Submit your post

Follow Us

गेहूं खाने से हो सकती है ये गंभीर बीमारी!

(यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

प्रभात 20 साल के हैं. कानपुर के रहने वाले हैं. उनका वज़न बचपन से ही काफ़ी कम रहा है. साथ ही उन्हें दिन में कई बार शौच जाने की ज़रूरत पड़ती थी. खाना खाने के कुछ देर बाद ही उन्हें शौच जाना पड़ता. कुछ समय से उनका पेट खराब ही चल रहा था. हर कुछ दिनों में दस्त लग जाते. बहुत थकान रहती. वज़न लगातार गिरता जा रहा था. घरवालों के कहने पर उन्होंने ब्लड टेस्ट करवाए. पर उनमें कुछ ख़ास पता नहीं चला. सिर्फ़ हीमोग्लोबिन लेवल थोड़ा कम था.

कुछ समय पहले प्रभात ने डॉक्टर को दिखाया. उनका एंडोस्कोपी नाम का टेस्ट हुआ. तब पता चला उन्हें सीलिएक नाम की बीमारी है, जिससे उनकी आंतों पर असर पड़ चुका था. अब इस बीमारी की वजह थी ग्लूटेन से एलर्जी. ग्लूटेन एक तरह का प्रोटीन होता है जो गेहूं, जौ, राई जैसे अनाजों में पाया जाता है. जब आप आटे में पानी मिलाते हैं तो वो चिपचिपा हो जाता है, ग्लू जैसा बन जाता है. ये इसी ग्लूटेन के कारण है. अब प्रभात के लिए परेशान करने वाली बात ये थी कि गेहूं तो उनकी डाइट का अहम हिस्सा था. अब अगर उनको गेहूं से ही एलर्जी है तो वो खाएं क्या.

डॉक्टर ने उन्हें कुछ और डाइट बताईं. गेहूं छोड़ने के बाद प्रभात की काफ़ी आराम मिला. अब उनका इलाज भी चल रहा है. वो चाहते हैं हम अपने शो पर सीलिएक बीमारी के बारे में बात करें. उनका कहना है कि ये बहुत आम है. अक्सर लोगों को पता ही नहीं होता उन्हें ग्लूटेन से एलर्जी है. वो इसे लगातार अपने खाने में खाते रहते हैं. दिन में कई-कई बार शौच जाते हैं, पर इसे हल्के में लेते हैं. जब लक्षण बिगड़ जाते हैं तब जाकर उनका अपने स्वास्थ की तरफ ध्यान जाता है.

बात तो एकदम सही है. तो पता करते हैं कहीं आपको भी ग्लूटेन से एलर्जी तो नहीं? सबसे पहले एक्सपर्ट्स से जानते हैं सीलिएक बीमारी क्या होती है और क्यों होती है?

क्या और क्यों होती है सीलिएक बीमारी?

ये हमें बताया डॉक्टर अजय भल्ला ने.

Dr. Ajay Bhalla - in Noida | Fortis Healthcare
डॉक्टर अजय भल्ला, डायरेक्टर, गैस्ट्रोएंटरोलॉजी, फ़ोर्टिस हॉस्पिटल, नोएडा

-सीलिएक बीमारी में शरीर ग्लूटेन यानी गेहूं के प्रोटीन को सोख नहीं पाता है.

-उसके खिलाफ़ ऐसा एंटीबॉडी बना देता है, जिससे आंतें खराब हो जाती हैं.

-आंतों का काम होता है खाने को सोखना.

-पर आंतें खराब होने के कारण वो खाना सोख नहीं पातीं.

-खाना शरीर को लगता नहीं है.

-मल में निकल जाता है.

-इसके कारण शरीर में पोषण की काफ़ी कमी हो जाती है.

-पहले ऐसी धारणा थी कि ये बेमारी केवल पश्चिमी देशों में होती है.

-पर AIIMS द्वारा की गई स्टडी में पता चला है कि इंडिया में 60 से 80 लाख लोगों को सीलिएक बीमारी है.

लक्षण

-सीलिएक बीमारी में ग्लूटेन से एलर्जी होती है.

