Submit your post

Follow Us

पड़ताल: पीएम मोदी ने हर साल दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने की बात कहां कही थी?

5
शेयर्स

17वीं लोकसभा का चुनाव अंतिम दौर में है. सबको 23 मई का इंतजार है. इस दिन नतीजे आएंगे. इस चुनाव में एक शब्द की चर्चा खूब हुई. दो करोड़ जॉब. विपक्ष ने लगभग हर रैली में पीएम मोदी और बीजेपी को इस मुद्दे पर घेरा. चुनाव शुरू होने से पहले भी कांग्रेस ने हर साल दो करोड़ जॉब के वादे को पूरा नहीं कर पाने के मुद्दे पर पीएम मोदी को घेरा. संसद से लेकर सड़क तक इसकी चर्चा हुई. कांग्रेस के अध्यक्ष राहुल गांधी ने अपनी रैलियों में बार-बार कहा कि पीएम मोदी ने दो करोड़ जॉब का वादा किया था, लेकिन पूरा नहीं किया. लगभग हर इंटरव्यू में पीएम मोदी से रोजगार के मुद्दे पर सवाल पूछे गए. उन्होंने अपने हिसाब से इसका जवाब भी दिया. लेकिन क्या वाकई में पीएम मोदी या बीजेपी ने हर साल दो करोड़ जॉब देने का वादा किया था. अगर वादा किया था तो कब किया था? आखिर 2 करोड़ जॉब की बात कहां से आई?

# डेटा पर पीएम ने सवाल उठाए थे

पीएम मोदी ने टाइम्स नाऊ को 19 अप्रैल 2019 को इंटरव्यू दिया. इस इंटरव्यू में रोजगार के मुद्दे पर सवाल किया गया. सवाल था- आपकी सरकार ने कहा था कि 10 करोड़ जॉब्स देंगे 5 साल के बाद. पीएम मोदी ने बीच में एंकर को टोकते हुए कहा ”आप रिसर्च करते हैं क्या”. एंकर के कहा कि आंकड़े आए हैं. पीएम मोदी ने कहा, ”मैं चाहूंगा कि रिसर्च कीजिए, कब कहा, कहां कहा, कहां लिखा हुआ है. वो भी जरा एक बार चेक कर लीजिए. लेकिन अगर कांग्रेस जो चर्चा कर रही है वही आपके सवाल का आधार है… टाइम्स नाऊ को रिसर्च टीम बनानी चाहिए”. यानी इस इंटरव्यू में पीएम मोदी ने माना कि उन्होंने कभी भी 10 करोड़ यानी हर साल दो करोड़ रोजगार देने का वादा नहीं किया. इसलिए वह एंकर को कह रहे हैं कि रिसर्च करने के बाद आना चाहिए था. जब वो कहते हैं कि कब कहा, कहां कहा, कहां लिखा हुआ है. वो भी जरा एक बार चेक कर लीजिए.

# राहुल ने दिया था दो करोड़ का डेटा

21 जुलाई 2018 राहुल गांधी ने संसद में दो करोड़ रोजगार का मुद्दा उठाया. राहुल गांधी ने कहा था-

हिन्दुस्तान के युवाओं ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भरोसा किया था. हर भाषण में प्रधानमंत्री ने कहा था कि दो करोड़ युवाओं को मैं हर साल रोजगार दूंगा. और सच्चाई है कि सिर्फ 4 लाख युवाओं को रोजगार मिला है.

पीएम मोदी ने राहुल गांधी के सवालों का जवाब दिया था. पीएम ने कहा था,

रोजगार को लेकर बहुत सारे भ्रम फैलाए जा रहे हैं. और फिर एक बार सत्य को कुचलने का प्रयास , आधारहीन बातें, कोई जानकारी नहीं ऐसे गपगोले चलाना. अच्छा होगा अगर उसमें थोड़ा बारिकी से ध्यान देते तो देश के नौजवानों को निराश करके राजनीति करने का पाप नहीं करते. सरकार ने सिस्टम में रोजगार से संबंधित अलग-अलग आंकड़ों को देश के समक्ष हर महीने प्रस्तुत करने का निर्णय किया है.

