Submit your post

Follow Us

ज़ायरा वसीम ने इंस्टाग्राम पर लिखा- कश्मीर की आवाज़ को दबा देना इतना आसान क्यों है?

ज़ायरा वसीम. एक्ट्रेस हैं. हाल में ख़बरों में आई थीं, जब फिल्म इंडस्ट्री छोड़ने का ऐलान किया था. दंगल, सीक्रेट सुपरस्टार, स्काई इज पिंक जैसी फिल्में कर चुकी हैं. ज़ायरा एक बार फिर चर्चा में हैं, क्योंकि उन्होंने इंस्टाग्राम पर कश्मीर को लेकर एक पोस्ट डाला है.

पहले आप ये पोस्ट देख लीजिए:


View this post on Instagram

Kashmir continues to suffer and see- saw between hope and frustration। There’s a false and uneasy semblance of calmness in place of escalating despair and sorrow। Kashmiris continue to exist and suffer in a world where it is so easy to place restrictions on our liberty. Why do we have to live in a world where our lives and wills are controlled, dictated and bent? Why is it so easy to have our voices silenced? Why is it so easy to curtail our freedom of expression? Why aren’t we ever allowed to voice our opinions, let alone our disprovals, to decisions that are made contrary to our wishes? Why is it that instead of trying to see the cause of our view, our view is just condemned ruthfully? What is so easy to curb our voices so severely? Why can we not live simple lives without always having to wrestle and remind the world of our existence. Why is that life of a Kashmiri is just about experiencing a lifetime of crisis, blockade and disturbance so abundantly that it has taken away the recognition of normalcy and harmony from the hearts and minds? Hundreds of questions like these-unanswered; leaving us bewildered and frustrated, but our frustrations find no outlet. The authority doesn’t make the slightest effort to put a stop to our doubts and speculations but stubbornly tend to go their own way to confine our existence mired in a confused, conflicted and a paralysed world. But I ask the world, what has altered your acceptance of the misery and oppression we’re being subjected to? Do not believe the unfair representation of the facts and details or the rosy hue that the media has cast on the reality of the situation. Ask questions, re-examine the biased assumptions. Ask questions. For our voices have been silenced- and for how long….none of us really know!

A post shared by Zaira Wasim (@zairawasim_) on

इस पोस्ट के बारे में आगे पढ़ने से पहले थोड़ा-सा बैकग्राउंड:

पिछले साल 5 अगस्त को संविधान के आर्टिकल 370 में बदलाव किए गए. इसके बाद जम्मू-कश्मीर का स्पेशल स्टेटस ख़त्म हो गया. उसके बाद ही इंटरनेट भी बंद किया गया. सरकार ने दलील दी कि ये बैन शांति बनाए रखने के लिए है. तब से ही कश्मीर के लिए लोग आवाज़ उठा रहे हैं. मांग कर रहे हैं कि वहां हालात नॉर्मल बनाया जाए. इसी के बीच जायरा वसीम ने ये पोस्ट लिखा:

कश्मीर अभी भी पीड़ा में है. उम्मीद और झल्लाहट के बीच डूब-उतरा रहा है. निराशा और दुःख की जगह झूठी और परेशान कर देने वाली शान्ति पसरी है यहां. कश्मीरी एक ऐसी दुनिया में जीने को मजबूर हैं, जहां हमारी आज़ादी पर रोक-टोक लगाना बेहद आसान है. हमें ऐसी दुनिया में रहना ही क्यों है, जहां हमारी ज़िन्दगी और हमारी इच्छाएं कंट्रोल की जा रही हैं, उन पर हुक्म चलाया जा रहा, उन्हें झुकाया जा रहा.

जायरा अपने पोस्ट में आगे सवाल पूछती हैं कि कश्मीरियों की अभिव्यक्ति की आजादी पर लगाम क्यों लगाई जा रही है. उनका कहना है कि कश्मीरियों का नजरिया समझने की कोशिश नहीं की जा रही, उसे नकार दिया जा रहा है.

