Submit your post

Follow Us

बंगाल: जिस केस को रेप-मर्डर कहा जा रहा था, उसमें अब नई कहानी सामने आई है

बंगाल का उत्तरी दिनाजपुर जिला. यहां रविवार, 19 जुलाई को 16 साल की लड़की का शव मिला था. उसके घर से 500 मीटर की दूरी पर. शव के पास से एक लड़के का फोन और कुछ शीशी मिली थी. गांववालों ने आरोप लगाया कि लड़के के रेप के बाद हत्या की गई. पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में पता चला था कि लड़की की मौत भारी मात्रा में ज़हर खाने से हुई. अगले दिन यानी 20 जुलाई को एक लड़के का शव पास के तालाब में तैरता मिला था. ये वही लड़का था जिसका फोन लड़की की लाश के पास मिला था.

अब लड़के के परिवारवालों ने लड़की के पापा और भाईयों के खिलाफ चोपड़ा थाने में शिकायत दर्ज कराई. और आरोप लगाया कि इन लोगों ने उनके बेटे की हत्या की है. पुलिस ने लड़की के पिता और दो भाई को गिरफ्तार किया है. पुलिस का कहना है कि उन्हें 10 दिन पुलिस कस्टडी में रखा जाएगा.

पुलिस का कहना है कि मारे गए लड़का और लड़की रिलेशनशिप में थे. और गांव में दोनों को पहले भी साथ में देखा गया था.

इस मामले की पैरवी कर रहे सरकारी वकील संजय भाओवल ने बताया कि तीनों पर हत्या की धाराएं लगी हैं. IPC की धारा 302, 201 (हत्या करने), धारा 364 (अपहरण करने) और धारा 34 (साज़िश रचने) के तहत केस दर्ज है. वकील ने बताया कि लड़की के पिता ने लड़के को फोन पर धमकाया भी था. उसी के बाद लड़के का शव पुलिस ने तालाब से बरामद किया था.

सरकारी वकील संजय भाओवल
सरकारी वकील संजय भाओवल

लड़की के परिवार का कहना है कि उन्हें हत्या के आरोप में फंसाया जा रहा है, उनका लड़के के मर्डर में कोई हाथ नहीं है.

ये भी पढ़ें: बंगाल में लड़की की मौत को ‘रेप के बाद हत्या’ कहा जा रहा था, पर हकीकत क्या है?

ये भी पढ़ें:  BJP IT सेल हेड अमित मालवीय ने प.बंगाल के कथित रेप एंड मर्डर केस में भ्रामक जानकारी फैलाई


वीडियो देखें : बंगाल में लड़की की मौत को ‘रेप के बाद हत्या’ कहा गया लेकिन सच्चाई कुछ और ही है!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

नॉलेज

'शादी के लिए मैं जिस लड़के को देख रही थी, उसी ने किया यौन शोषण'

क्या क्या झेलना पड़ता है लड़कियों को अरेंज मैरिज के नाम पर

आज की ख़बरों में ये महिलाएं टॉप पर क्यों बनी रहीं, वजह जान लीजिए

किरण बेदी से लेकर नलिनी श्रीहरन तक.

लॉकडाउन खुलने के बाद सरकारी स्कूल के टीचर्स किन मुश्किलों से जूझ रहे हैं?

किसी के पास आने-जाने का साधन नहीं, तो किसी को सैनिटाइजेशन की फ़िक्र.

आज की ख़बरों में ये महिलाएं छाई रहीं, वजह भी जान लीजिए

बड़े आविष्कारों से लेकर 12वीं की परीक्षा तक.

स्कॉच ब्राइट वालों ने ढंग का काम करना चाहा, ट्विटर पर लोगों ने उल्टी गंगा बहा दी

बात थी जेंडर से जुड़ी, बिंदी लेकर उड़ चले

बीजेपी में शामिल होने वाली वीरप्पन की बेटी को पार्टी ने कौन सी जिम्मेदारी दी?

फरवरी 2020 में बीजेपी में शामिल हुई थीं.

आज पूरे दिन ख़बरों में छाई रहने वाली ये महिलाएं कौन हैं?

और इन्होंने ऐसा क्या कर दिया कि स्पॉटलाइट इन पर पड़ी है.

COVID-19: क्वारंटीन सेंटर के भीतर का ये सीन देखकर आप उम्मीद से भर जाएंगे

जहां कोरोना से ज्यादा मजबूत है इंसानी हिम्मत और न हारने का जज्बा.

समलैंगिकता 'ठीक' करने के नाम पर शर्मिंदगी से भर देने वाली 'कन्वर्जन थेरेपी' क्या है

विदेश में भी इसे एक इलाज बताकर बेचा जाता है.

शुभम मिश्रा जैसे लड़कों से लड़कर कैसे जीतती हैं इंडिया की स्टैंड-अप कॉमिक लड़कियां?

जो पहले से ही एक ऐसे फील्ड में हैं जहां लड़कियां बेहद कम हैं