Submit your post

Follow Us

मीना कुमारी की याद में डूबे कमाल अमरोही ने धर्मेंद्र का मुंह काला करवाया था

15.53 K
शेयर्स

अगर हिंदी सिनेमा की सबसे प्रसिद्ध 10 म्यूज़िकल फिल्मों की लिस्ट बनाई जाए तो उसमें महल, मुगल-ए-आज़म और पाकीजा की जगह पक्की होगी. इन तीन फिल्मों के साथ एक कमाल की बात जुड़ी है. इन तीनों फिल्मों के साथ कमाल अमरोही जुड़े हैं. जॉन एलिया के चचाज़ात भाई कमाल अमरोही, मीना कुमारी के पति कमाल अमरोही या पाकीज़ा वाले कमाल अमरोही. 17 जनवरी, 1918 को पैदा हुए थे. इस मौके पर पढ़िए उनकी ज़िंदगी से ज़ुड़े कुछ किस्से-

1. मुंशी नहीं स्क्रिप्ट राइटर

हिंदी सिनेमा से अक्सर लोगों को शिकायत रहती है कि इसमें कहानी पर ज़ोर नहीं होता. 1930 के दशक में सिनेमा स्क्रिप्ट राइटर को मुंशी कहा जाता था. मुंशी यानी हिसाब-किताब रखने वाला. कमाल ने कहानी लिखी और शर्त रखी कि मुंशी नहीं, राइटर का अलग क्रेडिट मिलेगा. शर्त मान ली गई. कमाल ही नहीं आगे के लेखकों के लिए जगह बनाना आसान हो गया.

2. कलम का इस्तेमाल नहीं करते थे कमाल

महल फिल्म याद है? आएगा आने वाला गाने ने लता मंगेशकर नाम की लड़की को रातों रात स्टार बना दिया. इस हॉरर फिल्म की स्क्रिप्ट कमाल ने लिखी थी. कमाल ने मुगल ए आज़म के डायलॉग भी लिखे थे. “हमारा दिल भी कोई आपका हिंदुस्तान नहीं, जिस पर किसी बादशाह की हुकूमत चले” जैसे डायलॉग कमाल ने ही लिखे थे. कमाल अमरोही लिखने में सिर्फ पेंसिल का इस्तेमाल करते थे. ताकि कोई गलती दिखाई न दे जाए.  फर्स्ट ड्राफ्ट जैसा कुछ किसी और को दिखाई न दे. जो मन मुताबिक नहीं हुआ बिगाड़ कर गायब कर दिया.

3. पर पाकीज़ा में छोड़ दी गलती

फिल्म पाकीज़ा कमाल का पैशन थी. फिल्म जब शुरू हुई थी तो कमाल और मीना दो जिस्म एक जान थे, मगर जब फिल्म 14 साल में बन कर तैयार हुई तो बहुत कुछ बदल गया. फिल्म में हीरो के तौर पर धर्मेंद्र को लिया गया था. पर मीना हीरो धर्मेंद्र की मोहब्बत में गिरफ्तार हो चुकी थीं. तमाम कोशिशों के बाद भी कमाल दोनों को दूर नहीं कर पाए तो धर्मेंद्र का रोल राजकुमार को दे दिया. मगर तब तक कुछ रील शूट हो चुकी थीं. अगर पाकीज़ा के बारात वाले सीन को देखें तो उसमें सेहरा बांधे ग्रे शेरवानी में धर्मेंद्र हैं. अगले ही सीन में जब सेहरा उठता है तो सफेद शेरवानी में राजकुमार होते हैं.

dharmendra pakeeza

4. कहते हैं कि गुलज़ार के चलते घर टूटा

मीना कुमारी और गुलज़ार की दोस्ती की बातें दुनिया जानती हैं. गुलज़ार कहते हैं कि दोनों ने क्लोज़ इंटेलैक्चुअल रिश्ता शेयर किया. कहा जाता है कि ‘पिंजरे का पंछी’ फिल्म के सेट पर मीना बंद कमरे में गुलज़ार से कमाल के साथ रिश्ते में आई दूरियां बता रहीं थी. कमाल के ड्राइवर और मीना के संरक्षक बाकर अली ने गुलज़ार को बाहर जाने को कह दिया. मीना गुलज़ार को साथ रखने पर अड़ गईं. बाकर भी अपने लोगों को हथियारों के साथ ले आए. एक्टर महमूद ने जैसे-तैसे मामला निपटाया. कमाल ने उस दिन बिना मुद्दा जाने ही बाकर का पक्ष ले लिया. मीना ऐसी नाराज़ हुईं कि दुबारा कभी कमाल के साथ नहीं गईं.

