Submit your post

Follow Us

ऑपरेशन पर जोर दे रहा था अस्पताल, महिला ने टॉयलेट में बच्चे को जन्म दिया और बहुत बुरा हुआ

435
शेयर्स

बिजनौर के सरकारी महिला अस्पताल से दिल तोड़ देने वाली खबर आई है. यहां एक महिला अपनी डिलीवरी के लिए आई. लेकिन कथित तौर पर अस्पताल की अनदेखी की वजह से उसके बच्चे की मौत हो गई.

मामला क्या है?

आज तक से जुड़े संजीव शर्मा ने बिजनौर के जिला महिला अस्पताल में जाकर इस मामले से जुड़ी जानकारी ली. कनकपुरी की रहने वाली रिंकी अस्पताल में भर्ती हुई थी. परिवार वालों ने आरोप ये लगाया कि अस्पताल वाले उसकी डिलीवरी के लिए ऑपरेशन कराने पर जोर दे रहे थे. नॉर्मल डिलीवरी नहीं करा रहे थे. यही नहीं, आरोप ये भी लगा कि उन्होंने प्रेगनेंट रिंकी की कोई देखभाल नहीं की.

घरवालों ने आरोप ये लगाया है कि अस्पताल वाले जानबूझकर नॉर्मल डिलीवरी नहीं होने दे रहे थे (तस्वीर: संजीव शर्मा)
घरवालों ने आरोप ये लगाया है कि अस्पताल वाले जानबूझकर नॉर्मल डिलीवरी नहीं होने दे रहे थे (तस्वीर: संजीव शर्मा)

सुबह जब रिंकी टॉयलेट के लिए गई तो उसने बच्चे को वहीं जन्म दे दिया. बच्चा नीचे गिरा और इस वजह से उसकी मौत हो गई, ऐसे आरोप रिंकी के परिवार वालों ने लगाए हैं. जब स्टाफ की लापरवाह की बात उठी तो अस्पताल की CMS ने जांच के आदेश दिए.

पूरे मामले के दौरान परिवारवालों ने इस बात को लेकर हंगामा भी शुरू कर दिया, जिसके बाद लोकल मीडिया ने इस खबर को उठाया.


वीडियो:  अमेठी: हिरासत में मौत मामले में यूपी पुलिस के खिलाफ FIR, मजिस्ट्रेट जांच के आदेश

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

सरोगेसी रेगुलेशन बिल में ऐसा क्या है कि राज्यसभा में उस पर बवाल मचा हुआ है

इतनी बंदिशें हैं कि बच्चा चाहने वाले जोड़े का दिमाग घूम जाए.

रानू मंडल का मेकअप करने वाली आर्टिस्ट क्या कहती हैं?

रानू की वायरल तस्वीर पर बयान दिया है.

मेट्रो में लड़की को 'संस्कार' सिखाने वाली महिला ने साबित कर दिया कि बुजुर्ग हमेशा सही नहीं होते

कुछ बेहद घटिया तरीके से जजमेंटल होते हैं.

मिस यूनिवर्स सुष्मिता सेन, जिनके जीवन में गंदगी खोजने की कोशिश लोग आज भी कर रहे हैं

जिनकी 20 साल की बेटी की 'हॉट पिक्स' गैलरी आपको कहीं नहीं मिलेगी.

लोगों को ट्रैफिक रूल सिखाने के लिए MBA स्टूडेंट सड़क पर डांस कर रही है

और उनके साथ ट्रैफिक पुलिस वाले भी नाच रहे हैं.

रानू मंडल का भुतहा मेकअप बुरा है, मगर उससे भी बुरा कुछ है जो उनके साथ हो रहा है

मीम्स देखकर हंस चुके हों तो ये भी पढ़ लें.

और इस तरह दिव्या खोसला कुमार और नेहा कक्कड़ ने मेरे बचपन की यादों का सर्वनाश किया

आज तक 'याद पिया की आने लगी' से घटिया भी कुछ बना है क्या?

सबरीमाला मंदिर में जाने से केरल पुलिस ने 10 महिलाओं को क्यों रोका?

16 नवंबर को मंडल उत्सव के लिए कपाट खोला गया.

एक काली लड़की की कहानी जिसे फिल्मों में नहीं दिखाया जाता

जिसे स्ट्रॉन्ग रोल मिल भी जाएं, नायक नहीं मिलते.

सबरीमाला मंदिर पर अब सुप्रीम कोर्ट की बड़ी बेंच सुनवाई करेगी

महिलाओं के प्रवेश को लेकर मचा बवाल अब और लंबा खिंचेगा.