Submit your post

Follow Us

वो महान डायरेक्टर जिसकी फिल्में जानवर को भी इंसान बना दे

अलवर, राजस्थान में जन्मे बंगाली भाषी फिल्ममेकर बासु चैटर्जी ने महान हिंदी फिल्में बनाईं. 4 जून 2020 को इनका निधन हो गया.

एक संवाद पढ़िए.

“बिजली गायब! ये हालत है इस देश की. इस साली गवर्नमेंट की. खाने में कटौती! पीने में कटौती! हर चीज़ में कटौती! लानत है ऐसी कटौती पे.”

“बहुत मशहूर इकॉनॉमिस्ट गुन्नार मर्डल ने एक जगह लिखा है, सरकारों का कटौती के लिए कहना बिल्कुल ऐसा ही है जैसे आपका जूता छोटा है, अपने पांव काट लो.”

ये संवाद है सदी की कुछ चुनिंदा बेहतरीन फिल्मों में शामिल और 1986 में रिलीज हुई ‘एक रुका हुआ फैसला’ का. फिल्म के शुरूआती 5 मिनटों में ही ये संवाद आपके सामने आता है और तबसे आप फिल्म से ऐसे चिपक जाते हैं जैसे किसी ने आप पर सम्मोहन कर दिया हो. आगे परत-दर-परत खुलती जाती कहानी आपको आख़िर तक बांधे रखती है. सभी कलाकारों का सहज अभिनय, संवादों का चुटीलापन, कथानक की टेंशन आपको एक अलग ही दुनिया में ले जाती है. बला के काबिल अदाकारों से सजी ये फिल्म भारतीय फिल्मों के इतिहास में बेहद सम्मान का स्थान रखती है. इसके निर्देशक थे बासु चैटर्जी. 4 जून 2020 को 90 बरस की उम्र में निधन हो गया है.

बासुदा.
बासुदा.

बासु दा और ‘एक रुका हुआ फैसला ‘

1930 में 4  जनवरी के दिन पैदा हुए बासु चैटर्जी हिंदी सिनेमा जगत के उन महान फिल्मकारों में से एक हैं जिनके नाम के आगे ‘शो-मैन’ जैसा कोई तमगा तो नहीं दिखाई देता, लेकिन जिनका काम इतना शानदार है कि उन्हें आने वाले बरसों-बरस तक याद किया जा सकेगा. बॉलीवुड हमेशा स्टारडम का पिछलग्गू रहा है. बासु चैटर्जी ने अदाकारी को तरजीह दी. लो-प्रोफाइल किरदारों के साथ उन्होंने इतनी खूबसूरत फ़िल्में बनाई जो अभी भी फ्रेश लगती है और हमेशा-हमेशा लगेंगी. मिसरी की डली की तरह मीठी, घुल जाने वाली. ‘रजनीगंधा’, ‘चितचोर’, ‘छोटी सी बात’, ‘खट्टा-मीठा’, ‘बातों बातों में’.. क्या-क्या गिनाएं!

‘एक रुका हुआ फैसला’ तो उनके करियर का एवरेस्ट मानी जानी चाहिए. 1957 में आई महान फिल्ममेकर सिडनी लुमे की आइकॉनिक कोर्टरूम-डामा ‘ट्वेल्व एंग्री मेन’ की ये रीमेक थी. और कहना न होगा कि ओरिजिनल के कद की रीमेक थी. अक्सर हम भारतीय जब बाहर की फिल्मों को हिंदी में बनाते हैं तो उसके साथ न्याय नहीं कर पाते. साफ शब्दों में कहा जाए तो उसकी ऐसी-तैसी फेर देते हैं. ‘एक रुका हुआ फैसला’ इस मुहाज़ पर क्लियर-कट विनर साबित होती है. हिन्दुस्तानी समाज की अलग-अलग जटिलताओं को ओवर हुए बगैर खूबसूरती से इसमें फिल्माया गया है.

