Submit your post

Follow Us

'लिप्स्टिक, काजल, बिंदी लगाती, गंजे सर के साथ खूब सजती थी'

विभा रानी एक कवि और थिएटर पर्सन और फोक आर्टिस्ट हैं. और हां, अब एक कैंसर सर्वाइवर भी. 2013 में इनका ब्रेस्ट कैंसर डायग्नोज़ हुआ था. जिसके बाद इनके कीमोथेरेपी के सेशन हुए. आज विभा स्वस्थ हैं. आपको बता रही हैं कि कैंसर के मरीजों को क्या-कुछ सहना पड़ता है. और कैसे अपनी हिम्मत और इच्छाशक्ति से हर मुसीबत को हराया जा सकता है.


 

1. कैंसर एक छोटे से दाने से शुरू होता है जिसको लोग सीरियसली नहीं लेते. फिर आपको कैसे ये ख़याल आया कि डॉक्टर के पास जाना है?

जी, जैसा आपने कहा, और जैसा कि मैंने अपनी कविता में लिखा भी है कि एक चने या छोले जैसी गांठ से ये शुरू होता है. गायनेकॉलजिस्ट को दिखाया भी, तो उन्होंने कहा, ये तो बस एक गांठ है. 40 की उम्र पार करते ही औरतों के शरीर में 70 गांठे हो जाती हैं. फिर भी मुझे अंदर से अजीब लगता रहता. जब दोबारा दिखाने गई, तो भी गायनेकॉलजिस्ट के ही पास गई थी. भला हो उनकी नर्स का, जिसने कहा आप सीधे ओंकॉलजिस्ट के पास जाइए. अंत में वहीं जाना है. तब मैंने महसूस किया कि हम औरतें, चाहे वो कितनी भी पढ़ी-लिखी हों, ब्रेस्ट या यूट्रस के मामले में सीधे गायनेकॉलजिस्ट के पास ही जाती हैं. बल्कि सही समय में अगर ओंकॉलजिस्ट के पास जाएं तो इलाज जल्दी शुरू हो सकता है.


 

2. आपने मेमोग्राफी पर लिखा है कि स्तन महज मांस के लोथड़े जैसे होते हैं उस मशीन में. उस दर्दनाक एक्सपीरियंस के बारे में बताइए.

मेमोग्राफी होना एक नॉर्मल प्रोसेस है. आपको इस तरह की कोई तकलीफ होगी तो मेमोग्राफी होगी ही. लेकिन वो प्रोसेस बहुत पेनफुल होता है. जैसे चक्की के दो पाट हों, उनके बीच स्तनों को रख दिया जाए. लेकिन इसका होना जरूरी है. दर्द का परिणाम अगर अच्छा हो तो उसके सहने में कोई बुराई नहीं है. लेबर पेन को ही ले लीजिए. जितना ज्यादा होता है उतनी ही जल्दी बच्चा बाहर आता है.


 

3. आपके जैसी सोशल, कॉन्फिडेंट और कामकाजी औरत पर जब ‘मरीज’ का टैग लग जाता है, तो दिमाग पर कैसा असर पड़ता है?

बहुत सारी क्रियाएं-प्रतिक्रियाएं शामिल रहती हैं. इन्फेक्शन का खतरा रहता है तो बाहर नहीं जाना है. बाहर का कुछ खाना-पीना नहीं है. सिनेमा देखने भी नहीं जा सकते. मैं जो एक पैर बाहर, एक भीतर के साथ जीने वाली औरत, 10 महीने घर में कैसे रहूंगी. ये सोचकर ही डर गई थी. लेकिन फिर उसी में से मैंने रास्ते निकाले. घर है, तो घर को ही अपना वर्कप्लेस बना लिया. काम के चक्कर में मैं कितने दिनों से कुछ पढ़ नहीं पा रही थी. तो जमकर पढ़ाई की. लिखा. इतनी कविताएं लिखीं कि उनका कलेक्शन आ गया छपकर. तो अगर किसी को भी कैंसर जैसी बड़ी बीमारी है जिसमें घर पर रहना पड़े, तो इतना क्रिएटिव काम करो कि मालूम ही न पड़े समय कैसे कट गया.


