Submit your post

Follow Us

LGBTQ 1: अब दोस्त को 'गां*' नहीं कहता

7.08 K
शेयर्स

पहली बार होमोसेक्शुऐलिटी के बारे में कुछ सुना था वो ये कि मुखिया जी किसी 12 साल के लड़के को लेकर मंदिर में घुसे रहते हैं. क्या करते हैं ये उन शब्दों में कहा गया. जो कहते हुए स्वत: हमारा वॉल्यूम नीचे चला जाता है. बाद में समझ आया कि इसमें होमोसेक्शुऐलिटी जैसा कुछ न था. ये चाइल्ड अब्यूज था.

तब सेक्स से जुड़ी हमारी जानकारियां बहुत सतही और सपाट शब्दों में होती थीं. हमें ये तो पता चल चुका था कि लड़कियों के पीछे नहीं आगे वाले ‘छेद’ में डालते हैं. पर हिदायत मिली थी कि घर में न बताएं. छोटे से ज्ञान के साथ ये कैसे पचा पाते कि कोई लड़का किसी दूसरे लड़के के ‘पीछे वाले छेद’ में डाल रहा है. सही-गलत की तो बात ही छोड़िए. हमें डर था कि हमने इस बारे में बात की है घर में यही पता चल गया तो पिट जाएंगे. होमोसेक्शुऐलिटी से जुड़ा पहला अनुभव यही था कि ये काम गंदे लोग करते हैं और इस बारे में किसी से बात नहीं करनी है .

right to love

आठवीं-दसवीं में लड़के गर्ल्स हॉस्टल की बातें करते. तब पता चला लड़कियां भी ऐसा कुछ करती हैं. ये तो और गलत था. सोचा कि लड़कियों को कभी हॉस्टल जाना ही नहीं चाहिए, बिगड़ जाती हैं. रिश्तेदारियों में आने वाली वो लड़कियां जो कहीं हॉस्टल में रहती थीं उनके बारे में सोच बदल चुकी थी. लेस्बियन का खाका खिंच चुका था, वो लड़कियां जो वक़्त के पहले सब सीख जाती हैं और मजे के लिए दूसरी लड़कियों का सहारा लेती हैं.

फिर कॉलेज आया ‘होमो’ शब्द सीखा. किसी दोस्त का नाम योगेश हुआ तो उस पर योGayश वाले जोक बना हंसते. Wheat की हिंदी पूछ ठट्ठा मारते. बिन मूंछों या मटककर चलने वाले लड़कों का बाथरूम में घुसना मुहाल करते. ये हमारी गलती नहीं है. ये उन तमाम लोगों की सोच है जिनने बॉबी डार्लिंग को मेल बॉडी पर गिरते देख समलैंगिकता को समझा था. हमारे लिए वो हंसने की चीज होते थे.

तभी बसों में उन जैसे अंकल भी मिलने लगे जिनका हाथ गलती से उठी टी-शर्ट से होकर पेट सहलाता. या गायत्री परिवार के सम्मेलन से लौट रहे वो अंकल जिनका हाथ RAC की सीट पर आधे सोए-सोए जाने क्यों लोअर में घुस-घुस जाता. अब तक होमोसेक्शुऐलिटी का मतलब मेरे लिए यही था कि ये लौंडेबाज बूढों के शौक हैं, या जनाना जैसे दिखने वाले लड़कों के जिनमें मर्दानगी नहीं होती. और उन्हें ये बुरी आदतें लग जाती हैं.

Gay activists dressed as newly wed grooms attend a gay pride parade, which is promoting gay, lesbian, bisexual and transgender rights, in Mumbai
Source: Reuters

फिर एक दोस्त कुछ बताता है, जिसे मैं प्यार करता हूं, रिस्पेक्ट करता हूं, जो जिंदगी में बहुत गहरे तक दखल रखता है. मैं स्वीकार नहीं कर पाता हूं कि वो गे हो सकता है. तमाम कनफ्लिक्ट होते हैं. लगता है ये तो हट्टा-कट्टा है. हैंडसम सा है. गे होने के तमाम स्टीरियोटाइप टूटने लगते हैं. उनके लिए नजरिया बदलने लगता है. उनके बारे में ढंग से जानना जरुरी लगता है. बहुत नहीं पर इतना तो जरुर कि ‘गां*’ या ‘मारना-मरवाना’ जैसी बातें मुंह से उतर जाएं.

उम्र बढ़ने के साथ आस-पास ऐसे लोग बढ़ने लगते हैं. इस एक फैक्ट कि वो होमोसेक्शुअल हैं, बाकी सब सामान्य लगता है उनमें. फिर एक दिन ये फैक्ट भी मायने नहीं रखता. समझ आने लगता है कि जैसे कोई उल्टे हाथ से खाना खा रहा है वैसा ही गे, लेस्बियन होना भी है. आप कहकर या मारकर नहीं छुड़ा सकते, ये कोई आदत नहीं है. वो हैं ही ऐसे. और इसमें कोई बुराई नहीं है. मुखिया जी में हिम्मत नहीं थी. उनकी मेहरिया उनको शादी के कुछ दिन बाद छोड़कर चली गई थी. वो नहीं कह पाए कि वो क्या हैं. उसके बाद जो वो करते हैं वो जरुर गलत है.

