Submit your post

Follow Us

बरेली में लगे पोस्टर, 'आने वाली है भाजपा की सरकार, मुस्लिमों गांव छोड़ो'

बरेली से 70 किलोमीटर दूर. एक गांव है जियानागला. कुछ शरारती लोग होते हैं. जिनको अमन पसंद नहीं होता. बखेड़ा खड़ा करना चाहते हैं. उन्हीं में से कुछ लोगों ने गांव का माहौल बिगाड़ने के लिए पोस्टर लगा दिए होंगे, ‘मुसलमानों गांव छोड़ दो. बीजेपी की सरकार आ गई है. अगर नहीं छोड़ा तो वही करेंगे जो ट्रंप अमेरिका में कर रहा है.’ इस सोच पर बात करने से पहले राहत इन्दौरी की एक नज़्म याद आ रही है. पहले उसे पढ़ लीजिए. नज़्म थोड़ी तल्ख़ लहजे में है, मगर सच के करीब है.

अगर ख़िलाफ़ हैं होने दो, जान थोड़ी है
ये सब धुआं है कोई आसमान थोड़ी है

लगेगी आग तो आएंगे घर कई ज़द में
यहां पे सिर्फ़ हमारा मकान थोड़ी है

मैं जानता हूं के दुश्मन भी कम नहीं लेकिन
हमारी तरह हथेली पे जान थोड़ी है

हमारे मुंह से जो निकले वही सदाक़त है
हमारे मुंह में तुम्हारी ज़ुबान थोड़ी है

जो आज साहिबे मसनद हैं कल नहीं होंगे
किराएदार हैं ज़ाती मकान थोड़ी है

सभी का ख़ून है शामिल यहां की मिट्टी में
किसी के बाप का हिन्दोस्तान थोड़ी है

पोस्टर चिपकाए जाने के बाद से गांव में तनाव है. इन पोस्टरों में लिखा है, ‘उत्तर प्रदेश में भाजपा की सरकार आ गई है. मुसलमानों गांव खाली कर दो. नहीं तो वही करेंगे जो अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप अपने देश में मुसलमानों के साथ कर रहे हैं. जल्दी ही फैसला कर लो, क्योंकि अब तुम गांव में रहने के लायक नहीं रहे.’

ये पोस्टर एक-दो जगह नहीं बल्कि करीब दो दर्जन जगहों पर लगे थे. इन पोस्टर में बतौर संरक्षक बीजेपी के एक सांसद का नाम लिखा हुआ है. किसने ये पोस्टर लगाएं हैं उस जगह ‘अज्ञात (गांव के हिंदू)’ लिखा गया है. इन पोस्टरों में 30 दिसंबर तक गांव छोड़ने की चेतावनी दी गई है.

इन पोस्टरों की जानकारी पुलिस को मिली. पुलिस ने ये पोस्टर हटवा दिए हैं. इन पोस्टरों को सोमवार की सुबह देखा गया था. गांव वालों का कहना है कि उन्हें नहीं पता कि यह किसने और कब लगाए.

यूपी में जिला बरेली के एक गांव में ये पोस्टर लगे हैं.
यूपी में जिला बरेली के एक गांव में ये पोस्टर लगे थे.

टाइम्स ऑफ इंडिया के मुताबिक ये पोस्टर बीजेपी की प्रचंड जीत के अगले ही दिन लग गए थे. गांव के प्रधान रेवा राम का कहना है, ‘हम लोग आधी रात के करीब सोने गए थे. जब सुबह उठे तो देखा कि पूरे गांव में ऐसे पोस्टर लगे हैं. कुछ गांव वालों ने विरोध जताया. हमने पुलिस को इस बारे में जानकारी दी.’

इस गांव में करीब 2,500 की आबादी है. जिनमें करीब 200 मुस्लिम बताए जाते हैं. गांव वालों का कहना है कि इससे पहले कभी यहां कोई ऐसी बात नहीं हुई, जिसमें सांप्रदायिकता की बात हो. सब लोग मिलजुलकर रहते हैं. जिस तरह से पोस्टर पर अज्ञात लिखा है, उसी तरह पुलिस ने भी अज्ञात लोगों के खिलाफ केस दर्ज कर लिया है. पूछताछ के लिए गांव के ही 5 लड़कों को पुलिस ने हिरासत में भी लिया. माहौल न बिगड़े, इसके लिए पुलिस फ़ोर्स भी तैनात किया गया है.

जिला प्रशासन के आला अफसरों ने गांव का दौरा किया. लेकिन अभी ऐसा कुछ पता नहीं चला कि पोस्टर किसने लगाए. पुलिस प्रिंटिंग और फोटोस्टेट का काम करने वालों से पूछताछ कर रही है.

