Submit your post

Follow Us

जन्मदिन विशेष: स्मृति ईरानी जैसी मजबूत महिलाओं का पॉलिटिक्स में होना क्यों जरूरी है?

टीवी चैनल स्टार प्लस में साल 2000 के जुलाई महीने में, एक सीरियल ऑन एयर हुआ. उस सीरियल के जरिए एक ‘बहू’ ने देश के सभी घरों में एंट्री मारी, और जगह बना ली. कुछ ही दिनों में उस ‘बहू’ ने लोगों के दिलों में भी घर बना लिया. और फिर लोग उस सीरियल को उस ‘बहू’ के नाम से ही जानने लगे. सीरियल काफी पॉपुलर हुआ. पूरे आठ साल चला. 1,833 एपिसोड्स आए. सीरियल था, ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’. और वो ‘बहू’ थी स्मृति ईरानी. जिसने इस सीरियल में तुलसी विरानी का रोल किया था. वही स्मृति आज बीजेपी की एक बड़ी नेता हैं. और केंद्रीय मंत्री हैं. महिला एवं बाल विकास मंत्रालय संभाल रही हैं.

Smriti Irani 2
स्मृति को जब-तब औरत होने की वजह से सेक्सिज्म का सामना करना पड़ा. फोटो- वीडियो स्क्रीनशॉट

स्मृति अक्सर ही खबरों में रहती हैं. कभी उनके बयानों की वजह से, कभी इंस्टाग्राम पोस्ट की वजह से, कभी संसद में दिए किसी भाषण की वजह से, कभी उनके ऊपर हुए कमेंट्स की वजह से. पिछले साल हुए लोकसभा चुनाव में बीजेपी का बहुत बड़ा चेहरा बनकर उभरी थीं. राहुल गांधी की अमेठी सीट जीतकर बहुतों का ध्यान खींचा था.

स्मृति जबसे एक्टिव पॉलिटिक्स में आईं, उनके साथ भी वही हुआ, जो हमारे देश की कई महिला राजनेताओं के साथ होता है. माने उन्हें लेकर भी सेक्सिस्ट कमेंट्स हुए. क्या होता है न, कि जब किसी पुरुष नेता को, किसी महिला नेता पर हमला करना होता है, तो सबसे आसान हथियार उन्हें सेक्सिज्म ही लगता है. उस नेता का औरत होना ही, सामने वाले का हथियार बन जाता है. स्मृति भी जब-तब इसी का शिकार हुईं.

उनके ऊपर हुए कुछ सेक्सिस्ट कमेंट्स के नमूने हम आपको बताने जा रहे हैं-

– 2014 में जब बीजेपी की सरकार बनी थी, तब स्मृति को मानव संसाधन विकास मंत्री बनाया गया था. लेकिन जुलाई 2016 में उनसे ये विभाग छीन लिया गया, और कपड़ा मंत्रालय दे दिया गया. तब जेडीयू नेता अली अनवर ने कहा था,

‘स्मृति को भी कोई खराब विभाग थोड़े मिला है. तन ढंकने वाला विभाग मिला है. कपड़ा मंत्रालय तो अपना है.’

बयान पर जोरदार बवाल कटा. तब अनवर ने सफाई दी. कहा,

‘हमने स्मृति ईरानी जी को नहीं, विभाग को कहा है कि ये तन ढंकने वाला है. हमारा स्वभाव ऐसा नहीं है. हमारे मन में महिलाओं के लिए बहुत सम्मान है.’

Smriti Irani 1
स्मृति 2019 में हुए लोकसभा चुनाव में जीतीं, फिर उन्हें महिला एवं बाल विकास मंत्रालय की जिम्मेदारी दी गई. फोटो- इंडिया टुडे

– साल था 2014. उस समय एचआरडी मिनिस्ट्री स्मृति के पास थी. संसद का सत्र चल रहा था. लोकसभा में TMC सांसद सुल्तान अहमद ने मिड डे मिल स्कीम पर सवाल उठाया. कहा कि पूर्व टीवी एक्ट्रेस, जो पूरे देश में आदर्श बहू के रोल के लिए पॉपुलर थीं, उनसे उम्मीद थी कि वो मंत्री के तौर पर अच्छा प्रदर्शन करेंगी.

खैर, इस कमेंट पर तो कांग्रेसी सांसदों ने ही विरोध जता दिया था. सांसद रंजीत रंजन और सुष्मिता देव ने उसी वक्त स्मृति का समर्थन किया था. कहा था कि स्मृति के एक्टिंग करियर का इन सबसे कोई लेना-देना ही नहीं है. उसे बीच में नहीं लाना चाहिए.

