Submit your post

रोजाना लल्लनटॉप न्यूज चिट्ठी पाने के लिए अपना ईमेल आईडी बताएं !

Follow Us

दुनिया में सबसे पहले चमके ये 3 'भारत रत्न'

6.74 K
शेयर्स

देश का सबसे बड़ा सम्मान ‘भारत रत्न’ है. तांबे से बना पीपल जैसा पत्ता, सूरज, अशोक स्तंभ और ‘सत्यमेव जयते’ से सजा ‘भारत रत्न’. जिस गले सजता है, मुल्क उसे सम्मान से देखने लगता है. मदन मोहन मालवीय, अटल बिहारी वाजपेयी और सचिन तेंदुलकर को हाल ही में ‘भारत रत्न’ से नवाजा गया. पर हम यहां बात आज की नहीं, अतीत की करना चाहते हैं. हमारे पहले भारत रत्न. क्या आप उन ‘नगीनों’ के बारे में जानते हैं, जिन्हें सबसे पहले मिला ‘भारत रत्न’ पुरस्कार.

साल 1954 से शुरू भारत रत्न पुरस्कार सबसे पहले 3 हस्तियों को दिया गया. सी राजगोपालाचारी, सीवी रमन, सर्वपल्ली राधाकृष्णन. आगे जानिए हमारे पहले इन तीन भारत रत्नों के बारे में. क्यों बनीं ये तीन हस्तियां ‘भारत रत्न’…

1. सी राजगोपालाचारी

हर व्यक्ति की अच्छाई ही प्रजातंत्रीय शासन की सफलता का मूल सिद्धांत है:   सी राजगोपालाचारी

चक्रवर्ती राजगोपालाचारी को राजाजी नाम से भी पुकारा जाता था. लेखक, वकील, राजनेता. पहले और आखिरी भारतीय गर्वनर जनरल. मद्रास प्रांत के मुख्यमंत्री. रिश्ते में महात्मा गांधी के समधी थे. कमाल का लिखते थे. उपनिषदों और गीता पर राजाजी ने लिखा. महाभारत और रामायण को भी इंग्लिश में लिखा. 1954 के दौर में राजागोपालाचारी को राजनीति का चाणक्य कहा जाता था.

1950 में नेहरू कैबिनेट में बिना पोर्टफोलियो के शामिल हुए. 15 दिसंबर 1950 को सरदार पटेल की मौत के बाद नेहरू सरकार में गृह मंत्री बने. नेहरू जहां हिंदू महासभा को देश के लिए खतरा बताते थे, वहीं राजगोपालाचारी कम्युनिस्टों को. विचारधारा अलग-अलग थी. मतभेद हुए. कांग्रेस छोड़ राजाजी ने स्वतंत्र पार्टी बनाई. राजगोपालाचारी की शख्सियत के उस दौरे के विदेशी हुक्मरान भी तारीफ करते थे. मंदिरों में दलितों का प्रवेश राजाजी की कोशिशों से ही संभव हो पाया था.

2. सर्वपल्ली राधाकृष्णन

क्या आप हाई स्टडी के लिए विदेश जाएंगे?
सर्वपल्ली राधाकृष्णन: नहीं, लेकिन मैं विदेश पढ़ाने के लिए जरूर जाना चाहूंगा.

5 सितंबर को टीचर्स डे राधाकृष्णन के जन्मदिन के मौके पर ही मनाया जाता है. देश के पहले उपराष्ट्रपति और दूसरे राष्ट्रपति थे सर्वपल्ली राधाकृष्णन. यूनेस्को में आजाद भारत का नेतृत्व राधाकृष्णन ने किया. राधाकृष्णन को भारत के महान दार्शनिकों में गिना जाता रहा. राधाकृष्णन हिंदू विचारक थे. राधाकृष्णन करीब 40 साल शिक्षा क्षेत्र से जुड़े रहे. सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने फिलॉस्फी में एमए की पढ़ाई की थी.

