फिल्मी करियर और जीवन से जुड़े कुछ किस्से हम आपको बताएंगे. पढ़िए-

फिल्म 'तेरा नाम मेरा नाम' का पोस्टर और दूसरी ओर दीपक तिजोरी.
फिल्म ‘तेरा नाम मेरा नाम’ का पोस्टर और दूसरी ओर दीपक तिजोरी.

1.) एक बड़ी फिल्म में हीरो का रोल करने वाले थे, बाद में उसी फिल्म में हीरो के दोस्त का रोल किया

‘तेरा नाम मेरा नाम’ के बाद उन्हें कुछ और फिल्मों में साइड रोल मिले. लेकिन उन्हें पहचान दिलाई महेश भट्ट की फिल्म ‘आशिकी’ ने. ये फिल्म महेश भट्ट की पहली शादी की कहानी पर आधारित थी. महेश ने इस फिल्म में लीड रोल के लिए दीपक तिजोरी को साइन कर लिया था. इसी दौरान महेश यूनिसेफ (UNICEF) के साथ काम कर रही इंदिरा रॉय के घर किसी काम से गए. यहां महेश ने उनके बेटे राहुल को स्पॉट किया. इसके बाद उन्होंने तय कर लिया कि उनकी फिल्म का हीरो यही लड़का होगा. ये बात उन्होंने लौटने के बाद दीपक को भी बताई. दीपक निराश थे. लेकिन महेश ने उन्हें फिल्म से निकाला नहीं था. उनके लिए एक नया किरदार गढ़ा था.

ये अनु अग्रवाल और राहुल राय दोनों की ही पहली फिल्म थी.
फिल्म ‘आशिकी’ के एक सीन में राहुल रॉय और दीपक तिजोरी. ये अनु अग्रवाल और राहुल रॉय दोनों की ही पहली फिल्म थी. 

इस फिल्म में दीपक को बल्लू के कैरेक्टर में कास्ट किया गया था, जो हीरो का बेस्ट फ्रेंड था. ये फिल्म रिलीज़ हुई और बहुत बड़ी हिट हुई. इसके बाद लोग दीपक को पहचानने लगे. इंडस्ट्री ने भी बतौर एक्टर उनपर भरोसा दिखाना शुरू कर दिया. काम मिलने लगा. लेकिन कैरेक्टर में ज़्यादा वेरिएशन नहीं मिल रही थी. वही हीरो के दोस्त का किरदार हर दूसरी फिल्म में ऑफर हो जाता था.

2.) जिस रोल के लिए अक्षय कुमार ने ऑडिशन दिया वो दीपक को मिल गया

‘आशिकी’ में उनके काम से इंप्रेस होकर महेश भट्ट ने उन्हें अपनी दो और फिल्मों में काम दिया. ये फिल्में थीं ‘दिल है कि मानता नहीं’ (1991) और संजय दत्त स्टारर ‘सड़क’ (1991). जहां ‘दिल है कि…’ में उनका कैमियो था, वहीं ‘सड़क’ में उनका किरदार एक बार फिर हीरो के खास दोस्त का था. फिल्म में ‘गोट्या’ का उनका किरदार बहुत पसंद किया गया था. लेकिन इसके बाद उन्हें एक एंटी-हीरो कैरेक्टर मिला, जो उनके पिछले रोल्स से अलग था. ये फिल्म थी आमिर खान स्टारर ‘जो जीता वही सिकंदर’ (1992). इस फिल्म में दीपक के कास्ट होने के पीछे का किस्सा भी बहुत रोचक था.

फिल्म 'जो जीता ही सिकंदर' के एक सीन में आमिर खान और दीपक तिजोरी. इस फिल्म का एक बड़ा हिस्सा दोबारा शूट करना पड़ा क्योंकि हीरोइन और साइड हीरो ने बीच में ही फिल्म छोड़ दी थी.
फिल्म ‘जो जीता वही सिकंदर’ के एक सीन में आमिर खान और दीपक तिजोरी. इस फिल्म का एक बड़ा हिस्सा दोबारा शूट करना पड़ा क्योंकि हीरोइन और दूसरे हीरो ने बीच में ही फिल्म छोड़ दी थी.