# इंटरव्यू में पीएम ने क्या कहा था?

20 जनवरी 2018. पीएम मोदी ने जी न्यूज को इंटरव्यू दिया. इस इंटरव्यू की खूब चर्चा हुई. रोजगार से जुड़े सवाल के मुद्दे पर पीएम मोदी ने जो कहा विपक्ष ने उसका मजाक भी उड़ाया. सवाल था.

‘मोदीजी हर बार रोजगार एक बड़ा मुद्दा बनता है. जब आप आए थे तो आपने वादा भी किया था कि आप रोजगार उपलब्ध कराएंगे. एक करोड़ लोगों को रोजगार देंगे. अब जब 1334 दिन बीत चुके हैं और आप अपना रिपोर्ट कार्ड निकालकर देखते हैं, संतुष्ट हैं कि आप लोगों का जीवन बदल पाए?

पीएम मोदी ने इस सवाल का लंबा जवाब दिया. लेकिन एक करोड़ रोजगार के डेटा पर कुछ नहीं कहा. पीएम मोदी ने उसे नहीं झुठलाया. वह चाहते तो कह सकते थे कि हमने एक करोड़ रोजगार देने की बात तो कभी की ही नहीं. इसी सवाल के जवाब के अंत में पीएम मोदी ने कहा था कि ‘अगर आपके जी टीवी स्टूडियो के बाहर कोई पकौड़े बेचता है और शाम को 200 रुपए कमाकर घर जाता है. उस व्यक्ति को आप रोजगार मानोगे कि नहीं मानोगे’.

# मेनिफेस्टो में क्या कहा गया था?

बीजेपी के 2014 के मेनिफेस्ट में जॉब का 13 बार जिक्र किया गया है, लेकिन सरकार बनने के बाद कितने लोगों को रोजगार देंगे इसका जिक्र नहीं है. यानी यहां भी बीजेपी ने कितने लोगों को रोजगार देगी इसका डेटा नहीं दिया था.

# आगरा की रैली का क्यों होता है जिक्र?

21 नवंबर 2013 को गुजरात के तत्कालीन सीएम और बीजेपी के पीएम पद के दावेदार मोदी की आगरा में रैली थी. अपने भाषण में पीएम मोदी ने रोजगार का जिक्र किया था. पीएम मोदी ने कहा था,

”दिल्ली में बैठी हुई कांग्रेस की सरकार ने वादा किया था कि सरकार बनेगी तो वे हर वर्ष एक करोड़ नौजवानों को रोजगार देंगे. भाइयों-बहनों आप मुझे जवाब देंगे. मैं आपसे सवाल पूछूं, आप जवाब देंगे. कांग्रेस ने लोकसभा के चुनाव में वादा किया था कि अगर हम सत्ता में आएंगे तो एक करोड़ लोगों को रोजगार देंगे. वादा किया था, पूरे ताकत से बोलो वादा किया था, कांग्रेस ने वादा किया था, वादा निभाया? आपमें कोई है भाई जिसको दिल्ली सरकार ने नौकरी दी हो. आपमें कोई है जिसको दिल्ली सरकार ने रोजगार दिया हो.

वीडियो में 18 मिनट 30 सेकेंड के बाद पीएम के इस भाषण को सुना जा सकता है.

नरेंद्र मोदी की इस रैली के बाद न्यूज एजेंसी पीटीआई के हवाले से कई न्यूज पोर्टल ने खबर चलाई कि नरेंद्र मोदी ने सरकार बनने पर एक करोड़ रोजगार देने का वादा किया है. एजेंसी के हवाले से लिखा गया कि,

”नरेंद्र मोदी ने रैली में कहा कि कांग्रेस ने लोकसभा चुनाव में वादा किया था कि उसकी सरकार बनने पर एक करोड़ युवाओं को रोजगार देगी लेकिन वह फेल रही, बीजेपी की सरकार बनने पर एक करोड़ युवाओं को रोजगार मिलेगा.

