Submit your post

Follow Us

उदयपुर और रांची में प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए जो किया जा रहा है, वो पूरे देश में होना चाहिए

झारखंड की राजधानी रांची में प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए ख़ास हेल्पलाइन शुरू की गई है. स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि राज्य में जितनी भी प्रेग्नेंट महिलाएं हैं, सभी की लिस्ट तैयार की गई है. वो कभी भी हेल्पलाइन नंबर 9110041397 पर फोन करके मेडिकल सलाह ले सकती हैं. उनकी अगर कोई दूसरी समस्या भी आ रही हो, तो उसके लिए भी सरकार मदद करेगी.

इसकी ज़रूरत क्यों पड़ी?

COVID-19 के बढ़ते मामलों की वजह से प्रेग्नेंट महिलाओं की जांच में दिक्कतें आ रही थीं.

Sadar Ranchi 700
सदर अस्पताल, रांची (तस्वीर: आकाश कुमार/आज तक)

‘आज तक’ से जुड़े आकाश कुमार ने बताया कि हॉस्पिटल में भर्ती होने से पहले महिलाओं से कहा जा रहा था कि COVID टेस्ट करवा कर आओ. लेकिन फिर गाइडलाइन जारी की गई कि महिलाओं का इलाज पहले करिए, टेस्ट भी करवा दिया जाएगा. जो रेड ज़ोन हैं, वहां पर महिलाओं के लिए स्पेशल वॉर्ड भी बनाया गया है. अब सदर अस्पताल में ट्रूनैट (Trunat) नाम की मशीन लगाई गई है. इसकी मदद से COVID-19 की टेस्टिंग कम समय में की जा सकेगी.

Tournet Machine 700
Trunat मशीन जिससे कुछ ही समय में कोरोना का टेस्ट रिजल्ट मिल जाता है. (तस्वीर: आकाश कुमार/ आजतक)

कैसे काम करती है ये हेल्पलाइन?

इस पर कॉल करके महिलाएं जानकारी ले सकती हैं कि प्रेग्नेंसी से जुड़ी जांचें कहां कराई जा सकती हैं. कौन-कौन से डॉक्टर अवेलेबल हैं. अगर कोई हेल्थ सेंटर किसी जांच से इनकार कर रहा है, तो उसकी शिकायत भी दर्ज कराई जा सकती है. इस पर शुरुआती चार दिनों में ही 300 के करीब कॉल आईं.

उदयपुर में पुलिस आई आगे

इसी तरह उदयपुर में प्रेग्नेंट महिलाओं के लिए एक वॉट्सऐप ग्रुप बनाया गया है. DSP रैंक की तीन महिला पुलिस ऑफिसरों ने मिलकर ये ग्रुप बनाया है. और अपने-अपने इलाके में प्रेग्नेंट महिलाओं को इससे जोड़ा है. इस ग्रुप का नाम ‘हेलो मम्मी’ रखा गया है.

Hello Mommies 700
वॉट्सऐप ग्रुप की तस्वीर (तस्वीर: आशुतोष मिश्रा/आजतक)

‘आज तक’ से जुड़े आशुतोष मिश्रा के अनुसार, डीएसपी चेतना भाटी ने बताया,

‘काम चुनौती भरा इस लिहाज से है कि गर्भवती महिलाओं को जिस चीज़ की जरूरत पड़े, सही समय तक उन्हें मदद पहुंच जाए. मकसद लोगों को याद रहे कि पुलिस हमारी मदद के लिए है, जिससे उनका मनोबल बड़ा रहता है. अब तक हमारे वॉट्सऐप ग्रुप में 159 महिलाएं जुड़ चुकी हैं, जिनमें 40 गर्भवती महिलाएं हैं. बड़ी संख्या में आशा वर्कर को भी जोड़ा गया है, जिससे सही समय पर मदद पहुंचाई जा सके’.

इस तरह के एफर्ट इसलिए भी ज़रूरी हो गए हैं क्योंकि देश के कई कोनों से प्रेगनेंट महिलाओं द्वारा परेशानियां झेलने की खबरें आ रही हैं.


वीडियो: ये डॉक्टर कोरोना से ठीक होकर लौटीं तो पड़ोसियों ने घर में बंद कर दिया 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

गुरुग्राम: मणिपुरी लड़की का आरोप- लोगों ने मारा-पीटा और कहा- समझ नहीं आता, यहां क्यों आती हो

लड़की के खिलाफ भी मामला दर्ज.

बच्ची ने दुकान खोलने से मना किया तो AIADMK के दो नेताओं ने उसे ज़िंदा जला दिया

लड़की के पिता के साथ पुरानी दुश्मनी थी, बदला ले लिया.

दिल्ली: ऑटो ड्राइवर ने पहले गर्भवती पत्नी की हत्या की, फिर पुलिस को बता दी पूरी कहानी

खुद ही सरेंडर करने भी पहुंच गया.

21 साल की नन की लाश कुएं में मिली, दूसरी नन ने लिखा- और कितनी लाशें चाहिए आंखें खोलने के लिए?

पुलिस का एक ही जवाब- जांच चल रही है.

'बॉयज़ लॉकर रूम' में नहीं हुई थी गैंगरेप प्लानिंग, लड़की ने लड़के की फेक ID बनाकर ये बात की थी

मार्च के महीने में हुई थी ये बातचीत.

80 साल के बुजुर्ग पर 22 साल की लड़की के रेप का आरोप

मामला अप्रैल का है, पीड़िता ने 8 मई को केस दर्ज कराया.

अस्पताल के कर्मचारियों पर आरोप- डिलीवरी के बाद महिला का यौन शोषण किया

दूध की टेस्टिंग के लिए महिला को सैंपल देना था.

बॉयज़ लॉकर रूम: विक्टिम ने बताया, लड़कों के घरवाले शिकायत वापस लेने को कह रहे हैं

इंस्टाग्राम के इस ग्रुप के चैट वायरल होने के बाद छानबीन शुरू.

अफेयर का शक था, इसलिए पुलिसवाले ने कॉन्स्टेबल पत्नी को गोली से उड़ा दिया

अगले दिन कुछ ऐसा हुआ, जिसकी कल्पना किसी ने नहीं की थी.

जामिया की सफ़ूरा के अजन्मे बच्चे को 'नाजायज़' कहने वालों की अब खैर नहीं!

दिल्ली महिला आयोग ने पुलिस के सामने तीन मांगें रखी हैं.