Submit your post

Follow Us

क्या आप उस बीमारी के बारे में जानते हैं, जो 'ब्लैक' में अमिताभ बच्चन को थी?

(यहां बताई गईं बातें, इलाज के तरीके और खुराक की जो सलाह दी जाती है, वो विशेषज्ञों के अनुभव पर आधारित है. किसी भी सलाह को अमल में लाने से पहले अपने डॉक्टर से ज़रूर पूछें. दी लल्लनटॉप आपको अपने आप दवाइयां लेने की सलाह नहीं देता.)

आपने अमिताभ बच्चन और रानी मुख़र्जी की ‘ब्लैक’ देखी है? उस फिल्म के आखिर में दिखाते हैं कि अमिताभ बच्चन के किरदार को एक ऐसी बीमारी हो जाती है कि उन्हें कुछ भी याद नहीं रहता. उस बीमारी का नाम अल्ज़ाइमर्स है. इसमें धीरे-धीरे करके आप चीज़ें भूलने लगते हैं, शुरुआत भूलने की छोटी-छोटी आदतों से होती है. जैसे चाभी कहां रखी, फिर आप रास्ते भूलने लगते हैं, लोगों को भूलने लगते हैं. अपने आप को भूलने लगते हैं. ये बेहद डरावना है.

2018 तक भारत में 40 लाख ऐसे लोगों की पहचान हुई थी जो अल्ज़ाइमर्स से ग्रस्त थे. पूरी दुनिया में अल्ज़ाइमर्स के मामलों में भारत तीसरे नंबर पर है, अमेरिका और चीन के बाद. हमारे यहां उम्र के साथ याददाश्त जाने को ज़िंदगी का हिस्सा मान लिया जाता है, जबकि यह एक बीमारी है और इसे सीरियसली लेने की ज़रूरत है.

क्या होती है अल्ज़ाइमर्स डिजीज़?

ये हमें बताया डॉक्टर अखिल अगरवाल ने. मानश हॉस्पिटल, कोटा में काम करते हैं.

Dr. Akhil A Ggarwal (Manash Hospital) - Psychiatrists - Book Appointment Online - Psychiatrists in Jawahar Nagar, Kota-Rajasthan, Kota-rajasthan - JustDial
डॉक्टर अखिल अगरवाल, मानश हॉस्पिटल, कोटा

अल्ज़ाइमर्स एक तरह का डिमेंशिया होता है, जो 60 से 65 साल के बाद शुरू होता है. ये बीमारी युवाओं की नहीं होती है. ये बीमारी उम्र की होती है. डिमेंशिया में सोचने-समझने, काम करने की क्षमता में कमी आने लगती है. ये सब पूरे होश में होता है. पेशेंट को पता होता कि अभी दिन है या रात. उसे पता है कि मैं कौन हूं. ये मेरा घर है. हालांकि वो धीरे-धीरे अपने घर का रास्ता भटकने लगता है. डिमेंशिया का सबसे कॉमन टाइप है अल्ज़ाइमर्स. जितने भी डिमेंशिया होते हैं उसमें से 50-60 प्रतिशत डिमेंशिया अल्ज़ाइमर्स डिजीज़ होते हैं

कारण:

जेनेटिक. लगभग 40 प्रतिशत लोगों में अगर माता-पिता को अल्ज़ाइमर्स होता है तो बच्चों को भी होने की संभावना बढ़ जाती है

न्यूरोलॉजिकल बदलाव. दिमाग का बहुत लॉस हो जाता है

न्यूरोकेमिकल बदलाव. न्यूरोट्रांसमीटर कम होने लगते हैं

New Findings on Brain Structure Open Door to Better Understanding of Neurological Diseases
डिमेंशिया में सोचने-समझने, काम करने की क्षमता में लगातार कमी आने लगती है

चलिए अल्ज़ाइमर्स डिजीज़ क्या होती है और क्यों होती है. ये तो पता चल गया. पर ये कैसे पता चलेगा आपको अल्ज़ाइमर्स हो रहा है. या आपके किसी जानने वाले को हो रहा है. क्योंकि इसमें ऐसा नहीं होता कि एक दिन आप उठें और सब भूल चुके हों. इसके अलग-अलग स्टेज होते

अल्ज़ाइमर्स का क्या इलाज है? ये हमें बताया डॉक्टर गोविंद मैथ्यू ने. वो न्यूरोलॉजिस्ट हैं. AIIMS ऋषिकेश में.