बीजेपी ने अपने विज्ञापन में भी रोजगार देने का जिक्र किया. लेकिन  सरकार बनने पर कितने लोगों को रोजगार देगी इसका कोई डेटा नहीं दिया.

हमने पीएम मोदी के जितने भाषण और इंटरव्यू देखे कहीं भी हमें न तो एक करोड़, न ही दो करोड़ का डेटा मिला. पीएम मोदी की 2013 की एक रैली के भाषण को एक न्यूज एजेंसी ने तोड़ मरोड़ कर पेश किया. पीएम मोदी के भाषणों के हवाले से एक करोड़ रोजगार देने का जिक्र किया. इसे ज्यादातर मीडिया संस्थानों ने चलाया और यह धीरे-धीरे लोगों की जेहन में बस गया. हालांकि यह भी उतना ही सच है कि बीजेपी ने खुलकर कभी नहीं कहा कि उसने एक करोड़ या दो करोड़ लोगों को रोजगार देने का वादा नहीं किया था. बीजेपी इस आंकड़े को झुठला सकती थी. लेकिन वह इस मुद्दे पर विपक्ष के बुने जाल में फंसती चली गई. और मोदी सरकार ने कितने लोगों को जॉब दिया यही बताती रही.


पड़ताल: नरेंद्र मोदी के साथ चलने वाले SPG कमांडो के ब्रीफ़केस में क्या होता है?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Fact check:Did Pm Narendra Modi or bjp ever promised 2 crore jobs every year

10 नंबरी

राहुल गांधी ने 'मोदीलाई' वाले ट्वीट में जो चालाकी की, वो अब तक कोई नहीं पकड़ पाया

हींग लगे न फिटकरी, रंग चोखा हो जाए.

'इंडियाज़ मोस्ट वॉन्टेड' का देशभक्ति वाला गाना सुना? अब ये 12 गाने सुनिए जो ऐसे गानों में टॉप हैं

देशभक्ति वाले ये टॉप 12 गाने आप में जोश भर देंगे.

पता चल गया बादल और रडार वाली बात के पीछे नरेंद्र मोदी की ग़लती नहीं थी!

प्रधानमंत्री ने इंटरव्यू में जो कहा, उसके पीछे साइंस है, जिसका पता बस भारतीयों को है.

IPL 2019 के वो 7 मौके, जब अंपायरों ने मैदान पर ब्लंडर किए

आईपीएल 2019 खराब अंपायरिंग के रिकॉर्ड के लिए भी जाना जाएगा.

आपकी मम्मी का फेवरेट डायलॉग कौन सा है?

आने दो पापा को या आग लगे इस मोबाइल को?

सआदत हसन मंटो को समझना है तो ये छोटा सा क्रैश कोर्स कर लो

जानिए मंटो को कैसे जाना जाए.

अपनी अगली फिल्म में गे बनने जा रहे हैं आयुष्मान खुराना

फिल्म का टीज़र आ गया है.

15 साल के फिल्मी करियर में पहली बार इमरान, बच्चन के साथ स्क्रीन शेयर करते नज़र आएंगे

ये फिल्म एक साइकोलॉजिकल गेम पर बेस्ड है.

जब एक गैंगस्टर ने लड़की की कार उठा ली और वो एक ठग के साथ बदला लेने निकल पड़ी

बाकी की डिटेल्स स्टोरी में पढ़िए.

महाराणा प्रताप के 7 किस्से: जब वफादार मुसलमान ने बचाई उनकी जान

9 मई, 1540 को पैदा होने वाले महाराणा प्रताप की मौत 29 जनवरी, 1597 को हुई.