Submit your post

Follow Us

31 साल पहले आज ही के दिन मार डाले गए थे 42 मुस्लिम, जिसमें किसी को सजा नहीं हुई

मुस्लिमों को वोट बैंक समझने वाली पार्टियां 1987 का नरसंहार भूल गईं क्या!

86.39 K
शेयर्स

22 मई. वो तारीख, जब 1987 के हाशिमपुरा नरसंहार की बात होती है. उस घटना में 42 मुस्लिमों को गोलियों से भून दिया गया था. मरने वालों को मुस्लिम इसलिए कहा जाएगा, क्योंकि उन्हें मुस्लिम होने की वजह से ही मारा गया था. इस मामले में किसी को सजा नहीं हुई.  पता ही नहीं चला कि नदी पर तैर रहे उन जिस्मों में किसने लोहा उतारा था. आज की तारीख में बात हाशिमपुरा की.

22 मई, 1987 की रात थी. प्रांतीय सशस्त्र बलों (पीएसी) का URU1493 नंबर का ट्रक चला जा रहा था. थ्री नॉट थ्री राइफल लिए 19 जवान दूर से ट्रक पर खड़े दिखाई दे रहे थे. जो नहीं दिख रहे थे वो थे ट्रक में सिर नीचे किए बैठे 50 मुस्लिम लड़के. सब के सब घर से अलविदा की नमाज़ अदा करने निकले थे.

इनमें से ज्यादातर घर नहीं लौटे.

इतिहास में ये तारीख हाशिमपुरा नरसंहार के नाम से जानी जाती है. वो काला धब्बा जिसने हमारे पुलिस सिस्टम का खौफनाक चेहरा दिखाया.

बिना किसी वजह, बेगुनाहों को सिर्फ उनके धर्म के आधार पर क़त्ल किया गया और तीस हज़ारी कोर्ट के सबसे लंबे ट्रायल में सभी 19 पुलिसवाले बरी हो गए.

सत्ता की तरफ से हुआ एक और नरसंहार जिसमें दोषी कोई भी नहीं माना गया. 


तब कांग्रेस पार्टी के राजीव गांधी प्रधानमंत्री थे. दूरदर्शी, मिलनसार और नई सोच वाले युवा राजीव, या वो राजीव जो शाहबानो मामले पर प्रगतिशीलता भूल जाते थे, जिनके लिए बड़े पेड़ के गिरने पर ज़मीन का हिलना एक सामान्य हलचल था. यूपी में वीर बहादुर सिंह की सरकार थी – कांग्रेस के हिंदुत्ववादी कहे जानेवाले मुख्यमंत्री. 1986 में राम जन्मभूमि का ताला खुल चुका था और इसी के साथ ध्रुवीकरण की सियासत का वो चेन रिएक्शन शुरू हो चुका था जिस पर चलकर आगे बाबरी विध्वंस, मुंबई बम विस्फोट, बनारस और कानपुर के दंगों जैसी घटनाएं हुईं.

क्या हुआ था?

अप्रैल 1987 में मेरठ में दंगे हुए. पीएसी बुलाई गई. मगर माहौल शांत होने पर हटा दी गई. 19 मई को दोबारा दंगे भड़के. 10 लोग मारे गए. इस बार सेना ने फ्लैग मार्च किया. सीआरपीएफ की 7 और पीएसी की 30 कंपनियां लगाई गईं. कर्फ्यू घोषित कर दिया गया. अगले दिन भीड़ ने गुलमर्ग सिनेमा हॉल को आग लगा दी. मरने वालों की गिनती 22 तक पहुंच गई और 20 मई को देखते ही गोली मारने के आदेश दे दिए गए.

वो काली ख़ौफनाक रात

# पीएसी के प्लाटून कमांडर सुरिंदर पाल सिंह 19 जवानों के साथ मेरठ के हाशिमपुरा मोहल्ला पहुंचे.

# अलविदा की नमाज़ हो चुकी थी. सेना ने पहले से करीब 644 लोगों को पकड़ रखा था. इनमें से हाशिमपुरा के 150 मुसलमान नौजवान थे.

# इन्हें पीएसी के हवाले कर दिया गया. भीड़ में से औरतों और बच्चों को अलग कर घर भेज दिया गया.

# बताया जाता है कि करीब 50 लोगों को पीएसी अपने साथ ले गई. इनमें ज़्यादातर दिहाड़ी मजदूर और बुनकर थे.

# पुलिस की पिटाई में कुछ ने दम तोड़ दिया. बाकी बचे लोग ट्रक में इस तरह से बैठे थे कि दूर से दिखाई न पड़ें.

# ट्रक मुरादनगर के गंगा ब्रिज पर पहुंचा और तीन लोगों को गोली मार कर नहर में फेंक दिया गया.

# जो बाकी बचे उन्हें अपनी नियति का अंदाज़ा लग चुका था. सबने ऊपर वाले को याद किया और हाथापाई करने की ‘आखिरी कोशिश’ की. जैसे ही भीड़ खड़ी हुई, राइफल की गोलियों ने सब को भून दिया. लाशें नहर में ठिकाने लगा दी गईं. कुल 42 लोगों को मारा गया.

