Submit your post

Follow Us

क्या ऑक्सीजन की जगह नेब्युलाइज़र लगाना कोरोना मरीज़ की जान बचा सकता है ?

कोरोना वायरस की दूसरी लहर और सरकारी विफलता से सारा देश जूझ रहा है. मरीज़ों को बेसिक सुविधाएं नहीं जुटा पा रही हैं, जिनमें बेड, ऑक्सीजन और दवाएं शामिल हैं. जिसके कारण लोग मर रहे हैं. सबसे ज्यादा मारामारी ऑक्सीजन को लेकर है.

किल्लत के बीच कई तरह के जुगाड़ वाले वीडियो सामने आ रहे हैं, जिनमें ऑक्सीजन की कमी होने पर जान बचाने के कथित तरीके बताए जा रहे हैं. ऐसा ही एक वीडियो छत्तीसगढ़ के सीनियर IAS अधिकारी अवनीश शरण ने ट्वीट किया है. इस वीडियो में सर्वोदय हॉस्पिटल, फरीदाबाद के डॉक्टर आलोक बता रहे हैं कि कैसे ऑक्सीजन के सब्स्टीट्यूट की तरह नेब्युलाइज़र का इस्तेमाल किया जा सकता है. वीडियो में बताए अनुसार नेब्युलाइजिंग मशीन में बिना कोई दवाई डाल, उसे पहन लें और बैठकर सांस लें. आगे वो व्यक्ति कहीं भी ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए न भागने की बात कह रहा है. अंत-अंत में आप वीडियो के व्यक्ति को ये कहते हुए भी पाते हैं कि वातावरण में इतनी ऑक्सीजन होती है हमें इससे ऑक्सीजन मिल जाए.

कैप्शन में लिखा कि ब्लड ऑक्सीजन लेवल को बेहतर करने में नेब्युलाइज़र के इस्तेमाल की एक्सीलेंट तकनीक बता रहे हैं. ( ये वायरल वीडियो ट्वीट आप नीचे देख सकते हैं.)

वीडियो IAS की ओर से आया, तो लोगों डॉक्टर और IAS शब्दों पर भरोसा करते हुए लोगों ने जेनुइन माना और डॉक्टर आलोक को धन्यवाद देने के साथ रीट्वीट करना शुरू कर दिया.

नेब्युलाइज़र से ऑक्सीजन की कमी होगी पूरी ?

सवाल उठता है कि क्या सच में नेब्युलाइज़र से ऑक्सीजन की कमी को पूरा किया जा सकता है या नेब्युलाइज़र वाली ये तकनीक महज एक अफवाह है. ये तकनीक कितनी कारगर है इसके लिए हमने बात की डॉक्टर विष्णु पाणिग्रही से जो Fortis health care के साथ काम करते हैं. हमने जब डॉक्टर से इस बाबत सवाल किया तो उन्होने ऑक्सीजन की जगह नेब्युलाइज़र के इस्तेमाल को सरासर बेवकूफी बताया.

डॉ. बिष्णु पाणिग्राही
Dr. Bishnu Panigrahi

डॉक्टर विष्णु ने कहा,

“That nebulizer is not a surrogate to oxygen. Oxygen supplementation when indicated , we need to give a higher % of oxygen, which cannot be provided by what you were alluding to” माने नेब्युलाइज़र ऑक्सीजन की जगह नहीं ले सकता क्योंकि जब ऑक्सीजन देने की ज़रूरत होती है तब ऑक्सीजन का हाई परसेंटेज देना होता है जो कि नेब्युलाइज़र से संभव नहीं है.’’

वहीं हमने एक दूसरे MBBS डॉक्टर अरूण खत्री से बात की जो कोविड-19 ( covid -19 ) के मरीजों के लिए ही काम कर रहे हैं. उन्होंने बताया कि,

डॉक्टर अरूण खत्री
Dr. Arun

“वीडियो में बताई जा रही तकनीकि से कुछ मिनटों के लिए तो ऑक्सीजन दी जा सकती है लेकिन जितनी मात्रा में ऑक्सीजन कोरोना के मरीजों को ज़रूरत होती है उसकी पूर्ति नेब्युलाइज़र के जरिए नहीं की जा सकती है.”

