Submit your post

Follow Us

पावेल कुचिंस्की के 52 बहुत ही ताकतवर व्यंग्य चित्र

हम सब के दिमाग निष्क्रिय होते जा रहे हैं. हमारी आंखों ने देखना बंद कर दिया है. हमारी कुछ इंद्रियों का ओवर-टाइम चल रहा है और कुछ अपनी मूलभूत विशेषताओं को खोकर अकाल की स्थिति में हैं. अपने चारों ओर हम झूठ से घिरे हैं और वो ही अब हमारा अधिकतम सत्य है.

इत्तेफाक़ नहीं है इससे?

तो पावेल कुचिंस्की के चित्र देखें. कुछ पल हर चित्र पर ठहरें. कुछ कठोर सी भारी वस्तु सिर के भीतर उठेगी और भीतर की दीवार से आ टकराएगी. ख़ून रिसने लगेगा. बुरी तरह से काला पड़ता दूषित ख़ून. शरीर को राहत मिलेगी. नसों में नई ऑक्सीजन वर्षों बाद फिर से आनी शुरू हो चुकी होगी.

सत्य को फिर से देख पाने की इस असीम खुशी के दाब भरे अहसास के बाद मैंने पावेल को पोलैंड संदेश भेजा. विनम्र उन्होंने जवाब दिया. उन्होंने अपने चित्रों के प्रकाशन की अनुमति दी. अपना world view और आर्टिस्ट के तौर पर अपनी सोच हमसे साझा की.

राजनीति एक बुरा शब्द है, लेकिन राजनीति एक अच्छा शब्द भी है. एक आर्टिस्ट अपने विश्व और भौगोलिक परिस्थितियों की राजनीति समझता है और श्रेष्ठ राजनीति वाला art work रचता जाता है तो वो दुनिया को बेहतर बना रहा होता है. आप फिल्मों में, किताबों में, भाषणों में, चित्रों में और विचारों में यही ढूंढ़ें और आप श्रेष्ठतम को ढूंढ रहे होंगे. पावेल एक श्रेष्ठतम political satire artist हैं. वे एक पर्यावरण प्रेमी, संवेदनाओं भरी और युद्ध हीन धरती की कामना करते हैं.

पावेल
पावेल

पावेल 39 साल के हैं. पोलैंड के स्टेसिन (Szczecin) शहर में अगस्त 1976 में उनका जन्म हुआ था. वे वहीं रहते हैं. पोज़्नान की फाइन आर्ट्स एकेडमी में ग्रेजुएशन के लिए उन्होंने दाखिला लिया. वहां से ग्राफिक्स डिजाइन में उन्होंने विशेष दक्षता पाई.

2004 से पावेल ने व्यंग्य चित्र, कार्टून बनाने शुरू किए और सिर्फ एक साल बाद ही पोलैंड के कार्टूनिस्टों के नामी संगठन APC ने एरिक (ERYK) पुरस्कार प्रदान किया.

ये संगठन एरिक लिपिंस्की ने 1987 में बनाया था. उन्हीं के नाम पर ये पुरस्कार है. एरिक एक जाने-माने पोलिश आर्टिस्ट थे. कैरिकेचर बनाते थे. लेखक थे. वॉरसो एकेडमी ऑफ फाइन आर्ट्स से उन्होंने 1933-39 तक पढ़ाई की. विश्व युद्ध-2 के वक्त उन्हें बंदी बनाया गया था. उन्हें कुख़्यात ऑश्विट्ज़ यातना शिविर में रखा गया था.

इतनी कम उम्र में पावेल ने इतना गंभीर पुरस्कार पाया. आज दस बरस बाद वे 130 से ज्यादा अवॉर्ड दुनिया भर से हासिल कर चुके हैं.

वे अपने फौलादी, बेहद ताकतवर व्यंग्य चित्रों को बनाने के लिए कमजोर से कागज़, कलर पेंसिल और वॉटर कलर का इस्तेमाल करते हैं. बताते हैं कि दस रुपए के संसाधनों से भी दुनिया बदल जाती है. महाकाव्यों, महा-मूवीज, महा-भाषणों, महा-कल्टों की जरूरत नहीं.

