The Lallantop
Logo
लल्लनटॉप का चैनलJOINकरें

ऑस्ट्रेलिया की डेकिन यूनिवर्सिटी भारत में खोलेगी कैंपस, बड़े-बड़े कोर्स में मिलेगा एडमिशन

दुनिया की यंग यूनिवर्सिटीज में टॉप 50 रैंक में आती है डेकिन यूनिवर्सिटी.

post-main-image
डेकिन यूनिवर्सिटी (फोटो- फेसबुक पेज)

QS वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में 266वीं रैंक. दुनिया की यंग यूनिवर्सिटीज में टॉप 50 रैंक. और टाइम्स हायर एजुकेशन वर्ल्ड वर्ल्ड रैंकिंग में 250-300 रैंक बैंड में आने वाली ऑस्ट्रेलिया की डेकिन यूनिवर्सिटी (Deakin University) भारत में कैंपस बनाने जा रही है. ये पहली विदेशी यूनिवर्सिटी होगी, जो भारत में कैंपस बनाएगी. ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री एंथनी अल्बनीज 8 मार्च को अपने भारत दौरे के दौरान इस बारे में ऐलान कर सकते हैं.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट के मुताबिक, डेकिन यूनिवर्सिटी का कैंपस गुजरात के गांधीनगर स्थित गिफ्ट सिटी (Gift City) में बनेगा. इसके लिए यूनिवर्सिटी प्रशासन इंटरनेशनल फाइनेंशियल सर्विस सेंटर अथॉरिटी (IFSCA) के साथ बातचीत कर रहा है.

रिपोर्ट के मुताबिक, ऑस्ट्रेलिया की कम से कम दो यूनिवर्सिटी भारत में कैंपस खोलने को लेकर केंद्र सरकार के संपर्क में हैं. डेकिन यूनिवर्सिटी का कैंपस अगले साल से चालू होने की उम्मीद है. यानी, स्टूडेंट्स अगले साल से ही इस कैंपस में पढ़ाई कर सकेंगे. यूनिवर्सिटी सूत्रों के मुताबिक, यूनिवर्सिटी सबसे पहले पोस्ट-ग्रेजुएट कोर्स में एडमिशन शुरू करेगी.

डेकिन यूनिवर्सिटी के ऑस्ट्रेलिया में चार कैंपस मौजूद हैं. मेलबर्न और वारनमबूल में एक-एक कैंपस है और दो कैंपस जिलॉन्ग में हैं. इन कैंपस में करीब 27 फीसदी भारतीय छात्र पढ़ रहे हैं.

डेकिन यूनिवर्सिटी को साल 1974 में चौथी विक्टोरिया यूनिवर्सिटी के तौर पर स्थापित किया गया था. यूनिवर्सिटी का पहला कैंपस जिलॉन्ग में बनाया गया था. यूनिवर्सिटी का नाम ऑस्ट्रेलिया के दूसरे प्रधानमंत्री अल्फ्रेड डेकिन के नाम पर रखा गया था. 11 मई, 1978 को यूनिवर्सिटी को आधिकारिक तौर पर खोला गया था. इसके बाद साल 1986 में यूनिवर्सिटी में ऑस्ट्रेलिया का पहला नर्सिंग स्कूल खोला गया. यूनिवर्सिटी में आर्ट्स, बिजनेस, डिजाइन, इंजीनियरिंग से लेकर फूड एंड न्यूट्रिशन जैसे कई कोर्स कराए जाते हैं.

डेकिन यूनिवर्सिटी कौन से कोर्स करवाती है?

यूनिवर्सिटी में अंडर-ग्रेजुएट कोर्स से लेकर पोस्ट-ग्रेजुएट कोर्स और PhD जैसे कोर्स कराए जाते हैं. पोस्ट-ग्रेजुएट कोर्स के नाम हैं-
- मास्टर ऑफ टीचिंग
- मास्टर ऑफ सर्जिकल रिसर्च
- मास्टर ऑफ साइंस
- मास्टर ऑफ सोशल वर्क
- मास्टर ऑफ पब्लिक हेल्थ

वहीं ग्रेजुएट कोर्स इस तरह से हैं-

- बैचलर्स ऑफ जूलॉजी एंड एनिमल साइंस
- बैचलर्स ऑफ स्पोर्ट्स डेवलपमेंट
- बैचलर्स ऑफ सोशल वर्क
- बैचलर्स ऑफ साइकोलॉजिकल साइंस
- बैचलर्स ऑफ मरीन साइंस
- बैचलर्स ऑफ लॉ

ये सभी कोर्स ऑनलाइन और ऑफलाइन मोड में किए जा सकते हैं. ये भी जानकारी नहीं है कि कैसे इस यूनिवर्सिटी के भारतीय कैंपस में एडमिशन मिलेगा और एलिजिबिलिटी क्या होगी.

वीडियो: मास्टर क्लास: फॉरेक्स रिज़र्व क्या होता है, भारत के पास कितना फॉरेक्स रिज़र्व बचा है?