Submit your post

Follow Us

बिहार में बाढ़: दहा रहे देहात, बजबजा रहे शहर और सरकार पूछ रही-घोघो रानी, कितना पानी

गोपालगंज के रामनगर से जागीरीटोला और खाप मकसुदपुर जाने वाले कुछ लोगों को लेकर एक नाव निकली है. हम भी इसी नाव पर सवार हो गए हैं. इस नाव पर एक 70-72 साल के बुजुर्ग हैं. वो सुबह दूध लेकर पास के गांव में गए थे. अभी बेच कर वापस अपने घर जा रहे हैं. एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति हैं, जो घर का कुछ सामान लाने बाजार गए थे. और साथ में अपने पांच साल के बेटे को भी ले गए थे. जब हमने पूछा कि बच्चे को क्यों ले गए तो बोले, “क्या करते? दरवाजे से बाहर निकलते ही पानी है. दह न जाए इसलिए साथ रखते हैं.”

इन दोनों के अलावा नाव पर दो महिलाएं हैं जो नमक, मिर्च, सब्ज़ी और दूसरे जरूरी सामान खरीदकर लौट रही हैं. बाकी दो-तीन बच्चे हैं.

इस नाव से एक बार पार उतरने का किराया 10 रुपया है. नाव जहां से गुज़र रही है वहां कुछ दिन पहले तक गन्ने की फसल लहलहा रही थी. अभी ऐसा लग रहा है कि ये नदी का पेट है. लग ही नहीं रहा है कि यहां या इसके आसपास के इलाकों में कभी खेती भी होती रही होगी. नदी ने समूचे इलाके को अपने में समेट लिया है. पास में ही एक दो मंज़िला इमारत दिख रही है. बनावट के हिसाब से ये स्कूल या कोई सरकारी अस्पताल जान पड़ता है.

नाव पर बैठे लोगों ने बताया कि आसपास के 5-6 गांवों का इकलौता हाईस्कूल है जो फिलहाल पानी में डूबा है. जब हमने नाव पर बैठे एक लड़के से, जिसकी स्कूल जाने की उमर है, पूछा कि पढ़ाई कैसे होती है तो वो बोला,”ई स्कूलिया में साल के तीन महीने गंगा माई पढ़ेलीं. उनका पढ़ला के बादे ने केहू पढ़ी.”

नाव से एक बार पार उतरने का किराया दस रुपया रुपया है.
नाव से एक बार पार उतरने का किराया दस रुपया रुपया है.

सब लड़के की बात पर हंस पड़े. उसने जो जवाब दिया उसके बाद कोई सवाल हो ही नहीं सकता था.

जुलाई के पहले-दूसरे सप्ताह में ही ज़िले के कई गांव टापू बने हुए हैं. इन सभी गांवों के आसपास से गंडक नदी बह रही है. पास के बाज़ार तक जाने के लिए भी नाव का सहारा लेना पड़ा रहा है. गांव वाले इस बात के लिए भी तैयार हैं कि आगे आने वाले दो महीनों में नदी का पानी उनके घर-आंगन में भी दाखिल हो जाएगा. इसलिए घर के अनाज और कपड़े-लत्ते सुरक्षित जगहों पर रखे जा रहे हैं. जिनके पास पक्का मकान है वो छत पर रख रहे हैं. जिनके पास नहीं है वो अपना सामान आस-पड़ोस में रह रहे किसी नाते-रिश्तेदार के यहां भिजवा रहे हैं. जो ये भी न कर सके वो पिछले साल का टेंट, प्लास्टिक लेकर बांध या किसी दूसरी ऊंची जगह पर जा बैठे हैं.

पिछले साल आई बाढ़ का जिक्र करते हुए दूध बेचकर घर जा रहे बुजुर्ग माथे पर रखा अपना गमछा सरकाते हुए बोले,”ई कौनो नया बात बा? हियां हर साल येही हाल होला. पिछला साल त टेंटों मिलल रहे, ना जानी अबकी भेंटी की ना.”

बाबा को चिंता बाढ़ में डूबने की नहीं है. इसे वो सालों से देखते आ रहे हैं. उन्हें चिंता इस बात की है कि शासन, प्रशासन की तरफ से पिछले साल जो टेंट मिला था वो इस साल मिलेगा या नहीं. अब आप इसे लालच मान सकते हैं. जरूरत समझ सकते हैं या इससे ये भी अंदाजा लगा सकते हैं कि यहां के लोग शासन-प्रशासन से कितनी कम उम्मीदें रखते हैं. आप इनसे सवाल कीजिए, सीएम के बारे में.पीएम के बारे में. वो अपनी बात मुखिया, बीडीओ (प्रखंड विकास पदाधिकारी) और सीओ (अनुमंडल पदाधिकारी) पर लाकर खत्म कर देंगे.