अब किसी लड़के को मुंह पर हाथ रख हंसते देख अजीब नहीं लगता. पहले किसी के गे होने का शक होते ही दूर भाग उठता था. एक बार फेसबुक इनबॉक्स में किसी ने बड़े प्यार से बात कर दी थी. उसे ब्लॉक कर भाग गया था. हम होमोफोबिक माहौल में रहते हैं न. करण जौहर पर बने चुटकुलों पर हंस खुद को विटी समझते हैं. ये नहीं जानते कि ये भेदभाव है. और ये भेदभाव जाने कितने ही लोगों को बंद कमरों में रोने और घुट-घुट के मरने पर मजबूर करता है.

लोगों को ग्रुप्स में बांटने वाली भाषा में कहें तो मैं स्ट्रेट हूं. पर मैं ये इसलिए नहीं कहता कि खुद को अपने गे या लेस्बियन दोस्तों से अलग मानता हूं. इसलिए कहता हूं कि अब मैं होमोफोबिक नहीं हूं. कुछ दोस्त हैं जो गे हैं. उनसे मिलने में शर्म नहीं आती. किसी तरह का गर्व भी नहीं होता. नॉर्मल लगता है. बिलकुल वैसे ही जैसे तमाम ‘स्ट्रेट’ दोस्तों के मिलने पर लगता है. चरते रहते हैं. मसखरी में फ्लर्ट भी करते हैं. गाली भी खाते हैं लेकिन अब दोस्तों के लिए ‘गां*’ नहीं निकलता. अब समझ आ गया है ‘गां*’ गाली नहीं है.

***

ये दी लल्लनटॉप की LGBTQ सीरीज का पहला आर्टिकल है. LGBTQ का मतलब है लेस्बियन, गे, बायसेक्शुअल, ट्रांसजेंडर और क्वीयर. यानी इस दुनिया के वो लोग जो ‘नॉर्मल’ की परिभाषा में फिट नहीं होते, उनका एक टुकड़ा. लेकिन वो परिभाषाएं ही क्या जो कभी बदल न सकें. और वो लोग ही क्या जो जिंदा होने के लिए परिभाषाओं में फिट होना चाहें. बस ऐसे ही कुछ लोगों को हम आप तक पहुंचाएंगे आने वाले दिनों में. दी लल्लनटॉप पढ़ते रहिये. :-)

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

क्या चीज है G7, जिसमें न रूस है, न चीन, जबकि भारत को इस बार बुलाया गया

रूस इस ग्रुप में था, लेकिन बाकी देशों ने उसे नाराज होकर निकाल दिया था.

इन 2 चमत्कारों की वजह से संत बनीं मदर टेरेसा

यहां जान लीजिए, वेटिकन सिटी में दी गई थी मदर टेरेसा को संत की उपाधि.

गायतोंडे को लड़कियां सप्लाई करने वाली जोजो, जो अपनी जांघ पर कंटीली बेल्ट बांधा करती थी

जिसकी मौत ही शुरुआत थी और अंत भी.

ABVP ने NSUI को धप्पा न दिया होता तो शायद कांग्रेस के होते अरुण जेटली

करीब चार दशक की राजनीति में बस दो चुनाव लड़े जेटली. एक हारे. एक जीते.

कैसे डिज्नी-मार्वल और सोनी के लालच के कारण आपसे स्पाइडर-मैन छिनने वाला है

सालों से राइट्स की क्या खींचतान चल रही है, और अब क्या हुआ जो स्पाइडर-मैन को MCU से दूर कर देगा.

इस्मत लिखना शुरू करेगी तो उसका दिमाग़ आगे निकल जाएगा और अल्फ़ाज़ पीछे हांफते रह जाएंगे

पढ़िए मंटो क्या कहते थे इस्मत के बारे में, उन्हीं की कलम से निकल आया है.

वो रेल हादसा, जिसमें नीलगाय की वजह से ट्रेन से ट्रेन भिड़ी और 300 से ज्यादा लोग मारे गए

उस दिन जैसे हर कोई एक्सिडेंट करवाने पर तुला था. एक ने अपनी ड्यूटी ढंग से निभाई होती, तो ये हादसा नहीं होता.

'मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती, मुझे नहीं बनना पीएम-वीएम'

शंकर दयाल शर्मा जीके का एक सवाल थे. आज बड्डे है.

गुलज़ार पर लिखना डायरी लिखने जैसा है, दुनिया का सबसे ईमानदार काम

गुलज़ार पर एक ललित निबंध.

जब गुलजार ने चड्डी में शर्माना बंद किया

गुलज़ार दद्दा, इसी बहाने हम आपको अपने हिस्से की वो धूप दिखाना चाहते हैं, जो बीते बरसों में आपकी नज़्मों, नग़मों और फिल्मों से चुराई हैं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.