Submit your post

Follow Us

नस्लभेद पर आवाज़ उठा रहे बॉलीवुड सेलेब्रिटीज़ का दूसरा चेहरा ट्विटर पर वायरल हो रहा है

अमेरिका में जॉर्ज फ्लॉयड की हत्या के बाद पूरी दुनिया में पुलिस बर्बरता के खिलाफ आवाज़ उठाई जा रही है. जॉर्ज एक अश्वेत व्यक्ति थे, जिनको जाली नोट चलाने के आरोप में पुलिस ने गिरफ्तार किया, 25 मई को. गिरफ्तारी के फौरन बाद एक अफसर ने उन्हें ज़मीन पर पटक कर गर्दन पर घुटना रख दिया था, जबकि जॉर्ज ने गिरफ्तारी का विरोध नहीं किया था. गर्दन दबने की वजह से वो सांस न ले सके और उनकी मौत हो गई. इसके बाद से ही अमेरिका से लेकर दूसरे देशों में भी इसके खिलाफ विरोध शुरू है. बॉलीवुड के भी कई स्टार ने इस मुद्दे पर इंस्टाग्राम स्टोरी से लेकर ट्वीट तक पोस्ट किए. उन्होंने ऐसी बातें लिखीं कि सभी रंग सुंदर होते हैं, सभी का सम्मान करना चाहिए.

लेकिन एक ट्विटर हैंडल ने उनके दोहरे स्टैन्डर्ड सामने लाने का जिम्मा उठाया. जो बॉलीवुड सेलेब्रिटी जॉर्ज के पक्ष में पोस्ट कर रहे थे, उनके द्वारा किए गए फेयरनेस क्रीम्स के विज्ञापनों की फेहरिस्त तैयार कर दी. ट्विटर हैंडल का नाम है एंटी पिजन. इस हैंडल पर किए गए ट्वीट में प्रियंका चोपड़ा से लेकर दिशा पटानी तक शामिल हैं.

कुछ ट्वीट ये रहे:

एक अश्वेत व्यक्ति की हत्या और फेयरनेस क्रीम का क्या लेना-देना?

एक पूरा काल ऐसा रहा है अमेरिका के इतिहास में, जब अश्वेत लोगों को उनकी चमड़ी के रंग की वजह से न तो स्कूलों में पढ़ने दिया जाता था, न ही उन्हें समाज में बराबरी की जगह दी जाती थी. उनको ‘नीचा’ माना जाता था. अभी भी अमेरिका इस नस्लभेद से जूझ रहा है. वहां मौजूद अफ्रीकन अमेरिकन लोग अपने अधिकारों और समाज में बराबरी की जगह के लिए अभी भी लड़ रहे हैं.

अब ज़रा पलटिए और अपने देश की तरफ नज़र घुमाइए. गोरे रंग के लोगों को तरजीह दिया जाना, उन्हें ‘खूबसूरती’ का ‘मानक’ मानना अभी भी बंद नहीं हुआ है. जो लोग सांवले होते हैं, उन्हें क्रीम और पाउडर बेचे जाते हैं, ताकि वो ‘गोरे’ लगें. ‘सुंदर’ दिखें. गोरा और सुंदर यानी श्वेत लोगों द्वारा तय किए गए मानक.

इस मुद्दे को थोड़ा और क्लियर करते हुए इस हैंडल ने ट्वीट करके लिखा-

नस्लभेद और रंगभेद दो अलग चीज़ें हैं, इसमें कोई दो मत नहीं. लेकिन एक तरफ आप ये कह रहे हैं कि ऑल कलर्स आर ब्यूटीफुल, दूसरी तरफ अपने देश में फेयरनेस क्रीम को प्रमोट कर रहे हैं. ये तो मौके का फायदा उठाने वाली बात हो गई.