ख़ैर, जो नाव कुछ सवारियों को लेकर रामनगर से चली थी वो अब किनारे लग रही है. किनारे माने दूसरे गांव के करीब पहुंच गई है. यहां तक आते-आते करीब दो घंटे लगे. जब पानी नहीं रहता तो ये रास्ता लोग साइकिल से पंद्रह या बीस मिनट में तय कर लेते हैं. नाव जैसे-जैसे किनारे आ रही है वैसे-वैसे और धीमी हो गई है. इसका कारण नाव को एक बड़े बांस के सहारे खेव रहे रतन सहनी समझाते हैं,“किनारे के करीब आने पर बांस में ताव नहीं लगता. जैसे ही ताव लगाते हैं तो बांस हाथ भर मिट्टी में हेल (घुस) जाता है. बीच में मिट्टी सख़्त है, लेकिन किनारे पर हल्की इसीलिए ज्यादा जोर लगाना पड़ता है.”

एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए लोगों को नांव का सहारा लेना पड़ रहा है.
एक जगह से दूसरी जगह जाने के लिए लोगों को नांव का सहारा लेना पड़ रहा है.

रतन हर रोज चार-पांच फेरी मारते हैं. और वो पिछले पंद्रह दिनों से नाव खेव रहे हैं. एक बार में कम से कम दस लोगों को पार उतारते हैं और दिन में चार-पांच सौ रुपए कमा लेते हैं. पिछले साल इस इलाके में सरकार की तरफ से दो नाव दी गई थी. लेकिन इस बार वो भी नहीं मिली. नाव भले सरकार ने दी थी, लेकिन पैसा उसमें भी लगता था. अब इस खेल को समझिए. सरकार घोषणा करती है कि फलाना बाढ़ग्रस्त इलाके में दो या तीन नाव दी जाएंगी. अखबारों में छपता है कि नाव से आवाजाही फ्री है, लेकिन जिस व्यक्ति को नाव लगाने का ठेका मिलता है वो बिना पैसे लिए पार नहीं उतारता है.

बाजार से आए लोग एक-एक कर नाव से उतर गए हैं. और अब गांव से बाजार की तरफ जाने वाले कुछ लोग नाव में सवार हो चुके हैं. इनमें वो लड़के भी हैं जो लॉकडाउन की वजह से स्कूल-कॉलेज बंद होने के बाद मोबाइल की मदद से ऑनलाइन पढ़ाई कर रहे हैं.

ऐसा ही एक लड़का अपने साथ दो स्मार्ट फोन लेकर पास के बाजार जा रहा है ताकि वो वहां इन्हें चार्ज कर सके. हर दो दिन पर एक बार जाता है. जब तक मोबाइल चार्ज होता है तब तक घर के लिए जरूरी सामान की खरीदारी भी हो जाती है. गांव से बाज़ार जाने वालों को लेकर चली नाव रामनगर वाले इलाके में किनारे लग गई है. जहां से चले थे वहां वापस आ गए.

हम उतरे और आगे बढ़े. तभी भारी बारिश शुरू हो गई. आसमान में बादल तो थे लेकिन ऐसा लगा नहीं था कि इतनी जल्दी बरस जाएंगे. इसी बरसात में हम देहात से निकल कर गोपालगंज शहर में पहुंच गए. लगभग दस मिनट बरसने के बाद बारिश तो ख़त्म हो गई लेकिन शहर की सड़कें पानी से भर गई हैं. इस पानी में प्लास्टिक के जूठे प्लेट, ग्लास और न जाने क्या-क्या तैर रहे हैं.

बाढ़ के पानी से सड़कों और खेत में भरा पानी.
बाढ़ के पानी से सड़कों और खेत में भरा पानी.

गांव से बुरा हाल शहर का है. वहां तो नदी का पानी है. आया है. हफ़्ते-दो हफ़्ते या ज़्यादा से ज़्यादा महीने भर में निकल जाएगा. लेकिन शहर में जो पानी है वो कुछ मिनटों तक हुई बारिश का पानी है. लोग इसी पानी के बीच से आ-जा रहे हैं. किसी को कोई परेशानी नहीं है. कम से कम दिखाई तो यही दे रहा है.

