Submit your post

Follow Us

इस बंदे ने दीये का तेल खोजने के चक्कर में घूम डाली दुनिया

पारुल
पारुल

घूमने का शौक रखने वालों के लिए ही तो हम लाए हैं नक्शेबाज सीरीज. ‘दी लल्लनटॉप’ की इस नई सीरीज की आज तीसरी किस्त पढ़िए. इसे लिखा है पारुल ने. इस किस्त में हम आपको वेनिस के मार्को पोलो के बारे में बताएंगे. बताएंगे मतलब बताएंगे. क्योंकि हम नहीं चाहते आप या हम घूमने जाने की बात पर छोटे-छोटे बहाने बनाएं. फिर फाइनली जाने के प्लान को न जाने के प्लान में बदल दें. आज पढ़िए, मार्को पोलो किस फैमिली बैकग्राउंड के थे. किस रास्ते कहां घूमने निकले.


 

मार्को पोलो

वेनिस के रहने वाले थे. मन से घुमक्कड़ आदमी. ये 13वीं सेंचुरी में घूमने निकले थे. ये पहले आदमी नहीं थे, जो यूरोप से एशिया आए थे. लेकिन इन्होंने पहली बार फुल डिटेल में यूरोप को एशिया के बारे में बताया था.

ड्राइविंग फ़ोर्स:

मार्को पोलो अपने पापा और चाचा के साथ ही घूमने निकले थे. इससे पहले जब उनके पापा और चाचा चाइना के बादशाह कुबलाइ खान से मिलने गए थे, तब कुबलाइ ने उनसे जेरूसलम के पवित्र दीये का तेल मांगा था. और यही पहुंचाने के बहाने वो लोग फिर से घूमने निकल गए.

फैमिली बैकग्राउंड:

ये व्यापारी परिवार से थे. बिजनेस की ज़रूरत के हिसाब से व्यापारियों को घूमना-फिरना पड़ता ही है. इनके पापा और चाचा पहले ही एशिया घूम आए थे. इसी वजह से मार्को पोलो पहली बार अपने पापा से 14-15 साल की उम्र में मिल पाए थे. इनका नामी-गिरामी व्यापारी खानदान था. ये भी अपर मिडिल क्लास या अपर क्लास परिवार से रहे होंगे. मार्को पोलो की पढ़ाई-लिखाई ख़ास तौर से बिज़नेस में करवाई गई थी. मतलब उस ज़माने के कॉमर्स स्ट्रीम वाले थे.

Marco_Polo

ट्रेवल रूट/जगहें:

मार्को पोलो अपने पापा और चाचा के साथ पहले नाव में निकले. और फिर ऊंट से आगे गए. कुछ दूर पैदल भी चलना ही पड़ा. ये लोग पूरे 24 सालों तक एशिया में घूमते रहे. चाइना के बाद बंगाल की खाड़ी और बर्मा तक घूमने गए थे.

NAKSHEBAZ BANNER

कुबलाइ खान मार्को पोलो को बहुत मानते थे. इन्हें दरबार में पोजीशन भी दे दी थी. और वो बिलकुल नहीं चाहते थे कि मार्को पोलो, उनके पापा और चाचा वापस जाएं. फिर कुबलाइ के एक रिश्तेदार की शादी तय हो गई चाइना में. वो रिश्तेदार ईरान का एक बादशाह था. तभी बारात के साथ मार्को पोलो चाइना से ईरान जा पाएं. फिर वहां से सुमात्रा की तरफ वाले एरिया में भी घूमने गए. कुछ वक़्त बाद वापस घर चले आए.

मुश्किलें:

कुबलाइ खान तक पहुंचने के रास्ते में एक बार मार्को पोलो, उनके पापा और चाचा व्यापारियों के एक कारवां के साथ हो लिए. रास्ते में ही डाकुओं का एक ग्रुप आ गया. और छीना-झपटी के साथ मार-काट भी हो गई. ये तीनों डाकुओं से लड़ कर किसी तरह जिंदा बच पाए.

जब मार्को पोलो वापस घर पहुंचे, तो उस वक़्त वेनिस और जेनोआ के बीच लड़ाई चल रही थी. इस लड़ाई में मार्को पोलो भी शामिल हो लिए. इसी चक्कर में जेल भी चले गए. बाकी ट्रैवलर वापस आकर राजा को कहानियां सुना के फ़ेमस हो जाते थे. जबकि मार्को पोलो को जेल में एक साथी को घूमने की पूरी कहानियां सुनानी पड़ीं. उसने मार्को पोलो की बताई हुई कहानियों के साथ कुछ अपनी मनगढ़ंत कहानियां भी जोड़ दीं.

आउटपुट:

मार्को पोलो के ट्रेवल अकाउंट को ‘बुक ऑफ़ मार्वेल्स ऑफ़ द वर्ल्ड’ या ‘द ट्रेवल्स ऑफ़ मार्को पोलो’ कहा जाता है. जिसमें उनके जेल वाले साथी की कुछ मनगढ़ंत कहानियां भी शामिल थीं. इस किताब से यूरोप के लोगों को एशिया के बारे में बहुत कुछ पता चला. और आगे के कई यूरोपियन घुमक्कड़ों ने इस किताब को पढ़ कर ही एशिया घूमने आने का मन बनाया. जैसे क्रिस्टोफर कोलंबस. इन जनाब के बारे में हम आपको बताएंगे.


1. फाह्यान: वो ट्रैवलर, जो चीन से पैदल इंडिया आ गया

2.  वो पहला चाइनीज, जो बिना इजाजत इंडिया आया

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.