Submit your post

Follow Us

'हकलाने' से परेशान हैं तो डॉक्टर की बताई इन टेक्नीक्स का इस्तेमाल करें

यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.

‘हकलाना’. इस शब्द का इस्तेमाल लोगों का मज़ाक उड़ाने के लिए अक्सर किया जाता है. यहां तक कि हमारे न्यूज़रूम में भी इसको लेकर बहस हो गई. बहस कि ‘हकलाना’ शब्द का इस्तेमाल किया भी जाए या नहीं. या इसे अटकना. शब्द फंसना कहें. ये बहस क्यों हुई? शायद दीप की कहानी पढ़कर आप समझ जाएं.

दीप 19 साल के हैं. दरभंगा के रहने वाले हैं. उनका हमें मेल आया. दीप ने बताया कि वो बचपन से हकलाते हैं. स्कूल में सारे बच्चे उनका मज़ाक उड़ाते थे. हकलाने की वजह से उनका कॉन्फिडेंस एकदम खत्म सा हो गया. क्लास में अगर उनसे कोई सवाल पूछा जाता था वो बहुत नर्वस हो जाते थे. उनका जवाब पता होता था, पर लोगों के सामने बोलने से डरते थे. घबराहट में वो और ज्यादा हकलाने लगते थे. कॉलेज में भी यही हाल रहा. अब दीप नौकरी ढूंढ रहे हैं. उन्हें डर है कि उनके हकलाने की वजह उन्हें अच्छी नौकरी नहीं मिलेगी. वो चाहते हैं हम उनकी मदद करें. एक्सपर्ट्स और डॉक्टर्स से इसका तोड़ पूछें. हकलाने की दिक्कत को लेकर हमें पिछले कुछ महीनों में कई मेल्स आए हैं. तो चलिए आज बात करते हैं हकलाने के बारे में.

लोग क्यों हकलाते हैं?

ये हमें बताया डॉक्टर राक़िब ने.

रकिब अली, कंसलटेंट क्लिनिकल साइकॉलजस्ट, बीएलके हॉस्पिटल, नई दिल्ली
रकिब अली, कंसल्टेंट क्लिनिकल साइकोलॉजिस्ट, बीएलके हॉस्पिटल, नई दिल्ली

‘हकलाना’ एक बहुत ही आम स्पीच की प्रॉब्लम है. हकलाने में एक ही शब्द या आवाज़ थोड़ा लंबा खिंच जाता है. ये दिक्कत 1000 में एक इंसान को होती है. ज़्यादातर बचपन में ‘हकलाना’ शुरू हो जाता है, उम्र के साथ कई लोगों की ये दिक्कत अपने-आप ठीक भी हो जाती है. हर तीन में से दो बच्चे हकलाने की प्रॉब्लम से निपट लेते हैं.

हकलाने के मुख्य दो टाइप होते हैंः

-पहला टाइप है डेवलपमेंटल स्टैमरिंग. जो कि बचपन में ही शुरू हो जाती है. ढंग से बोल पाने में दो से साढ़े तीन साल का समय लगता है. इसी बीच हकलाने की आदत शुरू हो जाती है.

-दूसरा टाइप है लेट ऑनसेट स्टैमरिंग. ये बड़ों में होता है. ये ब्रेन को नुकसान पहुंचने से होता है. जैसे हेड इंजरी या स्ट्रोक. या कोई ऐसी बीमारी जिससे ब्रेन सेल्स डैमेज हो रहे हों. साइकोजेनिक यानी किसी बहुत बड़े इमोशनल ट्रॉमा के कारण.

लेट ऑनसेट स्टैमरिंग के कारण पता चल जाते हैं. वहीं डेवलपमेंटल स्टैमरिंग (यानी बचपन में ‘हकलाना’) के कारण अभी तक पता नहीं चल पाए हैं. डेवलपमेंटल स्टैमरिंग का एक कारण जेनेटिक भी हो सकता है क्योंकि 3 में से 2 लोगों में हकलाने की फैमिली हिस्ट्री पाई जाती है.

Image result for stammering
हकलाने की दिक्कत 1000 में एक इंसान को होती है

हकलाने के पीछे क्या कारण हो सकते हैं, वो डॉक्टर साहब ने बता दिया. अब बात करते है कि अगर बचपन से हकलाने की आदत है तो मां-बाप को किन बातों का ध्यान रखना चाहिए और सबसे ज़रूरी. इसका इलाज क्या है?