-अक्सर बचपन में ही पता चल जाता है कि बच्चों को दस्त लगे जा रहे हैं.

-गर्म देशों में दस्त होना आम है पर सीलिएक बीमारी में दस्त लगातार होते हैं.

-सालों साल रहते हैं.

My Stomach Hurts So Bad | Causes Of Lower Abdominal Pain - Virinchi Hospitals
AIIMS द्वारा की गई स्टडी में पता चला है कि इंडिया में 60 से 80 लाख लोगों को सीलिएक बीमारी है

-बच्चों की ग्रोथ पर असर पड़ता है.

-बच्चे स्कूल में फोकस नहीं कर पाते.

-कमज़ोरी आ जाती है.

-ऐसे में लोग इलेक्ट्रॉल का घोल पिला देते हैं.

-एंटीबायोटिक देते रहते हैं.

-पर ये अलग बीमारी है, इसको इग्नोर नहीं करना चाहिए.

-ग्लूटेन से एलर्जी का एक ही इलाज होता है, गेहूं को बंद कर दें.

-ये बीमारी अडल्ट्स में भी होती है.

-पहले ये बीमारी माइल्ड होती है इसलिए सालों साल चलती रहती है.

-अडल्ट्स में तब पता चलता है जब एनीमिया होता है.

-वज़न बहुत कम होता है, खाने पर भी वज़न नहीं बढ़ता.

-इतना खाना नहीं खाते जितना शौच के लिए जाना पड़ता है.

-फोकस नहीं कर पाते.

-रूटीन ब्लड टेस्ट में केवल हीमोग्लोबिन कम आता है.

-आगे जांच करवाने से सीलिएक बीमारी का पता चलता है.

Stomach issues? What your abdominal pains mean
सीलिएक बीमारी में ग्लूटेन से एलर्जी होती है

-कई अडल्ट्स में फ्रैक्चर हो जाता है.

-20-25 की उम्र के लोगों में बार-बार फ्रैक्चर होते हैं.

-वो इसलिए हो रहा है क्योंकि शरीर विटामिन डी और कैल्शियम सोख नहीं पा रहा.

-जब पोषण न सोख पाने की स्थिति आती है तो ग्रोथ अच्छी नहीं होती, वज़न नहीं बढ़ता.

-क्रोनिक डायरिया यानी लगातार दस्त होते हैं.

-थकावट और कमज़ोरी होती है.

-ब्लड टेस्ट में केवल हीमोग्लोबिन की कमी दिखती है.

-ऐसे में डॉक्टर कुअवशोषण (Malabsorption) का अंदाज़ा लगाते हैं.

-ये कुअवशोषण सीलिएक बीमारी के कारण हो सकता है.

-सीलिएक बीमारी का बड़ी आसानी से पता लगाया जा सकता है.

डायग्नोसिस

-अगर किसी इंसान में सीलिएक बीमारी के लक्षण हैं तो इसका एक सिंपल सा ब्लड टेस्ट होता है.

-ब्लड टेस्ट में अगर पक्का न पता चले तो एंडोस्कोपी नाम का टेस्ट भी करवा सकते हैं.

-इसमें आंत का एक छोटा टुकड़ा लिया जाता है और उसकी जांच होती है.

-ये 2 से 2:30 मिनट की जांच है.

-इस टेस्ट से पक्का पता चल जाता है.

Gluten intolerance: Everything you need to know | Lifestyle News,The Indian Express
सीलिएक बीमारी में शरीर ग्लूटेन यानी गेहूं के प्रोटीन को सोख नहीं पाता है

-अगर एक बार पता चल जाए तो इलाज बेहद आसान है.

इलाज

-इलाज में आपको ग्लूटेन-फ्री डाइट लेनी है.

-यानी गेहूं के प्रोटीन वाला डाइट हटा दें.

-अगर गेहूं नहीं खाएंगे तो क्या खाएं?

-चावल खा सकते हैं.

-मिलेट्स खा सकते हैं जैसे ज्वार और बाजरा. इनका मिश्रण बनाकर ले सकते हैं.

