Submit your post

Follow Us

आजकल उम्र से पहले ही क्यों आ रहे हैं लड़कियों के स्तन और पीरियड्स

प्यूबर्टी. यानी वो समय जब बच्चों के शरीर में हॉर्मोनल बदलाव होने शुरू होते हैं. वो शारीरिक बदलावों से गुज़रते हैं. लड़कियों के स्तनों में उभार आने लगता है. लड़के-लड़कियां दोनों के ही प्राइवेट पार्ट्स, अंडर आर्म्स, हाथ-पैरों के बाल बढ़ने लगते हैं. लड़कों के चेहरे पर बाल आने लगते हैं. उनकी आवाज़ बदल जाती है. लड़कियों में पीरियड्स शुरू हो जाते हैं. भारत में प्यूबर्टी की औसत उम्र 11 से 12 साल है. लेकिन क्या हो अगर किसी बच्चे के शरीर में ये बदलाव सात या आठ साल में ही आने लगें? लड़कियों के शरीर में आठ साल और लड़कों के शरीर में नौ साल से पहले अगर प्यूबर्टी दस्तक देने लगे तो उसे प्रिकॉशियस प्यूबर्टी कहते हैं.

लेकिन इसके बारे में हम अभी बात क्यों कर रहे हैं?

टाइम्स ऑफ इंडिया की खबर के मुताबिक, कोविड 19 लॉकडाउन की वजह से प्रिकॉशियस प्यूबर्टी के मामले बढ़े हैं. इस रिपोर्ट में दिल्ली में रहने वाली एक बच्ची के बारे में भी बताया गया है. सात साल की उम्र में ही उसके अंडरआर्म्स में बाल आने लगे थे, उसके स्तन बढ़ने लगे थे. उसके पैरेंट्स ने इन बदलावों को नोटिस किया और उसे तुरंत डॉक्टर के पास लेकर गए. डॉक्टरों ने बच्ची के टेस्ट्स किए, MRI किया, जिसमें सामने आया कि उसे प्रिकॉशियस प्यूबर्टी है.

हालांकि, बच्ची के पीरियड्स शुरू होते, उससे पहले ही उसका इलाज शुरू हो गया. अब उसे हॉर्मोन्स सप्रेस करने की दवाइयां दी जा रही हैं. ताकि, उसके पीरियड्स को तब तक के लिए रोका जा सके जब तक वो उसके लिए तैयार नहीं होती है. हालांकि, शरीर में जो बदलाव आ चुके हैं वो बने रहेंगे.

अखबार ने बच्ची की मां को कोट करते हुए लिखा,

“मेरी बेटी इतनी छोटी है. इन बदलावों से वो कन्फ्यूस्ड और परेशान थी. वो पूछती थी कि उसके शरीर में बाल क्यों हैं जबकि उसके दोस्तों के शरीर में नहीं हैं.”

Dr Nagpal Fortis
डॉक्टर राहुल नागपाल, फोर्टिस अस्पताल, वसंत कुंज दिल्ली.

प्रकॉशियस प्यूबर्टी को समझने के लिए हमने डॉक्टर राहुल नागपाल से बात की. वो वसंत कुंज स्थित फोर्टिस अस्पताल के पीडियाट्रिक्स और नियोनैटोलॉजी विभाग के हेड हैं. उन्होंने बताया,

प्रिकॉशियस प्यूबर्टी वो अवस्था है जब सामान्य से कम उम्र में बच्चों के शरीर में बदलाव आने लगते हैं. लड़कियों में ये आठ साल और लड़कों में नौ साल से पहले अगर बदलाव आते हैं तो वो प्रकॉशियस प्यूबर्टी के लक्षण हैं.

लेकिन Precocious Puberty होती क्यों है?

इस पर डॉक्टर नागपाल ने बताया कि बहुत सारी वजहें हैं जिनके चलते बच्चों में कम उम्र में ही प्यूबर्टी आ जाती है. शरीर में किसी प्रकार का कोई इंफेक्शन हो, हॉर्मोन डिसॉर्डर, ट्यूमर, ब्रेन में कोई दिक्कत या चोट की वजह से ये दिक्कत आ जाती है.

