Submit your post

Follow Us

यूपी की 'अतिक्रमण स्पेशलिस्ट' के बारे में जानकर आप तारीफ किए बिना नहीं रहेंगे

हाथरस मामले में गैंगरेप की पुष्टि नहीं

इन महिला साइंटिस्ट्स ने जीता बड़ा इनाम

बॉलीवुड की ‘लाडली’ को याद कर रहा गूगल

इन सबके बारे में जानेंगे ऑडनारी के स्पेशल न्यूज बुलेटिन WIN, यानी विमेन इन न्यूज में. जहां हम बात करते हैं महिलाओं की, उनसे जुड़ी खबरों की, और ख़बरों में महिलाओं की. बढ़ते हैं पहली खबर की ओर.

# दलित लड़की की मौत के बाद सोशल मीडिया पर बवाल

यूपी का हाथरस जिला. यहां एक गांव में 14 सितंबर की सुबह 19 साल की दलित लड़की जख्मी हालत में मिली. हाथरस से लेकर अलीगढ़ और फिर दिल्ली के अस्पतालों में उसका इलाज चला. वेंटिलेटर पर रखा गया. लेकिन सारी कोशिशें नाकाम रहीं. 29 सितंबर की सुबह उसकी सांसें थम गईं.

ये मामला ‘हाथरस गैंगरेप’ के नाम से सोशल मीडिया पर वायरल होने लगा. ये भी खबरें चलीं कि लड़की की रीढ़ की हड्डी टूट गई है. हालांकि हाथरस के एसपी विक्रांत वीर के मुताबिक़, हाथरस या अलीगढ़ के डॉक्टर्स द्वारा यौन हिंसा की पुष्टि नहीं की गई है. इसमें फ़ॉरेंसिक मदद ली जाएगी. एसपी ने कहा कि ख़बरों में चल रही जीभ कटने की बातें निराधार हैं. रीढ़ की हड्डी टूटने की खबरें भी सही नहीं हैं. लड़की का दम घोंटा गया था. और उसकी गर्दन की हड्डी पर कई चोटें लगी थीं. 14 सितंबर को लड़की के घरवालों ने यौन शोषण और हिंसा की शिकायत दर्ज कराई थी. जब लड़की को अलीगढ़ भेजा गया, तब वहां वो स्टेबल हुई थी. FIR भी दर्ज हुई थी.

पुलिस ने मामले में आरोपी संदीप, उसके रिश्तेदार रवि और एक दोस्त लव-कुश को गिरफ्तार कर लिया है. बाद में चौथे आरोपी रामू को भी पकड़ लिया गया. सोशल मीडिया पर भी लोग गुनहगारों को कड़ी सज़ा देने की मांग कर रहे हैं.

# एक्ट्रेस ने NCB की जांच को लेकर कह दी बड़ी बात

सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद बॉलीवुड में ड्रग्स के फैले जाल का पर्दाफाश करने में जांच एजेंसियां जुट गई हैं. नए-नए नाम सामने आ रहे हैं.

वॉट्सऐप चैट के स्क्रीनशॉट भी वायरल हुए हैं, जिनमें दीपिका के होने का दावा किया जा रहा है. NCB यानी नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर, सारा अली खान और रकुल प्रीत सिंह जैसी कई एक्ट्रेस से सवाल-जवाब कर चुका है. इसी सिलसिले में एक्ट्रेस सुचित्रा कृष्णमूर्ति ने NCB की जांच पर अपनी बात रखी है. उन्होंने ट्वीट में लिखा-

फिल्मों में ‘क्या माल है’ कहने को आम बात बनाने से लेकर असल जिंदगी में एक औरत के ‘माल है क्या’ पूछने पर नथुने फड़काने तक- स्त्रीद्वेष के हमारे पूरे कल्चर को दोबारा सेट करने की ज़रूरत है. मुझे आश्चर्य इस बात का है कि NCB की जांच में किसी भी पुरुष का नाम न तो आया, न ही उन्हें जांच के लिए बुलाया गया. केवल महिलाओं को शर्मिन्दा किया जा रहा है.

# साइंस के फील्ड में जाबड़ काम कर रही महिला साइंटिस्ट्स को मिला अवॉर्ड

शांति स्वरूप भटनागर सम्मान. साइंस और तकनीक के क्षेत्र में बेहतरीन काम करने वालों को ये अवॉर्ड दिया जाता है. ये नाम दिया गया है काउंसिल ऑफ साइंटिफिक एंड इंडस्ट्रियल रिसर्च नाम की संस्था के फाउंडर डायरेक्टर डॉ. शांति स्वरूप भटनागर के नाम पर. इस साल इन अवॉर्ड्स में जिन महिला साइंटिस्टों के चर्चे हो रहे हैं, वो हैं डॉ. ज्योतिर्मयी दास और बुशरा अतीक.