वैसे तो पूरी उम्मीद है कि ये पोस्टर चंद लोगों का ही काम है. लेकिन ये उन लोगों की उस सोच को दर्शाता है, जिसमें उन्हें लगता है कि सरकार बदलने के बाद मुस्लिमों को देश छोड़ देना चाहिए. ये खतरनाक सोच है समाज के लिए भी. और सरकार के लिए भी. क्योंकि इससे सरकार की गलत इमेज बनती है, भले ही सरकार का कोई लेना-देना न हो. पुलिस को सख्ती से काम लेना चाहिए, ताकि माहौल न बिगड़े और अमन बना रहे.

पोस्टरबाज़ी से गांव में तनाव हो गया था. शरारती लोग भी यही चाहते थे. गांव वालों को ही नहीं, हर इंसान को ऐसे शरारती लोगों से बचने की ज़रूरत है. क्योंकि जब कहीं भी फिज़ा ख़राब होती है तो उसकी ज़द में बाकी भी आ जाते हैं. ये शरारती दिलों में नफरत डालना चाहते हैं. समझदारी इसमें ही है कि गांव के लोग आपस में मिलकर ऐसे लोगों की पहचान करें. मोहब्बतों को कायम करें. क्योंकि दिलों की दरार भरी नहीं जाती. तो इस दरार को आने ही न दें. बरेली के ही शायर हैं वसीम बरेलवी. ये शेर उनका ही है,

तुम्हारी राह में मिट्टी के घर नहीं आते
इसीलिए तुम्हें हम नज़र नहीं आते

मोहब्बतों के दिनों की यही खराबी है
ये रूठ जाएं तो लौट कर नहीं आते


ये भी पढ़िए :

भारत में ये मुसलमान मूर्ति बनाकर एक देवी की पूजा करते हैं

हिंदू मुस्लिम भाई-भाई, प्यार के दुश्मन दोनों कसाई

क्या कैराना को कश्मीर बनाने की साजिश हो रही है?

लेकिन 150 मुस्लिम परिवार भी कैराना छोड़ गए हैं: पुलिस

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

10 नंबरी

उस घटना पर फिल्म, जब फैक्ट्री के विरोध में सड़क पर उतरे लोगों को पुलिस ने गोली मार दी

उस घटना पर फिल्म, जब फैक्ट्री के विरोध में सड़क पर उतरे लोगों को पुलिस ने गोली मार दी

'पर्ल सिटी मैसेकर': 20 हज़ार लोग फैक्ट्री बंद करवाने के लिए सड़कों पर उतरे, अब वही फैक्ट्री को खोलने की मांग कर रहे हैं.

'गिल्टी माइंड्स' वेब सीरीज़ का ट्रेलर देख 'मिर्ज़ापुर' के फैंस क्यों एक्साइटेड हो रहे हैं?

'गिल्टी माइंड्स' वेब सीरीज़ का ट्रेलर देख 'मिर्ज़ापुर' के फैंस क्यों एक्साइटेड हो रहे हैं?

स्वीटी और बाउजी को साथ देखकर फैंस में खुशी की लहर.

'कपिल शर्मा शो' की जगह ये शो आएगा!

'कपिल शर्मा शो' की जगह ये शो आएगा!

सोनी चैनल पर नया कॉमेडी शो आने वाला है.

वो 9 मौके जब नितिन गडकरी ने तो बीजेपी को भी चौंका दिया!

वो 9 मौके जब नितिन गडकरी ने तो बीजेपी को भी चौंका दिया!

"बहुत सी जगह ईगो होती है"

'बाहुबली 3' कब बनेगी, जवाब मिल गया

'बाहुबली 3' कब बनेगी, जवाब मिल गया

प्रड्यूसर प्रसाद देविनेनी जवाब दिया है.

क्यों विजय की 'बीस्ट' पर भारी पड़ती दिख रही है यश की KGF 2?

क्यों विजय की 'बीस्ट' पर भारी पड़ती दिख रही है यश की KGF 2?

Beast vs KGF 2: जानिए इन दोनों फिल्मों की पांच-पांच बातें, जो इन्हें दर्शकों की पसंदीदा फिल्म बनाती हैं.

जूनियर एनटीआर की RRR ने रजनीकांत की '2.0' का रिकॉर्ड तोड़ दिया

जूनियर एनटीआर की RRR ने रजनीकांत की '2.0' का रिकॉर्ड तोड़ दिया

इंडिया की टॉप 5 ग्रॉसिंग मूवीज़ में से एक बन गई है.

'RRR' के मेकर्स से नाराज़ हैं आलिया?

'RRR' के मेकर्स से नाराज़ हैं आलिया?

आलिया ने अपने अकाउंट से 'RRR' से जुड़ी सारी पोस्ट्स डिलीट कर दी.

राजामौली की RRR ने 'द बैटमैन' को पछाड़ दिया

राजामौली की RRR ने 'द बैटमैन' को पछाड़ दिया

कमाई के मामले में सबको पीछे छोड़ दिया है.

विल स्मिथ थप्पड़ वाले कांड पर ऑस्कर वालों ने बड़ा ऐलान किया

विल स्मिथ थप्पड़ वाले कांड पर ऑस्कर वालों ने बड़ा ऐलान किया

एकेडमी ने अपने सभी मेम्बर्स को एक लेटर भेजा है.