डॉक्टर गोविंद मैथ्यू, न्यूरोलॉजिस्ट, AIIMS ऋषिकेश
  डॉक्टर गोविंद मैथ्यू, न्यूरोलॉजिस्ट, AIIMS ऋषिकेश

-अगर दिमाग के अंदर न्यूरॉन्स का लॉस होने लग जाए या वो मरने लग जाएं. ऐसे मरें कि ज़िंदा न हों. तो इस स्थिति से दिमाग की क्षमताएं धीरे-धीरे खोने लगती हैं.

-अल्ज़ाइमर्स में ब्रेन में न्यूरॉन्स के बीच में कुछ ख़ास तरह के केमिकल या पदार्थ जमा होने लग जाते हैं. जिनके प्रभाव में आकर हमारे ब्रेन के कुछ हिस्से, ख़ासतौर पर पेराईटल और टेम्पोरल लोब के हिस्सों में न्यूरॉन का लॉस होने लगता है. इसकी वजह से ये हिस्से अपना काम नहीं कर पाते. इन हिस्सों का काम होता है याद्दाश्त रखना. हमारे किसी काम को करने के तरीके को सीखना. हमारे अगल-बगल के वातावरण से ख़ुद को आवगत कराना. रास्ता याद रखना. चीजों को देखना और पहचानना.

लक्षण:

-इसकी शुरुआत होती है जब पहली अवस्था में हम दिन-प्रतिदिन की चीज़ों का हिसाब-किताब नहीं रख पाते

-पुरानी बातें तो याद रहेंगी. पर 10 मिनट पहले क्या हुआ, एक मिनट पहले क्या हुआ या 15 दिन पहले क्या हुआ, ये चीज़ें भूलने लगते हैं

-धीरे-धीरे बीमारी जब आगे बढ़ने लगती है तो हम पुरानी चीज़ें भी भूलने लग जाते हैं.

-घर का रास्ता भूल जाते हैं. घर के अंदर किचन और बाथरूम का रास्ता भूल जाते हैं

Eye Scan for Early Detection of Alzheimer's - MedicalExpo e-Magazine
डिमेंशिया बहुत तरह के होते हैं. पूरी दुनिया में सबसे कॉमन डिमेंशिया अल्ज़ाइमर्स है

-कपड़े पहनना भूल जाते हैं, उल्टा पहनने लग जाते हैं

-लोगों को, चीज़ों को पहचानने में भी परेशानी होने लग जाती है

-बीमारी जब अगली अवस्था में पहुंचती है तो शरीर पर से नियंत्रण खत्म हो जाता है

-हाथ-पांव अकड़ने लगते हैं. हम सुस्त हो जाते हैं

-आख़िरी अवस्था में शरीर स्थिर और अकड़ जाता है

इलाज:

इसकी पहचान के लिए हम न्यूरोलॉजिस्ट के पास जाते हैं. डिटेल इंटरव्यू के बाद बीमारी की पहचान होती है. कंफर्मेशन के लिए MRI, PET स्कैन वगैरह करना पड़ता है.

-इसका इलाज संभव नहीं है लेकिन हां इससे बढ़ने से रोक सकते हैं, कुछ दवाइयां हैं जो ब्रेन के अन्दर न्यूरॉन को मरने से रोकती हैं.

-इस बीमारी को पहले स्टेज से आखिरी स्टेज तक पहुंचने में जो वक्त लगता है, उसे बढ़ाया जा सकता है. यानी अगर उस अवस्था में कोई पांच साल में पहुंचता है, तो दवाइयों और लाइफस्टाइल मैनेजमेंट की मदद से उसे 10 साल तक बढ़ाया जा सकता है.

-ऐसे मरीजों को प्यार और अपनापन चाहिए होता है. क्योंकि वो डिप्रेशन में जा सकते हैं. ऐसे मरीज़ अक्सर या तो आत्महत्या कर बैठते हैं या सड़क दुर्घटना का शिकार हो जाते हैं

-आख़िरी अवस्था में खाना चबाने तक की प्रक्रिया भूल जाते हैं. खाना खाने के दौरान खाने का टुकड़ा छाती में फंस सकता है. इन्फेक्शन हो जाता है. जान तक जा सकती है.