डॉ. ज्योतिर्मयी दास कोलकाता के जादवपुर में ‘इन्डियन एसोसिएशन फॉर द कल्टिवेशन ऑफ साइंस’ के ऑर्गनिक केमिस्ट्री डिपार्टमेंट में प्रोफ़ेसर हैं. इनका काम इस पर रिसर्च करना है कि कैसे दवाओं के छोटे-छोटे अणु कैंसर को रोकने में मददगार साबित हो सकते हैं. इन्होंने IIT कानपुर से Ph.D. की डिग्री ली है. ये सम्मान पाने वाली वह ओडिशा की महिला साइंटिस्ट हैं.

Jyotirmayee Dash Tw 2
SSB पुरस्कार 45 वर्ष से कम उम्र के लोगों को दिया जाता है.(तस्वीर: ट्विटर)

डॉ. बुशरा अतीक़ IIT कानपुर के डिपार्टमेंट ऑफ बायोलॉजिकल इंजीनियरिंग में एसोसिएट प्रोफ़ेसर हैं. इन्होंने अपनी पढ़ाई और Ph.D. अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी से पूरी की है. इनका रिसर्च का काम प्रोस्टेट, ब्रेस्ट और अंतड़ियों के कैंसर के ऊपर फोकस्ड है. ब्रेस्ट और प्रोस्टेट कैंसर को फैलाने वाले तत्वों पर रिसर्च कर रही हैं. इन्हें रोकने के तरीके और कैंसर को शुरुआती स्टेज में ही पहचानने की तकनीक पर काम कर रही हैं.

Bushra Ateeq Tw
बुशरा अतीक की  कैंसर रीसर्च ने उन्हें ये अवॉर्ड दिलवाया.(तस्वीर: ट्विटर)

# फिल्म इंडस्ट्री की ‘लाडली’ जोहरा सहगल को गूगल ने किया याद

आज के दिन गूगल ने अपने होम पेज पर स्वर्गीय एक्ट्रेस जोहरा सहगल को जगह दी है. उनके नाम का बना ये डूडल उनकी फिल्म ‘नीचा नगर’ की याद में बनाया गया है. 29 सितम्बर को ही साल 1946 में ‘नीचा नगर’ कान फिल्म फेस्टिवल में दिखाई गई थी. इसके डायरेक्टर थे चेतन आनंद. फेस्टिवल का सबसे बड़ा सम्मान- पाम डि ओर इस फिल्म को दिया गया था. इसे भारतीय सिनेमा की पहली अंतरराष्ट्रीय सफलता माना जाता है. जोहरा सहगल सात दशकों से भी अधिक समय तक फिल्म इंडस्ट्री में एक्टिव रहीं. उन्हें सिनेमा और कला में योगदान के लिए पद्मश्री और पद्म विभूषण से सम्मानित किया गया था. 2014 में उनका निधन हुआ.

जोहरा सहगल हाल की फिल्मों में दादी-नानी के रोल में नज़र आया करती थीं.
जोहरा सहगल हाल की फिल्मों में दादी-नानी के रोल में नज़र आया करती थीं.

# आज की ऑडनारी 

इसमें हम आपको मिलवाते हैं एक ऐसी आम महिला या लड़की से, जो कोई सिलेब्रिटी नहीं होती. लेकिन उससे देश की सभी महिलाएं प्रेरणा ले सकती हैं.

आज की ऑडनारी हैं अमिता वरुण. उत्तर प्रदेश के मेरठ में सरधना नाम की जगह है. यहीं पर म्युनिसिपल कॉरपोरेशन में एग्जिक्यूटिव ऑफिसर के पद पर अमिता ने पिछले साल जॉइन किया था. इनका हाल में ट्रांसफर हुआ है. ख़बरों में इसलिए हैं, क्योंकि अब तक इनके करीब 17 ट्रांसफर हो चुके हैं. लोग इन्हें ‘अतिक्रमण स्पेशलिस्ट’ के नाम से बुलाते हैं, क्योंकि सरकार के आदेशों पर ये फटाफट अतिक्रमण हटवाया करती थीं.

