Submit your post

Follow Us

युवा लड़कियों ने बताया, किस तरह स्त्रीरोग विशेषज्ञों ने उन्हें घिनापे की हद तक ज़लील किया

171
शेयर्स

ट्विटर पर एक हैशटैग बहुत अटेंशन पा रहा है. ये है #MyGynaecStory. इस हैशटैग के साथ महिलाएं अपने अनुभाव शेयर कर रही हैं. जो उनके अपने गाइनकॉलजिस्ट के साथ हुए. इसके ज़रिए वो बता रही हैं कि उनके गाइनकॉलजिस्ट यानी स्त्री रोग विशेषज्ञ उनके साथ कैसा बर्ताव करते/करती हैं.

जब बात सेक्सुअल हेल्थ की आती है, कई लड़कियां डॉक्टर के पास जाने से झिझकती हैं. पर्सनल एक्सपीरियंस भी यही कहता है. 13 या 14 साल की उम्र में जब बच्चों वाले डॉक्टर के पास जाने में झिझक होने लगी, तो दबी ज़बान में कहा, किसी लेडी डॉक्टर के पास ले चलो. जवाब मिला, वहां कम उम्र की लड़की को लेकर जाने पर लोग गलत समझते हैं. अच्छा नहीं माना जाता इसे. इसके पीछे का कारण पूछने की हिम्मत नहीं हुई. लेकिन धीरे-धीरे समझ आ गया. गाइनकॉलजिस्ट के पास जाने का मौका तभी मिल पाया जब खुद पैसे कमाकर डॉक्टर का अपॉइंटमेंट लेने के काबिल हुए.

Gynae 700
गाइनकॉलजिस्ट के पास कोई भी महिला पूरे भरोसे के साथ जाना चाहती है, लेकिन अगर वहां भी जजमेंट ही झेलना पड़े तो कोई क्यों ही जाना चाहेगा? (सांकेतिक तस्वीर: ट्विटर)

आम लोगों के बीच गाइनकॉलजिस्ट को लेकर इमेज यही बनी हुई है कि या तो वो बच्चे पैदा कराती हैं, या एबॉर्शन कराती हैं. इसके अलावा जिंदगी में किसी आम महिला को गाइनकॉलजिस्ट के पास जाने की ज़रूरत नहीं पड़ती. जबकि ये सरासर गलत है. अपने शरीर के प्रजनन अंगों का ध्यान रखने के लिए डॉक्टर के पास जाना हर उम्र की महिला का हक़ होता है. एक और बहुत बड़ा टैबू होता है अनमैरिड लड़कियों का गाइनकॉलजिस्ट के पास जाना. क्योंकि लोग सीधे यही मान लेते हैं कि अनमैरिड लड़कियां शारीरिक सम्बन्ध नहीं बनातीं. और जब शारीरिक सम्बन्ध नहीं बनातीं, तो प्रेग्नेंट नहीं हो सकतीं. जब प्रेग्नेंट नहीं हो सकतीं, तो फिर गाइनकॉलजिस्ट के पास उनके जाने का मतलब क्या है?

दुःख की बात ये है कि अधिकतर गाइनकॉलजिस्ट भी इसी तरह सोचते हैं. बहुत कम ही ऐसे हैं जो खुले दिमाग से अपने पेशेंट को सलाह दे सकें. अगर कोई अनमैरिड लड़की उनके पास पहुंचती है, और वो सेक्सुअली एक्टिव होती है तो उसे हेय नज़र से देखा जाता है. ऐसे कई अनुभव लड़कियों ने शेयर किए इसी हैशटैग के साथ. कुछ ये रहे:

गाइनकॉलजिस्ट के पास एक सिंगल महिला होते हुए जब मैं गाइनकॉलजिस्ट के पास गई तो मुझे पूछा गया ‘क्या तुमने शरारत की है?’. मतलब क्या आंटी? क्या मैंने आपके रिसेप्शन से टॉफ़ी चुरा ली? उस गाइनकॉलजिस्ट के बोलने का तरीका डॉक्टर से ज्यादा गली वाली आंटी जैसा था. खुशकिस्मती से मुझे अच्छे डॉक्टर मिल गए हैं अब जो ठीक करने पर फोकस करते हैं. अपनी नाक घुसाने में नहीं.

 

एक और यूजर ने शेयर करते हुए बताया,

मुझे हल्के चक्कर आ रहे थे, उल्टियां हो रही थीं और मेरे पीरियड मिस हो गए थे. मैं अपने रेगुलर गाइनकॉलजिस्ट के पास गई. उसने कुछ दवाएं लेने की सलाह दी. मैंने उससे कहा एक प्रेग्नेंसी टेस्ट कर देने के लिए. वो हंसा और बोला, ‘तुम्हारी तो अभी शादी नहीं हुई’.

