Submit your post

Follow Us

'अरेंज मैरिज' कल्चर दिखाने के बहाने इस नेटफ्लिक्स सीरीज ने कई दिक्कत भरी बातें दिखा डाली

नेटफ्लिक्स पर इस वक़्त ‘इंडियन मैचमेकिंग’ नाम की सीरीज आई है. इसकी चर्चाएं सोशल मीडिया पर काफी वायरल हो रही हैं. इस सीरीज में सीमा तपारिया नाम की मैचमेकर भारत और अमेरिका में लोगों के लिए रिश्ते ढूंढने का काम करती हैं. इस सीरीज की सोशल मीडिया पर काफी खिंचाई हो रही है . इसे मिसोजिनिस्ट कहा जा रहा है. यानी महिलाविरोधी. ये भी कहा जा रहा है कि इसमें जो भी चीज़ें दिखाई गई हैं, वो बेहद पिछड़ी हुई सोच की हैं.

Ankita
इस सीरीज पर ये भी आरोप लगे हैं कि इसमें दिखाया गया है कि इंडिपेंडेंट ख्यालों वाली, कमाने वाली, समझदार लड़कियों को ‘एडजस्ट’ करना पड़ेगा. जोकि सीमा तपारिया बार बार कहती हैं. (तस्वीर: Netflix)

ये दिक्कत तो है. लेकिन इसके अलावा भी एक चीज़ है जिस पर बात होनी बेहद ज़रूरी है. और वो है इस सीरीज के पीछे का पूरा तिया-पांचा. इस सीरीज को प्रोड्यूस किया है ईलाई हौल्ज़मैन, स्मृति मूंदड़ा, और एरोन सैडमैन ने. इनमें से स्मृति इंडियन-अमेरिकन हैं. बाकी दोनों अमेरिकन हैं. स्मृति पहले भी डॉक्यूमेंट्रीज़ बना चुकी हैं. 2017 में इनकी ‘अ सूटेबल गर्ल’ नाम की शॉर्ट फिल्म आई थी. उसमें भी अरेंज्ड मैरिज के ऊपर बात की गई थी.

नेटफ्लिक्स की ये सीरीज आठ एपिसोड्स की है. अलग-अलग भारतीय और इंडियन-अमेरिकन लोगों के जीवन को दिखाती है, जो अपने लिए पार्टनर ढूंढ रहे हैं. भारत और अमेरिका में शूट हुई है. इसकी नैरेटर हैं सीमा तपारिया, जो अपने क्लाइंट्स के लिए अमेरिका भी जाती हैं. तो उनकी जर्नी भी दिखाई गई है. कुछ चीज़ें जो इन सबके बीच ध्यान खींचती हैं:

विदेश में भारतीय

इस सीरीज की एक बहुत बड़ी दिक्कत ये महसूस होती है कि विदेशों में बसे भारतीयों को भी एक खास नज़र से दिखाया गया है. सीरीज के दो प्रोड्यूसर्स अमेरिकन हैं. उनकी नज़र से कई चीज़ें ऐसी दिखती हैं सीरीज में, जो बेहद प्रॉब्लमैटिक हैं. जैसे भारतीय डायस्पोरा (लोग जो विदेश में रहते हैं). उनके दिखाए हुए एग्जाम्पल ऐसे हैं, जो काफी पिछड़े हुए स्टीरियोटाइप्स फॉलो करते हैं.

Akshay Kids
अक्षय (इस शो में अपने लिए पार्टनर ढूंढता एक लड़का ) अपनी होने वाली पार्टनर के बारे में कहता है, कि वो काम करेगी तो बच्चे कौन संभालेगा. (तस्वीर: Netflix)

सीरीज में रूपम नाम की एक लड़की है. जो सिख है. डाइवोर्सी है. एक बेटी है उसकी. अपने लिए लाइफ पार्टनर ढूंढ रही है. एक लड़के का बायोडेटा देखती है. उसे ठीक लगता है तो अपने पापा से पूछती है. लड़का भी डाइवोर्सी होता है. लेकिन उसकी पहली शादी एक अमेरिकन लड़की से हुई होती है. इस बात पर उसके पापा भड़क जाते हैं. और रूपम को रुक कर सोचने की सलाह देते हैं.