मंसूर खान की इस फिल्म के लिए आमिर खान के बाद दूसरे लीड रोल के लिए अक्षय कुमार ने ऑडिशन दिया था. लेकिन उन्हें वो फिल्म नहीं मिली. ये रोल दिया गया मॉडल से एक्टर बने मिलिंद सोमण को. तमिल नाडु के कोडैकनाल में फिल्म की शूटिंग शुरू हुई. 60 दिन फिल्म शूट करने के बाद मिलिंद ने किन्हीं वजहों से वो फिल्म छोड़ दी. इसके बाद इस रोल के लिए दीपक तिजोरी को कास्ट कर पूरी फिल्म दोबारा शूट करनी पड़ी. ‘जो जीता वही सिकंदर’ में दीपक ने शेखर मल्होत्रा नाम के एक कॉलेज स्टूडेंट का रोल किया था. इसमें दीपक को कुछ अलग करने को मिला क्योंकि उनका किरदार ग्रे शेड का था. फिल्म के आखिर में आमिर उन्हें ही हराकर साइकल रेस जीतते हैं. बाद में उसी साल रिलीज़ हुई फिल्म ‘खिलाड़ी’ में अक्षय कुमार ने लीड रोल किया जबकि दीपक के हिस्से उस फिल्म में भी हीरो के दोस्त का ही रोल आया.

depak_310317-114909

3.) जब डायरेक्टर को दीपक दिखने ही बंद हो गए

अगले कुछ सालों में दीपक साइड रोल के लिए सबके फेवरेट हो गए थे. लेकिन 1994 में आई फिल्म ‘कभी हां कभी ना’ में उन्हें शाहरुख खान के साथ पैरलेल लीड रोल करने का मौका मिला. ‘कभी हां कभी ना’ शाहरुख की शुरुआती फिल्मों में से थी. लेकिन इसकी रिलीज़ तक वो 1993 में आई ‘डर’ और ‘बाज़ीगर’ जैसी फिल्में कर स्टार बन चुके थे. इस फिल्म को डायरेक्ट कर रहे थे कुंदन शाह. कुंदन और शाहरुख का साथ पुराना था. दोनों ने कई प्रोजेक्ट्स पर साथ काम किया हुआ था. कुंदन बताते हैं कि वो शाहरुख के उनके टीवी के दिनों से फैन हैं. वो इतनी कमाल एक्टिंग करते हैं कि उनसे नज़र ही नहीं हटती.

‘कभी हां कभी ना’ की शूटिंग चल रही थी. शाहरुख और दीपक बीच एक सीन फिल्माया जा रहा था. दीपक की आदत थी कि वो हर शॉट के बाद जाकर डायरेक्टर से अपने काम के बारे में पूछते थे. इस सीन के बाद भी उन्होंने ऐसा ही किया. वो सीन खत्म होते ही कुंदन के पास पहुंचे और उनसे अपने सीन के बारे में पूछा. कुंदन ने कहा कि वो उन्हें रीटेक के बाद बताएंगे. लेकिन समस्या ये थी कि कुंदन ने दीपक को देखा ही नहीं था. रीटेक के बाद दीपक फिर से कुंदन के पास पहुंचे और अपना सवाल दोहराया. लेकिन कुंदन फिर से कुछ नहीं बता पाए. इससे दीपक नाराज हो गए. उन्होंने जब इसके पीछे का कारण पूछा तो पता चला कि वो शाहरुख की एक्टिंग देखने में इतने खो गए कि दीपक को देख ही नहीं पाए.

फिल्म 'कभी हां कभी ना' के एक सीन में सुचित्रा कृष्ममूर्ति, शाहरुख खान और दीपक तिजोरी.
फिल्म ‘कभी हां कभी ना’ के एक सीन में सुचित्रा कृष्ममूर्ति, शाहरुख खान और दीपक तिजोरी.

4.) जब पत्नी ने घर से निकाल दिया तो पता चला शादी ही फर्जी थी

2017 में दीपक की पत्नी शिवानी तोमर ने उन्हें उनके ही घर से निकाल दिया. उनका इल्जाम था कि उनके पति के दूसरी महिलाओं के साथ विवाहेत्तर संबंध हैं. जब अपनी पत्नी पर एक्शन लेने के लिए दीपक अपने काउंसलर के पास पहुंचे तो उन्हें कुछ और ही पता चला. उनके काउंसलर ने उन्हें बताया कि शिवानी ने अपने पिछले पति को तलाक दिए बगैर उनकी शादी कर ली थी. इसलिए शिवानी के साथ उनकी शादी कभी लीगल थी ही नहीं. इतने सब तमाशे के बाद अब ये जोड़ा अपना मामला कोर्ट में ले गया है. शादी की वैधता संदेह के घेरे में होने के बावजूद शिवानी ने दीपक से अपनी बेटी के भरण-पोषण के लिए 1 लाख रुपए प्रति महीने गुज़ारा भत्ते की मांग की थी. दीपक और शिवानी की दो दशक से ज़्यादा पुरानी शादी से एक समारा नाम की एक बेटी है, जिसकी उम्र 21-22 साल है.

अपनी पत्नी शिवानी के साथ दीपक. एक्टर-डायरेक्टर कबीर सदानंद इनके साले हैं.
अपनी पत्नी शिवानी के साथ दीपक. एक्टर-डायरेक्टर कबीर सदानंद इनके साले हैं.