अपने लेखों और भाषणों से आजादी से पहले सर्वपल्ली राधाकृष्णन ने दुनिया में भारत की अलग पहचान बनाई. ब्रिटिश सरकार ने सर्वपल्ली राधाकृष्णन को ‘सर’ की उपाधि से नवाजा था. सर्वपल्ली राधाकृष्णन उस वक्त इस कदर पसंद किए जाते थे कि टीचिंग के दिनों में जब उनका ट्रांसफर मैसूर से कोलकाता हो गया था. तब बग्गी को मैसूर स्टेशन तक घोड़े नहीं, छात्र खींचकर ले गए थे.

3. सीवी रमन

वैज्ञानिकों के काम पर मीडिया का ध्यान तब ज्यादा जाता है, जब उन्हें किसी पश्चिमी देश से सम्मान दिया जाता है: सीवी रमन

जब भारत आजाद भी नहीं हुआ था, तब चंद्रशेखर वेंकट रमन को साल 1930 में फिजिक्स (भौतिकी) का नोबेल पुरस्कार दिया गया. बड़ी खोज की. रमन स्कैटेरिंग. आसान भाषा में बोलें तो रौशनी की किरण जब किसी भी ट्रांसपेरेंट मीडियम से निकलती है तो ये छितरा जाती है. 28 फरवरी को इसी उपलब्धि की वजह से नेशनल साइंस डे मनाया जाता है. 12 साल की उम्र में दसवीं क्लास पास कर ली थी. सीवी रमन मद्रास के प्रेसीडेंसी कॉलेज से पढ़ाई की. लैब से मुहब्बत इस कदर थी कि अक्टूबर 1970 में दिल में दर्द होने पर लैब में वहीं गिर पड़े. कुछ दिनों बाद 21 नवंबर 1970 को सीवी रमन साहेब की मौत हो गई.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें
first three indians who were awarded bharat ratan

गंदी बात

सर्फ एक्सेल के ऐड में रंग फेंक रहे बच्चे हमारे हैं, इन्हें बचा लीजिए

इन्हें दूसरों की कद्र न करने वाले हिंसक लोगों में तब्दील न होने दीजिए.

अपने गांव की बोली बोलने में शर्म क्यों आती है आपको?

ये पोस्ट दूर-दराज गांव से आए स्टूडेंट्स जो डीयू या दूसरी यूनिवर्सिटी में पढ़ रहे हैं, उनके लिए है.

बच्चे के ट्रांसजेंडर होने का पता चलने पर मां ने खुशी क्यों मनाई?

आप में से तमाम लोग सोच सकते हैं कि इसमें खुश होने की क्या बात है.

'मैं तुम्हारे भद्दे मैसेज लीक कर रही हूं, तुम्हें रेपिस्ट बनने से बचा रही हूं'

तुमने सोच कैसे लिया तुम पकड़े नहीं जाओगे?

औरत अपनी उम्र बताए तो शर्म से समाज झेंपता है वो औरत नहीं

किसी औरत से उसकी उम्र पूछना उसका अपमान नहीं होता है.

#MeToo मूवमेंट इतिहास की सबसे बढ़िया चीज है, मगर इसके कानूनी मायने क्या हैं?

अपने साथ हुए यौन शोषण के बारे में समाज की आंखों में आंखें डालकर कहा जा रहा है, ये देखना सुखद है.

इंटरनेट ऐड्स में 'प्लस साइज़' मॉडल्स को देखने से फूहड़ नजारा कोई नहीं होता

ये नजारा इसलिए भद्दा नहीं है क्योंकि मॉडल्स मोटी होती हैं...

लेस्बियन पॉर्न देख जो आनंद लेते हैं, उन्हें 377 पर कोर्ट के फैसले से ऐतराज है

म्याऊं: संस्कृति के रखवालों के नाम संदेश.

सौरभ से सवाल

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.