Submit your post

Follow Us

वात्स्यायन ने नहीं लिखा था पहला कामसूत्र!

465
शेयर्स

कहते हैं जब भगवान ने जब स्त्रियों और पुरुषों को बनाया, उन्होंने जीवन के तीन ज़रूरी हिस्सों, धर्म, अर्थ और काम पर लेक्चर दिया. भगवान के तीन भक्तों ने इन तीन तरह के नियमों को अलग अलग लिख लिया. धर्म की बातें लिखीं स्वयंभू मनु ने, अर्थ की बातें बृहस्पति देवता ने लिखीं. और ‘काम’ यानी काम की बातें नोट कीं शंकर भगवान के भक्त नंदिकेश्वर ने.

नंदिकेश्वर की कामसूत्र एक हज़ार भागों में बंटी हुई थी. इसे काट-छांट कर छोटा किया श्वेतकेतु ने. श्वेतकेतु ऋषि उद्दालक के बेटे थे. श्वेतकेतु की कामसूत्र भी बहुत बड़ी थी. तो उसे छोटा किया बाभ्रव्य ने. बाभ्रव्य पांचाल देश के राजा ब्रह्मदत्त का मंत्री था. पांचाल वही जगह है जिसे आज हम साउथ दिल्ली कहते हैं. बाभ्रव्य ने कामसूत्र को सात बड़े भागों में बांट दिया जिसपे फिर सात अलग-अलग किताबें लिखी गयीं. ये सात भाग थे:

साधरण, यानी साधरण नियम
सांप्रयोगिक, यानी लव मेकिंग
कन्या सांप्रयुक्तक, यानी शादी के पहले ‘डेटिंग’ और शादी
भार्याधिकारिका, यानी पत्नी
पारदारिका, यानी दूसरों की पत्नियों को सिड्यूस करना
वैशिका, यानी वेश्या
औपनिशादिका, यानी सीक्रेट कहानियां

चूंकि कामसूत्र अब सात किताबों में बंट चुकी थी, वात्स्यायन जी ने पढ़ने वालों की सहूलियत के लिए सातों किताबों के मेन पॉइंट्स को जमा कर के एक किताब में डाल दिया. ये किताब हुई हमारी कामसूत्र. मतलब कामसूत्र का फाइनल वर्ज़न जो हमें उपलब्ध है.

(कामसूत्र, लांस डेन )

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Story behind the writing of the Kamasutra

आरामकुर्सी

कांशीराम के अनसुने किस्से

कांशीराम ने ज़िंदगी भर कुछ प्रतिज्ञाओं का पालन किया. वे अपने पिता के अंतिम संस्कार में भी शामिल नहीं हुए.

एक लड़की का दी लल्लनटॉप को खुला खत

हम भी आपकी ही पीढ़ी के अंग हैं लेकिन स्कूल में टिफिन खाने से लेकर जीन्स पहनने तक हमने खुद को समाज कि निगाहों में हौव्वा ही पाया है.

एक पूरी पीढ़ी का महिलाओं के नाम खुला ख़त

ये ख़त उन लड़कों की तरफ से जिनमें ना किसी तरह का अपराधबोध है ना दुराव.

पंजाब की जमींदार किरण ठाकर सिंह और कश्मीरी पंडित अनुपम खेर की प्रेम कहानी

कई बार रिश्ता बिगड़ा भी, जिसे किरण खेर ने बड़ी समझदारी से संभाला.

जिसने 'आज मेरे यार की शादी है' का म्यूज़िक दिया, जमाना उसे चुटकी में भूल गया

इनका गाना हॉलीवुड फिल्म 'स्लमडॉग मिलियनेयर' में इस्तेमाल किया गया था.

जब सब कुछ जानते हुए भी हर्षा भोगले को चुप रह जाना पड़ा

उनकी हाजिरजवाबी के किस्से चलते हैं. बातों पर लिस्टिकल्स बनते हैं. पर उनने एक बात पर चुप्प साध ली क्यों?

जसपाल भट्टी के 10 ज़िंदादिल किस्से

कैसे थे निजी जीवन में जसपाल भट्टी? उनके जन्मदिन पर जानिए बज़ुबान सविता भट्टी.

कहानी उस बालाकोट की जहां हूर के हाथ की खीर खाने के चक्कर में युद्ध हो गया था

ये वही बालाकोट है जहां भारतीय वायुसेना ने एयर स्ट्राइक की.

बंबई का पहला डॉन, जिसकी आंखों को अमिताभ और अजय देवगन ने ज़िंदगी में उतार लिया

अंडरवर्ल्ड डॉन हाजी मस्तान की रोचक कहानी.

सौरभ से सवाल

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.