Submit your post

Follow Us

फटे-पुराने गद्दों पर ट्रेनिंग को मजबूर रेसलर सिमरन, केजरीवाल सरकार ने भी नहीं निभाया वादा

‘दंगल’ फिल्म याद होगी आपको! यह फिल्म महिला पहलवान गीता और बबीता फोगाट और उनके पिता महावीर सिंह पर आधारित है. इसमें एक सीन है जहां पर बचपन में गीता और बबीता लड़कों के साथ कुश्ती करती हैं और अपनी काबिलियत साबित करती हैं. कुछ ऐसी ही कहानी युवा महिला पहलवान सिमरन अहलावत की है. जो अभी कोरोना वायरस, लॉकडाउन और सरकारी बेरुखी के चलते न तो पहलवानी के दांवपेंच सीख पा रही हैं और न ही ट्रेनिंग कर पा रही हैं. सिमरन दिल्ली सरकार को भी उसका किया वादा याद दिला रही हैं. लेकिन अभी तक कुछ नहीं हुआ है.

यूथ ओलंपिक्स की सिल्वर मेडलिस्ट को नकद इनाम का इंतजार

सिमरन ने साल 2018 में यूथ ओलंपिक्स में सिल्वर मेडल जीता था. इस पर दिल्ली सरकार ने नकद इनाम देने का ऐलान किया था. सिमरन का कहना है कि दो साल बाद भी उसे इनाम अब तक नहीं मिला. उसने अब सोशल मीडिया के जरिए दिल्ली सरकार से इनामी राशि देने की अपील की है.

सिमरन के सम्मान समारोह के लिए लगाए गए पोस्टर.
सिमरन के सम्मान समारोह के लिए लगाए गए पोस्टर.

केजरीवाल-सिसोदिया से भी नहीं मिला जवाब

वीडियो पोस्ट कर सिमरन ने कहा,

साल 2018 में सिल्वर मेडल जीतने पर दिल्ली सरकार में मंत्री सत्येंद्र जैन ने कैश अवार्ड देने का ऐलान किया था. लेकिन दो साल होने के बाद भी कोई मदद नहीं मिली है. इसके बाद मैंने मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया के सामने भी इस मामले को रखने की कोशिश की. लेकिन मेरे ईमेल्स का अभी तक कोई जवाब नहीं दिया गया है.

सिमरन का कहना है कि उसके परिवार की आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है. इसका असर उनकी ट्रेनिंग पर पड़ रहा है. उन्होंने दिल्ली सरकार से कहा कि खेल कोटे से उसकी मदद की जाए, जिससे वह प्रैक्टिस शुरू कर सकें. सिमरन अवार्ड की रकम को लेकर लगातार ट्वीट कर रही हैं. लेकिन अभी तक दिल्ली सरकार का ध्यान नहीं गया है.

यूथ ओलंपिक्स में भारत ने 12 मेडल जीते थे

साल 2018 में यूथ ओलंपिक्स अर्जेंटीना की राजधानी ब्यूनस आयर्स में हुए थे. इनमें भारत ने दो गोल्ड, 9 सिल्वर और एक ब्रॉन्ज मिलाकर 12 मेडल जीते थे. सिमरन ने न्यूजीलैंड, मोल्डोवा, इजिप्ट और मंगोलिया के खिलाड़ियों को हराकर अपना ग्रुप टॉप किया था. लेकिन फाइनल में वह अमेरिका की एमिली शिल्सन से 6-11 से हार गई थीं. ऐसे में सिमरन को सिल्वर से संतोष करना पड़ा. सिमरन ने कैडेट लेवल यानी 16-17  साल की महिलाओं की एशियन चैंपियनशिप में गोल्ड, सिल्वर और ब्रॉन्ज मेडल भी जीत रखे हैं. साथ ही 2017 कैडेट वर्ल्ड चैंपियनिशप में भी उनके नाम ब्रॉन्ज है.

यूथ ओलंपिक में मेडल जीतने के बाद सिमरन पीएम मोदी से भी मिली थी.
यूथ ओलंपिक में मेडल जीतने के बाद सिमरन पीएम मोदी से भी मिली थी.

पिता बोले- शादी-ब्याह के गद्दों पर हो रही ट्रेनिंग

इस बारे में दी लल्लनटॉप ने सिमरन के पिता राजेश कुमार से बात की. उन्होंने कहा कि पैसों की कमी है. कोरोना और लॉकडाउन के चलते कोई प्रतियोगिता भी नहीं हो रही. वे कहते हैं,

सरकार से मदद नहीं मिल रही. दिल्ली सरकार ने कैश अवार्ड देने को कहा था. पर अभी तक नहीं मिला. ऐसे में दोस्तों-रिश्तेदारों की मदद से काम चला रहे हैं. अभी सिमरन घर पर ही ट्रेनिंग कर रही है. हमारे पास कोई प्रोफेशनल मैट नहीं है. शादी-ब्याह, जागरण में काम आने वाले गद्दों से ही काम चला रहे हैं. हमारे पास जो घरेलू सामान है, उससे ही सिमरन ट्रेनिंग करती है. उसकी डाइटिंग-ट्रेनिंग के लिए हमने घर के कागज गिरवी रखकर कर्ज लिया है.

