Submit your post

Follow Us

शराब पर इतना कड़ा पहरा, सुशासन बाबू इन शायरों का श्राप लगेगा!

ऐ मोहतसिब ना फेंक मेरे मोहतसिब ना फेंक
जालिम शराब है, अरे जालिम शराब है.

बिहार के मोहतसिब मतलब कानून बनाने वाले ‘सुशासन बाबू’ नीतीश कुमार हैं. लगता है उनके लिए ही ये शेर कहा था जिगर मुरादाबादी ने. पर साहेब सा कोई प्यारा कोई मासूम नहीं है. वो चीज क्या हैं, खुद उन्हें मालूम नहीं है. साहेब का नया फरमान आया है शराबबंदी को लेकर. जान लीजिए क्या पाबंदियां लगाई हैं.

1. अगर किसी के आशियाने में या बागबां के दरख़्त पर भी दारू की एक बूंद चस्पा है, तो घर की नाजनीनों को भी साहेब बेड़ियां पहना देंगे. मतलब पूरा परिवार जेल जाएगा.
2. अगर किसी के घर में शराब की एक बूंद भी मिलती है, तो पूरा घर सरकार ले लेगी.
3. अगर शौहर कहीं पे भी दारू पीता है और पकड़ लिया जाता है, तो उसकी बीवी भी साहेब की अदालत में गुनाहगार है. चाहे उसे शौहर के गुनाह के बारे में पता हो या न हो. यहां साहेब मान के चलते हैं कि बीवियां दारू को हाथ नहीं लगातीं. मोहतसिब की दुनियादारी की समझ पर फख्र है.
4. किसी शहर या गांव में अगर कुछ ‘काफिर’ शराब से तौबा नहीं करते, तो डिस्ट्रिक्ट कलक्टर को अधिकार है कि वो पूरे गांव या शहर पर जुर्माना ठोंक सकता है.
5. अगर किसी कंपनी का कोई कर्मचारी दारू के संग इश्क लड़ाते पकड़ा जाता है, तो कंपनी के मालिक को भी कानून उठा ले जाएगा. कम से कम 8 साल की सजा है!  

ज़ाहिद शराब पीने से काफिर हुआ मैं क्यूं?
क्या डेढ़ चुल्लू पानी में ईमान बह गया?

ये शेर शायर मोहम्मद इब्राहिम जौक ने कहा था. क्या सच में मुख्यमंत्री को ऐसा लगता है कि ‘दो पैग’ लगाकर मूड सेट करने वाले क़त्ल से ज्यादा संगीन अपराध कर रहे हैं? हां, ये जरूर है कि ‘दारूबाज़’ अपने परिवार में नरक फैला देते हैं. पर ऐसे कितने लोग हैं? 8 करोड़ की आबादी में ऐसे लोग एक लाख के आस-पास हैं. उनको डॉक्टर की जरूरत है. मेडिकल साइंस ऐसा मानता है कि पियक्कड़ मानसिक बीमारी के शिकार होते हैं. इसका ईमान-धर्म से कोई लेना-देना नहीं होता. और ऐसे लोग भी होते हैं, जो दो पैग के बाद दुनिया को जन्नत बना देते हैं. उनका क्या?

फिर सुना है कि सुशासन बाबू किसी विशेषज्ञ को ला रहे हैं. वो दारू बैन होने के बाद बिहार में बदलाव की बयार को नापेगा. पर पिछले कई सालों से देश के बाकी विशेषज्ञ चीख-चीख कर कह रहे हैं कि दारू बैन होने से नए चौधरी आ जाते हैं. वो दूध की तरह दारू का उठौना लगवा देंगे. धरती कभी वीरों से खाली नहीं रही है, तो नए विशेषज्ञ की नजर में पुराने क्या चेलांटू हैं? नए वाले को क्या हर चीज की समझ है? शायर इस बात को खूब समझते हैं.

‘जौक’ जो मदरसे के बिगड़े हुए हैं मुल्ला,
उनको मयखाने में ले आओ, संवर जाएंगे.

सुशासन बाबू, इतनी नफरत ठीक नहीं है. ये तालिबान की याद दिला रही है. हर ब्लॉक में दारू के ठेके आप ने ही खुलवाए थे. उसके पहले तो मामला सेट ही था. हर जिले में एक दुकान रहती थी. जिसको मयस्सर थी, पीता था. पर आपने ये क्या किया? नकली शराब बैन कर देते. कानून पर कानून लाए जा रहे हैं. जैसे दारू बैन कर उत्तरी बिहार में बाढ़ रोक देंगे. शराब रोकने की ख्वाहिश में आप की तिश्नगी (प्यास) बढ़ती जा रही है. कहीं ये शेर आपके लिए ही तो नहीं था.

पीता हूं जितनी उतनी बढ़ती है तिश्नगी
साकी ने जैसे प्यास मिला दी शराब में.

डर लगता है हमें अब बिहार जाने से. आपके कानून के मुताबिक दिल्ली से पीकर चला हुआ इंसान पटना उतर जाए तो दस साल की सजा देंगे आप. आप खलीफा बन रहे हैं. हमें लगता है ‘खुदा-खुदा’ खेल रहे हैं. किस कंपनी को लाएंगे आप बिहार में प्लांट लगाने के लिए? गूगल? क्या उसका स्टाफ गो-मूत्र पिएगा? या उनसे कहोगे कि बिहार से बाहर जाकर पियो? या अपने टॉप अफसरों से कहेंगे कि अपनी आलमारी से महंगी वाली निकाल के पिला दो इनको? अब ये मत कहियेगा कि अफसरान ने पीना छोड़ दिया है.

हम तो बस इतना ही कहेंगे,

शिकन ना डाल जबीं पर शराब देते हुए
ये मुस्कुराती हुई चीज मुस्कुरा के पिला.

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.