क्या करें जब ऑक्सीजन लेवल हो रहा है कम-

डॉक्टर अरूण ने साफ शब्दों में कहा कि अगर मरीज का ऑक्सीजन लेवल 85 तक है उस हालात में नेब्युलाइज़र इस्तेमाल कर सकते हैं लेकिन महज चंद मिनटों के लिए. इससे ज्यादा नेब्युलाइज़र काम नहीं करेगा, बल्कि ऐसे हालात में जब ऑक्सीजन लेवल कम हो रहा है तब सेल्फ अवेकेनिंग पोजीशनिंग ज्यादा कारगर होती है इस पोजीशनिंग में मरीज को पेट के बल लेट कर सांस लेने के लिए कहा जाता है और इससे ऑक्सीजन लेवल में फर्क पड़ता है.

यानि अगर आपके जानने वाले किसी मरीज या आपका खुद का ऑक्सीजन लेवल गिर रहा है तो इस तरह के जुगाड़ को न अपनाकर तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें. कुल जमा कोरोना वायरस से बचिए, इंटरनेट के नीम-हकीमों से बचिए. बात जान की है तो डॉक्टर्स पर भरोसा कीजिए न कि फॉरवर्ड से आए वीडियो या ट्विटर के ब्लूटिक वाले आईएएसों पर.


 

वीडियो- PM केयर फंड से दिल्ली को 8 ऑक्सीजन प्लांट्स के लिए मदद की गई, पर कुछ काम नहीं हुआ!

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

कपड़ा फैक्ट्री में 19 महिलाओं से जबरन काम कराया जा रहा था, पुलिस ने बचा लिया

तीन महीने की ट्रेनिंग के लिए बुलाया, फिर बंधक बना लिया.

ग्वालियर: COVID सेंटर में वॉर्ड बॉय पर मरीज से रेप की कोशिश का आरोप, गिरफ्तार

आरोपी को नौकरी से निकाला.

बाप पर आरोपः दो साल तक बेटी का रेप किया, दांतों से चबाकर उसकी नाक काट ली

पैसे देकर दूसरे लड़के से रेप करवाने का भी आरोप है.

सुसाइड कर रहे पति को रोकने की जगह पत्नी उसका वीडियो क्यों बना रही थी?

पति की मौत हो गई है.

लड़कियों को बेरहमी से घसीट रही पुलिस के वायरल वीडियो का पूरा सच क्या है

क्या कार्रवाई के लिए पुलिस फसल पकने का इंतज़ार कर रही थी?

रेप के आरोपी NCP नेता को बचाने की कोशिश कर रहा था ACP, कोर्ट ने दिन में तारे दिखा दिए

ये सुनकर कोई भी पुलिस वाला शर्मिंदा हो जाए.

POCSO कोर्ट ने आंख मारने और फ्लाइंग किस को यौन उत्पीड़न माना, एक साल की सजा सुनाई

कोर्ट ने 15 हजार का जुर्माना भी लगाया.

'वर्जिनिटी टेस्ट' में फेल हुई तो जात पंचायत ने तलाक कराने का आदेश दे दिया

मामला कोल्हापुर का है. दो बहनों की एक ही परिवार में शादी हुई थी.

CRPF जवानों पर ऐसा क्या लिखा कि महिला को रेप की धमकी मिलने लगी

असमिया लेखिका शिखा शर्मा पर राजद्रोह का आरोप लगा है.

औरत का सिर मूंडने वाली, उस पर कालिख पोतने वाली भीड़ ने उसके बराबर जिम्मेदार पुरुष को छुआ तक नहीं

औरतों पर ऐसा अत्याचार करने वाली भीड़ को सज़ा कितनी मिलती है?