शहर हो या गांव कहीं कोई बेचैनी नहीं दिखती है. इसकी वजह ये है कि हर साल बरसात के मौसम में राज्य के 38 में से 28 ज़िलों में बाढ़ का पानी आ जाता है. उत्तर बिहार का एक बड़ा हिस्सा तैरने लगता है. सड़कों पर नाव चलने लगती है. लोग अपना घर छोड़कर सड़क किनारे या बांध पर टेंट डालकर रहने लगते हैं. मुख्यमंत्री बाढ़ ग्रस्त इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करते हैं. घोषणाएं होती हैं. राहत सामग्री बांटने का काम शुरू होता है. जिसे एक आम बिहारी सरकारी पैसे का बंदरबांट मानता है.

ये सब हर साल अगस्त, सितंबर के महीने में होता है. लेकिन इस बार थोड़ा जल्दी शुरू होने की उम्मीद है. बिहार में उम्मीद एक बड़ा शब्द है. सबको एक दूसरे से उम्मीदें रहती हैं. बाढ़ वाले इलाके में रहने वाले लोगों को अपनी सरकार, अपने अधिकारियों से ज़्यादा उम्मीद नदी से रहती है. अगर उम्मीद नहीं होती तो गोपालगंज ज़िले के रामनगर, आशा खैरा, यादवपुर, मुहम्मदपुर सहित सात गांव के लोग हर साल बाढ़ झेलने के बाद फिर वहीं आबाद नहीं हो जाते.


वीडियो देखें: ज़मीनी हक़ीक़त: बाढ़ की वजह से हो रही मुश्किलों को नाव में बैठे बुजुर्ग ने ठेठ भाषा में समझा दिया!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

कौन हो तुम

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

'स्क्विड गेम' के प्लेयर नंबर 199 'अली' की कहानी, जिनके इंडियन होने ने सीरीज़ में एक्स्ट्रा मज़ा दिया

अली का रोल करने वाले इंडियन एक्टर अनुपम त्रिपाठी का सलमान-शाहरुख़ कनेक्शन क्या है?

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

IPL का कित्ता ज्ञान है, ये क़्विज़ खेलकर चेक कल्लो!

ईमानदारी से स्कोर भी बताते जाना. हम इंतज़ार करेंगे.

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

'मनी हाइस्ट' वाले प्रोफेसर की पूरी कहानी, जिनकी पत्नी ने कहा था, 'कभी फेमस नहीं हो पाओगे'

अलवारो मोर्टे ने वेटर तक का काम किया हुआ है. और एक वक्त तो ऐसा था कि बकौल उनके कैंसर से जान जाने वाली थी.

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

एक्टर शरत सक्सेना की कहानी, जिन्होंने 71 साल की उम्र में ज़बरदस्त बॉडी बनाकर सबको चौंका दिया

हीरो बनने आए शरत सक्सेना कैसे गुंडे का चमचा बनने पर मजबूर हुए?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

'भीगे होंठ तेरे' वाले कुणाल गांजावाला आजकल कहाँ हैं?

एक वक़्त इंडस्ट्री में टॉप पर थे कुणाल और उनके गाने पार्टियों की जान हुआ करते थे.

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

राज कुंद्रा की पूरी कहानी, 18 की उम्र में शॉल बेचने से शुरुआत करने वाले राज यहां तक कैसे पहुंचे?

IPL स्कैंडल, मॉडल्स के आरोप, अंडरवर्ल्ड कनेक्शंस के आरोप, एक्स वाइफ के इल्ज़ाम सब हैं इस कहानी में.

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रैनसन: जिन्होंने पहले अंतरिक्ष के दर्शन करके जेफ बेजोस का मजा खराब कर दिया

रिचर्ड ब्रेन्सन की कहानी, जहां भी गए तहलका मचा दिया.

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

'सिंघम' IPS से तमिलनाडु BJP के सबसे युवा अध्यक्ष बने अन्नामलाई की कहानी

पहला चुनाव हार गए थे, बीजेपी ने राज्य की जिम्मेदारी सौंपी है.

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

'तड़प-तड़प के' जैसा प्रेमियों का ब्रेकअप एंथम देने वाले सिंगर के के आजकल कहां हैं?

उनके गाए 'पल' गाने के बगैर आज भी किसी कॉलेज का फेयरवेल पूरा नहीं होता.

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

कर लिया योगा? अब क्विज खेलने से होगा

आन्हां, ऐसे नहीं कि योग बस किए, दिखाना पड़ेगा कि बुद्धिबल कित्ता बढ़ा.