5. और फिर कहानी है कि कमाल ने धर्मेंद्र का किया मुंह काला

कमाल और मीना अलग हो गए मगर मीना के लिए कमाल की मोहब्बत कम न हुई. मीना धर्मेंद्र की मोहब्बत में गिरफ्तार हो गई थीं. इस बात की कसक कमाल के दिल से नहीं निकली. धर्मेंद्र कुछ समय के बाद मीना को छोड़कर आगे बढ़ गए. मीना को इससे भी बहुत सदमा पहुंचा. फिर फिल्म रज़िया सुल्तान में हीरो धर्मेंद्र थे और प्रोड्यूसर-डायरेक्टर कमाल अमरोही. कमाल ने शॉट के लिए धर्मेंद्र का मुंह काला करवाया और सीन शूट किया. लोग बताते हैं कि इसकी कोई ज़रूरत नहीं थी. कमाल ने बस धर्मेंद्र की वजह से मीना को मिली तकलीफों के कारण ऐसा किया था. बॉलीवुड की तमाम किंवदंतियों में से एक ये भी है.

dharmendra raziya sultan

6. पाकीज़ा के लिए प्राण ने की अवॉर्ड वापसी

पाकीज़ा 1972 में जब रिलीज़ हुई तो फिल्म संगीत पूरी तरह से बदल चुका था. पियानो पर किशोर कुमार की आवाज़ को चेहरा देते राजेश खन्ना सुपर स्टार थे और गानों से शास्त्रीयता गायब हो चुकी थी. पाकीज़ा का संगीत देने वाले गुलाम मोहम्मद दुनिया से जा चुके थे. लोग कह रहे थे अब पाकीज़ा जैसे गाने नहीं चलेंगे, शंकर-जयकिशन से फिल्म का संगीत दुबारा बनवाया जाए. कमाल अड़ गए कि मैं मरे हुए आदमी का क्रेडिट नहीं छीनूंगा. अंत में 12 में से 6 गानों के साथ पाकीज़ा रिलीज़ हुई. फिल्म के म्यूज़िक ने इतिहास बनाया. मगर उस साल बेस्ट म्यूज़िक का फिल्म फेयर मिला ‘बेईमान’ फिल्म के लिए शंकर-जयकिशन को. इस फैसले से बेईमान में विलेन का रोल करने वाले प्राण इतना नाराज़ हुए कि उन्होंने ‘बेईमान’ के लिए मिला अपना अवॉर्ड वापस कर दिया.

7. मौसम है आशिकाना

ये गाना जितना खूबसूरत है इसकी कहानी उतनी ही दर्द भरी है. इस गाने की रिकॉर्डिंग के समय म्यूज़िक डायरेक्ट गुलाम मोहम्मद बीमारी के चलते बिस्तर पकड़ कर चुके थे. गुलाम ने जैसे तैसे इस गाने को रिकॉर्ड किया. वो इस गाने के लिए किसी और को नहीं देना चाहते थे. अपने गुरू नौशाद को भी नहीं जो गुलाम की बीमारी के चलते पाकीज़ा के गानों की रिकॉर्डिंग देख रहे थे. दरअसल ये गाना कमाल ने मीना कुमारी के लिए लिखा है. इसको लिखते समय कमाल से मीना की नाराज़गी चरम पर थी. नर्गिस और सुनील दत्त इन्हें मिलवाने की कोशिश कर रहे थे मगर मीना नहीं मान रहीं थी. दर्द भरे दिल से निकल इस कमाल के गाने की लिरिक्स पर गौर करिएगा.

“कहना के रुत जवां है, और हम तरस रहे हैं
काली घटा के साये, बिरहन को डस रहे हैं
डर है न मार डाले, सावन का क्या ठिकाना
मौसम है आशिकाना ऐ दिल कहीं से उनको ऐसे में ढूंढ लाना.”

जाते-जाते एक बात और पाकीज़ा का वो ट्रेन वाला सीन तो आपने देखा होगा जिसमें राजकुमार मीना कुमारी को पैर ज़मीं पर न रखने की बात कहते हैं. इससे ठीक पहले का ये शॉट देखिए और तय करिए कि ट्रेन में अंदर जाते हुए ये राजकुमार हैं या धर्मेंद्र.

rajkumar pakeeza


(अनिमेष ने यह स्टोरी की है.)


वीडियो में देखिए ‘सोन परी’ वाली फ्रूटी आज कल कहां है ?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
Rare incidents about legendary film director Kamaal Amrohi When he painted face of Dharmendra Black and some other trivia about Pakeeza

गंदी बात

हीरो की हिंसा और शोषण को सहने वाली बेवकूफ नायिकाएं

हमें क्रोध और हिंसा क्यों रोमैंटिक लगते हैं?

नौकरानी, पत्नी और 'सेक्सी सेक्रेटरी' का 'सुख' एक साथ देने वाली रोबोट से मिलिए

ब्लॉग: हमारे कुंठित समाज को टेक्नोलॉजी का तोहफा.

हम रेप की कहानियां किस तरह सुनना चाहते हैं?

मसाला छिड़ककर या मलाई मारकर?

मलाइका अरोड़ा की कांख पर कुछ लोगों की आंख क्यों चढ़ गई?

कुछ ने तारीफ़ की. मगर कई लोग मुंह भी बना रहे हैं. लिख रहे हैं, वैक्स क्यों नहीं करवाया.

साइकल, पौरुष और स्त्रीत्व

एक तस्वीर बड़े दिनों से वायरल है. जिसमें साइकल दिख रही है. इस साइकल का इतिहास और भूगोल क्या है?

महिलाओं का सम्मान न करने वाली पार्टियों में आखिर हम किसको चुनें?

बीजेपी हो या कांग्रेस, कैंडिडेट लिस्ट में 15 फीसद महिलाएं भी नहीं दिख रहीं.

लोकसभा चुनाव 2019: पॉलिटिक्स बाद में, पहले महिला नेताओं की 'इज्जत' का तमाशा बनाते हैं!

चुनाव एक युद्ध है. जिसकी कैजुअल्टी औरतें हैं.

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.