The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

बरेली में साड़ी वाला सीरियल किलर? 6 महीने में 9 महिलाओं के मर्डर से दहशत!

सारी महिलाएं 45 से 65 साल की उम्र के बीच की है. उनके गले पर चोट के निशान हैं और रेप के कोई सबूत नहीं हैं. कोई लूटपाट भी नहीं हुई है.

post-main-image
बरेली में साड़ी से गला घोंटकर हत्याएं (फोटो- आजतक)

बरेली (Bareilly Serial Killer) में पिछले कुछ महीनों में नौ महिलाओं की हत्या का मामला सामने आया है. सबकी उम्र 45 से 65 साल के बीच है. उनमें से ज्यादातर की हत्या गला घोंटकर की गई है. गांव से दूर ले जाकर. सुनसान इलाके में. ये मामले शाही, फतेहगंज पश्चिमी और शीशगढ़ थाना क्षेत्रों के गांवों के हैं. माना जा रहा है कि हत्याओं के पीछे किसी सीरियल किलर (Serial Killer) का हाथ है. हालांकि, पुलिस कुछ और कह रही हैं. 

कब-कब हुई हत्याएं?

-7 जून को शाही थाना क्षेत्र के गांव में 42 साल की धनवती की हत्या की गई. शव जंगल में बरामद हुआ.

-1 जुलाई को आनंदपुर गांव में रहने वाली करीब 55 साल की प्रेमवती की हत्या हुई. वो शाम पांच बजे मवेशियों के लिए चारा लेने के लिए गांव के बाहर खेतों में गई लेकिन लौटी नहीं. परिवार ने रात भर तलाशी की. अगली सुबह लाश गांव के बाहर गन्ने के खेत में मिली.

-10 अगस्त को मुबारकपुर गांव में 50 साल की शांति देवी का शव जंगल में बरामद हुआ.

- 19 अगस्त की सुबह खेऊ गांव में 35 साल की महिला की अधजली लाश बरामद हुई. आरोप है कि उसके पति ने अवैध संबंध के शक के चलते पत्नी की हत्या कर दी.

- 23 अगस्त को ज्वालापुर में 35 साल की वीरावती की लाश खेत में मिली.

पुलिस की गश्त बड़ी तो कुछ हफ्तों के लिए घटनाएं भी रुक गई. फिर नवंबर महीने में और मामले सामने आए. 

- 1 नवंबर को शीशगढ़ में 65 साल की महमूदन की हत्या की गई. लाश खेत में मिली.

- 9 नवंबर को खानपुर गांव की ओमवती की हत्या हुई. फिर से लाश खेत में मिली. घरवालों ने कोई केस दर्ज नहीं कराया.

- 20 नवंबर को खुरसैनी में 65 साल की दुलारो देवी की हत्या हुई. लाश गांव के बाहर मिली.

- 26 नवंबर को शीशगढ़ के जगदीशपुर गांव में 63 साल की उर्मिला देवी की भी हत्या कर दी गई.

ये भी पढ़ें- वो सीरियल किलर जिसने अपनी बहन को भी न छोड़ा!

इंडिया टुडे से जुड़े कृष्ण राज और संतोष शर्मा की रिपोर्ट के मुताबिक, मृतक महिलाओं के गले पर चोट के निशान पाए गए. उनके साथ रेप की पुष्टि नहीं हुई. कोई लूटपाट भी नहीं हुई है. मामले पर बरेली रूरल SP मुकेश चंद्र मिश्रा ने कहा,

छह महीने में नौ घटनाएं सामने आई हैं. तीन घटनाओं में कार्रवाई चल रही है. बाकी छह में से दो मौतों (खुरसैनीनी की दुलारो देवी की कुल्चा की धनवती) का कारण नहीं पता चला है. उनका विसरा प्रिजर्व है. एक घटना हैंगिंग की है और मारने का तरीका अलग है. तीन मामलों में गला घोंटा गया है और उनमें मोडस ऑपरेंडी यानि मारने का तरीका एक जैसा है. तीनों मामले अलग-अलग थाना क्षेत्रों के हैं. उन तीनों केसों पर छह टीमें मिलकर काम कर रही हैं.

सब इंस्पेक्टर ने आगे जानकारी दी,

सभी महिलाओं की उम्र 40 से 65 साल के बीच की है लेकिन इनमें कोई पैटर्न नहीं है. गांव में कोई दहशत का माहौल नहीं है. हर जगह पैट्रोलिंग चल रही है. हर तरफ CCTV लगाए जा रहे हैं. 

उन्होंने बताया कि बाकी गांवों के प्रधानों को भी कैमरे लगाने को कहा जा रहा है. दावा किया कि गांव में सुरक्षा व्यवस्था के इंतजाम किए गए हैं. 

वीडियो: 36 बच्चों का रेप, गला दबाकर हत्या, लेकिन दिल्ली कोर्ट ने ये कहते हुए सीरियल किलर को फांसी नहीं दी