Submit your post

Follow Us

हमें इस नए तरह के पॉर्न की बेहद जरूरत है

एक औरत, चमकदार हील की सैंडल पहने हुए, लिपस्टिक लगाए, खूबसूरत सी लॉन्जरे पहने कामुकता के मद में चीखती है. वो बीच-बीच में कैमरे की ओर देखती है. वो आपको प्रेरित करती है कि आप ये कल्पना करें कि आप उसके साथ हैं. उसके साथ जो भी पुरुष है, वो पॉर्न देखने वाला व्यक्ति है. पॉर्न फिल्म में पुरुष एक्टर कौन है, ये ज़रूरी नहीं है. कई बार तो उसकी शक्ल तक नहीं दिखती. पूरा फोकस औरत पर होता है. ये पॉर्न शूट करने का ढंग है.

जब बात पॉर्न देखने वालों की होती है, हम ये मानकर चलते हैं कि पॉर्न का दर्शक पुरुष है, इसलिए भोग की वस्तु औरत का शरीर ही रहता है. भले वो स्ट्रेट पॉर्न हो या लेस्बियन.

जब हम कोई फिल्म देखते हैं या किताब पढ़ते हैं, उसे अच्छा कहने की एक वजह ये भी होती है कि वो असल जिंदगी के कितना करीब है. हम उससे कितना जुड़ाव महसूस कर रहे हैं. मगर मेनस्ट्रीम पॉर्न में ऐसा नहीं होता. वो हर सीन में आपको याद दिलाता रहेगा कि वो नकली है. इन फिल्मों में जो भी होता है, वो हमारी सेक्स लाइफ का सच नहीं होता. ये बात अलग है कि हम चाहते हैं हमारी सेक्स लाइफ पॉर्न जैसी ही हो.

पॉर्न हमें ये नहीं दिखाता कि हमारी सेक्स लाइफ कैसी है. पॉर्न हमें ये दिखाता है कि हमारी सेक्स लाइफ कैसी नहीं है. और जैसी नहीं है, जो हमें असल जीवन में नहीं मिलता, उसे पाने के लिए हम पॉर्न की तरफ भागते हैं. ये कहना जरूरी नहीं कि चाहते और न चाहते हुए भी इससे सीखते हैं.

हम सीखते हैं कि कैसे पॉर्न का मतलब केवल उभरे हुए स्तन और वैक्स किए हुए गुप्तांग हैं. हम सीखते हैं कि एक औरत का शरीर कैसा होना चाहिए. हम सीखते हैं कि एक पुरुष को कितना लंबा-चौड़ा होना चाहिए. और सबसे बड़ी बात, ये समझते हैं कि एक औरत को वही पुरुष संतुष्ट कर सकता है, जिसका लिंग किसी औसत लिंग से बेहद बड़ा हो. एक असली पुरुष वही है, जिसके लिंग में आधे घंटे तक तनाव बना रहे. जो न सिर्फ झूठ है, बल्कि लोगों को अप्राकृतिक ढंग से ऐसा करने के लिए उकसाता है.

और जरूरी नहीं कि मेनस्ट्रीम पॉर्न की वेबसाइट पर दिखने वाला हर वीडियो औरत की इजाज़त से बना हो. इन्हीं वेबसाइट पर छोटे क्लिप्स भी मिलते हैं, जो बिना औरत की इजाज़त के बनाए जाते हैं. मसलन, छिपकर शूट किया गया सेक्स, ट्रायल रूम, होटल रूम या लेडीज टॉयलेट में छिपे हुए कैमरों से बने वीडियो.

इसके अलावा बहुत सा मेनस्ट्रीम पॉर्न ये भी बताता है कि रेप नॉर्मल है. कि औरत को इसमें मज़ा आता है. और अगर उसके साथ ज़बरदस्ती करो, तो एक समय के बाद वो इसमें आनंद लेने लगती है. मगर क्या सचमुच औरतें रेप में आनंद लेती हैं? जिस तरह लड़कियों को बालों से पकड़ पुरुष इन फिल्मों में उनके मुंह में अपना लिंग डाल देते हैं, क्या असल जिंदगी में वो क्राइम नहीं है?

हम फिल्मों के पहले तमाम नोटिस देखते हैं कि ये स्टंट ट्राय न करें. धूम्रपान से कैंसर होता है. मगर पॉर्न फिल्मों के पहले ऐसा कोई नोटिस नहीं होता. जिन लोगों की सेक्स एजुकेशन पॉर्न फिल्मों के सहारे होती है, वो तो यही मानते हुए बड़े होंगे कि यही सच है. सेक्स का असल तरीका यही है.

मगर क्या पॉर्न को बदला नहीं जा सकता है?

जैसे फ़िल्में बदल रही हैं, वैसे ही पॉर्न भी बदल सकता है. बदल रहा है. कहने वाले इसे ‘एथिकल’ पॉर्न भी कहते हैं. यानी वो पॉर्न, जिसमें किसी भी व्यक्ति के अधिकारों के हनन को न दिखाया जाए. इसे फेमिनिस्ट पॉर्न भी कहते हैं, क्योंकि ये औरतों के शोषण को बढ़ावा नहीं देता. ये पुरुष और पुरुष, स्त्री और स्त्री, समलैंगिकों के बीच की बराबरी पर आधारित होता है. इसमें शोषण नहीं होता, टॉर्चर नहीं होता. इसमें दोनों मॉडल्स के बीच सहमति होती है. ये पॉर्न अधिकतर तस्वीरों में दिखता है.

ऐसी ही एक पॉर्न मैगज़ीन शुरू करने वाली औरत हैं मैकेंज़ी पेक. मैकेंज़ी ने अंग्रेजी अखबार द इंडिपेंडेंट से बातचीत में मेनस्ट्रीम पॉर्न के बारे में अपने मन की बात कही.

