Submit your post

Follow Us

रूसी लड़की के साथ दारा सिंह का डांस और उनकी पत्नी की जलन

3.16 K
शेयर्स

वो साल 1970 था, जब शोमैन राजकपूर की फ़िल्म ‘मेरा नाम जोकर’ एक शानदार फिल्म के तौर पर स्थापित हुई. लेकिन ये बात 1965 की है. एक शाम एक्टर-डायरेक्टर राज कपूर ने दारा सिंह को फोन किया और कहा,” तुम मेरी नई फ़िल्म ‘मेरा नाम जोकर’ में एक रिंग मास्टर का रोल करोगे. अगले हफ्ते हम शूटिंग शुरू करेंगे.”

दारा ने जवाब दिया,”बिल्कुल करेंगे”.

इसके बाद न कोई सवाल पूछा गया और न ही दोनों ही तरफ़ से किसी सवाल की गुंजाइश थी. दारा सिंह और राज कपूर की दोस्ती ही ऐसी थी कि पैसे के लेन-देन की बात फ़िज़ूल थी.

Dara-Singh

दारा सिंह पार्टियों में जाने वाले आदमी नहीं थे. कभी जाते भी थे तो उनकी पत्नी सुरजीत साथ जरूर होती थीं. सुरजीत इन पार्टियों के लिए बहुत ज्यादा उत्साहित रहती थीं और अपने तरकश से सजने-संवरने के सारे तीर निकाल लेती थीं. उन्हें लगता था कि राजकपूर की पार्टी को मिस नहीं करना चाहिए. फिर वहां पर वो फिरंगी भी तो होते हैं, जो उनके पति पर मरते हैं.

ऐसे ही एक दिन पार्टी में जाने के लिए सुरजीत ने ख़ुद को संवारने में घंटों पार्लर में बिताए. बालों का सुंदर सा जूड़ा बनाया, चेहरे पर रोगन फ़ेरा. दारा आए और अपना कोट उठाते हुए कहा,”चलो, तैयार हो जाओ, पार्टी में नहीं चलना क्या. 10 मिनट में हम निकलेंगे”.

“तैयार हो जाऊं? लेकिन मैं तो सजी-धजी बैठी हूं”, सुरजीत ने चौंकते हुए कहा.

“क्या! ये सजना है या कुछ ज्यादा ही सजना हो गया है.” दारा ने अपनी बीवी के बालों की तरफ़ देखते हुए कहा. “इस हेयरस्टाइल से मैं ऊब चुका हूं. उधर सेट पर हीरोइन्स का ये सब जूड़ा- वूड़ा अब यहां घर पर भी वही. इसको हटाओ…और ये मेकअप भी. तुमपे मेकअप अच्छा नहीं लगता है, तुम बिना इन सबके ज्यादा अच्छी लगती हो.”

सुरजीत अभी तक सकते में थीं. उन्होंने डरते- डरते वो सारा मेकअप उतारा, ख़ुद को शीशे में देखा, उनके पति उनके बगल में थे, वो वाक़ई में सुंदर दिख रहीं थीं.

कुल मिलाकर वो खुश थीं और पार्टी में अपने पति के साथ थीं. लेकिन वहां पहुंचने पर एक बार फ़िर सुरजीत के आंसू वापस आने लगे. 45 मिनट हो गए थे और दारा का एक रूसी लड़की के साथ चल रहा डांस ख़त्म होने का नाम ही नहीं ले रहा था. इंडस्ट्री के दो बड़े चेहरे जॉय मुखर्जी और बिस्वाजीस भी वहीं सुरजीत के बगल बैठे थे, लेकिन सुरजीत ने उन्हें पलकें उठाकर भी नहीं देखा. जॉय मुखर्जी ने सुरजीत की ये हालत देखकर माहौल को हलका करने के लिए कहा,”चलिए भाभी जी हम दोनों भी डांस करते हैं और उन्हें जलाते हैं”. सुरजीत ने मुस्कराकर मना कर दिया.

जब भगवान हनुमान को मिली दारा की शक्ल

साल 1986 दारा सिंह की जिंदगी का अहम पड़ाव था. सुभाष घई की सुपरहिट फ़िल्म ‘कर्मा’ में रोल करने से लेकर भारत की पहली धार्मिक टीवी सीरीज ‘रामायण’ में हनुमान के क़िरदार तक.

p1

प्रेम सागर याद करते हुए बताते हैं, “1942 में जब मेरे पिता 24 साल के थे उनके रईस घर वालों ने उन्हें बाहर निकाल दिया क्योंकि उन्होंने शादी में दहेज लेने से मना कर दिया था. उन्हें अख़बार बेचने और गाड़ी साफ़ करने तक काम करना पड़ा. फ़िर एक दिन उन्हें मिला एक फ़कीर. फ़कीर ने कहा कि बच्चा एक दिन तू बड़ी बड़ी फ़िल्में बनाएगा और 80 के दशक में तू फिल्में छोड़कर रामायण पर कहानी बनाएगा.” ये कितने हैरत की बात है कि 40 के दशक में ही एक साधु ने ये बड़ी भविष्यवाणी कर दी थी.

फिर एक शाम दारा सिंह के पास एक फोन आता है,”दारा, तुम मेरे नए टीवी सीरियल में हनुमान बनोगे.”

“सागर साब, मैं 60 का हो चुका हूं, किसी जवान लड़के को लीजिए आप.”

“तुम हनुमान के लिए बेस्ट हो.”

ऐसा भी वक़्त आया जब दारा के हनुमान के रूप में फ़ोटोग्राफ मंदिरों में लगने लगे और कुछ लोगों के पास तो दारा की शक्ल में हनुमान की मूर्ति भी थी.

 


– सीमा सोनिक आलिमचंद की किताब ‘दीदारा आका दारा सिंह’ के अंश.


ये आर्टिकल ‘दी लल्लनटॉप’ के लिए प्रज्ञा ने लिखा था.


 


वीडियो देखें: इमरान हाशमी को हिट गाने देने के बाद अब रनबीर कपूर के साथ ये तूफान ला रहे हैं मिथुन

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

अलग हाव-भाव के चलते हिजड़ा कहते थे लोग, समलैंगिक लड़के ने फेसबुक पोस्ट लिखकर सुसाइड कर लिया

'मैं लड़का हूं. सब जानते हैं ये. बस मेरा चलना और सोचना, भावनाएं, मेरा बोलना, सब लड़कियों जैसा है.'

ब्लॉग: शराब पीकर 'टाइट' लड़कियां

यानी आउट ऑफ़ कंट्रोल, यौन शोषण के लिए आमंत्रित करते शरीर.

औरतों को बिना इजाज़त नग्न करती टेक्नोलॉजी

महिला पत्रकारों से मशहूर एक्ट्रेसेज तक, कोई इससे नहीं बचा.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.