Submit your post

Follow Us

'एक पांव ढका, एक खुला, इससे अच्छा ममता 'बरमूडा' पहन लेतीं.' सीरियसली, दिलीप घोष?

पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव हैं. अलग-अलग पार्टी के नेता जनता के बीच अपने नंबर बढ़ाने में जुटे हैं. अलग-अलग मुद्दे उठा रहे हैं, सामने वाली पार्टी पर अटैक करने वाले बयान दे रहे हैं. इन सबके बीच बंगाल के बीजेपी चीफ दिलीप घोष ने भी एक भद्दा बयान दे डाला. बीते दिनों तीरथ सिंह रावत की जितनी चर्चा हुई वो देखकर उन्हें लगा होगा कि औरतों पर, खासकर उनके कपड़ों पर कमेंट करना कूल है. तो उन्होंने मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के कपड़ों पर घटिया टिप्पणी कर दी.

पुरुलिया में हुई एक चुनावी रैली में घोष ने 23 मार्च को कहा,

“प्लास्टर कट गया और क्रैप बैंडेज बांधा गया. और अब वो अपना पैर सबको दिखा रही है. वो साड़ी पहनती हैं. जिसमें एक पैर ढका होता है, एक पैर लोगों को दिखाने के लिए खुला होता है. मैंने कभी किसी को इस तरह साड़ी पहने नहीं देखा. अगर उनको अपने पैर दिखाने ही हैं तो उनको बरमूडा शॉर्ट्स पहन लेने चाहिए. ताकि सबको उनके पैर अच्छे से दिख जाएं.’

औरत के कपड़े पर टिकने वाली इनकी नज़र?

– ममता बनर्जी को चोट लगी है. वो अपने पैरों से चल नहीं पा रहीं. व्हील चेयर पर बैठकर चुनाव प्रचार कर रही हैं. लेकिन दिलीप घोष को ममता की पॉलिटिक्स, उनकी सरकार के काम पर अटैक करने से ज्यादा बेहतर उनकी चोट पर हमला करना लगा.

– एक ऐसी पार्टी जो चुनाव जीतकर सरकार बनाने का दावा कर रही है, उस पार्टी का राज्य का सबसे बड़ा नेता मुख्यमंत्री के कपड़े डिस्कस कर रहा है. ये डिस्कस कर रहा है कि उन्हें साड़ी पहननी चाहिए या कुछ और. एक औरत के कपड़े पर बेहूदा टिप्पणी की जा रही है. कहा जा रहा है कि उन्होंने अपना एक पैर डिस्प्ले पर रखा है. उन्हें बरमूडा पहनने की सलाह दी जा रही है इस टिप्पणी के साथ कि उससे सबको बेहतर व्यू मिलेगा. तीरथ रावत की ‘बदन दिखा रही हो’ और दिलीप घोष की ‘पैर डिस्प्ले पर लगा रखा है’, इन दोनों बातों के मतलब में अंतर करने की कोशिश कीजिए, आपको कोई अंतर नहीं मिलेगा. क्योंकि इन दोनों बातों को कहने के पीछे की मानसिकता एक ही है. घटिया और गिरी हुई.

ममता बनर्जी चाहें तो बरमूडा पहन सकती हैं. वो चाहें तो स्कर्ट या अपनी पसंद की कोई ड्रेस भी पहन सकती हैं. लेकिन ये उनकी चॉइस होनी चाहिए, न कि औरतों को उनके कपड़ों से ऊपर नहीं देख पाने वाले किसी नेता का घटिया सुझाव.

दिलीप घोष के इस बयान का तृणमूल कांग्रेस ने पुरज़ोर विरोध किया. टीएमसी की तरफ से जारी बयान में कहा गया,

“एक महिला मुख्यमंत्री के खिलाफ दिलीप घोष की निंदनीय टिप्पणी ये साबित करती है कि बीजेपी नेताओं को औरतों का सम्मान करना नहीं आता है.”

टीएमसी सांसद महुआ मोइत्रा ने लिखा,

“पश्चिम बंगाल के बीजेपी अध्यक्ष एक पब्लिक रैली में कह रहे हैं कि ममता दीदी साड़ी क्यों पहनती हैं. उन्हें बरमूड़ा पहनने चाहिए, इससे पैर लोगों को बेहतर दिखेंगे. और ऐसी विकृत और भ्रष्ट बुद्धि वाले लोग सोचते हैं कि वो बंगाल जीत जाएंगे?