जो बचे उन्होंने कहानी सुनाई

कुछ नहर में बहते हुए दूर निकल गए. किसी को खून से सना बेहोश देखकर मुर्दा मान लिया गया. कोई दम साधे लाशों के नीचे भी पड़ा रहा. कुल पांच लड़के ज़िंदा बच गए.

इनमें से कमरुद्दीन को तीन गोलियां लगी थी, आंतें बाहर आ गई थीं. उसी के साथ नासिर था. आगे की कहानी उसी के शब्दों में जो उसने बाद में इंडिया टुडे को सुनाई.

नासिर 2012 मैं
नासिर, साल 2012 में.

“कुछ लोग आ गए. पूछा, ‘तुम कौन हो.’ हमने उन्हें ये नहीं बताया कि हमें पीएसी के जवानों ने मारा है. हमने बताया कि स्कूटर से आ रहे थे, बदमाशों ने लूटपाट की और गोली मार दी. लेकिन वे लोग समझ गए होंगे.

उन्होंने कहा, ‘तुम यहीं ठहरो. बाबा को बुलवाता हूं कि वे पट्टी कर देंगे.’

पर मैं भांप गया, वह दूसरे आदमी से बोला था कि पुलिस को बुलाओ. कमरुद्दीन बोला, ‘तू भग जा, मैं तो बचने का नहीं, मेरे चक्कर में तू भी मारा जाएगा.’

तब मैं वहां से भागा. वहां से भागकर पास में ही एक पेशाबघर में छुप गया. अगले दिन करीब शाम चार बजे तक उसी में रहा. वहां से निकलकर मैंने पानी पिया. मेरी दशा ऐसी थी कि लोग मुझे पागल समझकर नज़रअंदाज कर रहे होंगे.”

नासिर मुरादनगर में अपने किसी परचित के यहां चला गया. उसके भागने और दिल्ली में तब के सांसद शहाबुद्दीन के घर पहुंचने की लंबी दास्तान है. इसके बाद युवा तुर्क कहे जाने वाले चंद्रशेखर की प्रेस कॉन्फ्रेंस में नासिर ने हाशिमपुरा की हकीकत दुनिया को बताई. हाशिमपुरा के लोगों को तो लग रहा था कि उनके अजीज़ लोग किसी जेल में बंद होंगे.

ज़िंदा बचे हर शख्स के पास एक जैसी ही कहानी है. सबकी माली हालत बेहद खराब है. स्थायी रूप से विकलांग हो चुके 55 वर्षीय मोहम्मद उस्मान बताते हैं,

”रमजान का महीना था लेकिन मैंने उस दिन रोज़ा नहीं रखा था. आठ दिन से कर्फ्यू था. आटा, दूध, घर में कुछ भी नहीं था. कर्फ्यू लगा था. बाहर कैसे निकलते? कमर और पैर में गोली लगी थी. नहर से बाहर निकलकर बैठे थे कि ”रात के 2.30-3.00 बजे एक पुलिसवाला जीप लेकर आया और बोला, ‘बेटा, पीएसी का नाम न लेना. तुझे अस्पताल ले जा रहे हैं. नाम लिया तो वहीं जहर का इंजेक्शन दे देंगे, तू पांच मिनट में खत्म हो जाएगा. बोलना कि मेरठ में बलवा हो गया था और मुझे गोली लग गई थी और किसी चीज में डालकर लाए और मुझे पानी में फेंक दिया. मैं पानी में से निकला और पुलिस ने मेरी जान बचाई. यह बयान दिया तो तेरी जान बच जाएगी.”

कहने की ज़रूरत नहीं कि उस्मान ने यही बयान दिया.

वीर बहादुर सिंह
वीर बहादुर सिंह

इसके बाद की सियासत

राजीव गांधी हाशिमपुरा के दौरे पर पहुंचे. वीर बहादुर सिंह से भी जवाब-तलबी हुई. मगर 1988 तक वो मुख्यमंत्री बने रहे. जस्टिस राजिंदर सच्चर, आइ.के. गुजराल की सदस्यता वाली जांच समिति बनी. 1994 में समिति ने अपनी रिपोर्ट फाइल की. 1 जून 1995 को 19 अधिकारियों को दोषी मानकर मुकदमा चलाया गया. और इसके बाद तारीख पे तारीख और तारीख.

सत्ता जीती, इंसानियत फिर हारी

21 मार्च 2015 दिल्ली की तीस हज़ारी कोर्ट ने 16 आरोपियों को ‘बाइज़्ज़त बरी’ कर दिया. तीन आरोपी इस दौरान मर गए थे. ये तीस हज़ारी कोर्ट की उस समय पर सबसे लंबे समय तक चलने वाली ट्रायल थी. 27 साल और 161 गवाहों के बयानों बाद भी देश के कानून को ये पता नहीं चला कि आखिर नहर में तैरती उन लाशों का ज़िम्मेदार कौन था. हालांकि इसके बाद वर्तमान उत्तर प्रदेश सरकार की तरफ से पीड़ित परिवारों को 5-5 लाख का मुआवज़ा दिया गया मगर जो देश की धर्मनिरपेक्षता पर जो ज़ख्म लगा उसकी भरपाई की फिक्र किसी ने नहीं की.

