Submit your post

Follow Us

क्या है वो बीमारी जिसने सुष्मिता सेन को एकदम तोड़ दिया था?

सुष्मिता सेन. सोशल मीडिया पर काफ़ी एक्टिव रहती हैं. बीते दिनों उन्होंने बताया कि साल 2014 में वो एडिसन डिसीज़ नाम की बीमारी से लड़ रही थीं. लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी. डटकर उसका सामना किया. कैसे? नुनचक्कू सीख कर. क्या है ये नुनचक्कू? एक तरह एक मार्शल आर्ट है. सुष्मिता के यूट्यूब चैनल पर इसके वीडियो भी हैं. मज़ेदार बात ये है कि सुष्मिता नुनचक्कू का इस्तेमाल मेडीटेट करने के लिए करती थीं.


View this post on Instagram

Had to bring the journey & the #nunchaku back for #youtube ❤️ LINK IN BIO I love you guys!!! #duggadugga

A post shared by Sushmita Sen (@sushmitasen47) on

सुष्मिता ने यूट्यूब पर इस वीडियो के साथ लिखा,

‘सितंबर, 2014. मुझे पता चला मुझे एक बीमारी है. एडिसन डिसीज़. ये एक ऑटोइम्यून बीमारी है. मुझे ऐसा लगता था कि मुझमें अब लड़ने की ताकत बची नहीं है. एक थका हुआ शरीर. बहुत कोफ़्त होती थी. मेरे आंखों के नीचे काले गड्ढे पड़ गए थे. पर वो उतने काले नहीं थे जितने मेरे वो चार साल. जीने ले किए मुझे स्टेरॉयड लेने पड़ते थे. शरीर में कोर्टिसोल की कमी पूरी करने के लिए. उसके साइड इफ़ेक्ट ख़तरनाक थे. एक ख़तरनाक बीमारी से जूझने से ज़्यादा थकाने वाला कुछ नहीं होता. पर एक दिन मैंने सोचा कि बहुत हो गया. मुझे अपने शरीर और मानसिक हालत को मज़बूत करना था. इसलिए मैंने नुनचक्कू के ज़रिए मेडीटेट करना शुरू किया. मेरा दर्द एक आर्ट बन गया. समय के साथ में ठीक हुई. मेरे एड्रेनल ग्लैंड ठीक हो गए. 2019 से मैं ठीक हूं.’

तो अब आते हैं अगले सवाल पर. क्या है ये एडिसन डिसीज़ जिसके बारे में सुष्मिता बात कर रही हैं? ये जानने के लिए हमने बात की डॉक्टर राकेश कुमार प्रसाद से. वो फ़ोर्टिस हॉस्पिटल, दिल्ली में एंडोक्रिनोलॉजी डिपार्टमेंट के हेड हैं. एंडोक्रिनोलॉजी बोले तो हॉर्मोन के डॉक्टर. वो हॉर्मोन जो आपको सोने, सेक्स करने, खाना पचाने में मदद करते हैं.

डॉक्टर आरके प्रसाद बताते हैं,

‘हमारे शरीर में कुछ ग्लैंड होते हैं. यानी ग्रंथियां. इसमें से एक होता है एड्रेनल ग्लैंड. इसका काम होता है शरीर के लिए कुछ बेहद ज़रूरी हॉर्मोन बनाना. वो हॉर्मोन जो आपके शरीर की मदद करते हैं. चर्बी और प्रोटीन को जलाने में. शरीर में शुगर की मात्रा को नॉर्मल रखने में. ब्लड प्रेशर नॉर्मल रखने में. स्ट्रेस से निपटने में. अब अगर ये ग्रंथी सही मात्रा में हॉर्मोन नहीं बनाती है तो आपको कई दिक्कतों का सामना करना पड़ता है. एडिसन डिसीज़ में आपके शरीर में एक से ज़्यादा ज़रूरी हॉर्मोन बनने बंद हो जाते हैं.’

Explainer: What is a hormone? | Science News for Students
एडिसन डिसीज़ में आपके शरीर में एक से ज़्यादा ज़रूरी हॉर्मोन बनने बंद हो जाते हैं.

क्यों बनना बंद हो जाते हैं हॉर्मोन?

