Submit your post

Follow Us

रोज़ की ये गलतियां आपकी किडनियों को खराब कर सकती हैं

यहां बताई गई बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछ लें. लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.

आदर्श 32 साल के हैं. पुणे के रहने वाले हैं. उनका हमें मेल आया. वो कई सालों से किडनी की बीमारी से जूझ रहे हैं. उनकी किडनियां सही से काम नहीं करतीं. काफ़ी समय से उनका डायलिसिस भी चल रहा है. बीमारी की शुरुआत में उन्हें भूख नहीं लगती थी. उल्टियां होती थीं. पैरों में सूजन, पीठ में दर्द और ब्लड प्रेशर हाई रहता था. डॉक्टर को दिखाया तो कुछ टेस्ट हुए. उनमें बीमारी का पता चला. आदर्श ने तो सही समय पर डॉक्टर को दिखा लिया, लेकिन कई लोग लक्षणों पर ध्यान नहीं देते और समस्या बढ़ जाती है. चलिए आज किडनी की बीमारियों और उनसे बचाव पर बात करते हैं.

क्या होती है क्रोनिक किडनी डिजीज?

ये हमें बताया डॉक्टर अनुराग ने.

डॉक्टर अनुराग कुमार, एंड्रोलॉजिस्ट, मैक्स हॉस्पिटल, नई दिल्ली
डॉक्टर अनुराग कुमार, रीनल ट्रांसप्लांट, मैक्स हॉस्पिटल, दिल्ली

ये एक ऐसी बीमारी है जिसमें किडनी धीरे-धीरे खराब होने लगती है. ये लंबी अवधि के दौरान होता है. अगर इसे कंट्रोल न किया जाए तो डायलिसिस, रीनल ट्रांसप्लांट या किडनी ट्रांसप्लांट की ज़रूरत पड़ती है. सामान्य तौर पर हमारे शरीर में दो किडनी होती हैं. एक बाईं और एक दाईं तरफ़. कुछ लोगों में जन्म से एक ही किडनी होती है.  किडनी के बहुत ही ज़रूरी काम होते हैं. जैसे-

– शरीर को अंदर से साफ़ करना. शरीर में जो भी टॉक्सिन हैं जैसे यूरिया, ड्रग्स उनको निकालना. बॉडी में जो अधिक मात्रा में पानी या नमक है, उसे निकालना. शरीर में सोडियम और पोटेशियम को बैलेंस करना.

-ऐसी ज़रूरी चीज़ें बनाना जो शरीर की हेल्थ के लिए ज़रूरी हैं. जैसे एरीथ्रोपोइटिन हॉर्मोन, जो खून बनाने के लिए ज़रूरी है, विटामिन डी जो कैल्शियम सोखने और हड्डियों की सेहत के लिए ज़रूरी है. रेनिन नामक एंजाइम, जो ब्लड प्रेशर को मेन्टेन करने के लिए ज़रूरी है.

Cronic Kidney Disease क्यों होता है?

-सबसे आम कारण है डायबिटीज. जिन लोगों की शुगर लगातार हाई रहती है और वो दवाइयां नियमित तौर पर नहीं लेते हैं उनमें ये दिक्कत देखने को मिलती है.

-दूसरा कारण है हाइपरटेंशन. बढ़ा हुआ बीपी किडनी के लिए बहुत ख़तरनाक है.

-कुछ दवाइयों के सेवन से किडनी खराब हो सकती है. जैसे दर्द की दवाइयां.  कैंसर पेशेंट या वो लोग जिनकी हड्डियों में दर्द रहता है, वो पेन किलर ज़्यादा खाते हैं.

6 Causes of Kidney Failure - Preferred Vascular Group
क्रोनिक किडनी एक ऐसी बीमारी है जिसमें किडनी धीरे-धीरे खराब होने लगती है

-कुछ और भी कारण हैं जैसे पॉलीसिस्टिक किडनी डिजीज, इम्यून डिजीज, बच्चों में जन्मजात बीमारियां.

-जो लोग स्टोन के शिकार होते हैं और सही इलाज नहीं कराते, उनके स्टोन बढ़कर किडनी को खराब कर सकते हैं. स्टोन किडनी की पाइप में अटक सकते हैं और पेशाब निकलने में रुकावट पैदा करते हैं. इससे किडनी सूज जाती है और प्रेशर के कारण किडनी खराब हो जाती है.