-या बिस्तर पर पड़े-पड़े उन्हें बेडसोर होने लग जाता है. घाव होने लग जाता है जिससे इन्फेक्शन होकर उनकी जान को ख़तरा होता है

-ये ऐसी चीज़ें हैं जिन्हें प्रॉपर नर्सिंग केयर और देखभाल से बचाया जा सकता है

यानी अगर आप अल्ज़ाइमर्स के खतरे वाली उम्र पर पहुंच गए हैं और छोटी-छोटी चीज़ें भूलने लगे हैं तो इसे हल्के में मत लीजिए, डॉक्टर से मिलिए और इलाज करवाइए.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

जिस किशोरी की हत्या के आरोप में छह लोगों को जेल हुई, वो 12 साल बाद जिंदा मिली है!

उस समय मां ने ही शव की पहचान की थी.

कैब ड्राइवर कर रहा था गंदे इशारे, सांसद-एक्ट्रेस ने ऐसे सिखाया सबक

कैब ड्राइवर कर रहा था गंदे इशारे, सांसद-एक्ट्रेस ने ऐसे सिखाया सबक

पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है.

झारखंड: परिवार का आरोप- क्लीनिक में पहले बेटी का यौन शोषण हुआ, फिर मां को 40 लोगों ने पीटा

झारखंड: परिवार का आरोप- क्लीनिक में पहले बेटी का यौन शोषण हुआ, फिर मां को 40 लोगों ने पीटा

रसूखदार डॉक्टर और कम्पाउंडर पर लगे गंभीर आरोप.

पाकिस्तान में विदेशी महिला से गैंगरेप के बाद जनता सड़कों पर उतर आई है

पाकिस्तान में विदेशी महिला से गैंगरेप के बाद जनता सड़कों पर उतर आई है

इस गैंगरेप के बाद जांच अधिकारी के दिए बयान से लोग गुस्से में हैं.

उत्तराखंड: परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की, तो घर के सामने ही गोलियों से भून डाला!

उत्तराखंड: परिवार की मर्जी के खिलाफ शादी की, तो घर के सामने ही गोलियों से भून डाला!

उधम सिंह नगर जिले से आया ऑनर किलिंग का खौफनाक मामला.

झारखंड : फेसबुक पर दोस्त बने लड़के से मिलने गई, घर जिंदा नहीं लौटी!

झारखंड : फेसबुक पर दोस्त बने लड़के से मिलने गई, घर जिंदा नहीं लौटी!

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में लड़की के साथ रेप की पुष्टि हुई है.

पार्क में एक्ट्रेस और उनकी दोस्तों से मारपीट के आरोप पर क्या बोलीं कांग्रेस नेता?

पार्क में एक्ट्रेस और उनकी दोस्तों से मारपीट के आरोप पर क्या बोलीं कांग्रेस नेता?

एक्ट्रेस सम्युक्ता हेगड़े ने लाइव वीडियो बनाया था. अब कविता रेड्डी ने भी अपना पक्ष रखा है.

मैट्रिमोनियल साइट पर दोस्ती की और फिर झूठ बोल-बोलकर 6.19 लाख रुपये ठग लिए

मैट्रिमोनियल साइट पर दोस्ती की और फिर झूठ बोल-बोलकर 6.19 लाख रुपये ठग लिए

पैसे न देने पर प्राइवेट फोटो पब्लिक करने की धमकी देता था.

लड़की की एक चालाकी ने दिल्ली के पार्कों में 20 गैंगरेप करने का आरोपी गैंग पकड़वा दिया!

लड़की की एक चालाकी ने दिल्ली के पार्कों में 20 गैंगरेप करने का आरोपी गैंग पकड़वा दिया!

दोस्तों के साथ घूमने आने वाली लड़कियों को बनाते थे शिकार, रेप के विडियो वायरल करने की देते थे धमकी.

139 लोगों के खिलाफ रेप का केस दर्ज कराने वाली महिला अब अलग ही बात कह रही है

139 लोगों के खिलाफ रेप का केस दर्ज कराने वाली महिला अब अलग ही बात कह रही है

हैदराबाद का मामला है. 42 पन्नों में इस केस की FIR हुई थी.