इस मामले से जुड़ी सीनियर एडवोकेट रिबेका जॉन बीबीसी के लिए लिखे अपने एक लेख में कहती हैं.

“इस मामले से सबक लेने की ज़रूरत है. ज़िंदगी, आज़ादी और नागरिक अधिकारों से जुड़े मामलों में जल्द सुनवाई होनी ही चाहिए. खासतौर पर तब, जब पीड़ित गरीब या हाशिये पर खड़े लोग हों तो हमारी वर्तमान व्यवस्था उन्हें न्याय नहीं दिला सकती. पुलिस वाले जब अपनों के खिलाफ जांच करते हैं तो कोशिश रहती है कि ‘भाईचारे का बंधन’ निभ जाए (ये सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी है). सबसे मज़बूत सबूत नष्ट कर दिए जाते हैं. प्रक्रिया को बिखेर कर खराब कर दिया जाता है.”

हाशिमपुरा में शामिल कोई भी जवान कभी निलंबित नहीं हुआ. कुछ को तो तरक्की भी मिली. पुलिस वालों की निर्लज्जता का जो खाका ज़िंदा बच गए लोगों ने खींचा है वो बताता है कि इन पुलिसवालों को सज़ा का कोई डर नहीं था. आखिरकार ये बात साबित भी हो गई.

ये नरसंहार साबित करता है कि बात जब सियासी ध्रुवीकरण और उससे उपजे उन्माद को संभालने की आती हो तो सियासी पार्टियों का रुख कमोबेश एक सा ही रहता है.


ये भी पढ़ें:

रामपुर तिराहा कांड: उत्तर प्रदेश का 1984 और 2002, जिसकी कोई बात नहीं करता

मधुमिता शुक्ला: जिसके क़त्ल ने पूर्वांचल की राजनीति को बदल दिया

यूपी इलेक्शन में पार्टियां जीतेंगी तो इसलिए, और हारेंगी तो इसलिए!

किस्सा महेंद्र सिंह भाटी के कत्ल का, जिसने UP की सियासत में अपराध घोल दिया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Hashimpura massacre: The cold-blooded killing of 42 innocent muslim men by the security forces

ग्राउंड रिपोर्ट

इस नेता ने राजा भैया का रिकॉर्ड ऐसा तोड़ा कि सब चौंक गए!

उस नेता का नाम बहुत कम लोग जानते हैं.

Live UP Election Result 2017: चौचक नतीजे, चौकस कमेंट्री वाला लल्लनटॉप टीवी देखें

दी लल्लनटॉप की टीम न सिर्फ अपडेट दे रही है, बल्कि नतीजों के पीछे की पूरी कहानी भी बतला रही है.

पिंडरा से ग्राउंड रिपोर्ट : 'मोदी पसंद हैं, वो विधायक तो बनेंगे नहीं, फिर क्यों जिता दें'

इस सीट पर वो नेता मैदान में है जो 2014 में नरेंद्र मोदी के खिलाफ चुनाव लड़ा.

ग्राउंड रिपोर्ट वाराणसी साउथ : बनारस के चुनाव में वो मुद्दा ही नहीं है, जिसे बड़ा मुद्दा बताया जा रहा है

इतने सारे रोड शो का असर सीधा पड़ेगा या उल्टा

रामनगर ग्राउंड रिपोर्ट: एक-एक बनारसी की पॉलिटिक्स मोदी-अखिलेश की पॉलिटिक्स से कहीं आगे है

पोलिंग से एक दिन पहले यहां का वोटर एकदम साइलेंट हो गया है.

ग्राउंड रिपोर्ट सोनभद्र: KBC में इस शहर पर बने एक सवाल की कीमत 50 लाख रुपए थी

यहां के लोग गर्व से कहते हैं, 'मुंबई वाले हमारी एक बोरी बालू में 6 बोरी पतला बालू और एक बोरी सीमेंट मिलाकर यूज करते हैं.'

ग्राउंड रिपोर्ट : ये बागी बलिया है, जहां सांड को नाथ कर बैल का काम लिया जाता है

यूपी के इस आखिरी छोर पर सियासत बहुत पीछे छूट जाती है.

पथरदेवा ग्राउंड रिपोर्ट: जब-जब ये नेता चुनाव जीतता है, यूपी में बीजेपी सरकार बनाती है

यहां बीजेपी के सूर्य प्रताप शाही के लिए एक वोटर रियासत अली कहते हैं, 'अबकी इनका वनवास खत्म कराना है'.

नौतनवा ग्राउंड रिपोर्ट: मां-पापा और भाई जेल में, तो बहन लंदन से आई चुनाव प्रचार के लिए

पेश है बाहुबलियों की सीट का हाल.

ग्राउंड रिपोर्ट पडरौना: जहां के लोगों को याद है कि पीएम ने ढाई साल पुराना वादा पूरा नहीं किया

यहां बीजेपी नेता के लिए नारा था, 'राम नगीना बड़ा कमीना, फिर भी वोट उसी को देना'.