 एक यूज़र ने लिखा, “जब इनको समझ आ जाता है कि विपक्ष के तौर पर ये जनता भरोसे में नहीं ले पा रहे हैं, जब इनकी कम्युनल पॉलिटिक्स नहीं चल पाती तब ये अपने पुराने दोस्त ‘स्त्री विरोध’ का सहारा लेते हैं.” When they can’t figure out convincing burns as opposition and their communal politics fail they turn to their old friend casual misogyny. #DilipGhosh https://t.co/GQqB6i3MEY — ☆✼★ . ★✼☆ (@RebelGeek1111) March 24, 2021  तीरथ सिंह रावत और अब दिलीप सिंह वाले मामले में महिला एवं बाल विकास मंत्री स्मृति ईरानी की चुप्पी पर भी लोगों ने सवाल उठाए. एक यूज़र ने लिखा, “अगर ये बात राहुल गांधी ने कही होती तो स्मृति ईरानी अब तक प्रेस कॉन्फ्रेंस कर चुकी होतीं. लेकिन बीजेपी नेताओं ने बोला है तो वो एकदम चुप हैं.”

एक यूज़र ने लिखा, रिप्ड जींस से बरमूडा के बीच बीजेपी नेताओं की स्त्री विरोधी सोच सामने आ गई.

कई लोगों ने तीरथ रावत वाले पूरे मसले पर को इससे जोड़ते हुए लिखा कि इस एक बयान के लिए बीजेपी को दिलीप घोष को मुख्यमंत्री घोषित कर देना चाहिए.

पहले तीरथ सिंह रावत और अब दिलीप घोष, हमारी तो ये समझ में नहीं आता कि इन बीजेपी नेताओं को औरतों के कपड़ों पर टिप्पणी करने में क्या रस मिलता है?


निकिता तोमर को गोली मारने वालों को सज़ा, कथित ‘लव जिहाद’ का था हल्ला

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

UP में सरकारी टीचर ने आत्महत्या की, सुसाइड नोट देखकर लोगों की रूह कांप गई

UP में सरकारी टीचर ने आत्महत्या की, सुसाइड नोट देखकर लोगों की रूह कांप गई

पढ़ने-पढ़ाने वाले, पेशे से टीचर पड़ोसियों पर गंभीर आरोप लगे हैं.

औरत ने अपने पिता को खूब दारू पिलाई, फिर जलाकर क्यों मार डाला?

औरत ने अपने पिता को खूब दारू पिलाई, फिर जलाकर क्यों मार डाला?

आरोपी बेटी तक कैसे पहुंची कोलकाता पुलिस?

यौन शोषण करता था पुलिस वाला, लड़की ने आवाज़ उठाई तो घिनापे की हद ही पार कर दी

यौन शोषण करता था पुलिस वाला, लड़की ने आवाज़ उठाई तो घिनापे की हद ही पार कर दी

एक लड़की का पूरा परिवार बर्बादी की कगार पर आ गया.

आठ साल की बच्ची ने अपने रेपिस्ट को ऐसे पकड़वाया, आप भी बहादुरी की दाद देंगे

आठ साल की बच्ची ने अपने रेपिस्ट को ऐसे पकड़वाया, आप भी बहादुरी की दाद देंगे

घटना के बाद शहर से भागने वाला था आरोपी, लॉकडाउन ने रोक दिया.

दूसरे आदमी से संबंध होने का शक में पति ने तांबे के तार से पत्नी का प्राइवेट पार्ट सिल दिया!

दूसरे आदमी से संबंध होने का शक में पति ने तांबे के तार से पत्नी का प्राइवेट पार्ट सिल दिया!

मामला यूपी के रामपुर का है.

महिला ने कहा- रेप का प्रयास किया, इसलिए प्राइवेट पार्ट काट दिया

महिला ने कहा- रेप का प्रयास किया, इसलिए प्राइवेट पार्ट काट दिया

आरोपी ने कुछ और ही कहानी बताई.

मुस्लिम बच्चे से मिलने पहुंची कांग्रेस नेता को मिया खलीफा की मुंहबोली बहन बता दी धमकी

मुस्लिम बच्चे से मिलने पहुंची कांग्रेस नेता को मिया खलीफा की मुंहबोली बहन बता दी धमकी

गाजियाबाद पुलिस ने केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई शुरू की.

रेप के 17 साल बाद महिला ने फेसबुक से आरोपी को पहचाना, केस दर्ज

रेप के 17 साल बाद महिला ने फेसबुक से आरोपी को पहचाना, केस दर्ज

मामला मध्य प्रदेश के इंदौर का है.

वॉट्सऐप का खतरनाक स्कैम: वीडियो कॉल कर लड़की उतारने लगती है कपड़े, बचना मुश्किल

वॉट्सऐप का खतरनाक स्कैम: वीडियो कॉल कर लड़की उतारने लगती है कपड़े, बचना मुश्किल

इस स्कैम की सच्चाई जान माथा पीट लेंगे.

मांगलिक दोष हटाने के लिए महिला टीचर ने 13 साल के स्टूडेंट से शादी कर डाली

मांगलिक दोष हटाने के लिए महिला टीचर ने 13 साल के स्टूडेंट से शादी कर डाली

बच्चे को एक हफ्ते तक कैद रखा. 'सुहागरात' भी मनाई.