Submit your post

Follow Us

अगर बचपन में हो चुका है चिकन पॉक्स तो इस बीमारी से बचकर रहें

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

बचपन में हममें से ज़्यादातर लोगों को चिकन पॉक्स हुआ है. आपको याद होगा इसमें पूरे शरीर पर पानी वाले दाने निकल आते हैं. बहुत खुजली होती है. कुछ लोगों को बुखार भी आता है. जिन लोगों को बचपन में चिकन पॉक्स हो चुका है, वो ख़ुद को बहुत लकी समझते हैं. क्यों? क्योंकि उन्हें ऐसा लगता है चलो भई निपट गए. अब दोबारा कभी चिकन पॉक्स नहीं होगा. ये बहुत ही आम धारणा है. पर इसी चिकन पॉक्स का एक एडल्ट वर्शन भी होता है. जिसका नाम है शिंगल्स वायरस. हो सकता है आप पहली बार इसके बारे में सुन रहे हों, पर ये बहुत ही ज्यादा आम है.

मेदांता में छपी रिपोर्ट के मुताबिक, इंडिया में हर साल शिंगल्स वायरस के 10 लाख केसेस सामने आते हैं. तो सबसे डॉक्टर्स से ये जानते हैं कि शिंगल्स क्या होता है और क्यों हो जाता है?

शिंगल्स क्या होता है?

ये हमें बताया डॉक्टर नेहा रस्तोगी पांडा ने.

Dr Neha Rastogi Panda: Read all stories from Dr Neha Rastogi Panda | Healthshots
डॉक्टर नेहा रस्तोगी पांडा, कंसल्टेंट, संक्रामक बीमारियां, फ़ोर्टिस, गुरुग्राम

-अलग-अलग वायरस हमारे शरीर को अलग-अलग तरह से नुकसान पहुंचाते हैं.

-उनमें से सबसे आम वायरस है शिंगल्स वायरस.

-शिंगल्स वायरस चिकन पॉक्स के वायरस से आता है.

-वेरिसेला जोस्टर वायरस जिसकी वजह से बचपन में चिकन पॉक्स होता है.

-ये आगे जाकर शिंगल्स वायरस का कारण बनता है.

कारण

-जब किसी इंसान को बचपन में या एडल्ट लाइफ में चिकन पॉक्स का अटैक होता है.

-तब वो वायरस हमारे शरीर के अंदर नर्व्स यानी नसों में या स्पाइनल कॉर्ड में चिपककर वहीं रहता है.

-ये वायरस हमारे शरीर में पड़ा रहता है.

-उम्र के साथ वो वायरस वहीं का वहीं रहता है.

-आगे जाकर किसी भी कारण से आपकी इम्युनिटी डाउन होती है.

-जैसे किसी पेशेंट को कैंसर डिटेक्ट हो.

-या कोई पेशेंट किसी कारण से स्टेरॉयड ले रहा हो.

-या कोई ऐसा इन्फेक्शन हुआ हो जिससे इम्युनिटी पर असर पड़ा हो.

-तो ये वायरस जो आपके शरीर में पहले से पड़ा है.

-वो दोबारा से एक्टिव हो जाता है.

Shingles - Shingles Symptoms and Treatment | familydoctor.org
शिंगल्स वायरस चिकन पॉक्स के वायरस से आता है

-ये शिंगल्स के रूप में बाहर आता है.

कौन इसके ज़्यादा रिस्क पर है?

-ये वायरस हम सबके शरीर में कभी न कभी रहा होगा.

-क्योंकि ज़्यादातर हम सबको चिकन पॉक्स होता है.

-पर अगर किसी की इम्युनिटी कम हुई है.

-या किसी की उम्र 60 साल से ज्यादा है.

-या किसी पेशेंट की कीमोथेरेपी या कैंसर की दवाइयां शुरू हुई हैं.

-या कोई पेशेंट लंबे समय से स्टेरॉयड पर है.

