Submit your post

Follow Us

BJP विधायक सुरेश तिवारी ने मुस्लिमों से सब्जियां ख़रीदने से मना क्यों किया था?

पूर्वी उत्तर प्रदेश में एक जिला है देवरिया. इस जिले में बरहज नाम की एक विधानसभा सीट है. यहां से मौजूदा विधायक हैं सुरेश तिवारी. बीजेपी से हैं. इनका एक विडियो वायरल हो गया. विधायक ने कहा कि उन्होंने सिर्फ अपनी राय दी है. यह लोगों को तय करना था कि वह इस बात को मानते हैं या नहीं. तबलीगी जमात को लेकर उन्होंने कहा कि हर कोई देख सकता है कि जमात के लोगों ने देश में क्या किया है. उत्तर प्रदेश के बीजेपी प्रवक्ता राकेश त्रिपाठी ने मामले पर कहा है कि पार्टी ऐसे बयानों का समर्थन नहीं करती है. मामले को लेकर पार्टी संज्ञान लेगी. सुरेश से पूछा जाएगा कि उन्होंने ऐसी टिप्पणी क्यों की.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

पुष्पम प्रिया ने 40 उम्मीदवारों की सूची जारी कर जाति और धर्म वाले कॉलम में क्या लिख दिया?

प्लुरल्स पार्टी की पहली लिस्ट में पुष्पम का नाम है या नहीं?

बिहार चुनाव: रामविलास पासवान की पार्टी LJP अकेली चुनाव लड़ेगी

क्या ये चिराग पासवान के लिए ज़मीन तैयार करने की रणनीति है?

गुप्तेश्वर पांडेय ने JDU में एंट्री कर कहा- मुझे खुद सीएम ने बुलाया और शामिल होने के लिए कहा

पुलिस सेवा से VRS लेने के बाद उनके राजनीति में आने के संकेत स्पष्ट थे.

बिहार चुनाव: बीजेपी की तैयारी और उसकी रणनीति टिकी है इन तीन N 'पर', जानिए ये कौन हैं?

दो को तो जानते हैं, लेकिन तीसरा N कौन है?

उपेंद्र कुशवाहा, जिन्होंने पार्टी लाइन से इतर जाकर वोट किया, तो नीतीश का मूड खराब हो गया था

बिहार चुनाव की घंटी बजते ही सियासी गुणा-गणित तेज हो गए हैं.

बिहार के किन-किन नेताओं पर चुनाव के नतीजे आने तक पूरे देश की नज़र रहेगी?

चुनाव की घोषणा कर दी गई है, 10 नवंबर को नतीजे आएंगे.

बिहार विधानसभा चुनाव: नीतीश कुमार, चिराग पासवान से जुड़े इन सवालों के जवाब आपको मिलने वाले हैं!

इनके जवाब से ही तय होगा, अबकी बार किसकी सरकार.

गुप्तेश्वर पांडेय से पहले राजनीति में आने वाले 13 अधिकारी, जिसमें कुछ मंत्री और CM भी बन गए

खबर है कि गुप्तेश्वर पांडे भी चुनाव मैदान में उतरने वाले हैं.

दी लल्लनटॉप शो

तबलीग़ी जमात केस में 'अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता' की बात करती मोदी सरकार का ट्रैक रिकॉर्ड कैसा है?

पत्रकारों पर क्यों नहीं रुक रही है FIR?

UGC की फर्जी यूनिवर्सिटी की लिस्ट में हर बार ये नाम शामिल, फिर भी बदस्तूर जारी कैसे?

UGC 26 साल में फर्जी यूनिवर्सिटी बंद क्यों नहीं करवा पाई?

सुशांत सिंह राजपूत केस की जांच में AIIMS और CBI को क्या मिला?

क्या सुशांत मामले को बेवजह तूल दिया गया?

अन्ना आंदोलन से चर्चा में आए लोकपाल और लोकायुक्त आजकल कहां हैं?

सुप्रीम कोर्ट में हाथरस केस पर क्या बोली योगी सरकार?

बिहार: मोदी-चिराग के दांव को राहुल के साथ जाकर काटेंगे नीतीश?

विधानसभा चुनाव में पासवान का मौसम विज्ञान कितने काम का?

क्या महात्मा गांधी ने भगत सिंह को 'जानबूझकर' नहीं बचाया?

गांधी के नाम पर झूठ फैलाए जा रहे हैं!

हाथरस: क्या योगी सरकार के पास इन सवालों के जवाब हैं?

बलात्कार की घटनाओं पर NCRB का डेटा परेशान करने वाला है.

हाथरस: किस झूठ के चलते यूपी पुलिस को अंधेरे में पीड़िता की लाश जलानी पड़ी?

बाबरी मस्जिद विध्वंस मामले में CBI की विशेष अदालत ने सभी आरोपियों को किया बरी.

पॉलिटिकल किस्से

अटल के मंत्री जसवंत सिंह को परवेज मुशर्रफ ने कैसे धोखा दिया?

भारत के इस विदेश मंत्री पर अमेरिका का पिट्ठू होने का आरोप क्यों लगा?

नरसिम्हा राव की सरकार में प्रणव मुखर्जी के मंत्री पद छोड़ने का असली कारण क्या था?

क्या वही अफसर, जो कहता था, ‘मैं अपने ब्रेकफास्ट में नेताओं को खाता हूं'?

लोकसभा चुनाव हारने के बाद इंदिरा गांधी ने प्रणब मुखर्जी के लिए उम्मीद से उलट काम किया था

1974 में प्रणब मुखर्जी पहली बार केन्द्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल किए गए थे.

बैंकों के राष्ट्रीयकरण पर प्रणब मुखर्जी का वो भाषण जिसे सुनकर इंदिरा गांधी मुग्ध हो गईं

दूसरी बार वित्त मंत्री बनाए जाने की कहानी भी जान लीजिए.

प्रणब मुखर्जी ने ऐसा भी क्या कर दिया था कि उन्हें कांग्रेस से ही निकाल दिया गया?

खुद प्रणव मुखर्जी ने इस बारे में विस्तार से लिखा है.

सात साल के प्रणव मुखर्जी और उनके पिता को जब अंग्रेज अफसर ने 'टाइगर' कह दिया

सुनिए प्रणव मुखर्जी के जीवन से जुड़ा यह अनसुना किस्सा.

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में पहली बार नेतृत्व चयन की दिलचस्प कहानी

डॉ. हेडगेवार के बाद इस तरह सरसंघचालक चुने गए थे माधव राव सदाशिव राव गोलवलकर.

जब मायावती के इस दांव ने अटल बिहारी बाजपेयी को चारों खाने चित्त कर दिया था

संजय गांधी, जो यूपी के सीएम होते होते रह गए.