डॉक्टर आरके प्रसाद ने बताया कि इसके पीछे ज़िम्मेदार है आपका एडरीनल कोर्टेक्स. अब ये क्या बला है? आसान भाषा में समझें तो ये आपकी एड्रेनल ग्रंथी का बाहरी हिस्सा होता है. ये दोनों किडनी के ऊपर होता है. और इनसे निकलते हैं हॉर्मोन. अब जब इस एडरीनल कोर्टेक्स में कुछ गड़बड़ हो जाती है. या ये ठीक तरह से काम नहीं करता तो हो जाती है मुसीबत. तब आपकी एड्रेनल ग्रंथी दो तरह के हॉर्मोन नहीं बना पाती. कोर्टिसोल. और अल्डोस्टेरोन. कोर्टिसोल वो हॉर्मोन है जो आपके शरीर को स्ट्रेस से लड़ने में मदद करता है. अल्डोस्टेरोन आपके शरीर में नमक यानी सोडियम और पोटाशियम की मात्रा को कंट्रोल करता है. कहने का मतलब है कि ये दोनों हॉर्मोन एक स्वस्थ शरीर के लिए बेहद ज़रूरी है. पर इस बीमारी में इन हॉर्मोन की लंका लग जाती है.

क्या होते हैं एडिसन डिसीज़ के लक्षण

-थकान

-कमज़ोरी

-सिर चकराना

-भूख न लगना

-एकदम से वेट लॉस होना

-लो ब्लड प्रेशर

-शरीर से हेयर लॉस होना

Hypoadrenalism (underactivity of the adrenal glands)
एड्रेनल ग्रंथी का बाहरी हिस्सा होता है एडरीनल कोर्टेक्स. ये दोनों किडनी के ऊपर होती है.

इसका इलाज क्या है

डॉक्टर आर.के. प्रसाद के मुताबिक एडिसन डिसीज़ को खत्म नहीं किया जा सकता पर कंट्रोल बिल्कुल किया जा सकता है.

कैसे?

हॉर्मोन रिप्लेसमेंट थेरेपी की मदद से. यानी दवाइयों की मदद से. जो हॉर्मोन आपके शरीर में नैचुरली नहीं बन रहे, आपको उन्हें दवाई या इंजेक्शन के रूप में दिया जाता है. शरीर में उनकी कमी को पूरा करने के लिए. इसलिए अगर आपको एडिसन डिसीज़ के लक्षण दिखने लगे तो तुरंत डॉक्टर से मिलें. साथ ही एक हेल्दी डाइट और एक्सरसाइज भी काफ़ी मदद करता है.


वीडियो

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

एम्बुलेंस ड्राइवर ने पहले 'हेलो सिस्टर्स' कहकर रोका, फिर भद्दी बातें बोलने लगा

तमिलनाडु के कोयम्बटूर में मणिपुरी लड़कियों ने नस्लभेद की शिकायत की.

क्वारंटीन सेंटर में पहले महिला का वीडियो बनाया, फिर ब्लैकमेल करने की कोशिश की

गांव के ही दो आदमियों पर आरोप लगा है.

मंदिर के पुजारियों ने दो औरतों को बंधक बनाया, कई दिन तक लगातार रेप करते रहे

घटना अमृतसर के मंदिर के एक आश्रम की है.

घरवालों के खिलाफ जाकर शादी की, अब कपल कह रहा- हमारी जान बचा लो

लड़की ने वीडियो जारी कर कहा- हम जैसे हैं, वैसे ठीक हैं. हमें छोड़ दो.

अश्लील फोटो फैलाने वालों पर कोई एक्शन नहीं हुआ, तो BJP की महिला नेता ने ट्विटर पर इंसाफ मांगा

ट्विटर पर जब महिला नेता का नाम ट्रेंड हुआ, तब पुलिस ने झटपट काम किया.

मां को बहाने से निर्वस्त्र करवा न्यूड तस्वीरें वायरल कर दीं

बुजुर्ग महिला को रिश्तेदारों से पता चला कि उसकी तस्वीरें वायरल हुई हैं.

यौन उत्पीड़न और जान से मारने की धमकी मिलने से परेशान नाबालिग ने खुद को आग लगाई

पुलिस ने केस दर्ज कर जांच शुरू की. पांच आरोपी गिरफ्तार.

राशन देने का झांसा देकर महिला मजदूर से रेप के आरोप में पुलिसवाला गिरफ्तार

मामला हिमाचल प्रदेश के बिलासपुर का है.

पांच लड़के नाबालिग लड़की को घर से किडनैप कर ले गए, गैंगरेप किया

एक आरोपी जज का भतीजा है.

गुरुग्राम: मणिपुरी लड़की का आरोप- लोगों ने मारा-पीटा और कहा- समझ नहीं आता, यहां क्यों आती हो

लड़की के खिलाफ भी मामला दर्ज.