The Lallantop
Advertisement

IB की रिपोर्ट में 'चुनाव में BJP की हार'? दावा शेयर करने वाले होंगे शर्मसार

लेटर में कथित तौर पर भारत की इंटेलिजेंस विभाग के हवाले से लोकसभा सीटों के आंकड़े छपे हैं. मोटा-माटी कहा जा रहा कि कई राज्यों में BJP को नुकसान होने जा रहा. इसे शेयर करके दावा किया जा रहा कि इंटेलिजेंस की रिपोर्ट से BJP में खलबली मच गई है.

Advertisement
Fake Letter of IB report predicting less seats for BJP in the Lok Sabha elections viral
क्या खूफिया विभाग ने बीजेपी के हार की रिपोर्ट जारी की?
31 मई 2024 (Updated: 1 जून 2024, 20:24 IST)
Updated: 1 जून 2024 20:24 IST
font-size
Small
Medium
Large
whatsapp share

लोकसभा चुनाव 2024 के अंतिम चरण का चुनाव प्रचार समाप्त हो चुका है. 1 जून को 57 सीटों पर वोटिंग समाप्त होने के बाद एग्जिट पोल के नतीज़े जारी किए जाएंगे. लेकिन उससे पहले चुनाव और राजनीति में दिलचस्पी लेने वाले लोग कयास लगाना शुरू कर चुके हैं. चुनाव के नतीज़े 4 जून को आएंगे, लेकिन उससे पहले एक लेटर सोशल मीडिया पर वायरल है. लेटर में कथित तौर पर भारत की इंटेलिजेंस विभाग के हवाले से लोकसभा सीटों के आंकड़े छपे हैं. मोटा-माटी कहा जा रहा कि कई राज्यों में BJP को नुकसान होने जा रहा. इसे शेयर करके दावा किया जा रहा कि इंटेलिजेंस की रिपोर्ट से BJP में खलबली मच गई है.

फेसबुक पर बीरेंद्र गुप्ता फौजी नाम के एक यूजर ने लेटर शेयर करके लिखा, “IB रिपोर्ट में बड़ा खुलासा. 4 जून को भाजपा सरकार जा रही है. INDIA गठबंधन की सरकार आ रही है.”

एग्जिट पोल से जुड़े सभी अपडेट्स के लिए इसे पढ़ें: हार में घट सकती हैं NDA की सीटें, INDIA गठबंधन छीन सकता है 7-10 सीटें

सोशल मीडिया पर वायरल लेटर का स्क्रीनश़ॉट.


इसके अलावा कई अन्य यूजर्स ने भी वायरल पोस्ट को शेयर किया है जिसे आप यहां, यहां और यहां देख सकते हैं.

पड़ताल

क्या इंटेलिजेंस की रिपोर्ट से बीजेपी में खलबली मच गई है? इसकी सच्चाई जानने के लिए सबसे पहले हमने वायरल हो रहा लेटर ध्यान से देखा. इसमें ‘247 SuperFast’ नाम के चैनल से खबर छपी है और रिपोर्टर का नाम विनोद कुमार तुषावर लिखा है. लेकिन ‘247 SuperFast’ की वेबसाइट पर हमें ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं मिली. फेसबुक पर कुछ कीवर्ड सर्च करने पर हमें विनोद कुमार तुषावर का नंबर मिला. हमने उनसे संपर्क किया. उन्होंने बताया,

"पत्रकारों के कई WhatsApp ग्रुप्स में मैं जुड़ा हूं. ऐसे ही एक ग्रुप में हमें यह जानकारी मिली. चूंकि मैं चुनाव में व्यस्त था इसलिए हमारे किसी सहकर्मी ने खबर को बिना वेरिफाई किए अखबार में छाप दिया. हम इस वायरल लेटर में दी गई जानकारी की पुष्टि नहीं करते हैं."

भारतीय खुफिया विभाग (IB) का काम राष्ट्रीय सुरक्षा और आंतकवाद से जुड़े मसलों के संबंध में जानकारियां जुटाने का होता है. इससे पहले भी चुनाव के दौरान इंटेलिजेंस विभाग के नाम पर कई फेक न्यूज़ वायरल हो चुके हैं. 'इंडिया टुडे' की एक रिपोर्ट के अनुसार, चुनाव के दौरान IB की रिपोर्ट तैयार की जाती हैं, लेकिन वे आम तौर पर सुरक्षा के लिहाज से संवेदनशील क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करती हैं न कि चुनाव के नतीजों पर.

इसके अलावा भारत सरकार के प्रेस इन्फॉर्मेशन ब्यूरो (PIB) के अंतर्गत आने वाली फैक्ट चेक यूनिट ने भी वायरल दावे को गलत बताया है. PIB Fact Check के एक्स हैंडल से 30 मई को ट्वीट कर बताया गया कि यह दावा फर्जी है और इंटेलिजेंस ब्यूरो ने ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं बनाई है.

नतीजा

कुल मिलाकर, भारतीय इंटेलिजेंस के नाम पर शेयर किया जा रह लेटर भ्रामक है. ऐसी कोई रिपोर्ट जारी नहीं की गई है. 

पड़ताल की वॉट्सऐप हेल्पलाइन से जुड़ने के लिए इस लिंक पर क्लिक करें.
ट्विटर और फेसबुक पर फॉलो करने के लिए ट्विटर लिंक और फेसबुक लिंक पर क्लिक करें.
 

वीडियो: बृजभूषण सिंह के बेटे के काफिले में शामिल फॉर्च्यूनर ने चार लोगों को कुचला, दो की मौत

thumbnail

Advertisement

Advertisement