Submit your post

Follow Us

हमारे न्यूज चैनलों में बंदर बिठाकर नाच चलता है: मकालू

vineet singh विनीत दी लल्लनटॉप के रीडर और पक्के वाले दोस्त हैं. बलिया से हैं. जहां से चंद्रशेखर प्रधानमंत्री बने थे. उन्हीं ने देवस्थली विद्यापीठ स्कूल खोला था जिस स्कूल में पढ़े हैं विनीत. पढ़ लिख के पथरा हुए तो चले गए बंबई. वहां टाटा कंपनी में कोई बड़ी जिम्मेदारी वाला काम संभाल रहे हैं. अपनी पोस्ट का नाम अंग्रेजी में बताया है. लेकिन वो इत्ता लंबा था कि हम भूल गए. दोबारा पूछ के कॉपी पेस्ट कर देंगे. उन्होंने लल्लन के लिए बड़े मजे की चीजें लिखी हैं. हमको पढ़के मजा आया, आप भी पढ़िए.


makalu 1

मेरा एक दोस्त है मकालू, मैं उसे बिल्कुल पसंद नहीं करता. दरअसल उसे कोई भी पसंद नहीं करता. लेकिन उसे इस बात से कोई फर्क भी कहां पड़ता है. कारण खुद समझ आ जाएगा आपको. उसने आपको देखा नहीं की पकड़ के बिठा लेगा और फिर बकवास शुरू. हर मुद्दे पर उसकी अपनी एक राय होती है. कभी भी कोई भी उसके निशाने पर आ जाता है और फिर बड़े आड़े-टेढ़े सवाल पूछ के झेला देता है.

आज फिर मिल गया बाजार में. मैने सोचा बच के निकल लेता हूं लेकिन पीछे से आकर धप्पा मारते हुए बोला- गुरु मुझे देखकर अनदेखा करते हो?
मैं कुछ बोलता उससे पहले ही शुरू हो गया. बोला- गुरु जानते हो कुछ मामलो में भारत बड़े देशों अमेरिका और ब्रिटेन से भी आगे है.
मैने कहा- ये तो बड़ी अच्छी बात है, लेकिन किस मामले में?
मकालू बोला- बताता हूं, आज गलती से मैंने टीवी पर CNN और BBC लगा लिया था. बिलकुल ही मजा नहीं आया देख कर. बोर कर दिया. न्यूज प्रजेंट करने में वो हमसे बहुत पीछे हैं.

मैने कहा- दोस्त मैंने देखा नहीं कभी तो मुझे आइडिया नहीं है, वैसे क्या कमी थी ऐसी?

मकालू- गुरु उम्मीद कर रहा था कि ‘हॉलीवुड’ के न्यूज़ में तो और भी ज्यादा एक्शन होगा. बहुत मसाला होगा. लेकिन हकीकत में बिल्कुल फीका था. तुम खुद सोचो, वो सीरिया में बम गिराने का वीडियो दिखा रहे थे और कोई बैकग्राउंड म्यूजिक ही नहीं था. गुरु एंकर की आवाज से ऐसा लगना चाहिए कि वो भी बम की जद में है. वैसा कोई एक्साइटमेंट ही नहीं था. सीरियस मुद्दे पर बहस हो रही थी और कोई चिल्ला ही नहीं रहा था. डिबेट में कम से कम 10-12 लोग एक साथ ना बोलें तो फिर क्या मजा डिबेट का. कुल 2-3 लोग सलीके से बैठ कर बहस कर रहे थे. जबकि वो हॉलीवुड वाले फिल्में कितनी अच्छी बनाते हैं लेकिन टीवी पर ना तो आग जल रही थी और ना कोई VFX एफ्फेक्ट था. मैं तो बोर हो गया बिल्कुल.

मैंने सहमत होते हुए कहा- फिर काहें खुद को “डेवेलप्ड नेशन” कहते हैं?

