Submit your post

Follow Us

वात्स्यायन ने नहीं लिखा था पहला कामसूत्र!

465
शेयर्स

कहते हैं जब भगवान ने जब स्त्रियों और पुरुषों को बनाया, उन्होंने जीवन के तीन ज़रूरी हिस्सों, धर्म, अर्थ और काम पर लेक्चर दिया. भगवान के तीन भक्तों ने इन तीन तरह के नियमों को अलग अलग लिख लिया. धर्म की बातें लिखीं स्वयंभू मनु ने, अर्थ की बातें बृहस्पति देवता ने लिखीं. और ‘काम’ यानी काम की बातें नोट कीं शंकर भगवान के भक्त नंदिकेश्वर ने.

नंदिकेश्वर की कामसूत्र एक हज़ार भागों में बंटी हुई थी. इसे काट-छांट कर छोटा किया श्वेतकेतु ने. श्वेतकेतु ऋषि उद्दालक के बेटे थे. श्वेतकेतु की कामसूत्र भी बहुत बड़ी थी. तो उसे छोटा किया बाभ्रव्य ने. बाभ्रव्य पांचाल देश के राजा ब्रह्मदत्त का मंत्री था. पांचाल वही जगह है जिसे आज हम साउथ दिल्ली कहते हैं. बाभ्रव्य ने कामसूत्र को सात बड़े भागों में बांट दिया जिसपे फिर सात अलग-अलग किताबें लिखी गयीं. ये सात भाग थे:

साधरण, यानी साधरण नियम
सांप्रयोगिक, यानी लव मेकिंग
कन्या सांप्रयुक्तक, यानी शादी के पहले ‘डेटिंग’ और शादी
भार्याधिकारिका, यानी पत्नी
पारदारिका, यानी दूसरों की पत्नियों को सिड्यूस करना
वैशिका, यानी वेश्या
औपनिशादिका, यानी सीक्रेट कहानियां

चूंकि कामसूत्र अब सात किताबों में बंट चुकी थी, वात्स्यायन जी ने पढ़ने वालों की सहूलियत के लिए सातों किताबों के मेन पॉइंट्स को जमा कर के एक किताब में डाल दिया. ये किताब हुई हमारी कामसूत्र. मतलब कामसूत्र का फाइनल वर्ज़न जो हमें उपलब्ध है.

(कामसूत्र, लांस डेन )

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Story behind the writing of the Kamasutra

आरामकुर्सी

देश के सबसे बेबस राष्ट्रपति का किस्सा

जिन्होंने दो दफा इस्तीफा देना चाहा, जिन्हें महाभियोग की धमकी भी झेलनी पड़ी.

बॉलीवुड का सबसे विख्यात और 'कुख्यात' म्यूजिक मैन, जिसे मार डाला गया

जिनकी हत्या की इल्ज़ाम में एक बड़ा संगीतकार हमेशा के लिए भारत छोड़ने पर मजबूर हुआ.

नरगिस और सुनील दत्त की लव स्टोरी जो आज के लवर्स के बहुत काम की है

नरगिस की बरसी पर इन एक्टर्स की कहानी जिनसे सीख सकते हैं कि प्यार में बात कैसे बनाई जाती है.

वो राष्ट्रपति जिनकी जीत का ऐलान जामा मस्जिद से हुआ था

राजनीति से संन्यास ले चुके जेपी का एक बयान 22 अप्रैल को अख़बारों में छपा. इस नाजुक घड़ी में जेपी इंदिरा के पक्ष में खड़े थे.

जब मजदूरों के एक नेता ने इंदिरा गांधी की सरकार की चूलें हिला दीं

आज मजदूर दिवस है.

IIT बॉम्बे छोड़ने वाले मुकेश अंबानी के वो किस्से, जो कम लोगों को पता हैं

आज मुकेश का जन्मदिन है.

जिनको 'क्रूरता' के लिए याद रखा गया, उन्होंने लता मंगेशकर को सोने का कुंडल इनाम दिया

एक ऐसी एक्ट्रेस की कहानी, जिसकी जिंदगी किसी फिल्म से कम नहीं थी.

आसाराम के 3 क्रिमिनल केसेज़ की असली कहानियां जो विचलित करने वाली हैं

इन्हें पढ़कर शायद उसके पुराने समर्थकों की बंद आंखें भी फटी रह जाएं.

वो शर्ट पहनता हूं तो लगता है, मैं भी पापा जैसा हो गया हूं

हममें से हर किसी के पास एक शर्ट होती है, जो हमारी सेकेंड स्किन बन जाती है. आपकी फेवरेट कौनसी है?

JNU का वो दीक्षांत समारोह जिसमें बलराज साहनी ने सबको धो डाला था

ये स्पीच आज भी प्रासंगिक है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.