Rupam
रूपम ने बाद में ऑनलाइन डेटिंग साइट के ज़रिए किसी लड़के से मुलाक़ात की, और उसकी कहानी वहीं तक दिखाई गई. (तस्वीर: Netflix)

नादिया जगेसर, जो कि भारतीय मूल की है, लेकिन उसके पूर्वज गयाना नाम के देश में बस गए थे. वो भी बताती है कि किस तरह भारतीय लोग उसे पूरी तरह अपना नहीं पाते. क्योंकि वो गयाना की है. पूरी तरह ‘भारतीय’ नहीं है. इस पूरे ट्रीटमेंट से विदेशों में रह रहे भारतियों की छवि एक ऐसे पिछड़े हुए समूह की बनती है, जो ओपन नहीं है.

पॉवर्टी पॉर्न

भारत में सीरीज मुख्यतः मुंबई और दिल्ली में फोकस्ड है. जब भी भारत के सीन आते हैं सीरीज में, सितार बजना शुरू हो जाता है. शॉट्स ऐसे लिए जाते हैं जो ‘स्लमडॉग मिलियनेयर’ की याद दिला देते हैं. कई सीन्स में एक समाज के तौर पर भारतीय लोगों को ‘exoticise’ करने की कोशिश दिखाई पड़ती है. exoticise मतलब किसी विदेशी वस्तु/व्यक्ति/परम्परा को एक अटेंशन की चीज़ की तरह इस्तेमाल करना.

एक थर्ड वर्ल्ड कंट्री के बारे में बनी हुई इमेज को भुनाते हुए शॉट्स जब रिश्ता ढूंढने वाले लोगों तक पहुंचते हैं, तो ये गरीबी गायब हो जाती है. क्योंकि सीमा तपारिया की फीस भरने की कूवत किसी आम मध्यवर्गीय परिवार की नहीं. इनके क्लाइंट्स बड़े-बड़े बिजनेसमैन हैं. करोड़ों के व्यापार करने वाले. महंगी गाड़ियों में चलने वाले. लेकिन इन गाड़ियों से बाहर की दुनिया दिखाना इस सीरीज का हिस्सा नहीं. उनके शॉट्स सिर्फ इसलिए मौजूद हैं ताकि देखने वालों को याद दिलाया जा सके कि वो भारत में हैं.

Pradhyuman
प्रद्युमन एक बेहद अमीर परिवार से है. और ये उसके ऊपर शूट किए गए सीन्स में भी साफ़ झलकता है. लेकिन इस दुनिया से बाहर आते ही भारत की एक अलग तस्वीर खींच दी जाती है. (तस्वीर: Netflix)

यही नहीं. चेहरा पढ़ने वालों के पास जाना, कुंडली मिलवाना, ये सब एलिमेंट भी ऐसे लगते हैं जो एक वाइट ऑडियंस का कौतूहल जगाने के लिए रखे गए. आखिर में ये चेहरा पढ़ने और कुंडली मिलाने वालों की कही गई बात भी किसी काम नहीं आती. उनके दावे झूठे साबित होते हैं.

कितना सच?

सीरीज देखकर ये अहसास होता है कि ये भारत के लोगों के लिए बनाई ही नहीं गई. उन श्वेत अमेरिकी लोगों के लिए बनाई गई है, जो ये जानना चाहते हैं कि इन ‘ब्राउन कम्यूनिटीज’ में चलता क्या है. कैसे होता है सब. उनके लिए ‘अरेंज’ मैरिज का कॉन्सेप्ट ही बेहद अजीब है. और इस तरह मैचमेकिंग देखना उनके लिए एक कौतूहल का विषय.