Zaira Main
ज़ायरा की आखिरी फिल्म स्काई इज पिंक थी, जिसे अच्छे रिव्यू मिले थे. फिल्म के रिलीज होने के पहले उन्होंने बताया था कि वो फिल्म इंडस्ट्री से अलग हो रही हैं. (तस्वीर: इन्स्टाग्राम)

ज़ायरा लिखती हैं,

एक कश्मीरी की ज़िन्दगी का मतलब सिर्फ आपदा, बंदी और अशांति का जीवन जीना क्यों है? ये सब भी इतनी तादाद में कि दिलो-दिमाग से सामान्य जीवन और शान्ति की पहचान ही दूर हो जाए?

ज़ायरा आगे लिखती हैं कि सत्ता में बैठे लोगों को कश्मीरियों के अस्तित्व की कोई परवाह नहीं है.उनकी दिक्कतों को कोई रास्ता नहीं सूझता है. पोस्ट के आखिर में ज़ायरा लिखती हैं:

पर मैं पूछती हूं दुनिया से, हमारे दुख और दमन को स्वीकार करने के लिए तुम्हें किसने मजबूर किया? हालात की सच्चाई पर मीडिया ने जो गुलाबी रंगत पोती है, उन पर यकीन मत करिए. सवाल पूछिए, पक्षपाती अनुमानों को दोबारा जांचिए. सवाल पूछिए. हमारे आवाजें दबा दी गई हैं- कब तक के लिए, हममें से किसी को भी नहीं पता.

ज़ायरा की ये पोस्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है.एक तरफ कमेन्ट सेक्शन में लोग उनसे पूछ रहे हैं कि कश्मीरी पंडितों के बारे में ज़ायरा कुछ क्यों नहीं बोल रहीं? वहीं कुछ लोगों ने उनकी तारीफ़ की है कि वो ऐसे समय में खुलकर बोल रही हैं, जब कश्मीर में डर का माहौल है.


वीडियो: ज़मीनी हक़ीक़त: केजरीवाल सरकार को ‘आयुष्मान भारत’ से क्या दिक्कत है

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

ईवेंट के लिए असम से कानपुर पहुंची मॉडल, बिजनेसमैन ने दोस्तों के सामने रेप किया

पार्टी के बाद दोस्त के बंगले लेकर गया था.

वेटनरी डॉक्टर गैंगरेप जैसा मामला फिर, पुलिया के नीचे नग्न हालत में महिला की लाश मिली

सिर कुचला हुआ, शरीर पर सोने के गहने सही-सलामत.

बॉक्सिंग टूर्नामेंट के लिए कोलकाता जा रही स्टूडेंट का उसी के कोच ने ट्रेन में रेप किया

ट्रेनर को पुलिस ने सोनीपत से गिरफ्तार कर लिया है.

सौम्या हत्याकांड: जब एक पत्रकार लड़की के मर्डर का राज़ दूसरी लड़की से मर्डर से खुला

दिल्ली के पॉश इलाके में क्रूर हत्या को अंजाम देने वाला एक बार फिर पकड़ा गया है.

इंटरनेट के ज़रिए डेटिंग पार्टनर या दूल्हा खोज रही हैं तो इन लड़कियों की कहानी पढ़िए

आपका वो हाल न हो, जो इनका हुआ.

ब्रेकअप झेल नहीं पाया तो एक्स गर्लफ्रेंड के घर में घुसकर 'सज़ा' दी, मां को भी नहीं छोड़ा

अगले दिन दरवाज़ा खुला तो पड़ोसी सकते में आ गए.

हॉलीवुड का बड़ा प्रड्यूसर हार्वी वाइन्सटाइन रेपिस्ट साबित हुआ, 23 साल जेल में काटेगा

ये तो सज़ा की शुरुआत है, ये आदमी गुरमीत राम रहीम से कम नहीं.

गार्गी कॉलेज में यौन शोषण की शिकायत करने वाली लड़कियां पीछे क्यों हटीं?

बीते महीने इनका आरोप था कि लड़कों ने कॉलेज में घुसकर हुड़दंग किया.

यौन शोषण विक्टिम ने बयान लिखने को कहा तो दरोगा बोला, 'कोरोना वायरस हो गया है'

पुलिस भी चौंक गई है.

फ्लिपकार्ट बेचकर 6700 करोड़ कमाने वाले सचिन बंसल पर दहेज़ उत्पीड़न का केस

2008 में हुई थी शादी, पत्नी ने मारपीट और यौन हिंसा के भी आरोप लगाए हैं.