ऑडनारी से बातचीत में इन्होंने बताया,

‘सरकार जहां मुझे भेजेगी, हम वहीं काम करेंगे. इस ट्रांसफर से मुझे कोई दिक्कत नहीं है. मेरा पहला ट्रांसफर जहांगीराबाद से हुआ था. इस बात पर कि मैंने वहां अतिक्रमण हटवाया था और व्यापारियों ने नारे लगवा दिए थे.’

अमिता ने लगातार ट्रांसफर को लेकर 2018 में इलाहाबाद हाई कोर्ट में याचिका डाली थी. तब अदालत ने कहा था कि अगर भ्रष्टाचार के कोई आरोप नहीं हैं, तो इस तरह के ट्रांसफर सही नहीं हैं. अब अमिता की पोस्टिंग बुलंदशहर के जहांगीराबाद में हुई है.

Amita Varun 2
अमिता 2007 बैच की अधिकारी हैं.(तस्वीर: स्पेशल अरेंजमेंट)

तो ये थीं आज की ख़बरें. कल फिर मिलेंगे विमेन इन न्यूज़ में. अगर आप भी जानते हैं ऐसी महिलाओं को, जो दूसरों के लिए मिसाल हैं, तो हमें उनके बारे में बताइए. मेल करिए lallantopwomeninnews@gmail.com पर.


वीडियो : हाथरस गैंगरेप: लड़की की मौत के बाद सोशल मीडिया पर लोगों ने सरकार से क्या कहा?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

हाथरस केस: जिस परिवार ने बेटी खोई, पुलिस उसे अंतिम संस्कार पर ज्ञान दे रही थी

हाथरस केस: जिस परिवार ने बेटी खोई, पुलिस उसे अंतिम संस्कार पर ज्ञान दे रही थी

परिवार चाहता था कि अंतिम विदाई से पहले बेटी एक बार घर आ जाए. पुलिस नहीं मानी.

हाथरस केस: परिवार का आरोप, 'जबरन जला दिया बेटी का शरीर, हमें आखिरी बार देखने भी न दिया'

हाथरस केस: परिवार का आरोप, 'जबरन जला दिया बेटी का शरीर, हमें आखिरी बार देखने भी न दिया'

अंतिम संस्कार के वक्त परिवार वाले मौजूद नहीं थे.

हाथरस: कथित गैंगरेप के बाद लड़की को इतना पीटा कि रीढ़ टूट गई, 15 दिन तड़पने के बाद मौत

हाथरस: कथित गैंगरेप के बाद लड़की को इतना पीटा कि रीढ़ टूट गई, 15 दिन तड़पने के बाद मौत

गर्दन, स्पाइनल कॉर्ड, सब जगह गहरी चोट लगी थी.

वेब सीरीज में काम दिलाने के बहाने तस्वीरें मंगवाता, फिर ब्लैकमेल करता था

वेब सीरीज में काम दिलाने के बहाने तस्वीरें मंगवाता, फिर ब्लैकमेल करता था

आरोपी ने सोशल मीडिया पर कई फेक प्रोफाइल्स बना रखी थीं.

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोप-लड़का है या लड़की, पता करने के लिए आठ महीने की गर्भवती का पेट चीर दिया

आरोपी की पांच बेटियां हैं.

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

उस समय मां ने ही शव की पहचान की थी.

कैब ड्राइवर कर रहा था गंदे इशारे, सांसद-एक्ट्रेस ने ऐसे सिखाया सबक

कैब ड्राइवर कर रहा था गंदे इशारे, सांसद-एक्ट्रेस ने ऐसे सिखाया सबक

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है.

झारखंड: परिवार का आरोप- क्लीनिक में पहले बेटी का यौन शोषण हुआ, फिर मां को 40 लोगों ने पीटा

झारखंड: परिवार का आरोप- क्लीनिक में पहले बेटी का यौन शोषण हुआ, फिर मां को 40 लोगों ने पीटा

रसूखदार डॉक्टर और कम्पाउंडर पर लगे गंभीर आरोप.

पाकिस्तान में विदेशी महिला से गैंगरेप के बाद जनता सड़कों पर उतर आई है

पाकिस्तान में विदेशी महिला से गैंगरेप के बाद जनता सड़कों पर उतर आई है

इस गैंगरेप के बाद जांच अधिकारी के दिए बयान से लोग गुस्से में हैं.

उत्तराखंड: परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की, तो घर के सामने ही गोलियों से भून डाला!

उत्तराखंड: परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की, तो घर के सामने ही गोलियों से भून डाला!

उधम सिंह नगर जिले से आया ऑनर किलिंग का खौफनाक मामला.