एक ट्वीट ने बताया,

जिस डॉक्टर ने मेरी सोनोग्राफी की उसने मेरी उम्र को लेकर मुझे शर्मिंदा करने की कोशिश की क्योंकि मेरी उम्र 30 साल थी और मैं अभी तक सिंगल थी. उसने ये भी कहा कि मेरे PCOD का इलाज सिर्फ शादी है, क्योंकि शादी मेरे सभी हॉर्मोनल दिक्कतों को ठीक कर देगी. एक असली डॉक्टर ने मुझसे ये सब कहा.

एक और यूजर ने लिखा

शादी से पहले शारीरिक सम्बन्ध बनाने वाली, या शादी से पहले रिलेशनशिप रखने वाली महिलाओं को पुरातनपंथी लोग शर्मिन्दा करने की कोशिश करते हैं, वहीं पुरुषों को उनके पुरुषत्व के लिए इज़्ज़त दी जाती है. अविवाहित महिलाएं जब गाइनकॉलजिस्ट के पास जाती हैं तो वहां भी ये सामाजिक स्टिग्मा पहुंच जाता है.

इस तरह के अनुभव अक्सर लड़कियों को झेलने पड़ते हैं. इसी वजह से कई बार बहुत ज़रूरत होने पर भी वो गाइनकॉलजिस्ट के पास नहीं जातीं. ख़ास तौर पर छोटे शहरों में तो इस बात को लेकर बहुत बड़ी दिक्कत है. वहां तो सेक्सुअल हेल्थ पर बात करने और उसके लिए डॉक्टर के पास जाने की आज़ादी मिलना ही कई लड़कियों के लिए बेहद मुश्किल होता है. जब तक इस मुद्दे पर ध्यान नहीं दिया जाएगा, लड़कियों को उनके स्वास्थ्य के बारे में जागरूक करना और उसके लिए सभी विकल्प मुहैय्या कराना मुश्किल ही रहेगा.


वीडियो : पुलिस कमिश्नर अमूल्य पटनायक की इस बात पर प्रदर्शन कर रहे दिल्ली पुलिस वाले शोर मचाने लगे

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

ड्राइवर्स ने गुड़गांव से इंजिनियर लड़की को कैब में बैठाया, ग्रेटर नोएडा ले जाकर गैंगरेप किया

ऑनलाइन कैब बुक नहीं हुई थी. इसलिए लड़की ने हाथ से कैब रुकवाई थी.

लड़का दारू पीकर मां, भाभी और बहन का रेप करता था, परिवार ने मार डाला

हत्या वाले दिन भी भाभी का रेप करने की कोशिश कर रहा था.

रेप के लिए झाड़ियों में ले गया, कुछ लोगों ने बचाया, फिर उन्होंने ही गैंगरेप किया

नोएडा में पुलिस चौकी से आधा किलोमीटर दूर हुई घटना.

13 साल की जिस लड़की ने रात भर हुए गैंगरेप के बाद आत्महत्या की, वो पहले से प्रेगनेंट थी

एक-दो नहीं. छह लोग. छह रेपिस्ट.

अंग्रेजी कमजोर थी, इसलिए कॉलेज स्टूडेंट ने सुसाइड कर लिया

स्कूल की पढ़ाई हिंदी में की थी. कॉलेज अंग्रेजी में कर रही थी.

मुजफ्फरपुर शेल्टर होम में बच्चियों से बलात्कार केस का फैसला टल गया है

वकीलों की हड़ताल की वजह से फैसले में देरी होगी.

रेप के बाद नाबालिग मां बन गई, पंचायत ने बच्चे को 20 हजार में बेचने का फरमान सुना दिया!

पहली बार टीचर ने, फिर बिजली बनाने वाले रेप किया था.

अस्पताल के टॉयलेट में इस महिला ने जो किया जान लेंगे तो आपको स्कूल याद आ जाएगा

पुलिसवाले टॉर्च लेकर उसे ढूंढ़ रहे हैं.

बर्फीली नदी में डूब रहा था, लोग बचाने गए तो पता चला लाश के टुकड़े ठिकाने लगा रहा था

मगर ये कुछ भी नहीं था, पूरी कहानी अभी बाकी थी.

81 साल की बुजुर्ग महिला के मुंह पर कालिख पोती, नंगे पांव पूरे गांव में घसीटा

जूतों की माला पहनाई.