इसका ट्रीटमेंट इतना ख़ालिस भारतीय है कि किसी सिंगल फ्रेम से नहीं लगता कि इसका ओरिजिनल आईडिया कोई विदेशी कहानी है. उपरोक्त संवाद हो, किसी किरदार का क्षेत्रवाद हो या बारह अलग अलग ज्यूरी मेम्बर्स का सामाजिक बैकग्राउंड. सब कुछ टॉप-क्लास इंडियन है.

कहते हैं और सच ही कहते हैं कि सिनेमा डायरेक्टर का माध्यम है. ये फैक्ट ‘एक रुका हुआ फैसला’ देखने के बाद झमाके से समझ में आता है. कोई कलाकार अपने आप में अद्वितीय हो सकता है, अपने दम पर दर्शक को फिल्म से जोड़े रखने की काबिलियत रखता हो सकता है. लेकिन किसी फिल्म में अगर पूरी टीम ही अपने अभिनय की सर्वश्रेष्ठता छूती दिखाई दे तो ये यकीनन डायरेक्टर का करिश्मा है. बासु चैटर्जी ने ‘एक रुका हुआ फैसला’ में यही कर दिखाया है. हर एक एक्टर अपनी जगह परफेक्ट है. हर एक संवाद बैंग-ऑन है.

एक आदमी की जल्दबाजी में फैसला ना करने की ज़िद, बाकी के ग्यारह लोगों के लिए पहले असुविधा की वजह और फिर धीरे-धीरे तथ्य की तलाश बन जाती है. हर एक को तर्क की यात्रा करते हुए राय बदलते देखना अद्भुत अनुभव है. केके रैना की कन्विंसिंग पावर, पंकज कपूर की चिढ़ दिलाने वाली ज़िद, अन्नू कपूर का अपनी वास्तविक उम्र से काफी बड़े किरदार को पूरे मैनरिज्म के साथ निभाना, एम. के. रैना की इरीटेट करती जल्दबाजी  – सब कुछ इतने स्वाभाविक ढंग से अनफोल्ड होता है कि किरदारों को अदाकारों से अलग कर के देखना लगभग नामुमकिन लगता है. यकीनन बासु चैटर्जी की अपनी निर्देशकीय पारी में लगाई ये सबसे दर्शनीय सेंचुरी है. सब कुछ परफेक्ट.

एक अलग ही अदा का फिल्मकार

साफ़-सुथरी लेकिन सार्थक फिल्में बनाने के मामले बासु दा का नाम एक और लैजेंड ऋषिकेश मुखर्जी जितने ही आदर के साथ लिया जाता है. सिक्स्टीज़ से लेकर नाइंटीज़ के दौर में हिंदी सिनेमा पर एक्शन हावी था. ख़ास तौर से इसके दूसरे हिस्से में. अमिताभ, विनोद खन्ना, धर्मेन्द्र जैसे सितारे यूथ आइकॉन थे. प्रकाश मेहरा, रमेश सिप्पी, मनमोहन देसाई, यश चोपड़ा जैसे दिग्गज फिल्मकार लोगों के दिलों पर और बॉक्स ऑफिस पर राज कर रहे थे.

ऐसे वक़्त में बासु चैटर्जी ने ‘नॉन-ग्लैमरस एक्टर्स’ को लेकर आम-आदमी की कहानियां सुनाती फ़िल्में बनाई. जिन्हें जनता ने हाथों-हाथ लिया. क्या दर्शक, क्या समीक्षक सभी ने उनके काम को सराहा. ताज़ा हवा के झोंके की तरह आई उनकी फ़िल्में हिंदी सिनेमा जगत में हमेशा हमेशा के लिए उंचे स्थान पर विराजमान हो गई. और एक-दो नहीं कई सारी. तीस-तीस, चालीस-चालीस साल बीतने के बाद भी ये फ़िल्में आज भी फ्रेश लगती हैं. ये एक बहुत बड़ी उपलब्धि है.