5.) बेटी किडनैप हुई लेकिन उसी दिन घर भी लौट आई

मई, 2009 में दीपक की बेटी समारा अपनी एक दोस्त के साथ शॉपिंग करने अंधेरी गई थी. शाम पांच बजे के तकरीबन शॉपिंग करके लौट रही समारा के पास ऑटो वाला रुका और उन्हें ऑटो में खींच लिया. उसके साथ गई लड़की ने इस बात की खबर फौरन दीपक को पहुंचाई. भागा-दौड़ी में पुलिस कंप्लेंट लिखाई गई. लेकिन किडनैप होने के कुछ ही घंटे बाद समारा घर वापस आ गई. उन्हें किडनैप करने वाले की उम्र 20-25 साल के आस पास बताई गई थी.

अपनी बेटी समारा के साथ दीपक. समारा भी जल्द ही फिल्मों में एंट्री लेने वाली हैं.
अपनी बेटी समारा के साथ दीपक. समारा भी जल्द ही फिल्मों में एंट्री लेने वाली हैं.

हर तरह की परिस्थितियों का सामना करते हुए दीपक ने आज भी अपना काम जारी रखा है. वो अब भी फिल्मों में काम कर रहे हैं. आखिरी बार तिग्मांशु धूलिया की फिल्म ‘साहब बीवी और गैंग्स्टर 3’ में दिखाई दिए थे. सनी लियोनी और करिश्मा तन्ना के साथ की उनकी फिल्म ‘टीना और लोलो’ किसी वजह से रिलीज़ नहीं हो पा रही है.


 ये भी पढ़ें:

वो एक्टर जो पूछता था, क्या एक जवान लड़का और एक जवान लड़की कभी दोस्त हो सकते हैं?
वो बॉलीवुड एक्टर, जो लगातार 25 फ्लॉप फ़िल्में देने के बावजूद सुपरस्टार बना
वो एक्टर जिसने अपनी पहली फिल्म रिलीज़ होने से पहले ही 30 फ़िल्में साइन कर ली थीं
जब सुभाष घई ने दिलीप कुमार और राज कुमार को साथ लाकर वो कर दिखाया, जो पूरी इंडस्ट्री 30 सालों में नहीं कर पाई थी


वीडियो देखें: आमिर खान जिस फ़ॉरेस्ट गंप का हिंदी रीमेक बनाने जा रहे हैं, जानिए उससे जुड़ी खास बातें

लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Anecdotes from the life Bollywood actor-director Deepak Tijori who starred in films like Ashiqui, Sadak, Khiladi and Kabhi Ha Kabhi Na

क्रिकेट के किस्से

जब तेज बुखार के बावजूद गावस्कर ने पहला वनडे शतक जड़ा और वो आखिरी साबित हुआ

मानों 107 वनडे मैचों से सुनील गावस्कर इसी एक दिन का इंतजार कर रहे थे.

जब श्रीनाथ-कुंबले के बल्लों ने दशहरे की रात को ही दीपावली मनवा दी थी

इंडिया 164/8 थी, 52 रन जीत के लिए चाहिए थे और फिर दोनों ने कमाल कर दिया.

श्रीसंत ने बताया वो किस्सा जब पूरी दुनिया के साथ छोड़ देने के बाद सचिन ने उनकी मदद की थी

सचिन और वर्ल्ड कप से जुड़ा ये किस्सा सुनाने के बाद फूट-फूटकर रोए श्रीसंत.

कैलिस का ज़िक्र आते ही हम इंडियंस को श्रीसंत याद आ जाते हैं, वजह है वो अद्भुत गेंद

आप अगर सच्चे क्रिकेट प्रेमी हैं तो इस वीडियो को बार-बार देखेंगे.

चेहरे पर गेंद लगी, छह टांके लगे, लौटकर उसी बॉलर को पहली बॉल पर छक्का मार दिया

इन्होंने 1983 वर्ल्ड कप फाइनल और सेमी-फाइनल दोनों ही मैचों में मैन ऑफ द मैच का अवॉर्ड जीता था.

टीम इंडिया 245 नहीं बना पाई चौथी पारी में, 1979 में गावस्कर ने अकेले 221 बना दिए थे

आज के दिन ही ये कारनामा हुआ था इंग्लैंड में. 438 का टार्गेट था और गजब का मैच हुआ.

जब 1 गेंद पर 286 रन बन गए, 6 किलोमीटर दौड़ते रहे बल्लेबाज

खुद सोचिए, ऐसा कैसे हुआ होगा.

जब वाजपेयी ने क्रिकेट टीम से हंसते हुए कहा- फिर तो हम पाकिस्तान में भी चुनाव जीत जाएंगे

2004 में इंडियन टीम 19 साल बाद पाकिस्तान के दौरे पर गई थी.