पावेल ने हमें लिखा:

मैं सिर्फ वही कहने की कोशिश करता हूं जो मैं देखता हूं. मैं कोई संदेश देने वाला नहीं हूं और मेरा उद्देश्य लोगों को बदलना नहीं है. जब लोग मेरे काम को देखते हैं और जब वे उसमें कुछ महत्त्वपूर्ण विचार पाते हैं. तो वे खुद को बदलने के बारे में सोचना शुरू करते हैं.

उन्होंने लिखा:

कुछ लोग कहते हैं कि मेरी ड्रॉइंग्स अति-यथार्थवादी होती हैं. लेकिन मैं मानता हूं कि अपने अति-यथार्थवादी वक्त का यथार्थवादी चित्रकार हूं.

इन चित्रों के मोटे साइज़ के शीर्षक या फिर चित्रों की हमारी व्याख्या हम यहां नहीं देने जा रहे. क्योंकि ये आपकी निजी सोच, विवेचना को दूषित करने वाला होता है. आपके और पावेल के बीच अगर शब्द आते भी हैं तो वो इस प्रक्रिया को कमजोर करते हैं. तो आप इन आइकॉनिक रेखाओं को देखें और हर एक पर कुछ पल जरूर गुजारें. तभी उपयोगी होगा.

1.

407995_381920358503216_906334611_n (1)

2.

311329_315956528432933_597313263_n

3.

Pawel-Kuczynski-satirical-art-4

4.

A dove of peace

5.

1486706_742662925762289_430168724_n

6.

currency

7.

553834_497640920264492_660080343_n

8.

artwork-satire-cartoonist-pawel-kuczynski-polish-23

9.

Pawel-Kuczynski-satirical-art-12

10.

dinner

 

” रूपक या संकेत दरअसल एक वैश्विक भाषा हैं. कई बार एक अच्छा रूपक इतने बेहतर तरीके से परिस्थितियों, विचारों को अभिव्यक्त कर सकता है जितना कि एक हजार शब्द भी नहीं कर सकते.”

– Pawel Kuczynski

11.

Pawel-Kuczynski4

12.

Cat's poop

13.

haters

14.

competition

15.

Politics.

16.

love - when the brain takes a break

17.

A Wedding

18.

gaza

19.

Girls

20.

war correspondent

 

” मैं इस दुनिया के बारे में कहने की कोशिश करता हूं लेकिन बिना शब्दों के. ये कर पाना बहुत मुश्किल होता है. लेकिन खुशी बहुत ज्यादा होती है जब लोग मेरे कार्टून समझ जाते हैं.”

– Pawel Kuczynski

21.

526699_596435187051731_582299694_n

22.

Christmas.

23.

Pawel-Kuczynski-satirical-art-9

24.

Pawel-Kuczynski6

25.

zz74-600x425

26.

cleaning

27.

The essence of money.

28.

artwork-satire-cartoonist-pawel-kuczynski-polish-12

29.

Revolution.

30.

644519_509575432404374_833526213_n

 

” मैं एक ऑब्जर्वर हूं. लोगों का अवलोकन करता हूं. लोगों के बीच के रिश्तों पर नजर रखता हूं. उन्हें समझता हूं.”

– Pawel Kuczynski

31.

Pawel-Kuczynski3

32.

execution

33.

Apple

34.

Hot news

35.

High society

36.

12813921_1222565381105372_1665555893039502807_n

37.

artwork-satire-cartoonist-pawel-kuczynski-polish-7

38.

Family

39.

duel

40.

Satirical-Drawings-by-Pawel-Kuczynski55

 

” युद्ध, गरीबी, भूख, नस्ली विभाजन, पर्यावरण, पैसा.. मैं ऐसे विषयों पर ड्रॉइंग करना पसंद करता हूं. क्योंकि एक कला के लिहाज से ऐसे विषय अमर हैं और समय के असर से परे हैं. “

– Pawel Kuczynski

41.

Elections.

42.

zz25-600x425

43.

395634_372785756083343_1184288919_n

44.

fast food rapir

45.

zz17-600x853

46.

unrest

47.

disabled

48.

1385894_724868144208434_1065232250_n

49.

propaganda

50.

The Dictator

51.

Double standards.

52.

428090_390539927641259_1943360174_n

 

” हम लोग इस धरती पर इतने सारे वर्षों से साथ रहते आ रहे हैं. लेकिन हम अब भी वही गलतियां करते जा रहे हैं जो पहले करते रहे हैं. “

– Pawel Kuczynski

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.