क्रोनिक किडनी डिसीज़ के लक्षण क्या हैं?

-शरीर में सूजन आना.

-सांस फूलना.

-पेशाब कम होना.

-ड्राई स्किन.

-एनीमिया.

-हड्डियों की कमज़ोरी.

-ब्लड प्रेशर बढ़ना.

-कई लोगों में लक्षण पता नहीं चलते.

-इन सभी केसेस में डाइग्नोसिस के लिए कुछ ब्लड टेस्ट करने होते हैं. जैसे यूरिया, हीमोग्लोबिन और कैल्शियम.

-यूरिन टेस्ट प्रोटीन लॉस को देखने के लिए.

-अल्ट्रासाउंड किडनी के स्टेटस जानने के लिए.

Gout Linked to Increased Risk for Chronic Kidney Disease - Renal and Urology News
जिन लोगों की शुगर लगातार हाई रहती है और वो दवाइयां नियमित तौर पर नहीं लेते हैं उनमें ये दिक्कत देखने को मिलती है.

-कभी-कभार किडनी की बायोप्सी करनी पड़ती है.

क्रोनिक किडनी डिजीज के पीछे क्या कारण हैं, किन लक्षणों पर ध्यान देना चाहिए, ये आपने जान लिया. अब आते हैं एक और ज़रूरी मुद्दे पर. वो कौन सी गलतियां हैं जो आपको अवॉयड करनी चाहिएं ताकि आप खुदको इस बीमारी से बचा सकें. साथ ही जानते हैं इलाज.

क्या गलतियां अवॉयड करनी हैं?

-डायबिटीज और हाइपरटेंशन को नज़रअंदाज़ न करें.

-अगर स्टोन की दिक्कत है या पेशाब के रास्ते में कोई रुकावट है तो उसका ऑपरेशन करवाएं.

-किसी ग़लत झोलाझाप डॉक्टर के चक्कर में न पड़ें.

क्रोनिक किडनी डिसीज का इलाज क्या है?

-क्रोनिक किडनी डिजीज की शुरुआत में ही एक यूरोलॉजिस्ट और नेफ्रोलॉजिस्ट को दिखाएं.

-अगर स्टोन की बीमारी है या रुकावट है तो उसका ऑपरेशन करवाएं.

-ज़रूरी है कि आपकी डाइट ठीक हो.

-प्रोटीन सीमित मात्रा में लिया जाए.

-नमक और पानी की मात्रा डॉक्टर के कहे अनुसार ही लें.

-इसके अलावा कैल्शियम के सप्लीमेंट दिए जाते हैं.

-आयरन के सप्लीमेंट दिए जाते हैं.

-इलाज का मकसद है किडनी के बचे हुए फंक्शन को बचाना.

-एनीमिया का उपचार करना.

-बोन हेल्थ के लिए कैल्शियम देना.

-ब्लड प्रेशर को कंट्रोल करना.

-पूरा जीवन इसके ऊपर निर्भर हो जाता है.

-किडनी ट्रांसप्लांट आजकल बहुत ही सफ़ल ऑपरेशन है.

-ये किडनी डोनर द्वारा दी जाती है.

Raising the standards for chronic kidney disease treatment
क्रोनिक किडनी डिजीज की आख़िरी स्टेजों में डायलिसिस की ज़रूरत पड़ती है.

-दो तरह के डोनर हो सकते हैं. पहला डोनर ब्रेन डेड हो सकते हैं. ये वो व्यक्ति होते हैं जो किसी कारणवश ब्रेन डेड हो जाते हैं.

-दूसरे डोनर वो होते हैं जो घर का ही कोई सदस्य हो, जो अपनी मर्ज़ी से किडनी डोनेट करने के लिए राज़ी हो. डोनेशन के बाद जीवन एकदम सामान्य रहता है.

-उनको कोई भी दवाइयों की ज़रूरत नहीं पड़ती है.

-पहले केवल उन ही लोगों की किडनी डोनेशन के लिए ले पाते थे जिनका ब्लड ग्रुप सेम होता था.