-जैसे ही आप अपनी डाइट से ग्लूटेन हटाते हैं तो एकदम से सेहत में बदलाव आता है

-दस्त ठीक हो जाते हैं.

Oh No! My Date is Gluten-Free. Help! – Sather Health
इलाज में आपको ग्लूटेन-फ्री डाइट लेनी है

-आंतें जो एकदम खराब हो गई थीं, वो दोबारा ठीक होती हैं.

-शरीर खाने को सोखना शुरू कर देता है.

-वेट गेन शुरू हो जाता है.

-डायरिया बंद हो जाता है.

-जो भी पोषण की कमी होती है वो पूरी होने लगती है.

-अगर शरीर में पोषण की बहुत ज़्यादा कमी है तो डाइट के साथ-साथ विटामिन के सप्लीमेंट ले सकते हैं.

-यही एक इलाज है.

डॉक्टर साहब के बताए गए लक्षण सुनकर अब जिन लोगों का माथा ठनका हो, वो ध्यान दें. क्योंकि कई बार सीलिएक बीमारी के लक्षण वैसे ही लगते हैं जैसे पेट खराब होने पर. आप इसे इग्नोर कर देते हैं और ये बीमारी चलती रहती है. नतीजा? आपकी आंतें एक समय बाद एकदम ख़त्म सी हो जाती हैं. इसलिए सावधान रहें. लक्षण दिखने पर टेस्ट ज़रूर करवाएं क्योंकि गेहूं हम सबकी की डाइट का अहम हिस्सा है और लगभग हर घर में ये रोज़ खाया जाता है. अगर इस से एलर्जी है तो समय रहते इसका पता चल जाना चाहिए.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

यूपी: नाबालिग ने 28 पर किया गैंगरेप का केस, FIR में सपा-बसपा के जिलाध्यक्षों के भी नाम

पिता के अलावा ताऊ, चाचा पर भी लगाए गंभीर आरोप.

कश्मीरी पंडित की हत्या के बाद बेटी ने आतंकियों को 'कुरान का संदेश' दे दिया!

श्रद्धा बिंद्रू ने आतंकियों को किस बात के लिए ललकारा है?

बिहार: महिला चिल्लाती रही, लोग बदन पर हाथ डालते रहे; वीडियो भी वायरल किया

बिहार की पुलिस ने क्या एक्शन लिया?

महिला अफसर के यौन उत्पीड़न का ये मामला है क्या जिसके छींटे वायु सेना पर भी पड़े हैं?

आरोपी अफसर पर बलात्कार से जुड़ी धारा 376 लगी है.

परिवार ने पूरे गांव के सामने पति-पत्नी की हत्या कर दी, 18 साल बाद फैसला आया है

कोर्ट ने एक को फांसी और 12 लोगों को उम्रकैद की सज़ा दी है.

असम से नाबालिग को किडनैप कर राजस्थान में बेचा, जबरन शादी और फिर रोज रेप की कहानी

नाबालिग 15 साल की है और एक बच्चे की मां बन चुकी है.

डोंबिवली रेप केसः 15 साल की लड़की का नौ महीने तक 29 लोग बलात्कार करते रहे

नौ महीने के अंतराल में एक वीडियो के सहारे बच्ची का रेप करते रहे आरोपी.

यौन शोषण की शिकायत पर पार्टी से निकाला, अब मुस्लिम समाज में सुधार के लिए लड़ेंगी फातिमा तहीलिया

रूढ़िवादी परिवार से ताल्लुक रखने वाली फातिमा पेशे से वकील हैं.

रेप की कोशिश का आरोपी ज़मानत लेने पहुंचा, कोर्ट ने कहा- 2000 औरतों के कपड़े धोने पड़ेंगे

कपड़े धोने के बाद प्रेस भी करनी होगी. डिटर्जेंट का इंतजाम आरोपी को खुद करना होगा.

स्टैंड अप कॉमेडियन संजय राजौरा पर यौन शोषण के गंभीर आरोप, उनका जवाब भी आया

इस मामले पर विक्टिम और संजय राजौरा की पूरी बात यहां पढ़ें.