-तो ऐसे लोगों को शिंगल्स होने का रिस्क ज्यादा है.

-उसके अलावा अगर किसी पेशेंट को शिंगल्स एक्टिव बीमारी है.

-उस पेशेंट के संपर्क में आने वाले लोग ज्यादा रिस्क पर होते हैं.

-अगर पेशेंट के आसपास के तौलिए, चादर या उससे मिलती-जुलती किसी भी चीज़ को इस्तेमाल कर रहे हैं.

-और उस टाइम पर शिंगल्स एक्टिव है.

-तो सामने वाले इंसान को भी शिंगल्स होने का रिस्क होता है.

लक्षण

-शिंगल्स चिकन पॉक्स जैसा ही होता है.

Shingles: Symptoms, Treatment, and Prevention
शिंगल्स चिकन पॉक्स जैसा ही होता है

-शिंगल्स में स्किन पर मोटे, पानी से भरे दाने होते हैं.

-जो अक्सर पेट से शुरू होते हैं.

-धीरे-धीरे वो हाथ-पैर पर भी हो जाते हैं.

-इनमें काफ़ी जलन होती है.

-क्योंकि ये नसों का वायरस है.

-खुजली बहुत होती है.

-ये दाने धीरे-धीरे पूरे शरीर पर हो जाते हैं.

-ये 5-7 दिनों में अपने आप गिरते हैं.

-झड़ते हैं.

-या निशान पड़ जाते हैं.

-इसके अलावा कुछ पेशेंट्स को बुखार.

-बहुत ज्यादा थकान.

-फ्लू वायरस जैसे लक्षण होते हैं.

-जैसे गले में दर्द.

-खांसी.

-ज़ुकाम हो सकता है.

-शिंगल्स अगर किसी भी इंसान को दोबारा हो रहा है तो वो 5-7 दिनों में इन सारे लक्षणों के साथ आएगा.

-धीरे-धीरे लक्षण ठीक होते जाएंगे.

बचाव

-शिंगल्स से बचने के दो तरीके हैं.

Shingles: Symptoms, treatment, and causes
शिंगल्स अगर किसी भी इंसान को दोबारा हो रहा है तो वो 5-7 दिनों में इन सारे लक्षणों के साथ आएगा

-पहला है एक्टिव फॉर्म.

-यानी अगर आपके सामने वाले इंसान को शिंगल्स है.

-आप उसके संपर्क में आ रहे हैं.

-तो कोशिश करिए कि उससे डायरेक्ट हैंड लिंक न हो.

-ग्लव्स पहनकर ही उस इंसान की देखभाल करें.

-उनके इस्तेमाल किए गए तौलिए, रुमाल, कपड़े, चादर अलग से धोएं.

-कुछ दिनों के लिए पेशेंट को आइसोलेशन में रखें.

-दूसरा तरीका. जिन पेशेंट्स की इम्युनिटी कम है.

-यानी 65 साल से ऊपर के लोग.

-कैंसर पेशेंट्स.

-या जो लोग स्टेरॉयड पर हैं.

-उनके लिए शिंगल्स की दो वैक्सीन उपलब्ध हैं.

-ज़ोस्टावैक्स जो इंडिया में भी उपलब्ध है.

-दूसरी जल्द ही इंडिया में आने वाली है जिसका नाम है शिंगरिक्स वैक्सीन.

-ये ट्रांसप्लांट पेशेंट जैसे किडनी, लिवर या बोन मैरो और कैंसर पेशेंट्स के लिए उपलब्ध हैं.

-इन वैक्सीन की ज़रूरत इसलिए पड़ती है क्योंकि अगर शिंगल्स का इलाज नहीं होता है.

-ये बढ़ता है.

-तो ये कई पेशेंट्स में, ख़ासतौर पर उनमें जिनकी इम्युनिटी कम है.

-उनमें निमोनिया का रूप ले सकता है.