चोट ने छीना सपना तो बेटी को बनाया पहलवान

राजेश कुमार खुद भी पहलवान रहे हैं. लेकिन चोट के चलते उन्हें पहलवानी बीच में ही छोड़नी पड़ी. उन्होंने बताया,

परिवार का सपना था कि घर से कोई पहलवानी करे और देश का नाम रोशन करे. लेकिन मैं तो कर नहीं पाया. बेटी के जरिए वह सपना पूरा करने की कोशिश है. अभी तक तो जो खुद से बन पड़ा वह किया है. आगे भी कोशिश पूरी है. अगर सरकार साथ दे तो सिमरन कई मेडल जीत सकती है.

राजेश कुमार खुद ही सिमरन को ट्रेन करते हैं. बचपन से ही उन्होंने सिमरन को पहलवानी की फील्ड में मोड़ दिया था. उन्होंने हरियाणा में कई जगहों स्थानीय कुश्ती प्रतियोगिताओं में सिमरन को खिलाया. इनमें ज्यादातर बार सिमरन का सामना लड़कों से ही होता था. राजेश कुमार ने बताया कि उन्हें जहां भी कुश्ती प्रतियोगिता का पता चलता था, वहां पर सिमरन को लेकर जाते थे.

सिमरन कई स्थानीय कुश्ती प्रतियोगिताओं में लड़कों को मात दे चुकी है.
सिमरन कई स्थानीय कुश्ती प्रतियोगिताओं में लड़कों को मात दे चुकी है.

सब चढ़ते सूरज को करते हैं सलाम

रेसलिंग फेडरेशन से मदद के बारे में पूछे जाने पर कहते हैं कि वहां से रेस्पॉन्स अच्छा रहा है. लेकिन अभी फेडरेशन कुछ नहीं कर सकती. बकौल राजेश कुमार,

फेडरेशन खिलाड़ियों की मदद के लिए ट्रेनिंग कैंप और इवेंट कराती है. इसमें खिलाड़ियों का अच्छे से ध्यान भी रखा जाता है. लेकिन कोरोना के चलते अभी कैंप हो नहीं सकते. तो फेडरेशन भी क्या करे?

राजेश शिकायती लहजे में कहते हैं कामयाब होने के बाद तो बहुत से लोग आ जाते हैं. लेकिन जब कोई खिलाड़ी संघर्ष कर रहा होता है तो मदद नहीं मिलती. सब लोग चढ़ते सूरज को ही सलाम करते हैं. सरकार को इस बारे में सोचना चाहिए.

लगता है सरकार अभी बिजी है!

इस मामले के बारे में हमने दिल्ली के डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया, आम आदमी पार्टी के प्रवक्त सौरभ भारद्वाज, ऱाघव चड्ढा, दिलीप पांडे से बात करने की कोशिश की. इनमें से राघव चड्ढा के असिस्टेंट ने कहा कि वे मामले को दिखवाते हैं. जबकि बाकी लोगों से कई कोशिशों के बाद भी संपर्क नहीं हो पाया.


Video: इंग्लैंड-वेस्ट इंडीज़ के तीसरे मैच में ये दो खिलाड़ी अपनी टीम के लिए गेमचेंजर बनकर उभरेंगे?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

62 साल की महिला ने ABVP के राष्ट्रीय अध्यक्ष पर उत्पीड़न का आरोप लगाया

महिला ने कहा- दरवाज़े पर पेशाब की. ABVP ने वीडियो को फेक बताया.

छठवीं की छात्रा से रेप के आरोप में स्कूल के डायरेक्टर, मैनेजर समेत 10 टीचर्स पर केस

आरोप, तीन महिला टीचर्स को भी थी मामले की जानकारी, पर उन्होंने छिपाया.

लड़की की मौत, शरीर पर चोट के निशान, 8 दिन तक आरोपी को 'बचाती' रही पुलिस

असम पुलिस की नग्न सच्चाई: पोस्टमॉर्टम तक की खबर नहीं है.

10 हज़ार बिस्तर वाले कोविड सेंटर में नाबालिग का रेप, रेप का आरोपी भी कोरोना मरीज

आरोपी के साथी ने घटना को रिकॉर्ड भी किया.

'सेक्स रैकेट क्वीन' सोनू पंजाबन ने सोचा भी नहीं होगा कि कोर्ट इतनी ज़्यादा सज़ा सुना देगी

जिस मामले में सज़ा हुई, वो एक बच्ची के रेप, किडनैपिंग और उसे देह व्यापार में धकेलने का है.

बंगाल: जिस केस को रेप-मर्डर कहा जा रहा था, उसमें अब नई कहानी सामने आई है

19 जुलाई को लड़की का और 20 जुलाई को लड़के का शव मिला था.

बंगाल में लड़की की मौत को 'रेप के बाद हत्या' कहा जा रहा था, पर हकीकत क्या है?

शव मिलने के बाद लोगों ने भयंकर विरोध प्रदर्शन किया था.

पुलिसवाले पर आरोप, लड़की को कॉल कर कहा- 50 हज़ार ले लो, साले के लिए घर आ जाओ

बातचीत का ऑडियो वायरल, आरोपी पुलिसकर्मी सस्पेंड.

दहेज के लिए प्रताड़ित करते थे, महिला ने वीडियो बनाया, जी-मेल में सबूत रखकर फांसी लगा ली

मां से अपने पति और सास-ससुर को सजा दिलवाने की गुहार लगाई.

सेक्स रैकेट क्वीन सोनू पंजाबन, जिसे बच्ची से रेप केस में कोर्ट ने दोषी करार दिया है

2009 में हुआ था बच्ची का अपहरण, फिर वो कई बार कई लोगों को बेची गई.