माता-पिता के लिए टिप्स

अगर आपका बच्चा ‘हकलाना’ है तो पेरेंट्स की प्रतिक्रिया बहुत ज़रूरी होती है. ये या तो बच्चे के हकलाने को ठीक कर सकती है या काफ़ी समय तक बच्चे के हकलाने को बढ़ा भी सकती है.

ऐसे में मां-बाप को क्या-क्या नहीं करना चाहिए?

-अगर बच्चा हकला रहा है तो उस समय उसकी बात को पूरा करने की कोशिश न करें

-उस टाइम दें खुद से ही पूरा करने के लिए

-हकलाने के लिए उसकी आलोचना न करें, उसका मज़ाक न उड़ाएं

-उसको घूरें न

-अपनी भावनाओं से बच्चे में इंटरेस्ट दिखाएं

-जो बच्चा बोल रहा है, उसमें रुचि दिखाएं

-लगातार उसके साथ आई कॉन्टैक्ट न रखें

-आपके घूरने से बच्चा झेंप सकता है

-मां-बाप को काफ़ी रिलैक्स होना पड़ता है

-क्योंकि अगर बच्चा देखता है कि उसके हकलाने से मां-बाप परेशान हो रहे हैं तो वो भी डर जाता है

इलाज

-पहली चीज़ है डायरेक्ट थेरैपी. अगर ‘हकलाना’ बचपन से शुरू हो जाता है और चलते जा रहा है तो स्पीच थेरैपिस्ट डायरेक्ट बच्चे से बात कर सकते हैं. इस थेरैपी में ऐसे तरीके मौजूद हैं जिनकी मदद से हकलाने पर काबू पाया जा सकता है.

-अगर ब्रेन को नुकसान पहुंचने के कारण ‘हकलाना’ शुरू हुआ है तो न्यूरोलॉजिस्ट के साथ मिलकर एक पूरी टीम पता लगाती है कि ब्रेन के किस हिस्से में चोट लगी है और कैसे थेरैपी और दवाइयों की मदद से हकलाने को ठीक किया जा सकता है

-अगर ‘हकलाना’ किसी ट्रॉमा के कारण शुरू हुआ है तो ट्रॉमा फ़ोकस्ड थेरैपी काम आती है. इसके लिए साइकॉलजिस्ट से मिलिए

-हकलाने के बाद जो मानसिक प्रतिक्रिया होती है जैसे डर, घबराहट, अपने बारे में नेगेटिव राय, इसको ट्रीट करना भी बहुत ज़रूरी है

-ऐसा कॉग्निटिव बिहेवियर थेरैपी की मदद से होता है. इसमें ट्रेन्ड एक्सपर्ट बात करते हैं और समझाते हैं, समझाया जाता है कि बोलते समय कैसे एंग्जायटी पर काबू करें, किसी जल्दबाज़ी में न पड़ें बोलते समय. अपने बारे में नेगेटिव भावनाओं को पहचानें और उनपर काम करें, कई बार सम्मोहन जैसी थेरैपी भी बड़ों के साथ कारगर पाई जाती हैं.

इलाज के बारे में तो हमें डॉक्टर साहब ने बता दिया. अब जानते हैं एक स्पीच थेरैपिस्ट से कुछ ऐसी टिप्स के बारे में जो ‘हकलाने’ से निपटने में काफ़ी मददगार साबित होती हैं.

टिप्स

टिप्स हमें बताईं स्पीच थेरैपिस्ट राजीव रंजन ने.

राजीव रंजन, स्पीच थेरैपिस्ट, नई दिल्ली
राजीव रंजन, स्पीच थेरैपिस्ट, नई दिल्ली

-सबसे पहले तो जो लोग ‘हकलाते’ हैं उन्हें एक रिलैक्स वातावरण देना चाहिए

-कुछ एक्सरसाइज़ हैं जो बहुत काम आती हैं. जैसे डीप ब्रीदिंग एक्सरसाइजेज़

-वोकल फ़ोल्ड की एक्सरसाइज. वोकल फ़ोल्ड में आप एक गहरी सांस लें फिर ‘अ’ बोलें, जितना लंबा बोल सकें

-दूसरी चीज़. फ़ोनेशन ड्यूरेशन. इसमें आप किसी भी हिंदी स्वर को कितनी लंबी देर तक बोल सकते हैं उसकी एक्सरसाइज़ होती है. उसमें सारे हिंदी स्वर आ सकते हैं.

-वाक्य बोलते समय हैमर टेक्नीक का इस्तेमाल करें. इसमें शब्दों को धीरे-धीरे बोलना होता है. इस टेक्नीक से आप बोलने की प्रैक्टिस कर सकते हैं.

