Submit your post

Follow Us

क्या गूगल पिक्सल का ये फोन वनप्लस नॉर्ड और ऐपल आईफोन SE से बेहतर है?

अमेरिकी टेक जायंट गूगल ने पिछले हफ़्ते इंडियन स्मार्टफ़ोन मार्केट में गूगल पिक्सल 4a (Google Pixel 4a) लॉन्च किया. इस फ़ोन की एंट्री ने मिड-रेंज कैटेगरी में कॉम्पिटिशन को और भी ज़्यादा तगड़ा कर दिया. गूगल का नया फ़ोन, वनप्लस नॉर्ड (OnePlus Nord) और ऐपल आईफोन SE (Apple iPhone SE) से पंगा ले रहा है. इन तीनों फ़ोन की कीमत और खासियत काफ़ी कुछ एक जैसी हैं. इसलिए हम इन तीनों फ़ोन को इनके प्राइस और स्पेक्स के हिसाब से कंपेयर करेंगे. देखिए वीडियो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

‘बिहार में ई बा’ वीडियो से BJP ने बताया एनडीए सरकार ने अब तक प्रदेश क्या-क्या "विकास" किया है

विधानसभा चुनावों के बीच विडियो कैसे बन रहे सियासी हथियार, जान लीजिए

बिहार चुनाव: मगध यूनिवर्सिटी के छात्रों ने बताया- आठ साल में सरकार ने एक भी वैकेंसी क्लियर नहीं की

"नीतीश कुमार को प्रदेश में 15 साल हो गए, पर शिक्षा के लिए कुछ नहीं किया".

बिहार चुनाव: नीतीश कुमार की "नल जल योजना" का नाम सुनकर उनके जिले के लोग क्यों भड़क गए?

"नल पहुंचा, पर नल में पानी नहीं पहुंचा".

बिहार चुनाव: अमित शाह के भाषण का जो मतलब इन्होंने निकाला, किसी ने भी न सोचा होगा!

"इस बार प्रदेश में नीतीश कुमार के अगेंस्ट वोटिंग होगी".

बिहार चुनाव: नालंदा के लोगों का कन्हैया, पुष्पम प्रिया, चिराग पासवान के बारे में क्या सोचना है?

लोगों ने युवा नेता का बेस्ट ऑप्शन भी बता दिया.

बिहार चुनाव: देखिए नीतीश के ड्रीम प्रोजेक्ट "नल जल योजना" का कितनों को मिल रहा है लाभ

गांववालों ने बताया कि पाइपलाइन तो बिछा दी, पानी की सप्लाई भी दे दी, पर स्टोर करने के लिए कोई व्यवस्था नहीं की.

बिहार चुनाव: देवदहा गांव के लोगों ने दूसरे नेताओं के बावजूद नीतीश और लालू को ही विकल्प क्यों बताया?

कुछ ने तारीफ की और कुछ ने पोलपट्टी खोल कर रख दी.

बिहार चुनाव: लालू के इलाके में सड़क न बनवाने पर नीतीश के मंत्री से इस लड़के ने क्या कहा?

"क्षेत्र में न तो एक भी यूनिवर्सिटी है और न ही मेडिकल कॉलेज. ग्रेजुएशन के लिए 150 किलोमीटर दूर जाना पड़ता है"

दी लल्लनटॉप शो

बजाज और पार्ले 'टॉक्सिक हेट' के खिलाफ खड़े हुए तो टाटा का तनिष्क़ हार क्यों मान गया?

पार्ले और बजाज जैसी कंपनियां क्या संदेश दे रही हैं?

मुख्यमंत्री जगनमोहन ने सुप्रीम कोर्ट के जज रमना की चीफ जस्टिस से क्या शिकायत की?

आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री ने सुप्रीम कोर्ट के जज पर लगाए गंभीर आरोप

तबलीग़ी जमात केस में 'अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता' की बात करती मोदी सरकार का ट्रैक रिकॉर्ड कैसा है?

पत्रकारों पर क्यों नहीं रुक रही है FIR?

UGC की फर्जी यूनिवर्सिटी की लिस्ट में हर बार ये नाम शामिल, फिर भी बदस्तूर जारी कैसे?

UGC 26 साल में फर्जी यूनिवर्सिटी बंद क्यों नहीं करवा पाई?

सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच में AIIMS और CBI को क्या मिला?

क्या सुशांत मामले को बेवजह तूल दिया गया?

अन्ना आंदोलन से चर्चा में आए लोकपाल और लोकायुक्त आजकल कहां हैं?

सुप्रीम कोर्ट में हाथरस केस पर क्या बोली योगी सरकार?

बिहार: मोदी-चिराग के दांव को राहुल के साथ जाकर काटेंगे नीतीश?

विधानसभा चुनाव में पासवान का मौसम विज्ञान कितने काम का?

क्या महात्मा गांधी ने भगत सिंह को 'जानबूझकर' नहीं बचाया?

गांधी के नाम पर झूठ फैलाए जा रहे हैं!

पॉलिटिकल किस्से

अटल के मंत्री जसवंत सिंह को परवेज मुशर्रफ ने कैसे धोखा दिया?

भारत के इस विदेश मंत्री पर अमेरिका का पिट्ठू होने का आरोप क्यों लगा?

नरसिम्हा राव की सरकार में प्रणव मुखर्जी के मंत्री पद छोड़ने का असली कारण क्या था?

क्या वही अफसर, जो कहता था, ‘मैं अपने ब्रेकफास्ट में नेताओं को खाता हूं'?

लोकसभा चुनाव हारने के बाद इंदिरा गांधी ने प्रणब मुखर्जी के लिए उम्मीद से उलट काम किया था

1974 में प्रणब मुखर्जी पहली बार केन्द्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल किए गए थे.

बैंकों के राष्ट्रीयकरण पर प्रणब मुखर्जी का वो भाषण जिसे सुनकर इंदिरा गांधी मुग्ध हो गईं

दूसरी बार वित्त मंत्री बनाए जाने की कहानी भी जान लीजिए.

प्रणब मुखर्जी ने ऐसा भी क्या कर दिया था कि उन्हें कांग्रेस से ही निकाल दिया गया?

खुद प्रणव मुखर्जी ने इस बारे में विस्तार से लिखा है.

सात साल के प्रणव मुखर्जी और उनके पिता को जब अंग्रेज अफसर ने 'टाइगर' कह दिया

सुनिए प्रणव मुखर्जी के जीवन से जुड़ा यह अनसुना किस्सा.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में पहली बार नेतृत्व चयन की दिलचस्प कहानी

डॉ. हेडगेवार के बाद इस तरह सरसंघचालक चुने गए थे माधव राव सदाशिव राव गोलवलकर.

जब मायावती के इस दांव ने अटल बिहारी बाजपेयी को चारों खाने चित्त कर दिया था

संजय गांधी, जो यूपी के सीएम होते होते रह गए.