पॉर्न इंडस्ट्री की कमी ये है कि ये अधिकतर लोगों को संतुष्ट नहीं कर पाता है. दुनिया में जितने तरह के शरीर होते हैं, जितनी तरह की शारीरिक इच्छाएं होती हैं, वो मेनस्ट्रीम पॉर्न में दिखता ही नहीं है. लोग एक ही तरह के पॉर्न से बोर हो चुके हैं. वो कुछ नया देखना चाहते हैं. एक पॉर्न वीडियो, जो नकली न हो. जिसमें आत्मा हो. और वो सब कुछ हो, जो सेक्स के दौरान हम करते हैं.

मेनस्ट्रीम पॉर्न इंटरनेट पर जीता है. इंटरनेट यूजर परेशान हो जाता है, क्योंकि किसी भी पॉर्न वेबसाइट को खोलते ही दसियों ऐड और पॉपअप खुल जाते हैं. हर कोई वहां पैसे कमाना चाहता है. यूजर को लुभाना चाहता है. यूजर को शोषण करने वाला कंटेंट दिखाया जाता है. कई बार ये ओरिजिनल नहीं होता, बल्कि दूसरी वेबसाइट से चुराया हुआ होता है. ऐसे में प्रिंट में दिया हुआ पॉर्न यूजर को भटकने के बचाता है. यूजर निराश नहीं होता.’

ये पॉर्न हमारी असल जिंदगी से दूर नहीं होता है. इनके मॉडल किसी एक ‘बॉडी टाइप’ के नहीं होते. ये हमें नहीं बताते कि कामुकता क्या होती है. हमारे सामने वो दुनिया नहीं पेश करते, जो सच्चाई से दूर हो.

मेनस्ट्रीम पॉर्न का दूसरा नाम ही शोषण है. चाहे वो यूजर का हो या स्क्रीन पर दिखाया जाने वाला वीडियो हो. चूंकि इस तरह के पॉर्न के हम इतने आदी हैं, हम समझ नहीं पाते कि इसमें कुछ गलत हो रहा है. सेक्स के दौरान शोषण होना हमारे लिए आम है. सेक्स के दौरान पुरुष का ‘डॉमिनेटिंग’ पोजीशन में होना भी आम है. सेक्स मूल्यतः पुरुष का काम है और औरत उसमें प्रयोग में लाई जाने वाली एक वस्तु है, ये आम सोच है. इसी सोच से हमारी गालियां भी उपजी हैं, जो मां और बहन के साथ संबंध बनाने की बात करती हैं.

पॉर्न सुख देता है. और शायद ही इंटरनेट यूज करने वाला कोई ऐसा व्यक्ति हो, जिसने किसी न किसी रूप में पोर्नोग्राफी को ग्रहण न किया हो. दुनिया की सबसे पॉपुलर इंडस्ट्री में से एक पॉर्न में अगर इस तरह के बदलाव आ रहे हैं, तो काबिल-ए-तारीफ है.


ये भी पढ़ें:

लड़का स्कूल में उसकी ब्रा खींचता था, लड़की ने जवाब दे दिया

इस ऐप का दावा है कि ये लड़कियों के पॉर्न MMS वायरल होने से रोक देगा

औरतें भी औरतों का रेप करती हैं, ये कानूनन अपराध नहीं होता

कभी दूसरों की टट्टी साफ़ कर के देखिए, ऐसा लगता है

तो थर्ड जेंडर वाले पेशाब करने कहां जाएं?

 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

आरामकुर्सी

मंटो की बीवी नर्गिस के घर जाने को अपमानजनक क्यों मानती थीं?

सआदत हसन मंटो की ज़बानी पढ़िए नर्गिस की कहानी.

सच जान लो : हल्दीघाटी की लड़ाई हल्दीघाटी में हुई ही नहीं थी

हॉलीवुड फिल्म '300' वाली योजना थी, मगर राणा जी चला नहीं पाए.

पहला भारतीय नेता, जिसने सदन से वॉक आउट किया था

गोपाल कृष्ण गोखले. गांधी और जिन्ना, दोनों के राजनीतिक गुरु.

क्या नेहरू के दादा का नाम गयासुद्दीन गाजी था?

ये है नेहरू के खानदान का इतिहास, जिसका एक सिरा दिल्ली पुलिस की वेबसाइट पर भी है.

वो राष्ट्रपति जिनकी जीत का ऐलान जामा मस्जिद से हुआ था

राजनीति से संन्यास ले चुके जेपी का एक बयान 22 अप्रैल को अख़बारों में छपा. इस नाजुक घड़ी में जेपी इंदिरा के पक्ष में खड़े थे.

JNU का वो दीक्षांत समारोह जिसमें बलराज साहनी ने सबको धो डाला था

ये स्पीच आज भी प्रासंगिक है.

जब मजदूरों के एक नेता ने इंदिरा गांधी की सरकार की चूलें हिला दीं

आज मजदूर दिवस है.

रफ़ी जितने ही शानदार इस गायक को हमेशा साइडलाइन किया गया

सब मुहम्मद रफ़ी को सुनते हैं, रफ़ी इनके दीवाने थे.

पृथ्वी को एस्टेरॉइड से बचाने के लिए NASA का प्लान क्या है?

2021 में नासा अपना एक अंतरिक्षयान एस्टेरॉइड में क्यों भिड़ाने जा रहा है?

एक जीनियस आर्टिस्ट या बदबूदार फ्रॉड: 'मनी हाइस्ट मास्क' वाले सल्वादोर दाली की कहानी

जिसे प्रेम, जीवन और सेक्स उनके सबसे बदसूरत रूप में सुंदर लगते.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.