Submit your post

Follow Us

ये फ्लैटफुट क्या होता है, जिसके कारण चलने में दिक्कत होती है?

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो भी सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछ लें. लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

कभी आप पानी से सूखी जगह पर चल कर गए हैं? और क्या सूखी जगह पर पड़ी अपने पैरों की छाप देखी है? कैसा दिखता है वो? उसमें एक आर्च जैसा भी दिखता होगा. दरअसल, ज्यादातर लोगों के पांव का कुछ हिस्सा ज़मीन को नहीं छूता. पर कुछ लोग ऐसे भी होतें हैं जिनके पांव एकदम सपाट होते हैं. उनके पूरे पैर की छाप ज़मीन पर पड़ती है. ऐसे पांवों को फ्लैटफीट कहते हैं. हमारे एक व्यूअर हैं यशवंत. उनके फ्लैट फीट हैं और वो इससे बहुत परेशान हैं. तो चलिए आज बात फ्लैटफीट की.

फ्लैटफुट क्या और क्यों होता है?

ये हमें बताया डॉक्टर रोहन पारवानी ने.

डॉक्टर रोहन पारवानी, पीडियाट्रिक ऑर्थोपेडिक सर्जन, शैशव चिल्ड्रन ऑर्थोपेडिक हॉस्पिटल, राजकोट
डॉक्टर रोहन पारवानी, पीडियाट्रिक ऑर्थोपेडिक सर्जन, शैशव चिल्ड्रन ऑर्थोपेडिक हॉस्पिटल, राजकोट

फ्लैटफुट में अंदर की तरफ आर्च नहीं होता, पंजा एकदम फ्लैट होता है. 90 प्रतिशत लोगों के पैरों में आर्च होता है. ज्यादातर बच्चों में फ्लैटफुट देखने को मिलते हैं. ऐसे बच्चों को रेगलुर चेकअप की ज़रूरत पड़ती है. खासकर बच्चों को. चेक किया जाता है कि उनकी नस में कोई प्रॉब्लम तो नहीं है, ये भी देखा जाता है कि एंकल जॉइंट के पीछे की नस कड़क है या नहीं, इसी नस के कारण फ्लैटफुट होता है.

बच्चों को कुछ जन्मजात तकलीफ़ हो जैसे सेरेब्रल पाल्सी या कमर में कोई तकलीफ़ हो, ऐसे में उन्हें फ्लैटफुट होता है. अगर कोई और प्रॉब्लम नहीं है तो फ्लैट फुट कोई बड़ी बात नहीं है, कुछ बच्चे 3-4 साल के होने के बाद ठीक तरह से चलने लगते हैं, उनके पंजों का शेप ठीक हो जाता है, जैसे बाकी शरीर का डेवलपमेंट होता है वैसे ही पंजों का भी होता है.

बड़ों में फ्लैटफुट की दिक्कत

जिन बच्चों के पंजों में आर्च नहीं बन पाती, बड़े होकर उन्हें फ्लैटफुट हो जाता है. फ्लैटफुट अपने आप में कोई बीमारी नहीं है. 10 प्रतिशत लोगों में फ्लैटफुट देखने को मिलता है.

How Do Flat Feet Affect Your Overall Health?: Urgently Ortho: Orthopaedic Urgent Care, Sports Medicine & Wellness Clinics
फ्लैटफुट होने पर रेगुलर चेकप की ज़रुरत पड़ती है

जब पांव में दर्द शुरू हो जाए तब फ्लैटफुट मुसीबत बन जाता है, वैसे फ्लैटफुट वाले पैरों में चलने में कोई दर्द नहीं होता, ऐसे लोगों कोई भी काम कर सकते हैं. पर दर्द शुरू होने पर इलाज की ज़रूरत पड़ती है. हालांकि, बहुत कम लोगों में फ्लैटफुट के कारण दर्द होता है.

लक्षण

पैर के पंजों में दर्द. पैर के पीछे काफ़ मसल होती है, उसमें भी दर्द होता है. इसका कारण है कि जो नॉर्मल वज़न पैर पर आता है वो बाहर के बॉर्डर पर आता है. पर फ्लैटफुट में अंदर की तरफ भी काफी वज़न पड़ता है. इस वजह से ज़मीन पर पैर रखने से पंजों के बाहरी हिस्से में दर्द होता है और चलने में दिक्कत होती है.