-आजकल विशेष टेक्नोलॉजी है जिसे प्लाज्मा वेरेसेस कहते हैं. इससे जिनका ब्लड ग्रुप अलग है पेशेंट से, वो भी अपनी किडनी डोनेट कर सकते हैं.

चलिए, उम्मीद है डॉक्टर साहब ने जो बातें बताई हैं वो आपके काम ज़रूर आएंगीं.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

मांगलिक दोष हटाने के लिए महिला टीचर ने 13 साल के स्टूडेंट से शादी कर डाली

मांगलिक दोष हटाने के लिए महिला टीचर ने 13 साल के स्टूडेंट से शादी कर डाली

बच्चे को एक हफ्ते तक कैद रखा. 'सुहागरात' भी मनाई.

ICU में भर्ती मजबूर महिला के मुंह पर था ऑक्सीजन मास्क, फिर भी रातभर रेप करता रहा नर्स

ICU में भर्ती मजबूर महिला के मुंह पर था ऑक्सीजन मास्क, फिर भी रातभर रेप करता रहा नर्स

महिला रोती रही, अपने तरीके से विरोध करती रही फिर भी आरोपी नहीं रुका.

पहलवान रितिका फोगाट ने सुसाइड किया, मैच हारने से दुखी थीं!

पहलवान रितिका फोगाट ने सुसाइड किया, मैच हारने से दुखी थीं!

रितिका 17 साल की थीं और महावीर सिंह फोगाट के अंडर ट्रेनिंग ले रही थीं.

दोस्त के साथ घूमने गई लड़की का नौ लोगों ने गैंगरेप किया, मुख्य आरोपी को बेल मिल गई

दोस्त के साथ घूमने गई लड़की का नौ लोगों ने गैंगरेप किया, मुख्य आरोपी को बेल मिल गई

बाकी आरोपियों की बेल पर 18 मार्च को सुनवाई होगी.

रेप के दौरान बच्ची रोई तो आरोपी ने मारकर बोरे में भरकर फेंक दिया, सदमे में पिता ने सुसाइड कर लिया

रेप के दौरान बच्ची रोई तो आरोपी ने मारकर बोरे में भरकर फेंक दिया, सदमे में पिता ने सुसाइड कर लिया

बच्ची चार साल की थी.

गलत तरीके से छूने वाले को लड़की ने दौड़ाया, ऐसा हाल किया कि कभी भूलेगा नहीं

गलत तरीके से छूने वाले को लड़की ने दौड़ाया, ऐसा हाल किया कि कभी भूलेगा नहीं

रेड लाइट पर लड़की का यौन शोषण कर भाग रहा था.

'सहनशक्ति टेस्ट' के नाम पर नर्सिंग इंस्टीट्यूट का निदेशक छात्राओं से छेड़छाड़ करता था!

'सहनशक्ति टेस्ट' के नाम पर नर्सिंग इंस्टीट्यूट का निदेशक छात्राओं से छेड़छाड़ करता था!

शिकायत के बाद पुलिस ने आरोपी को अरेस्ट कर लिया है.

महिला IPS को मौत के लिए जिम्मेदार बताकर ट्रेन के आगे कूद गया युवक

महिला IPS को मौत के लिए जिम्मेदार बताकर ट्रेन के आगे कूद गया युवक

ग़लत केस में फंसाने, प्रताड़ित करने का आरोप, पुलिस ने आरोपों को निराधार बताया.

दंतेवाड़ा की इस औरत ने ऐसा क्या किया था कि उसे 300 लोगों के बीच से घसीटकर ले गई पुलिस?

दंतेवाड़ा की इस औरत ने ऐसा क्या किया था कि उसे 300 लोगों के बीच से घसीटकर ले गई पुलिस?

पुलिस का दावा- नक्सली गतिविधियों में शामिल थी हिड़मे मरकाम

महिला का आरोप: शिकायत लिखाने गई, पुलिसवाले ने कैद कर तीन दिन किया रेप

महिला का आरोप: शिकायत लिखाने गई, पुलिसवाले ने कैद कर तीन दिन किया रेप

महिला के मुताबिक़ वो पति से परेशान होकर पुलिस के पास गई थी.