Shingles (Herpes Zoster) - Willis-Knighton Health System - Shreveport - Bossier City - Louisiana
शिंगल्स से बचाव के अलावा, इसका इलाज भी उपलब्ध है

-ब्रेन इन्फेक्शन हो सकता है.

-पूरे शरीर के साथ पेट का इन्फेक्शन भी हो सकता है.

-जिससे ब्लीडिंग हो सकती है.

इलाज

-शिंगल्स से बचाव के अलावा, इसका इलाज भी उपलब्ध है.

-जिन पेशेंट्स में शिंगल्स से होने वाले दाने नहीं जा रहे हैं.

-लगातार बुखार है.

-तो उन्हें एंटी वायरल ड्रग्स दिए जाते हैं.

-यानी वायरस की वो दवाइयां जो चिकन पॉक्स में भी इस्तेमाल होती हैं.

-ये 5-7 दिनों के लिए दी जाती हैं.

-उसके अलावा खुजली के लिए एंटी-एलर्जिक दी जाती हैं.

-स्किन पर लगाने के लिए लोशन दिए जाते हैं.

अगर आपकी इम्युनिटी किसी भी कारण से कमज़ोर है, तो बेहतर है डॉक्टर से डिस्कस कर के आप शिंगल्स की वैक्सीन लगवा लें. साथ ही अगर शिंगल्स के लक्षण महसूस होते हैं तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें और इलाज शुरू करें.


विडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

मां-बाप ने अपने ही बच्चे को 22 कुत्तों के साथ 2 साल तक बंधक बनाया, बच्चा कुत्ते जैसा बर्ताव करने लगा

महाराष्ट्र के पुणे का ये मामला जानकर एक पल को यकीन नहीं होता, लेकिन सच है.

जिस ऑटो वाले ने कोरोना काल में सबकी मदद की, उस पर रेप का आरोप लगा है

आरोपी जावेद को कई संस्थाओं ने सम्मानित किया था.

शादी का कार्ड बांटने निकली लड़की कई दिन बाद मिली; किडनैपिंग, गैंगरेप और बेचे जाने का आरोप

लड़की का आरोप- एक नेता ने कुछ दिन अपने साथ झांसी में रखा था.

महिला पर एसिड फेंका, सज़ा काटी, 17 साल बाद उसी महिला को खोजकर रेप करने का आरोप

आरोप है कि शख्स ने महिला के पति और बच्चों को एसिड से जलाने की धमकी दी थी.

अब अलीगढ़ में पुलिस कॉन्स्टेबल पर नाबालिग के रेप का आरोप लगा है

दूर की रिश्तेदार को लिफ्ट देने के बहाने कॉन्स्टेबल ने रेप किया.

राजस्थान मंत्री महेश जोशी के बेटे रोहित पर रेप और जबरन अबॉर्शन करवाने का आरोप

विक्टिम का आरोप- ड्रिंक्स में नशीली दवा मिलाकर रेप किया, तस्वीरें खींची.

लेखक नीलोत्पल मृणाल पर 10 साल तक महिला के यौन शोषण का आरोप

इस मामले में तीस हज़ारी कोर्ट ने 31 मई तक गिरफ्तारी पर रोक लगाई है

ओडिशा: वैवाहिक विवाद सुलझाने तांत्रिक के पास ले गए, 79 दिनों तक रेप करने का आरोप

विरोध के बावजूद सास ने महिला को तांत्रिक के पास छोड़ दिया.

'हर रात पुल के नीचे करते थे बलात्कार', ललितपुर रेप पीड़िता ने बताई चार दिनों की कहानी

जो बातें पीड़िता ने काउंसलर्स को बताई हैं, वो सुनकर स्तब्ध रह जाएंगे.

मध्य प्रदेश : पति के वकील ने कोर्ट परिसर में महिला को दौड़ा-दौड़ाकर पीटा, देखती रही भीड़

पुलिस ने वकील के ख़िलाफ़ मामला दर्ज किया.