Submit your post

Follow Us

स्वाति मोहनः वो साइंटिस्ट जिनके बिना NASA का रोवर मंगल पर नहीं उतर पाता

NASA के पर्सीवियरेंस रोवर ने 18 फरवरी को मंगल पर टचडाउन किया. इस टचडाउन के साथ ही भारतीय मूल की अमेरिकी वैज्ञानिक स्वाति मोहन का नाम भी इतिहास में दर्ज हो गया. क्योंकि इस लैंडिंग की जानकारी सबसे पहले पूरी दुनिया को स्वाति मोहन ने ही दी.

पर्सीवियरेंस ने करीब सात महीने अंतरिक्ष में रहने के बाद मंगल पर लैंड किया है. लैंडिंग के दौरान स्वाति इसके गाइडेंस और कंट्रोल ऑपरेशन को लीड कर रही थीं. इस दौरान वो पूरी दुनिया को रोवर की स्थिति के बारे में अपडेट देती रहीं. जब रोवर मंगल ग्रह पर उतरा तो स्वाति ने कहा-

“रोवर के उतरने की पुष्टि हो गई है. वो पूरी तरह से सुरक्षित है और मंगल ग्रह पर जीवन के सबूत खोजने के लिए तैयार है.”

स्वाति मोहन इस प्रोजेक्ट की गाइडेंस, नेविगेशन और कंट्रोल ऑपरेशन की लीड हैं. ये प्रोजेक्ट 2013 में शुरू हुआ था. स्वाति तब से ही इस पर काम कर रही हैं. उन्होंने फ्लोरिडा टुडे से कहा,

“पर्सीवियरेंस को जितना वक्त मैंने दिया है उतने साल में किसी एक स्कूल में नहीं रही. मेरी छोटी बेटी की पूरी उम्र से ज्यादा वक्त मैंने पर्सीवियरेंस को दिया है. ये मेरी ज़िंदगी का इतना बड़ा हिस्सा है.”

कौन हैं स्वाति मोहन?

स्वाति मोहन जब एक साल की थीं तब ही उनका परिवार भारत से अमेरिका शिफ्ट हो गया. स्वाति ने वॉशिंगटन से शुरुआती पढ़ाई की. जब वो नौ साल की थीं तब उन्होंने स्टार ट्रेक देखना शुरू किया. ये एक मशहूर साईफाई सीरीज़ है. इससे सीरीज़ से काफी प्रभावित हुईं. अंतरिक्ष और यूनिवर्स के रहस्यों को जानने की उत्सुकता उनके मन में इसी सीरीज़ की वजह से जागी. हालांकि, बचपन में वो साइंटिस्ट नहीं डॉक्टर बनना चाहती थीं. वो भी बच्चों की डॉक्टर.

हालांकि, उन्होंने फिज़िक्स की क्लासेस लीं और उन्हें कुछ बहुत अच्छे टीचर्स मिले. जिसके बाद उन्होंने इंजीनियरिंग को करियर ऑप्शन के तौर पर चुुना. उन्होंने कॉर्नेल यूनिवर्सिटी से मेकैनिकल एंड एयरोस्पेस में बीएस की डिग्री ली. बाद में MIT से एयरोनॉटिक्स और एस्ट्रोनॉटिक्स में MS और PhD की.  और वो स्पेस साइंटिस्ट बन गईं.

यूनिवर्स को लेकर उनके मन में कई सवाल आते, जवाब ढूंढने के लिए वो खूब पढ़ाई करतीं. इस तरह वो नासा पहुंच गईं.

 

नासा से जुड़ने के बाद स्वाति ने शनि के लिए कैसिनी और चांद के लिए ग्रेल मिशन पर काम किया. उनके काम को देखते हुए उन्हें मंगल के पर्सीवियरेंस मिशन में महत्वपूर्ण ज़िम्मेदारी दी गई. नासा के साथ काम करने को लेकर स्वाति कहती हैं,

“यहां इंसान की समझ को विस्तृत करने की कोशिश की जाती है और हमेशा कुछ नया खोजा जाता था. यहां काम करना सम्मान की बात है. इस तरह के माहौल में काम करने से काफी प्रेरणा मिलती है.”

स्वाति का कहना है कि वे यूनिवर्स की उन जगहों को देखना और समझना चाहती हैं जहां के बारे में आम लोग कभी भी नहीं सोचते. उन्होंने कहा कि वे नासा के अलग-अलग मिशन में शामिल होकर ऐसा करना चाहती हैं.

चलते-चलते आपको नासा के मार्स पर्सिवरेंस रोवर की लैंडिंग के बारे में भी थोड़ा बता देते हैं. इस रोवर ने पिछले सात महीनों में 472 मिलियन  किलोमीटर (47.2 करोड़) किलोमीटर की दूरी तय की. रोवर 19 हजार किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से मंगल ग्रह के वायुमंडल में पहुंचा. जिसके बाद यह उसकी सतह पर उतरा.


 

वीडियो- साइंसकारी: नासा ने जिस सिक्स स्टार सिस्टम को खोजा, वो है क्या?

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

उन्नाव में तीन दलित लड़कियों के साथ जो हुआ, वो पूरा मामला क्या है?

दो लड़कियों की पोस्टमार्टम रिपोर्ट में जहर की पुष्टि. तीसरी की हालत अभी भी क्रिटिकल.

प्रेमी के साथ मिलकर पूरे परिवार को मारने वाली शबनम, जिसे अब कभी भी फांसी हो सकती है

फांसी हुई तो आज़ाद भारत में सज़ा-ए-मौत पाने वाली पहली महिला होगी शबनम.

अपनी जूनियर से फ्लर्ट करते हैं तो कोर्ट ने आपके लिए ये स्पेशल बात कही है

मामला मध्यप्रदेश के एक जिला जज से जुड़ा है.

'तुम्हारी मां क्या करती हैं? LOL', सवाल पूछने वाले ट्रोल को नव्या नवेली ने प्यार से समेट दिया

नव्या ने अपनी मां को 'कामकाजी' बताते हुए एक पोस्ट शेयर किया था.

ट्यूशन पढ़ाने गई दलित टीचर की अर्धनग्न हालत में लाश मिली, रेप की आशंका

सोशल मीडिया पर विक्टिम का नाम ट्रेंड कर रहा है.

लड़की प्रेमी के साथ घर छोड़कर गई, दो महीने बाद कुएं में मिला उसका सिर, खेत में मिली बॉडी

लड़की के प्रेमी सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया गया है.

18 साल की लड़की दो महीने में छह बार बेची गई, आखिर में उसने सुसाइड कर लिया

एमपी के कपल ने नौकरी दिलाने के नाम पर लड़की को किडनैप किया था.

पुलिस पर आरोप, कथित रेप पीड़िता का शव आरोपी से जलवाया कि सबूत मिट जाएं

लाश को जलाने का वीडियो वायरल हो गया.

घर से पॉर्न शूट कर मोटा पैसा कमा रही थी एक्ट्रेस, दूसरी लड़कियों को भी फ़ोर्स करने का आरोप

इन पर करोड़ों रुपये का मानहानि का केस भी हो चुका है.

रैगिंग और सुसाइड के 8 साल पुराने केस में कोर्ट ने क्या सज़ा सुनाई?

साथ ही जानिए रैगिंग से जुड़ी ज़रूरी बातें.