इतना सशक्त हस्ताक्षर विरले ही आदमियों का होता है. आज जब रोमांटिक कॉमेडीज़ की टर्म लापरवाही से इस्तेमाल करते फिल्मकार नज़र आते हैं, तो दिल करता है उनको बासु चैटर्जी की फ़िल्में देखने की सलाह चिपका दूं. रोमांटिक कॉमेडी क्या होती है, क्या होनी चाहिए इसका इंस्टिट्यूट है वो फ़िल्में.

एक नज़र बासुदा की असाधारण फिल्मों पर

रजनीगंधा, 1974

हिंदी की अग्रणी लेखिका मनु भंडारी के उपन्यास ‘यह सच है’ पर आधारित यह फिल्म दो प्रेमियों के बीच चुनाव को लेकर दुविधा में जीती एक लड़की की कहानी थी. उस ज़माने में एक प्रेम-कहानी को बासु दा ने असाधारण ट्रीटमेंट दिया. हौले-हौले गुदगुदाती ये फिल्म कई-कई बार देखी जा सकती है. इसका गीत ‘कई बार यूं भी देखा है’ कौन संगीतप्रेमी भुला सकता है!

rajni

चितचोर, 1976

ये वो फिल्म थी जिसने बासु दा को प्रतिभाशाली निर्देशक के साथ सफल निर्देशक का भी ख़िताब दिलाया. इस फिल्म ने बॉक्स ऑफिस पर धूम मचा दी थी. इस फिल्म में भी बासु दा के फेवरेट एक्टर अमोल पालेकर थे. ‘मिस्टेकन आइडेंटिटी’ की थीम पर बनी ये स्वीट रोमांटिक फिल्म बम्पर चली. कई सालों बाद राजश्री प्रोडक्शन्स ने इसका ‘मैं प्रेम की दीवानी हूं’ नाम से रीमेक बनाया जो बुरे होने की इन्तेहा थी.

संगीत के मामले में बासु दा की ‘चितचोर’ संगीत-प्रेमियों के लिए लॉटरी साबित हुई. इसके सभी गाने शानदार, जानदार और जो भी विशेषण दिए जा सकते हैं, वो थे. ‘गोरी तेरा गांव बड़ा प्यारा’, ‘जब दीप जले आना’, ‘आज से पहले, आज से ज़्यादा’ – कोई भी गीत उठा लीजिये. माधुर्य बहता हुआ मिलेगा. आज भी गायक येसुदास का नाम आता है तो सबसे पहले चितचोर ही ज़हन में आती है.

chitchor

छोटी सी बात, 1976

एक सीधा-सादा शर्मीला आदमी. पड़ गया है प्यार में. लेकिन हिम्मत तो है नहीं बताने की. ऐसे में मदद के लिए एक रिटायर्ड फौजी की शरण में जाता है. आगे की फिल्म हंसी के ठहाकों और दिलफ़रेब रूमानियत के साथ आपके दिल में उतरती चली जाती है. और फिर हमेशा आपके साथ रहती है. इसका गाना ‘न जाने क्यों, होता है ये ज़िन्दगी के साथ’ लता की आवाज़ में आपको एक अलग ही दुनिया में ले के जाता है.choti

खट्टा-मीठा, 1977

दो बूढ़े लोग शादी करना चाहते हैं. और दोनों की औलादों को इसके बारे में पता है. अब कल्पना कीजिये उस धमाल की जो इस सिचुएशन से उपजेगा. इतनी सिंपल कहानी में ह्यूमर, इमोशंस, फॅमिली वैल्यूज, प्रेम, बलिदान क्या नहीं था!