Precocious Puberty1
लड़कों में Precocious Puberty के मामले लड़कियों की तुलना में 10 गुना कम है.फोटो- Pixabay

टाइम्स ऑफ इंडिया की उस रिपोर्ट के मुताबिक, कोविड लॉकडाउन के बाद प्रिकॉशिस प्यूबर्टी के मामलों में बढ़ोतरी हुई है. लॉकडाउन में बच्चे घरों में बंद हो गए, उनका आउटडोर गेम्स खेलना बंद हो गया, ऐसे में घर में बैठे-बैठे कई बच्चों का वज़न बढ़ गया. वज़न बढ़ने से शरीर में हॉर्मोनल चेंजेस आते हैं. डॉक्टर्स के मुताबिक, लॉकडाउन में हो सकता है इस वजह से प्रिकॉशियस प्यूबर्टी के मामले बढ़े हैं. हालांकि, लड़कियों में प्रिकॉशियस प्यूबर्टी के ज्यादातर मामले इडियोपैथिक होते हैं, यानी उसके होने की साफ वजह नहीं होती है.

कितना कॉमन है प्रिकॉशियस प्यूबर्टी?

प्रिकॉशियस प्यूबर्टी एक रेयर कंडीशन है. पूरी दुनिया में देखें तो आमतौर पर हर 500 में से एक लड़की को और हर 2000 में से एक लड़के को ये दिक्कत होती है.


सेहत: किडनी की इस ख़तरनाक बीमारी से कैसे बचें?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

महिला थाना प्रभारी की मौत के बाद हंगामा, परिवार ने साथी सब-इंस्पेक्टर पर टॉर्चर के आरोप लगाए

महिला थाना प्रभारी की मौत के बाद हंगामा, परिवार ने साथी सब-इंस्पेक्टर पर टॉर्चर के आरोप लगाए

आत्महत्या या हत्या? जानिए पूरा मामला

कोरोना ग्रस्त लड़कियों का रेप करने वालों को अपनी जान का डर क्यों नहीं लगता?

कोरोना ग्रस्त लड़कियों का रेप करने वालों को अपनी जान का डर क्यों नहीं लगता?

ये महज़ सेक्शुअल उत्तेजना का मामला नहीं, बात और गहरी है.

असम: परिवार से दूर रहकर दूसरे के घर में 'झाड़ू-पोछा' करती थी, अब इस बच्ची का जला हुआ शव मिला

असम: परिवार से दूर रहकर दूसरे के घर में 'झाड़ू-पोछा' करती थी, अब इस बच्ची का जला हुआ शव मिला

रेप, सेक्शुअल असॉल्ट और प्रेग्नेंसी के आरोपों पर पुलिस चुप क्यों?

आठ महीने की प्रेग्नेंट 'ड्रग क्वीन' साइना को उसके पति ने गोलियों से क्यों भून डाला?

आठ महीने की प्रेग्नेंट 'ड्रग क्वीन' साइना को उसके पति ने गोलियों से क्यों भून डाला?

जुड़वा बच्चों की मां बनने वाली थी साइना.

कपड़ा फैक्ट्री में 19 महिलाओं से जबरन काम कराया जा रहा था, पुलिस ने बचा लिया

कपड़ा फैक्ट्री में 19 महिलाओं से जबरन काम कराया जा रहा था, पुलिस ने बचा लिया

तीन महीने की ट्रेनिंग के लिए बुलाया, फिर बंधक बना लिया.

ग्वालियर: COVID सेंटर में वॉर्ड बॉय पर मरीज से रेप की कोशिश का आरोप, गिरफ्तार

ग्वालियर: COVID सेंटर में वॉर्ड बॉय पर मरीज से रेप की कोशिश का आरोप, गिरफ्तार

आरोपी को नौकरी से निकाला.

बाप पर आरोपः दो साल तक बेटी का रेप किया, दांतों से चबाकर उसकी नाक काट ली

बाप पर आरोपः दो साल तक बेटी का रेप किया, दांतों से चबाकर उसकी नाक काट ली

पैसे देकर दूसरे लड़के से रेप करवाने का भी आरोप है.

सुसाइड कर रहे पति को रोकने की जगह पत्नी उसका वीडियो क्यों बना रही थी?

सुसाइड कर रहे पति को रोकने की जगह पत्नी उसका वीडियो क्यों बना रही थी?

पति की मौत हो गई है.

लड़कियों को बेरहमी से घसीट रही पुलिस के वायरल वीडियो का पूरा सच क्या है

लड़कियों को बेरहमी से घसीट रही पुलिस के वायरल वीडियो का पूरा सच क्या है

क्या कार्रवाई के लिए पुलिस फसल पकने का इंतज़ार कर रही थी?

रेप के आरोपी NCP नेता को बचाने की कोशिश कर रहा था ACP, कोर्ट ने दिन में तारे दिखा दिए

रेप के आरोपी NCP नेता को बचाने की कोशिश कर रहा था ACP, कोर्ट ने दिन में तारे दिखा दिए

ये सुनकर कोई भी पुलिस वाला शर्मिंदा हो जाए.