– संजय निरुपम. कांग्रेस के नेता हैं. साल 2012 में एक टीवी डिबेट में निरुपम ने बहुत ही बेहूदा बात कही थी, स्मृति के लिए. कहा था,

‘आप तो टीवी पर ठुमके लगाती थीं. आज चुनाव विश्लेषक बन गईं.’

Smriti Irani
बढ़ते वज़न की वजह से उन्हें ‘हट्टी-कट्टी गाय’ भी कहा गया. फोटो- फेसबुक

– कुछ समय पहले एक वीडियो वायरल हुआ था. राष्ट्रीय लोक दल के नेता अजीत सिंह का. बहुत ही बेहूदा बयान दिया था. उत्तर प्रदेश के अमरोहा में एक जनसभा हुई थी, वहां अजीत सिंह पहुंचे थे. बीजेपी के नेताओं पर हमला बोल रहे थे. स्मृति ईरानी को भी बीच में ले आए. कहा,

‘खेतों में घुस आने वाले छुट्टे बछड़े और बैल उनके यहां योगी और मोदी कहे जाते हैं. हट्टी कट्टी गाय को देखकर स्मृति ईरानी भी कह देते हैं.’

अपने जीवन में, करियर में लड़ाइयां सब लड़ते हैं. लेकिन जब बात औरत की आती है, तो उसे ज्यादा लड़ना पड़ता है. ये कोई ग्राफ नेगेटिव से. या कोई रेस बाकियों के पीछे से शुरू करने जैसा है. क्योंकि लोग आपकी काबिलियत देखने के पहले ये देखते हैं कि आप औरत हैं. और अज्यूम कर लेते हैं कि आपका काम परुष से कमतर ही होगा.

स्मृति ईरानी या अन्य किसी भी औरत का पॉलिटिक्स में होना महत्वपूर्ण है. इससे ज्यादा कि वे किस विचारधारा या किस पार्टी की हैं. हमारी संसद में औरतों की संख्या इस बात का प्रमाण हैं.


वीडियो देखें: स्मृति ईरानी ने ऐसा रिप्लाई दिया कि एडमिन ने कहा, अब मीम नहीं बनाउंगा

लगातार लल्लनटॉप खबरों की सप्लाई के लिए फेसबुक पर लाइक करें

क्राइम

कोरोना वायरस: लॉकडाउन का फायदा उठाकर 9 लड़कों ने नाबालिग का गैंगरेप किया

ऐसे माहौल में भी इन लड़कों को डर नहीं लगा.

'कोरोना' चिल्लाकर लड़की पर थूकने वाले को पुलिस ने धर लिया है

दिल्ली का ही है आरोपी, सफ़ेद स्कूटी और CCTV फुटेज ने मदद की

महिला क्रिकेटर्स ने हेड कोच पर यौन शोषण के आरोप लगाए, कोच को सस्पेंड किया गया

कोरोना के कारण हेड कोच की मुश्किल और भी बढ़ गई.

निर्भया के दोषियों से पहले रेप के अपराध में आखिरी बार फांसी इस शख्स को हुई थी

जिसके बारे में बाद में कहा गया कि वो बेगुनाह था.

ईवेंट के लिए असम से कानपुर पहुंची मॉडल, बिजनेसमैन ने दोस्तों के सामने रेप किया

पार्टी के बाद दोस्त के बंगले लेकर गया था.

वेटनरी डॉक्टर गैंगरेप जैसा मामला फिर, पुलिया के नीचे नग्न हालत में महिला की लाश मिली

सिर कुचला हुआ, शरीर पर सोने के गहने सही-सलामत.

बॉक्सिंग टूर्नामेंट के लिए कोलकाता जा रही स्टूडेंट का उसी के कोच ने ट्रेन में रेप किया

ट्रेनर को पुलिस ने सोनीपत से गिरफ्तार कर लिया है.

सौम्या हत्याकांड: जब एक पत्रकार लड़की के मर्डर का राज़ दूसरी लड़की से मर्डर से खुला

दिल्ली के पॉश इलाके में क्रूर हत्या को अंजाम देने वाला एक बार फिर पकड़ा गया है.

इंटरनेट के ज़रिए डेटिंग पार्टनर या दूल्हा खोज रही हैं तो इन लड़कियों की कहानी पढ़िए

आपका वो हाल न हो, जो इनका हुआ.

ब्रेकअप झेल नहीं पाया तो एक्स गर्लफ्रेंड के घर में घुसकर 'सज़ा' दी, मां को भी नहीं छोड़ा

अगले दिन दरवाज़ा खुला तो पड़ोसी सकते में आ गए.