कंपनियों को दोष दिया जाना चाहिए, लेकिन इन एक्टर्स के सर पर किसी ने बन्दूक तान कर तो ये कहा नहीं कि ऐसे ऐड करो. कॉर्पोरेट का कोई नैतिक कम्पास भले न हो, इंसानों में होने की तो उम्मीद होती ही है.

एक और ट्वीट में हैंडल ने लिखा-

भारतीय समाज अपने आप में बहुत रंगभेदी है. इस वजह से गहरे रंग की चमड़ी वाली नस्लों के लोगों के साथ हमारा व्यवहार भी बदल जाता है. (जैसे नोएडा में अफ्रीकी छात्रों को पीटा जाना).

इसी ट्वीट के नीचे और ऐसे कई ऐड पोस्ट किए, जिनमें बॉलीवुड स्टार्स ने गोरेपन की क्रीमों के ऐड किए थे.

ट्विटर हैंडल ने ये भी कहा कि इन ट्वीट का मकसद किसी एक्टर को टारगेट करना नहीं, बल्कि एक बातचीत शुरू करना है. पूरी इंडस्ट्री के साथ ये परेशानी है. ये समाज में बस चुके भीतरी रंगभेद का नतीजा है. वो रंगभेद, जो गोरी चमड़ी को ज्यादा महत्त्व देता है.


वीडियो: टिकटॉक पर अब क्या हुआ जो लोग प्रोफाइल पिक्चर बदलने लगे हैं?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

बेटी से वॉट्सऐप पर बात करते रहे, फिर पुलिस ने बताया- वो साल भर पहले मर चुकी थी

उसकी हत्या कर, सर और हाथ काट, जाने कब फेंका जा चुका था.

नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की भतीजी ने उनके भाई पर यौन शोषण के आरोप लगाए

नवाज़ के बारे में कहा कि उन्हें बताया तो बोले, 'चाचा हैं ऐसा नहीं कर सकते'.

बेटा और पैसा चाहिए था, तो आदमी ने तांत्रिक की सलाह पर बड़ा कांड कर डाला!

पुलिस अब तांत्रिक को भी खोज रही है.

जेसिका लाल हत्याकांड: दोषी मनु शर्मा को उम्र कैद हुई थी, लेकिन 14 बरस में ही तिहाड़ से बाहर आ गया

सात साल की कानूनी लड़ाई के बाद दोषी को सज़ा मिली थी.

घर से चली गई थी, रिश्तेदारों ने बेरहमी से पीटा, उसके कंधे पर लड़के को बिठाकर गांव में घुमाया

पीड़िता के पिता की शिकायत पर पुलिस ने 15 लोगों को गिरफ्तार किया.

शराब के लिए पैसे मांगे, पत्नी ने कहा-कमा कर लाओ, बहस हुई, फिर इतना पीटा कि पति की मौत हो गई!

पति के खिलाफ मारपीट का आरोप लगाकर महिला ने थाने में शिकायत भी कर दी थी.

टिंडर पर फेक अकाउंट बनाते, शादी का झांसा देते और प्राइवेट फोटो से ब्लैकमेल करते थे, अरेस्ट

कबीर सिंह के किरदार से प्रेरित हुए थे आरोपी, पुलिस ने गिरफ्तार किया.

नोएडा में कुत्ते ने पालतू कुत्ते पर हमला किया, तो मालिक ने चीन की रहने वाली महिला को बेरहमी से मारा

महिला जिस कुत्ते को खाना खिलाती थी, उसी ने हमला किया था.

सोनीपत: क्या इस नवजात बच्ची को अस्पताल ने मरने के लिए छोड़ दिया?

छोटे से टब में रखी नवजात बच्ची का वीडियो वायरल.

अलका लांबा ने 2 साल पहले मोदी को अपशब्द कहे, अब उनके चरित्र पर हमला किया जा रहा

कोई किसी को 'नपुंसक' कहता है, कोई किसी को 'वेश्या': नेताओं की क्रिएटिविटी के क्या कहने.