Submit your post

Follow Us

शादी के बाद जहां जाते हैं 'जलूल-जलूल', कहां से आया वो हनीमून?

5
शेयर्स

‘सुहागरात है. घुंघट उठा रहा हूं मैं.’ यही प्रोसेस जब कुछ दिनों तक चलती है. तो दूर से इमेजिनेशन की आंखों से कसमसाती दुनिया कहती है, ‘हनीमून पर गए हैं फलाने की बेटा-बहू.’ फर्क सिर्फ इत्ता कि अब हनीमून के दौरान अब घूंघट का कॉन्सेप्ट खत्म सा हो गया है. एडवेंचर और वेस्टर्न नाम की ‘चिड़िया’ ने लिबास को आज के जमाने का कर दिया है. पर एहसास, उत्साह और भाव सुहागरात वाला ही समझिए. लेकिन क्या आप जानते हैं कि शादी के बाद पति-पत्नी के कुछ दिन साथ बिताने को हनीमून क्यों कहा जाता है? आइए हम आपको बताते हैं कि कब और कहां से प्यार की सेज पर सजा हनीमून शब्द…

हनीमन शब्द पुरानी अंग्रेजी के hony-moone से बना है. हनी मतलब शहद और मून यानी चांद. हनीमून शब्द सबसे पहले साल 1546 में सुनाई पड़ा. लेकिन इसका ये मतलब कतई नहीं है कि ये हनीमून मनाना शुरू ही 1546 के हुआ है. न जी, बिलकुल न. जब से दो लोग वाया शादी एक दूसरे के हो रहे हैं, तब से हनीमून भी मनाया जा रहा है.

वाइन की शहद और घटता-बढ़ता चांद
किस्से तो कुछ यूं हैं कि पहले लौंडे अपनी पसंद की लड़की जबरन चुन लेते थे. फिर दोस्तों की मदद से भगाकर कहीं छिप जाते थे. कंबल डालकर किडनैपिंग करते थे. इस टर्म को अंग्रेजी जुबां में कहते थे, swept off her feet. दुल्हन को तब तक छिपाकर रखते थे जब तक घरवाले उसकी छानबीन बंद न कर दें.

वक्त की चाल उस दौर में चांद घटने बढ़ने के हिसाब से नापी जाती थी. छिपे रहने के दौरान जबरन बन चुकी जोड़ी एक ड्रिंक पीते थे. मीड. यानी शहद, पानी और कुछ मसालों के साथ बनाई जाती थी वाइन. धारणा ये थी कि इस वाइन टाइप मीड को पीने से होगा शर्तिया लड़का. उस दौर में घर वाले ज्यादा दिनों तक तलाशी अभियान नहीं चलाते थे. ज्यादा से ज्यादा एक महीने. एक महीने तक शहद से बनी वाइन और वक्त पूर्णिमा-अमावस्या से तय होने की वजह से चांद. इन दोनों ने मिलकर हनीमून शब्द को जन्म दिया.

तो क्या कवि की कल्पना है हनीमून?
पहले के वक्त में आज की तरह एचआर पॉलिसी तो होती नहीं थी कि शादी के लिए सिर्फ 15 दिन की छुट्टी मिलें. तब तो आदमी छुट्टा रहता था. तो फुल इनजॉयमेंट का जुगाड़ रहता था. इसलिए उस वक्त शादी बाद कोई भी मैरिड कपल एक महीने तक हनीमून मनाता था. पर गुरू, पीते थे वही शहद वाली वाइन.

अब यहां से शुरू होता है सिंबोलिज्म का कॉन्सेप्ट और कवि की कल्पना. ‘चांद घटता है. बढ़ता है कुछ-कुछ जिंदगी की तरह. हम चमकेंगे इस चांद की तरह. पूर्णिया से पूर्णिमा तक.’ इस टाइप की बात करते हुए पूर्णिमा से पूर्णिमा तक ‘कुची पुची जानू बाबू’ चलता था शहद वाली वाइन पीते हुए. तो ये कहलाया हनीमून.