इसका शानदार गीत ‘थोडा है थोड़े की ज़रूरत है’ तो जैसे इंडियन मिडल क्लास का एंथम बन गया था. आज भी ये गीत भारतीय मध्यम वर्ग को भावुक कर देता है. करता रहेगा भी.

khatta

..चमेली की शादी, 1986

अनिल कपूर की सबसे स्वीट फिल्म. ‘चमेली की शादी’ भारत की जाति-व्यवस्था पर बेहद असरदार व्यंग्य है. एक शौकिया पहलवान को एक कोयला गोदाम के मालिक की बेटी से प्यार हो गया है. लेकिन शादी में बड़ी अड़चन है जाति. दोनों अलग अलग कास्ट से हैं. इस दिक्कत से जूझते हुए कैसे वो मंज़िल पर पहुंचते हैं इसका बेहद सुंदर चित्रण है ये फिल्म. कॉमेडी फिल्मों में फूहड़ता से कैसे बचा जाए ये आज के कथित लीडिंग फिल्मकार बासु दा से सीख सकते हैं.chameli

अंत में बासु दा की वो फिल्म जो देखने से चूकना पाप है

बासु दा की कितनी फ़िल्में चुनी जाएं ये एक मुश्किल फैसला है. उनकी तो लगभग हर फिल्म पर इतना ही लंबा आर्टिकल लिखा जा सकता है. चुनाव बेहद मुश्किल था. इतनी सारी फ़िल्में तो बता दी है लेकिन मैं चाहता हूं आप उनकी एक फिल्म वक़्त निकालकर ज़रूर ज़रूर देखें. ‘एक रुका हुआ फैसला’ एक कॉम्प्लेक्स थ्रिलर थी. ऊपर लिस्टेड फ़िल्में हल्की-फुल्की, गुदगुदाती रोमांटिक फ़िल्में थी. लेकिन ‘त्रियाचरित्र’ उनकी ऐसी फिल्म है जो अपने थर्रा देने वाले यथार्थ से आपको कंपा देगी. आप में बेचैनी भर देगी.

पति की गैर-मौजूदगी में लड़की का उसके ससुर द्वारा रेप किया जाता है. और जब इंसाफ की घड़ी आती है तो समूचा समाज पीड़िता को ही गुनाहगार साबित करने पर उतारू हो जाता है. ‘त्रियाचरित्र’ का तमगा देता है. तब से लेकर आज तक भी पाखंडी भारतीय समाज में चरित्र के पैमाने कुछ ख़ास बदले नहीं हैं. और ना ही बदली है बलात्कार की शिकार लड़की की तरफ देखने की निगाह.

संस्कृति के दोगले अभिमान से दिन-रात चिपटे रहते हमारे महान भारतीय समाज के इस बदबू मारते सच को बरसों पहले नंगा कर गए थे बासु दा. मिस करने लायक नहीं है ये फिल्म.

triya

आपका शुक्रिया बासु दा जो आपने हमें इतना कुछ सौंपा है.


 

विडियो-

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

गंदी बात

बहू-ससुर, भाभी-देवर, पड़ोसन: सिंगल स्क्रीन से फोन की स्क्रीन तक कैसे पहुंचीं एडल्ट फ़िल्में

जिन फिल्मों को परिवार के साथ नहीं देख सकते, वो हमारे बारे में क्या बताती हैं?

चरमसुख, चरमोत्कर्ष, ऑर्गैज़म: तेजस्वी सूर्या की बात पर हंगामा है क्यों बरपा?

या इलाही ये माजरा क्या है?

राष्ट्रपति का चुनाव लड़ रहे शख्स से बच्चे ने पूछा- मैं सबको कैसे बताऊं कि मैं गे हूं?

जवाब दिल जीत लेगा.

'इस्मत आपा वाला हफ्ता' शुरू हो गया, पहली कहानी पढ़िए लिहाफ

उस अंधेरे में बेगम जान का लिहाफ ऐसे हिलता था, जैसे उसमें हाथी बंद हो.

PubG वाले हैं क्या?

जबसे वीडियो गेम्स आए हैं, तबसे ही वे पॉपुलर कल्चर का हिस्सा रहे हैं. ये सोचते हुए डर लगता है कि जो पीढ़ी आज बड़ी हो रही है, उसके नास्टैल्जिया का हिस्सा पबजी होगा.