-अगर आप ज़्यादा ‘हकलाते’ हैं तो आपनी सांसों को कंट्रोल करने की कोशिश करिए

-जहां भी आपको लगता है आप अटकने वाले हैं, वहां सांस अंदर खींचिए फिर बोलना शुरू कीजिए

अगर आपको हकलाने की आदत है तो ज़रूरी है कि मदद के लिए आप एक स्पीच थेरैपिस्ट से मिलें. आपको काफ़ी फ़ायदा होगा. जो टिप्स आपने सुनीं, ये हकलाने से निपटने में बहुत कारगर साबित होंगी.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

यूपी: नाबालिग ने 28 पर किया गैंगरेप का केस, FIR में सपा-बसपा के जिलाध्यक्षों के भी नाम

यूपी: नाबालिग ने 28 पर किया गैंगरेप का केस, FIR में सपा-बसपा के जिलाध्यक्षों के भी नाम

पिता के अलावा ताऊ, चाचा पर भी लगाए गंभीर आरोप.

कश्मीरी पंडित की हत्या के बाद बेटी ने आतंकियों को 'कुरान का संदेश' दे दिया!

कश्मीरी पंडित की हत्या के बाद बेटी ने आतंकियों को 'कुरान का संदेश' दे दिया!

श्रद्धा बिंद्रू ने आतंकियों को किस बात के लिए ललकारा है?

बिहार: महिला चिल्लाती रही, लोग बदन पर हाथ डालते रहे; वीडियो भी वायरल किया

बिहार: महिला चिल्लाती रही, लोग बदन पर हाथ डालते रहे; वीडियो भी वायरल किया

बिहार की पुलिस ने क्या एक्शन लिया?

महिला अफसर के यौन उत्पीड़न का ये मामला है क्या जिसके छींटे वायु सेना पर भी पड़े हैं?

महिला अफसर के यौन उत्पीड़न का ये मामला है क्या जिसके छींटे वायु सेना पर भी पड़े हैं?

आरोपी अफसर पर बलात्कार से जुड़ी धारा 376 लगी है.

परिवार ने पूरे गांव के सामने पति-पत्नी की हत्या कर दी, 18 साल बाद फैसला आया है

परिवार ने पूरे गांव के सामने पति-पत्नी की हत्या कर दी, 18 साल बाद फैसला आया है

कोर्ट ने एक को फांसी और 12 लोगों को उम्रकैद की सज़ा दी है.

असम से नाबालिग को किडनैप कर राजस्थान में बेचा, जबरन शादी और फिर रोज रेप की कहानी

असम से नाबालिग को किडनैप कर राजस्थान में बेचा, जबरन शादी और फिर रोज रेप की कहानी

नाबालिग 15 साल की है और एक बच्चे की मां बन चुकी है.

डोंबिवली रेप केसः 15 साल की लड़की का नौ महीने तक 29 लोग बलात्कार करते रहे

डोंबिवली रेप केसः 15 साल की लड़की का नौ महीने तक 29 लोग बलात्कार करते रहे

नौ महीने के अंतराल में एक वीडियो के सहारे बच्ची का रेप करते रहे आरोपी.

यौन शोषण की शिकायत पर पार्टी से निकाला, अब मुस्लिम समाज में सुधार के लिए लड़ेंगी फातिमा तहीलिया

यौन शोषण की शिकायत पर पार्टी से निकाला, अब मुस्लिम समाज में सुधार के लिए लड़ेंगी फातिमा तहीलिया

रूढ़िवादी परिवार से ताल्लुक रखने वाली फातिमा पेशे से वकील हैं.

रेप की कोशिश का आरोपी ज़मानत लेने पहुंचा, कोर्ट ने कहा- 2000 औरतों के कपड़े धोने पड़ेंगे

रेप की कोशिश का आरोपी ज़मानत लेने पहुंचा, कोर्ट ने कहा- 2000 औरतों के कपड़े धोने पड़ेंगे

कपड़े धोने के बाद प्रेस भी करनी होगी. डिटर्जेंट का इंतजाम आरोपी को खुद करना होगा.

स्टैंड अप कॉमेडियन संजय राजौरा पर यौन शोषण के गंभीर आरोप, उनका जवाब भी आया

स्टैंड अप कॉमेडियन संजय राजौरा पर यौन शोषण के गंभीर आरोप, उनका जवाब भी आया

इस मामले पर विक्टिम और संजय राजौरा की पूरी बात यहां पढ़ें.