मकालू बोला- गुरु इतना ही नहीं सिर्फ तीन चार न्यूज़ चैनल्स से काम चल जाता है उनका. जबकि हमारे यहां एंटरटेनमेन्ट चैनेल से ज्यादा न्यूज चैनल्स हैं. अरे ज्यादा नहीं होंगे तो कम भी नहीं होंगे. यकीन नहीं तो गिन कर देख लो. अंग्रेजी, हिंदी और रीजनल न्यूज चैनलों को.

मैने पूछा -लेकिन ऐसा क्यूं है?

मकालू ने ‘कनक्लूड’ किया- दोस्त हम काम-काज भूल कर, रोड के किनारे खड़े होकर मदारी देखने वाले लोग हैं. और बन्दर के घुलटने का मजा बिना डमरु के कहा आता है और फिर मदारी वाला जितने बढ़िया अंदाज में बोलता है उतना ही पैसा गिरता है. वही तो असली मजा है मदारी देखने का.

मैने कहा – बावले हो गए हो तुम. टीवी समाचार तुम्हें मदारी जैसे दिखने लगे हैं. एंकर मदारी वाला? और TRP को पैसा बता रहे हो. मैं नहीं मानता कि एंकर सैलरी वाली कोई नौकरी होती है. देश की सेवा करते हैं वो. और तो और दर्शकों को भी तमाशबीन बना दिया, आज फिर हद कर दी तुमने, खैर कौन बहस करे तुमसे.

और हमेशा की तरह मैं आगे बढ़ गया या यूं कहिए आगे भग लिया.

अभी भी पीछे से मकालू की आवाज आए जा रही है.


ये भी पढ़ें:

IIT के लिए ड्रॉप लेने की सोच रहे हो तो ये सलाह पढ़ ल्यो

बाहुबली 2 देखने जा रहे हैं तो भूलकर भी न करें ये काम, वरना पछताएंगे

रात को राजा बनते, दिन में पंचर बनाते, कौन हैं ये मल्टीमीडिया लोग!

श्री श्री 1008 सुखरंजन, जगत नरायन का धन ले गए, धरम भी

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

क्विज़: खून में दौड़ती है देशभक्ति? तो जलियांवाला बाग के 10 सवालों के जवाब दो

जलियांवाला बाग कांड के बारे में अपनी जानकारी आप भी चेक कर लीजिए.

मधुबाला को खटका लगा हुआ था इस हीरोइन को दिलीप कुमार के साथ देखकर

एक्ट्रेस निम्मी के गुज़र जाने पर उनको याद करते हुए उनकी ज़िंदगी के कुछ किस्से

90000 डॉलर का कर्ज़ा उतारकर प्राइवेट जेट खरीद लिया था इस 'गैंबलर' ने

उस अमेरिकी सिंगर की अजीब दास्तां, जो बात करने के बजाए गाने में ज़्यादा कंफर्टेबल महसूस करता था

YES Bank शुरू करने वाले राणा कपूर कौन हैं, जिन्होंने नोटबंदी को 'मास्टरस्ट्रोक' बताया था

यस बैंक डूब रहा है.

सात साल पहले केजरीवाल ने वो बात कही थी जो आज वो ख़ुद नहीं सुनना चाहते

बरसों पुरानी इस बात की वजह से सोशल मीडिया पर घेर लिए गए हैं.

क्या भारत सरकार से पूछे बिना पाकिस्तान चली गई इंडियन कबड्डी टीम?

अब ढेरों खेल-तमाशा हो रहा है.

बजट का कितना ज्ञान है, ये क्विज़ खेलकर चेक कर लो!

कितना नंबर पाया, बताते हुए जाना. #Budget2020

संविधान के कितने बड़े जानकार हैं आप?

ये क्विज़ जीत लिया तो आप जीनियस हुए.

क्रिकेट के पक्के वाले फैन हो तो इस क्विज़ को जीतकर बताओ

कित्ता नंबर मिला, सच-सच बताना.

सलमान खान के फैन, इधर आओ क्विज खेल के बताओ

क्विज में सही जवाब देने वाले के लिए एक खास इनाम है.