शादी में जलूल-जलूल क्यों नहीं आए?
ब्रिटेन में आज से सालों पहले शादी के बाद जोड़ियां घूमने जाती थीं. ये कहलाता था ब्राइडेल टूर. लेकिन ये टूर आज की तरह ‘इकले-इकले’ यानी सिर्फ दो लोगों के बीच नहीं होता था. पूरा परिवार, दोस्त लोड होकर जाते थे हनीमून पर. मकसद खुशी के चार पल अकेले में साथ बिताना नहीं, रिश्तेदारों के घर जाना होता था. यानी जो रिश्तेदार शादी में शरीक नहीं होते थे, उनके घर जाकर ‘मुलाकात, शुभकामनाएं लेना’ जैसी औपचारिकता पूरी करना. धीरे-धीरे ये कॉन्सेप्ट पूरे यूरोप में फैल गया.

जब पहली बार लिखा गया हनीमून?
1552 में एक किताब आई Abecedarium Anglico Latinum. राइटर थे रिचर्ड ह्यूलेट. रिचर्ड ने हनीमून की परिभाषा बताते हुए लिखा, ‘शादी बाद जोड़ियों को ‘हनी मोन’ कहा जाता था. शादी के फौरन बाद दोनों बहुत ज्यादा प्यार रहता था. फिर वक्त बीतने के साथ प्यार घटता चला जाता था.’ साहित्य में ‘हनी मोन’ शब्द का इस्तेमाल पहली बार रिचर्ड ने किया. वक्त बीतने के साथ हनीमून को कई भाषाओं में अलग-अलग नाम से पुकारा जाने लगा. और हनीमून शादी करने वाली जोड़ियों के दिल-दिमाग में बस गया.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

13 दिसंबर, जब संसद पर हमला हुआ और भारत ने पाकिस्तान से युद्ध की जगह बातचीत का रास्ता चुना

दुनिया के सामने ये बहुत बड़ी मिसाल थी.

उन एक लाख हिंदू शरणार्थियों की दास्तान, जिन्हें अमित शाह CAB के जरिए नागरिकता नहीं देना चाहते

ये बेवतन हो गए. इनमें से कई निराश होकर कहते हैं- हम न यहां के हुए, न वहां के रहे.

नागरिकता संशोधन बिल किन इलाकों में लागू नहीं होगा और क्यों?

आज ये बिल लोकसभा में पेश हुआ.

जब मांगने पर भी सोनिया गांधी को फैशन शो के पास नहीं मिले

आखिर कौन था वो जो सोनिया गांधी के लिए इतनी रुखाई रखे हुए था.

आंबेडकर: उस ज़माने की लड़कियों के रियल पोस्टरबॉय

महिला सशक्तीकरण की असली व्याख्या आंबेडकर के लाए हिंदू कोड बिल में ही है. आज उनकी बरसी है.

26 जनवरी को मोदी के मेहमान बन रहे ब्राज़ील के प्रेजिडेंट को नार्कोज़ के पाब्लो ने 'घिनहा’ क्यूं कहा?

इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ़ इंडिया 2019 की सबसे विवादस्पद बात कह डाली है इन्होंने. इन बातों के पीछे की सच्चाई भी जान लीजिए.

मुलायम अपना इतिहास याद कर लें, उनके लिए बेस्ट बर्थडे गिफ्ट होगा

हैपी बर्थडे मुलायम सिंह यादव.

जब फैज़ अहमद फैज़ से पूछा गया, 'ब्याह की अंगूठी लेकर आए हो या नहीं?'

इस शायर की न शादी आसान थी और न ही जिंदगी. पढ़िए उनके इश्क की दास्तान. आज के दिन दुनिया छोड़ दी थी.

जब घबराई हुई सोनिया गांधी से इंदिरा ने कहा, 'डरो मत, मैं भी जवान थी और मुझे भी प्यार हुआ था'

इंदिरा गांधी की जयंती पर पढ़ें उनकी सोनिया से पहली मुलाकात का किस्सा.

रूसी लड़की के साथ दारा सिंह का डांस और उनकी पत्नी की जलन

जानिए, दारा सिंह को कैसे मिला हनुमान का रोल.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.