4. इन्हीं क्रिएटिव दिनों का एक बच्चा है आपका रूम थिएटर. उसके बारे में कुछ बताएं.

मैं लिटरेचर और थिएटर, दोनों को हमेशा साथ-साथ चलाती हूं. समझ नहीं आ रहा था कि अपनी इस नई जीवनशैली में थिएटर को कैसे वापस लेकर आऊं. तब रूम थिएटर के बारे में सोचा. और सोचा कि मैं लोगों से मिलने नहीं जा सकती, तो क्या हुआ, वो तो मुझसे मिलने आ सकते हैं. थिएटर आर्टिस्ट्स को पैसे नहीं मिलते. उनके पास रिसोर्सेज नहीं होते. रूम थिएटर में हमने ये जाना कि स्क्रिप्ट, डायरेक्शन और एक्टर अच्छे हों तो कम से कम रिसोर्सेज में भी अच्छा थिएटर किया जा सकता है. ये बेसिक चीजें हैं दाल, रोटी, सब्जी की तरह. ये अच्छे हों तो सलाद, चटनी, अचार न भी हो तो चलता है. थिएटर अभिव्यक्ति का माध्यम है. तो आप जो कहना चाहते हैं वो पहले कहें. बाकी की सजावट तब हो जाएगी जब आपके पास रिसोर्सेज होंगे. इस थिएटर में देखने वाले और परफॉर्म करने वाले इतने करीब होते हैं कि दोनों के बीच एक रागात्मक संबंध पैदा हो जाता है. और इसके थ्रू हमने बहुत सारे कवियों और कहानीकारों को तैयार किया. और धीरे-धीरे ये थिएटर मोबाइल हो गया. अलग अलग शहरों में जाने लगा.


 

5. कीमोथेरेपी से बाल चले जाते हैं. मैं भी बाल कटवाने जाती हूं तो वो लोग पूछते हैं कि बाल क्यों कटवा रही हो. एक लंबे समय से ऐसा माना  जाता है कि घने लंबे बाल ही औरत को पूरा करते हैं. उसकी सुंदरता का पर्याय हैं. इस पर आपकी क्या राय है?

मैं ये मानकर चलती हूं कि औरतों की सुंदरता को एक भोगवादी नजरिये से एस्टैबलिश किया गया है. इसे किसी औरत ने नहीं बनाया. इसे एक पुरुष सोच ने बनाया और औरतों की सोच को उसी तरह ढाल दिया. पुरुष ने औरतों को सिखाया कि मेरी आंख से देखो. अगर तुम मुझे सुंदर लगती हो तो सुंदर हो. साड़ी पहनना या छोटी बिंदी लगाना अगर मुझे देखने में सुंदर लगता है, तो इसी में तुम्हारी सुंदरता है. हमारे यहां लड़कियां इंटरव्यू देने जाती हैं तो पढ़ाई पर ध्यान नहीं देतीं. इस बात पर देती हैं कि मैं कैसी लग रही हूं. कितनी गोरी दिख रही हूं. मुझे तो समझ में नहीं आता ऐसी कौन सी कंपनी है जो लड़कियों का गोरापन देखकर उनको नौकरी दे देती  है. हम सब इस उपभोक्तावाद की गिरफ्त में हैं, जिसने ये मानक तय कर दिए हैं. इसी को मार्केट भुना रहा है. कीमो से जब मेरे बाल जाने लगे, पहले तो खोपड़ी में सर्दी लगती थी इसलिए बाल कवर करती रही. बाद में मैंने कहा जैसी हूं, वैसी ही रहूंगी. उसी तरह गंजे सर के साथ हर जगह गई. खूब सजती थी. लिपस्टिक, बिंदी, वो सबकुछ जो मुझे अच्छा लगता है.