लेकिन जो बात उन्हें पता नहीं, वो ये कि जिन लोगों पर फोकस किया जा रहा है इस सीरीज में, वो भारत की जनसंख्या का एक बेहद छोटा हिस्सा है. देश में अधिकतर लड़कियों के लिए अरेंज मैरिज एक चॉइस नहीं, मजबूरी है. जिससे वो चाहकर भी छुटकारा नहीं पा सकतीं. जिससे उनके परिवार छुटकारा नहीं पा सकते. ऐसी लड़कियां जिनके पास डेटिंग ऐप्स ट्राई करना तो दूर, उनके बारे में सोचने तक की आज़ादी नहीं. और उन लड़कियों की कहानी ये नहीं है. क्योंकि सीमा तपारिया रिश्ते अरेंज करने की कथित तौर पर जो फीस लेती हैं, वो इन में से कई परिवारों की छह महीने की कमाई है.

चलते चलते बता दें कि शो में जिन भी लोगों के रिश्ते कराने की ज़िम्मेदारी सीमा तपारिया ने उठाई थी, उनमें से सभी अभी तक सिंगल हैं. अक्षय, जिसके रोके के साथ बात ख़त्म हुई थी शो पर, उसने LA टाइम्स को दिए इंटरव्यू में कहा कि ‘बाद में हमें कुछ ऐसी चीज़ें पता चलीं जिसके साथ हम कम्फर्टेबल नहीं थे. इसलिए हमने रिश्ता तोड़ दिया’.

अब सुनने में ये आ रहा है कि इसका अगला सीज़न भी आएगा. लेकिन इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है.


वीडियो: पीपी का कॉलम: शादी के लिए लड़के देखना कितना मुश्किल होता है? 

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

'सेक्स रैकेट क्वीन' सोनू पंजाबन ने सोचा भी नहीं होगा कि कोर्ट इतनी ज़्यादा सज़ा सुना देगी

जिस मामले में सज़ा हुई, वो एक बच्ची के रेप, किडनैपिंग और उसे देह व्यापार में धकेलने का है.

बंगाल: जिस केस को रेप-मर्डर कहा जा रहा था, उसमें अब नई कहानी सामने आई है

19 जुलाई को लड़की का और 20 जुलाई को लड़के का शव मिला था.

बंगाल में लड़की की मौत को 'रेप के बाद हत्या' कहा जा रहा था, पर हकीकत क्या है?

शव मिलने के बाद लोगों ने भयंकर विरोध प्रदर्शन किया था.

पुलिसवाले पर आरोप, लड़की को कॉल कर कहा- 50 हज़ार ले लो, साले के लिए घर आ जाओ

बातचीत का ऑडियो वायरल, आरोपी पुलिसकर्मी सस्पेंड.

दहेज के लिए प्रताड़ित करते थे, महिला ने वीडियो बनाया, जी-मेल में सबूत रखकर फांसी लगा ली

मां से अपने पति और सास-ससुर को सजा दिलवाने की गुहार लगाई.

सेक्स रैकेट क्वीन सोनू पंजाबन, जिसे बच्ची से रेप केस में कोर्ट ने दोषी करार दिया है

2009 में हुआ था बच्ची का अपहरण, फिर वो कई बार कई लोगों को बेची गई.

103 साल की उम्र में कोरोना को हरा आईं, लेकिन पड़ोसियों ने ओछी हरकत कर डाली

हमीदा को दुकानदार तक सामान नहीं बेच रहे.

घिनौनापन! सुशांत के सुसाइड पर दुख जताने वाले, रिया चक्रवर्ती को सुसाइड करने के लिए कह रहे हैं

ये भी कहा गया कि तुम्हारा रेप हो. जान से मारने के लिए आदमी भेजने की बात भी कही गई.

मदरसा टीचर ने चार साल तक नाबालिग लड़की का रेप किया, अब जाकर केस दर्ज हुआ

लड़की को उसके पति ने केस दर्ज करवाने की हिम्मत दी.

बच्चियों को 'हायर' करके रेप करने का आरोपी प्यारे मियां भोपाल से भागा था, श्रीनगर में पकड़ाया

एक बच्ची की दादी भी पुलिस की गिरफ्त में.