Submit your post

Follow Us

आनंद महिंद्रा ने किया उनके नाम से चल रहे 'क्रिप्टो से लाखों कमाने' वाले फर्ज़ीवाड़े का ख़ुलासा

उद्योगपति आनंद महिंद्रा (Anand Mahindra) ने उनके नाम से चल रहे क्रिप्टो करेंसी फर्जीवाड़े का खुलासा किया है. उन्होंने ट्वीट करते हुए इस बात की जानकारी दी है. अपने ट्वीट में आनंद महिंद्रा ने कुछ स्क्रीनशॉट डाले हैं. ये स्क्रीनशॉट ‘ब्लास्ट द इनकम’ नाम की वेबसाइट से लिए गए हैं. स्क्रीनशॉट्स में एक रिपोर्ट है. इसमें आनंद महिंद्रा की फर्जी बातों को छापा गया है. रिपोर्ट में लिखा है कि आनंद महिंद्रा ‘बिटकॉइन एरा’ नाम के प्रोग्राम के जरिए हर दिन हजारों डॉलर कमा रहे हैं. यही नहीं, इस रिपोर्ट में आनंद महिंद्रा के हवाले से ये भी बताया गया है कि वो लोगों से इस ‘बिटकॉइन एरा’ नाम के प्रोग्राम को आजमाने के लिए अपील भी कर रहे हैं. देखें वीडियो.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

इलेक्शन कवरेज

UP चुनाव: प्रतापगढ़ में चंदन की खेती देखने गए, एकदम माइंड ब्लोइंग बातें पता चल गईं

चंदन और काली हल्दी की खेती कैसे की जाती है?

UP चुनाव: प्रतापगढ़ के लोगों की ऐसी गर्मजोशी देखकर थर्मामीटर को अपना स्केल बदलना पड़ जाएगा!

लोगों ने योगी और अखिलेश की राजनीति को लेकर क्या बताया?

UP चुनाव: अमेठी में भाजपा और कांग्रेस समर्थक दोस्त आपस में भिड़ गए, फिर बहस रोकनी पड़ी

कृषि कानूनों को निरस्त किए जाने पर लोगों की क्या राय है?

UP चुनाव: चाय की दुकान पर लोग सरकार की आलोचना कर रहे थे, फिर ये चाचा लोग बहस में कूद पड़े

भाजपा समर्थकों की लोगों से हुई तीखी नोकझोंक.

UP चुनाव: तीन बार से जलसमाधि का प्लान कैंसिल कर रहे परमहंस ने किया बड़ा वादा

परमहंस कई बार भारत को हिन्दू राष्ट्र बनाने की मांग कर चुके हैं.

UP चुनाव: अयोध्या के गोली खाने वाले कारसेवक भाजपा को क्यों कोस रहे हैं?

गोली कांड के समय अयोध्या में क्या हुआ था?

UP चुनाव: कृषि कानूनों की वजह से अयोध्या के किसान नहीं उगा रहे ज़्यादा सब्ज़ियां?

पिछले पांच सालों में अयोध्या में क्या बदला है?

UP चुनाव: अयोध्या में जिन लोगों ने कारसेवा की, उन्हें राम मंदिर के निर्माण से क्या शिकायत है?

हनुमान गढ़ी के पास बाजार में दुकानदारों को मंदिर निर्माण से क्या नुकसान हुआ?

दी लल्लनटॉप शो

दी लल्लनटॉप शो: PM मोदी के कृषि कानूनों पर फैसले का पूरा विश्लेषण

माफी और यू टर्न की असली वजह ये हैं.

दी लल्लनटॉप शो: कोरोना के बाद सरकारी स्कूल में बच्चे बढ़े हैं, लेकिन क्या शिक्षा का स्तर सुधरा?

इन नतीजों को भारत की शिक्षा व्यवस्था के बारे में कैसे समझना चाहिए?

दी लल्लनटॉप शो: कश्मीर से आए ये वीडियो दिल दहलाने वाले हैं, आतंकी बताकर बेकसूरों को मारा?

हैदरपोरा मुठभेड़ में 4 लोग मारे गए थे.

दी लल्लनटॉप शो: सीएम योगी, अखिलेश या मायावती, एक्सप्रेसवे पर किसका काम बढ़िया?

पूर्वांचल एक्सप्रेसवे की ये है असली बात!

दी लल्लनटॉप शो: दिल्ली में प्रदूषण बढ़ाने के लिए पराली नहीं ये हैं बड़ी वजह!

दिल्ली-NCR में अब लॉकडाउन लगाना पड़ेगा?

दी लल्लनटॉप शो: ऑस्ट्रेलिया से मैच में हसन अली के कैच ड्रॉप को शिया होने से जोड़ने वाले पाकिस्तानी ये देखें

हसन अली के धर्म, उनके पंथ और उनके परिवार को लोग ट्रोल कर रहे हैं.

दी लल्लनटॉप शो: थाने में जान गवांने वाले अल्ताफ के पिता का अंगूठा झूठ बोलकर लिया गया?

क्या ये इस मामले में ''दबाव'' कम करने की कोशिश है?

दी लल्लनटॉप शो: UP पुलिस की हिरासत में मौतों के लंबे इतिहास को क्यों नहीं बदल पाए योगी आदित्यनाथ?

कासगंज मामले में पुलिस की भूमिका संदेह के घेरे में है.

पॉलिटिकल किस्से

एंटी CAA-NRC प्रोटेस्ट में गोली चलाने वाले गोपाल की महापंचायत में बोली बातें क्यों वायरल हुईं?

हरियाणा के पटौदी में हुई जनसभा में उसके भाषण का एक वीडियो वायरल हो रहा है.

उत्तर प्रदेश के नेता जितिन प्रसाद, जो दो दशक से कांग्रेसी रहे और अब BJP में शामिल हो गए

2019 के बाद से ही जितिन प्रसाद की भाजपा से नजदीकियां बढ़ रही थीं.

असम का वो नेता, जिसके साथ हुई ग़लती को ख़ुद अमित शाह ने सुधारा था

अब वो राज्य का मुख्यमंत्री बन गया है.

कैसे मुलायम सिंह ने अजित सिंह से यूपी के मुख्यमंत्री की कुर्सी छीन ली?

अजित सिंह के लोकदल अध्यक्ष बनने की प्रक्रिया काफी विवादित रही थी.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री बनने जा रहे एमके स्टालिन की कहानी फिल्म से कम नहीं

मद्रास शहर की थाउजेंड लाइट्स विधानसभा सीट से स्टालिन पहली बार चुनाव में उतरे.

केरल चुनाव में जीत के साथ पी विजयन ने 64 बरस पुराना कौन सा मिथक तोड़ दिया?

विजयन महज़ 26 साल की उम्र में पहली बार विधायक बने थे.

अखिल गोगोई की कहानी, जिन्हें हाईकोर्ट ने जमानत देते वक्त कहा- सिविल नाफरमानी अपराध नहीं

नेतागिरी से दूर भागने वाले अखिल गोगोई जेल से ही चुनाव लड़ने पर मजबूर हुए.

गुलाम नबी आज़ाद के जाबड़ किस्से, जिनके दोस्त हर पार्टी में हैं!

जब वाजपेयी पर हमले कर रहे संजय गांधी का कुर्ता खींच दिया था.