चूंकि हम ब्रेस्ट कैंसर की बात कर रहे थे, ये मान लिया जाता है कि औरत का सबसे प्यारा अंग ब्रेस्ट है. वो चले गए तो औरत कैसे रहेगी. ये भी एक भोगवादी नजरिया है. औरतों को एक मादा के रूप में देखने का नजरिया है. मैं ऐसे लोगों से एक सवाल पूछती हूं. आपके शरीर में 5 अंग हैं, हाथ हैं, पैर हैं, आंख हैं, नाक है, और ब्रेस्ट हैं. अगर किसी एक को गंवाकर आपकी जान बच सकती है, तो आप इनमें से किसको खोना मंजूर करेंगे? लोग झट से कहते हैं ब्रेस्ट. क्योंकि बाकी अंगों के मुकाबले इसकी उपयोगिता नहीं है. इसलिए ब्रेस्ट के जाने पर दुखी होने का कोई मतलब नहीं है.


6. मैंने आपके आर्टिकल्स से जाना कि आपके पति अजय जी ने आपका खूब साथ दिया. दूसरे पुरुषों को उनसे क्या सीखना चाहिए?

एक परिवार में कैसे रहते हैं, किस तरह परिवार की केयर करते हैं, ये उनसे सीखना चाहिए. मैं लकी हूं वो मेरे पति हैं. एक परिवार के तौर पर हम चारों- मैं, मेरी दो बेटियां और मेरे पति, सबकी अलग आइडेंटिटी है. किसी की पहचान किसी और के नाम से नहीं होती. हर पुरुष ये सीखे कि औरत उनकी पत्नी होने के पहले एक स्वतंत्र इंसान है.


वीडियो:

ये भी पढ़ें:

ब्रेस्ट कैंसर को हराने वाली एक जुझारू औरत की कहानी, उसी की जुबानी

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

खेलमंत्री जी, फर्जी फोटोशॉप करने वालों को अवॉर्ड देकर ओलंपिक में मेडल्स जीतेगा भारत?

नेशनल स्पोर्ट्स अवॉर्ड्स में घपलेबाजी!

हरियाणा के उस नेता की कहानी, जो मर्दों को बच्चे पैदा करने लायक नहीं छोड़ता था

हरियाणा की सियासत में विवादित रहे इस नेता का आज जन्मदिन है.

इन 2 चमत्कारों की वजह से संत बनीं मदर टेरेसा

यहां जान लीजिए, वेटिकन सिटी में दी गई थी मदर टेरेसा को संत की उपाधि.

BJP का फाउंडर मेंबर, जो मुस्लिम लीग का आदमी था!

कहानी सिकंदर बख्त की, जो सिर्फ एक हफ्ते के लिए बने थे भारत के विदेश मंत्री.

छैयां-छैयां से झामफाड़ गीत बॉलीवुड इतिहास में कोई नहीं!

आज से 22 साल पहले रिलीज़ हुई 'दिल से'.

राजीव गांधी का पारसी कनेक्शन और नेहरू को फिरोज का इनकार

क्या आपको राजीव गांधी का पूरा नाम पता है. इस नाम की अपनी एक कहानी है. जानिए आज उनकी बर्थ एनिवर्सरी पर.

वो रेल हादसा, जिसमें नीलगाय की वजह से ट्रेन से ट्रेन भिड़ी और 300 से ज्यादा लोग मारे गए

उस दिन जैसे हर कोई एक्सिडेंट करवाने पर तुला था. एक ने अपनी ड्यूटी ढंग से निभाई होती, तो ये हादसा नहीं होता.

'मेरी तबीयत ठीक नहीं रहती, मुझे नहीं बनना पीएम-वीएम'

शंकर दयाल शर्मा जीके का एक सवाल थे. आज बड्डे है.

मांझी की घर-वापसी बिहार में दलित राजनीति के बारे में क्या बताती है?

कभी मांझी और नीतीश की ठन गई थी. अब फिर दोस्ती हो रही.

गुलज़ार पर लिखना डायरी लिखने जैसा है, दुनिया का सबसे ईमानदार काम

गुलज़ार पर एक ललित निबंध.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.