बायां हाथ 'उल्टा' ही क्यों हैं, 'सीधा' क्यों नहीं?

मां-बाप और टीचर बच्चों को पीट-पीट दाहिने हाथ से काम लेने के लिए मजबूर करते हैं. क्यों?

फेसबुक पर हनीमून की तस्वीरें लगाने वाली लड़की और घर के नाम से पुकारने वाली आंटियां

और बिना बैकग्राउंड देखे सेल्फी खींचकर लगाने वाली अन्य औरतें.

'अगर लड़की शराब पी सकती है, तो किसी भी लड़के के साथ सो सकती है'

पढ़िए फिल्म 'पिंक' से दर्जन भर धांसू डायलॉग.

मुनासिर ने प्रीति को छह बार चाकू भोंककर क्यों मारा?

ऐसा क्या हुआ, कि सरे राह दौड़ा-दौड़ाकर उसकी हत्या की?

हिमा दास, आदि

खचाखच भरे स्टेडियम में भागने वाली लड़कियां जो जीवित हैं और जो मर गईं.

सौरभ से सवाल

दिव्या भारती की मौत कैसे हुई?

खिड़की पर बैठी दिव्या ने लिविंग रूम की तरफ मुड़कर देखा. और अपना एक हाथ खिड़की की चौखट को मजबूती से पकड़ने के लिए बढ़ाया.

कहां है 'सिर्फ तुम' की हीरोइन प्रिया गिल, जिसने स्वेटर पर दीपक बनाकर संजय कपूर को भेजा था?

'सिर्फ तुम' के बाद क्या-क्या किया उन्होंने?

बॉलीवुड में सबसे बड़ा खान कौन है?

सबसे बड़े खान का नाम सुनकर आपका फिल्मी ज्ञान जमीन पर लोटने लगेगा. और जो झटका लगेगा तो हमेशा के लिए बुद्धि खुल जाएगी आपकी.

'कसौटी ज़िंदगी की' वाली प्रेरणा, जो अनुराग और मिस्टर बजाज से बार-बार शादी करती रही

कहां है टेलीविज़न का वो आइकॉनिक किरदार निभाने वाली ऐक्ट्रेस श्वेता तिवारी?

एक्ट्रेस मंदाकिनी आज की डेट में कहां हैं?

मंदाकिनी जिन्हें 99 फीसदी भारतीय सिर्फ दो वजहों से याद करते हैं

सर, मेरा सवाल है कि एक्ट्रेस मीनाक्षी शेषाद्री आजकल कहां हैं. काफी सालों से उनका कोई पता नहीं.

‘दामिनी’ के जरिए नई ऊंचाई तक पहुंचा मीनाक्षी का करियर . फिर घातक के बाद 1996 में उन्होंने मुंबई फिल्म इंडस्ट्री को बाय बोल दिया.

ये KRK कौन है. हमेशा सुर्खियों में क्यों रहता है?

केआरके इंटरनेट एज का ऐसा प्रॉडक्ट हैं, जो हर दिन कुछ ऐसा नया गंधाता करना रचना चाहता है.

एक्ट्रेस किमी काटकर अब कहां हैं?

एडवेंचर ऑफ टॉर्जन की हिरोइन किमी काटकर अब ऑस्ट्रेलिया में हैं. सीधी सादी लाइफ बिना किसी एडवेंचर के

चाय बनाने को 'जैसे पापात्माओं को नर्क में उबाला जा रहा हो' कौन सी कहानी में कहा है?

बहुत समय पहले से बहुत समय बाद की बात है. इलाहाबाद में थे. जेब में थे रुपये 20. खरीदी हंस...

सर आजकल मुझे अजीब सा फील होता है क्या करूं?

खुड्डी पर बैठा था. ऊपर से हेलिकॉप्टर निकला. मुझे लगा. बाबा ने बांस गहरे बोए होते तो ऊंचे उगते.