इलाज

ऐसे लोगों को एक मीडियल आर्च दिया जाता है. यानी जहां आर्च होनी चाहिए वहां एक पैडिंग रखी जाती है. इससे पांव की तकलीफ़ और काफ़ मसल, दोनों का दर्द ठीक हो जाता है, फ्लैटफुट में अगर दर्द नहीं है तो इलाज की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि 99 प्रतिशत फ्लैटफुट में दर्द नहीं होता है.

Complications of Flat Feet: AllCare Foot & Ankle Center: Podiatry
बड़ी उम्र में काफ़ी लोगों में फ्लैटफुट देखने को मिलता है पर हर किसी को तकलीफ़ नहीं होती

अगर वज़न ज़्यादा है, बहुत चलना पड़ता है तो शायद उसमें दर्द हो, पर ऐसे में भी सर्जरी की ज़रुरत नहीं पड़ती है.  अगर दर्द है तो मीडियल आर्च जूते में लगाई जाती है ताकी पंजे को सहारा मिले.

अगर आपको या आपके बच्चों में फ्लैटफुट की दिक्कत है तो आपको परेशान होने की ज़रूरत नहीं है. जब तक आपको दर्द नहीं होता तब तक इट्ज़ ओके. हां, अगर चलने में दर्द शुरू हो गया है तो ज़रूर डॉक्टर से मिलें. क्योंकि बिना इलाज के ये दिक्कत ठीक नहीं होगी.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

18 साल के लड़के पर आरोप, 9 महीने की बच्ची को खिलाने के बहाने रेप किया

घटना के बाद जब बच्ची रोई तो मां-बाप के हवाले कर फरार हुआ.

मां ने नाबालिग बेटे के साथ ऐसे वीडियो डाले कि FIR की नौबत आ गई

बच्चे के साथ आपत्तिजनक वीडियो बनाने का आरोप है.

कानपुर देहात पुलिस की इस वायरल तस्वीर का सच क्या है?

पुलिस ने वीडियो जारी कर अपनी सफाई पेश की है.

प्रेमी के पास गई महिला तो उसे नग्न करके पीटा, पति को कंधे पर बिठाकर परेड निकाली

पुलिस ने इस मामले में 18 लोगों को गिरफ्तार किया है.

सुल्ली डील्स के बाद 'हिंदू' महिलाओं के खिलाफ दिखाई गई नफरत बहुत परेशान करने वाली है

इधर मुस्लिम महिलाओं को 'सुल्ली' कहा गया, तो उधर हिंदू महिलाओं के लिए हो रहा 'Hslut' का प्रयोग. एक अपराध के नाम पर दूसरे को जायज ठहरा रहे घटिया लोग.

रोमैंस के नाम पर लड़कियों के साथ ये अपराध होता है, आप जानते थे?

स्टॉकिंग को प्रेम का रूप समझना सबसे बड़ी बेवकूफी है.

हिंदू- मुस्लिम शादी के लिए परिवार थे राज़ी, धर्म के ठेकेदारों ने हंगामा मचा दिया

घर वालों को प्रेम दिख रहा था, दुनिया वालों को लव-जिहाद.

इस एक्ट्रेस को एक शख्स सालभर से भेज रहा अश्लील तस्वीरें, अब रेप की धमकी दी

बंगाली एक्ट्रेस प्रत्युषा ने बताया- "30 बार ब्लॉक कर चुकी हूं, 31वां अकाउंट बनाकर धमका रहा"

केरल के इस फेमस एक्टर पर लगा दहेज उत्पीड़न का आरोप, हाई कोर्ट ने कहा- 'सरेंडर करो'

पत्नी का आरोप- पैसे गबन कर लिए, शारीरिक और मानसिक तौर पर टॉर्चर भी किया.

कोच पी नागराजन पर सात और महिला एथलीट्स ने लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप

कोच नागराजन करीब तीन दशक से कई राष्ट्रीय पदक विजेताओं को ट्रेनिंग दे रहे हैं.